चुन्नी मछली खाने के 3 फायदे

सार्डाइन कथित ब्लूफिश के ग्रुप का हिस्सा हैं। इनमें पोषक तत्वों की भरमार है जो मीडियम टर्म में सेहत के लिए जबरदस्त फायदेमंद होता है। इस आर्टिकल में सार्डाइन के तीन मुख्य फायदों के बारे में जानें!
चुन्नी मछली खाने के 3 फायदे

आखिरी अपडेट: 27 नवम्बर, 2020

मछली खाना हमारे शरीर में पोषण का अहम हिस्सा है। मछली टिशू बनाने और शरीर में होने वाली शारीरिक प्रतिक्रियाओं के विकास के लिए आवश्यक पोषक तत्व देती है। इसलिए आज हम सार्डाइन या चुन्नी मछली खाने के मुख्य फायदों के बारे में बात करने जा रहे हैं जिससे आप इन तत्वों को अपनी डेली डाइट में शामिल कर सकें।

चुन्नी मछली खाने के 3 अहम फायदे

शुरू करने से पहले हम यह अहम तथ्य दोहराएंगे कि सार्डाइन या चुन्नी मछली ब्लूफ़िश के ग्रुप में शामिल हैं। इन खाद्य पदार्थों की मुख्य विशेषताओं में से एक उनमें मौजूद लिपिड की ऊँची मात्रा है। इसलिए इनका दूसरी कम फैट वाली मछलियों की तुलना में हाई एनर्जी वैल्यू  हैं।

हम पर्याप्त मात्रा में चुन्नी मछली खाने की सलाह देंगे। वे भूमध्यसागरीय और अटलांटिक डाइट का हिस्सा हैं, जिनकी न्यूट्रिशनिस्ट बहुत सिफारिश करते हैं। यहाँ इसके तीन सबसे महत्वपूर्ण लाभ हैं।

1. मांसपेशियों की सेहत

चुन्नी मछली खाने में हाई आर्गेनिक वैल्यू वाले प्रोटीन की अहम मात्रा होती है। इसका मतलब यह है कि उनमें सभी आवश्यक एमिनो एसिड हैं और ये ज्यादा सुपाच्य हैं।

न्यूट्रिशन रिसर्च जर्नल में प्रकाशित एक स्टडी के अनुसार मांसपेशियों के रोगों के जड़ जमाने से बचने की कोशिश करते समय प्रोटीन अहम चीज है।

इसलिए हम सुस्त जिन्दगी जीने वाले वयस्कों को अपने वजन के प्रति किलोग्राम कम से कम 1.2 ग्राम प्रोटीन का सेवन करने की सलाह देते हैं। यह लीन टिशू की क्षति का रिस्क घटाएगा।

हालांकि, सार्डिन में प्रोटीन ही एकमात्र तत्व नहीं हैं जो मांसपेशियों के कामकाज को बेहतर बनाने में सक्षम हैं; इसमें ओमेगा -3 फैटी एसिड भी होता है। इन पोषक तत्वों की अहमियत लीन टिशू को सुरक्षित रखने में देखी गयी है, जिससे निष्क्रियता और कैटाबोलिज्म को रोका जा सकता है।


चुन्नी मछली हाई प्रोटीन के साथ एक तरह की ऑइली फिश है।

अधिक जानने के लिए इस लेख को पढ़ें: आलू और सब्जियों वाली बेक्ड सामन फिश रेसिपी

2. अस्थियों के घनत्व के लिए चुन्नी मछली के फायदे

मेनोपाज के बाद महिलाओं में सबसेज्यादा ऑस्टियोपोरोसिस की समस्या देखी जाती है। इस बीमारी से हड्डियों के घनत्व में लगातार कमी आती है, जिससे फ्रैक्चर का खतरा बढ़ जाता है और जीवन की गुणवत्ता खराब हो जाती है।

इसे रोकने के लिए कैल्शियम का नियमित सेवन जरूरी है। अच्छी खबर यह है कि चुन्नी मछली (विशेष रूप से उनकी हड्डियों) में इस माइक्रो न्यूट्रिएंट की बड़ी मात्रा होती है। जर्मेनल मेच्युरिटास में प्रकाशित एक स्टडी के अनुसार कैल्शियम का नियमित सेवन वयस्क महिलाओं में ऑस्टियोपोरोसिस के मामले घटाता है।

इस वजह से हम आपके नियमित आहार में सार्डिन को रखने की सलाह देंगे। हालाँकि इन्हें खाते समय आपको यह ध्यान रहना चाहिए कि इसकी छोटी हड्डियों को भी खाएं। सिर्फ बीच की लम्बी हड्डी को फेंक सकते हैं, जो बड़ी साइज़ के कारण गले में फंस सकती है।

इसे भी पढ़ें : ऑस्टियोपोरोसिस को रोकने में मददगार 6 डाइट टिप्स

3. कार्डियोवैस्कुलर हेल्थ में सुधार

हमने पहले ही बताया है, सार्डिन में अनसेचुरेटेड फैटी एसिड होते हैं। न्यूट्रिशनिस्ट ने इन लिपिडों के सेवन और हृदय संबंधी बीमारियों के के जोखिम में कमी के बीच मजबूत सम्बन्ध दिखाया है। इस कारण हम सिफारिश करते हैं कि आप हफ्ते में कम से कम दो बार अपने भोजन में ऑइली फिश को शामिल करें।

हमारे आहार में वसा की मात्रा भी रक्तचाप में कमी से संबंधित है, जो आवश्यक उच्च रक्तचाप वाले रोगियों के मामले में महत्वपूर्ण है। यह संवहनी-प्रकार की बीमारी के लिए अतिसंवेदनशील लोगों में भी होता है।

इसके अलावा, अन्य बड़ी वसायुक्त मछलियों पर सार्डिन का एक मजबूत प्रतिस्पर्धात्मक लाभ है, क्योंकि उनकी रचना में शायद ही कोई भारी धातु है। इस वजह से, उनके सेवन को सीमित करने या संवेदनशील रोगियों, जैसे गर्भवती महिलाओं के आहार से उन्हें बाहर करने का कोई बाध्यकारी कारण नहीं है।


सार्डिन में भारी धातुओं की कम उपस्थिति होती है, इसलिए उनकी खपत को विशेष स्थितियों में संकेत दिया जा सकता है, जैसे कि गर्भावस्था।

अपने आहार में सार्डिन के लाभों को शामिल करें

जैसा कि आपने देखा है, सार्डिन अपने उत्कृष्ट पोषक तत्व की वजह से हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं। उन्हें नियमित रूप से हमारे सभी आहारों में दिखाई देना चाहिए। और, चूंकि वे इतने छोटे हैं, इसलिए धातु के भारी सेवन का कोई खतरा नहीं है।

यदि आप हृदय संबंधी समस्याओं से पीड़ित हैं या हड्डियों के विकृति के विकास के जोखिम को कम करना चाहते हैं, तो हम उनके सेवन को बढ़ाने की सलाह देते हैं। इसके अलावा, खिलाड़ियों और महिलाओं के मामले में उनकी खपत मौलिक है, क्योंकि वे हड्डी के द्रव्यमान और कार्य को बनाए रखने में योगदान करते हैं।

अंत में, हम यह बताना चाहते हैं कि आपको सार्डिन पकाने के तरीके से सावधान रहना चाहिए। उन्हें तलने से बचना महत्वपूर्ण है, क्योंकि लिपिड में उच्च तापमान को लागू करने से ट्रांस वसा के उत्पादन की संभावना बढ़ जाती है, जो हमारे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हैं।

ओवन में या ग्रिल पर उन्हें कम तापमान पर पकाना हमेशा सबसे अच्छा होता है। उन्हें डिब्बाबंद भी खरीदा जा सकता है।

यह आपकी रुचि हो सकती है ...
शरीर में प्रोटीन के कामकाज के बारे में जानिये
स्वास्थ्य की ओर
इसमें पढ़ें स्वास्थ्य की ओर
शरीर में प्रोटीन के कामकाज के बारे में जानिये

क्या आप शरीर में प्रोटीन के कामकाज के बारे में जानते हैं? ये मॉलिक्यूल कई अहम प्रक्रियाओं के लिए आवश्यक हैं, इसलिए सभी व्यक्तियों को उन्हें अपने डा...



  • Naseeb MA., Volpe SL., Protein and exercise in the prevention of sarcopenia and aging. Nutr Res, 2017. 40: 1-20.
  • Jeromson S., Gallagher IJ., Galloway SDR., Hamilton DL., Omega 3 fatty acids and skeletal muscle health. Mar Drugs, 2015. 13 (11): 6977-7004.
  • Cano A., Chedraui P., Goulis DG., Lopes P., et al., Calcium in the prevention of postmenopausal osteoporosis: EMAS clinical guide. Maturitas, 2018. 107: 7-12.
  • Bernadot, Dan. Nutrición para deportistas de alto nivel. Editorial HISPANO EUROPEA, 2016.
  • Hernández Triana, Manuel. “Recomendaciones nutricionales para adultos con sobrepeso corporal.” Revista Cubana de Investigaciones Biomédicas 27.2 (2008): 0-0.
  • Raimann, Ximena, et al. “Mercurio en pescados y su importancia en la salud.” Revista médica de Chile 142.9 (2014): 1174-1180.
  • Abdelhamid AS., Brown TJ., Brainard JS., Biswas P., et al., Omega 3 fatty acids for the primary and secondary prevention of cardiovascular disease. Cochrane Database Syst Rev, 2018.