ओवेरियन कैंसर के 5 असर

09 जनवरी, 2020
अगर हम यह सुनिश्चित करना चाहें कि ओवेरियन कैंसर को जल्द से जल्द पकड़ लिया जाए, तो यह ज़रूरी है कि हम अपने शरीर में होने वाले किसी भी बदलाव से अवगत हों, और संबंधित टेस्ट कराने के लिए किसी एक्सपर्ट के पास जाएं।

कैंसर एक ऐसी बीमारी है जो कोशिकाओं की असामान्य ग्रोथ के कारण होती है। ये कोशिकाएं शरीर के किसी भी हिस्से में विभाजित होने लगती हैं, बढ़ती, फैलती और पूरी तरह से नियंत्रण से बाहर होती हैं। ओवेरियन कैंसर के प्रभावों को जानना अहम है।

सामान्य कोशिकाएँ एक निश्चित पीरियड में विभाजित होती हैं, विकसित होती हैं और मर जाती हैं। पर कैंसर सेल्स मरने की अपनी क्षमता खो देती हैं

यह उन्हें बेरोक-टोक विकसित होने, विभाजित होने और बड़े होने का कारण बनता है, जिसे आम तौर पर ट्यूमर के नाम से जाना जाता है। कोशिकाओं का यह ढेला अपने आस-पास के सभी नॉर्मल टिशू को भी बदल सकता है, उन्हें नष्ट कर सकता है

वैसे तो हर तरह के कैंसर में कोशिकाओं के विभाजन की वही प्रक्रिया काम करती है लेकिन कैंसर की हर टाइप के कई अलग-अलग लक्षण होते हैं

अगर आप पता लगाना चाहते हैं कि ओवेरियन कैंसर (Ovarian cancer) से पीड़ित व्यक्ति को क्या लक्षण दिखाई देंगे, तो आगे पढ़ते रहें।

ओवेरियन कैंसर के लक्षण

ओवेरियन कैंसर महिलाओं में होने वाला पांचवा सबसे आम तरह का कैंसर है, और किसी भी दूसरे कैंसर के मुकाबले ज्यादा मौतों का कारण है।

इस तरह के कैंसर में ओवेरी को ढकने वाले टिशू पर कोशिकाओं की असामान्य वृद्धि होती है।

कुछ लक्षणों के आधार पर बीमारी का पता लगाया जा सकता है। हालांकि एडवांस स्टेज में जाने पर कैंसर ध्यान देने योग्य होता है लेकिन इसके कई लक्षण शुरुआती अवस्था में दिखाई देते हैं। उनका जिक्र हम यहाँ करेंगे।

1. सूजन

ओवेरियन कैंसर के लक्षण

ओवेरियन कैंसर से पीड़ित महिलाओं में उभरने वाले लक्षणों में पेट में सूजन है।

हालांकि यह लक्षण किसी दूसरी बीमारी के कारण भी उभर सकता है, अगर यह आपको बार-बार और लंबे समय तक होता है, तो इस पर ध्यान देना चाहिए – इस मामले में यह कैंसर से जुड़ा हो सकता है।

अगर पेट की सूजन (abdominal inflammation) के साथ वजन घट रहा है, तो यह कैंसर से जुड़ी हो सकती है।

इसे भी पढ़ें : ओवेरियन कैंसर के बारे में 7 महत्वपूर्ण तथ्य जिन्हें आपका जानना ज़रूरी है

2. दर्द

यह सबसे अहम लक्षणों में से एक है जो आपको ओवेरियन कैंसर की डायग्नोसिस करने में मदद कर सकता है, खासकर अगर यह बार-बार और बिना किसी स्पष्ट कारण के प्रकट होता है।

दर्द कम, मध्यम या तेज हो सकता है, जो मुख्य रूप से पेल्विक एरिया, पेट और पीठ में केंद्रित होता है। इसके अलावा यह दर्द सेक्स करते समय भी होता है।

3. गैस्ट्रोइंटेस्टाइन की समस्याएं

आमतौर पर ओवेरियन कैसंर वाली महिलाओं को पर्याप्त खाना खाने में बहुत कठिनाई होती है। क्योंकि भोअजं करते हुए वे जल्दी ही पेट भरा हुआ महसूस करती हैं।

इससे ओवेरियन कैंसर से पीड़ित महिलाओं में वजन अहम रूप से घट सकता है।

इसके अलावा, वे गैस्ट्रोइंटेस्टाइन संबंधी समस्याओं जैसे कि दस्त और कब्ज से भी पीड़ित हो सकती हैं।

इसे भी पढ़ें : कैंसर के 8 आम लक्षण जिन्हें ज्यादातर लोग अनदेखा करते हैं

4. पेशाब करने में समस्या

उसी तरह डिम्बग्रंथि के कैंसर से पीड़ित महिलायें अक्सर निरंतर पेशाब करने की निरंतर ज़रूरत महसूस होती है।
हालाँकि, आपको इस बात की जानकारी होनी चाहिए कि यह यूरिनरी इन्फेक्शन या पेल्विक फ्लोर की मांसपेशियों में कमजोरी से भी हो सकता है।

इस समस्या का कारण तय करने के लिए आपको जल्द से जल्द गाइनोकोलोजिस्ट या संबंधित एक्सपर्ट से मिलना चाहिए।

5. मेन्सट्रुअल साइकल में बदलाव

दूसरे लक्षणों में ओवेरियन कैंसर से पीड़ित महिलाओं को अक्सर मेन्सट्रुअल साइकल में बदलाव होता है। क्योंकि ट्यूमर सर्विक्स (cervix) में हार्मोनल बदलाव और घाव पैदा कर सकता है।

ये लक्षण जैसा कि हमने उल्लेख किया है, दूसरी बीमारियों से भी जुड़े हो सकते हैं। हालांकि वे ओवेरियन कैंसर के कारण होने पर लगातार बने रहते हैं और हर महीने 7 से 12 बार हो सकते हैं।

यह सब पढ़ने के बाद हम आशा करते हैं, आपके लिए साफ़ हो गया होगा कि अपनी सेहत में किसी भी बदलाव पर ध्यान देना कितना अहम है – वे समय रहते इस घातक बीमारी का पता लगाने में मदद कर सकते हैं।

यह भी ध्यान रखें कि लक्षण वास्तव में ओवेरियन कैंसर से जुड़े हैं या नहीं, इसे निर्धारित करने का एकमात्र रास्ता सीधे किसी डॉक्टर से मिलना ही है।

संबंधित एक्सपर्ट ओवेरियन कैंसर की डायग्नोसिस के लिए ज़रूरी टेस्ट को जल्द से जल्द करने में सक्षम होंगे। इससे यह जानकर कि लक्षण किसी दूसरी स्एथिति से जुड़े हैं, आप आराम महसूस कर सकते हैं।