डिप्रेशन का इलाज करने वाली 5 औषधीय हर्ब

04 दिसम्बर, 2019
मनोवैज्ञानिक ट्रीटमेंट लेने के साथ-साथ कुछ औषधीय हर्ब भी डिप्रेशन का इलाज करने में आपकी मदद कर सकते हैं।

वैज्ञानिकों ने दिखाया है कि डिप्रेशन यानी अवसाद के इलाज के लिए कई औषधीय हर्ब का उपयोग करना संभव है।

हर्बल मेडिसिन की प्राकृतिक उत्पत्ति हार्मोन की रिप्रोग्रामिंग में मदद करती है। ये ऐसे हार्मोन हो बढ़ाते हैं जो अच्छी भावनाओं को पैदा करते हैं और इसमें रुकावट डालने वाले को शांत करते हैं।

अगर आप इसके शिकार हैं, तो हम आपको डिप्रेशन का इलाज करने और एक बार ऐसी भावनाओं को अलविदा कहने के लिए सबसे अच्छी जड़ी-बूटियों की जानकारी देंगे।

अवसाद के इलाज के लिए औषधीय हर्ब के बारे में जानें

1. सेंट जॉन वोर्ट (औषधीय हर्ब)

अवसाद के इलाज में सबसे अच्छी औषधीय हर्ब में सेंट जॉन पौधे का नाम आता है। यह डिप्रेशन की शुरुआती स्टेज में नेचुरल ट्रीटमेंट के लिए विशेष रूप से उपयोगी है।

कई स्टडी में इस पौधे में ने रात में एंग्जायटी और अतार्किक भय दोनों पर असर दिखाया है।

आपको सिर्फ डिप्रेशन के इलाज के लिए पूरी तरह से नेचुरल ट्रीटमेंट में ही इसका उपयोग करना चाहिए। दूसरे शब्दों में, आपको एक ही समय में किसी भी अन्य एंटीडिप्रेसेंट को शामिल नहीं करना चाहिए।

सामग्री

  • 1 कप पानी
  • 1 चम्मच सेंट जॉन पौधा

कैसे इस्तेमाल करें?

  • सबसे पहले पानी को गर्म करें। उबलने के बाद, सेंट जॉन पौधा डालें और सेवन करने से पहले इसे 5 मिनट तक छोड़ दें।
  • दिन में 3 बार लें।

याद रखें, इसके प्रभावों को असर करने में 3 सप्ताह लग सकते हैं, क्योंकि प्राकृतिक उपचार अक्सर बहुत प्रभावी होते हैं लेकिन कभी-कभी धीमे भी होते हैं।

2. खसखस (Poppies)

खसखस एक औषधीय हर्ब भी है जिसे आप डिप्रेशन के इलाज के लिए घर के आसपास रख सकते हैं। उनके मुख्य एक्टिव कम्पाउंड अल्कलॉइड की बदौलत ये चिंता और मध्यम अवसाद को शांत करने में बहुत अच्छे हैं।

गर्भावस्था और स्तनपान के दौरान इसे बिना किसी साइड इफेक्ट के लिया जा सकता है।

सामग्री

  • 1 बड़ा चम्मच खसखस
  • 1 कप पानी

कैसे इस्तेमाल करें?

  • खसखस के फूलों का उपयोग करके चाय बनाएं और 10 मिनट तकछोड़ दें।
  • इसे दिन में 3 बार लें, यह ध्यान में रखते हुए कि यह कुछ हद तक धीमा इलाज है।

इसे भी पढ़ें : तनाव से कैसे निपटें?

3. एंजेलिका

एंजेलिका औषधीय जड़ी बूटियों के ग्रुप से जुडी है जो गंभीर अवसाद का इलाज कर सकते हैं। इसके बहुत शक्तिशाली प्रभाव हैं।

अपने सेडेटिव गुणों के कारण है, यह एंग्जायटी, अनिद्रा और यहां तक ​​कि भूख की कमी से राहत पाने में उपयोगी है जो गंभीर अवसाद से पैदा होते हैं।

सिर्फ 6 वर्ष से ज्यादा उम्र वाले लोगों को ही इसका इस्तेमाल करना चाहिए।

पौधे को स्किन के संपर्क में नहीं आना चाहिए, इससे सूजन हो सकती है।

सामग्री

  • 1 चम्मच एंजेलिका फूल
  • 1 कप पानी

कैसे इस्तेमाल करें?

  •  हर कप उबलते पानी के लिए एक चम्मच एंजेलिका टी को उसके फूलों के साथ बनाएं और 5 मिनट के लिए छोड़ दें।
  • भोजन से पहले दिन में 3 बार लें और शुरू करने के एक सप्ताह के भीतर परिवर्तन देखेंगे।

4. वेलेरियन

जब वेलेरियन को पहली बार खोजा गया था, तो इसका इस्तेमाल ज्यादातर ऐंठन के इलाज के लिए किया गया था। हालांकि समय के साथ एक सेडेटिव के रूप में इसका महत्व भी देखा गया।

अब यह अवसाद, एंग्जायटी और अनिद्रा जैसी दूसरी मनोवैज्ञानिक समस्याओं के लिए प्राकृतिक उपचार से जुड़ा हुआ है।

सामग्री

  • वेलेरियन का 1 बड़ा चम्मच
  • 1 कप पानी

कैसे इस्तेमाल करें?

  • चाय बनाने के लिए आपको जो चाहिए, वह जड़ सहित पूरा पौधा है, जिसमें उसकी एंटी डिप्रेसेंट पावर केंद्रित हैं।
  • सबसे पहले, उबलते पानी के प्रत्येक कप के लिए एक बड़ा चमचा डालें और 15 मिनट के लिए छोड़ दें।
  • आदर्श रूप से, आपको इसे दिन में 3 बार लेना चाहिए। धैर्य रखें और कुछ दिनों में परिणाम देखेंगे।

और पढ़ें: ये नेचुरल नुस्खे किडनी स्टोन को तोड़ने में मदद कर सकते हैं

5. जिनसेंग

एंटी स्ट्रेस एडाप्टोजन जो जिनसेंग में पाया जाता है, वह अवसाद के इलाज में अपनी उपयोगिता साबित करता है।

इस औषधीय हर्ब का मस्तिष्क पर एक स्फूर्तिदायक असर होता है, जिससे आपको आराम करने में मदद मिलती है, और एंग्जायटी, अवसाद और भूख की कमी दूर होती है।

इस जड़ी बूटी के साथ आने वाले कुछ संभावित दुष्प्रभाव में घबराहट और उच्च रक्तचाप हैं। लेकिन ये आम तौर पर केवल तब दिखाई देते हैं जब बतायी गयी खुराक से ज्यादा लिया जाता है।

सामग्री

  • 1/4 चम्मच जिनसेंग
  • 1 कप पानी

कैसे इस्तेमाल करें?

  • एक कप पानी में 1 ग्राम जिनसेंग हर्ब को गर्म करें।
  • इसे 3 मिनट तक उबलने दें और फिर 5 मिनट छोड़ दें।
  • दिन में सिर्फ एक बार सुबह लें क्योंकि उस समय नर्व सिस्टम पर इसका बेहतर प्रभाव पड़ता है।
  • Yeung, K. S., Hernandez, M., Mao, J. J., Haviland, I., & Gubili, J. (2018). Herbal medicine for depression and anxiety: A systematic review with assessment of potential psycho-oncologic relevance. Phytotherapy Research. https://doi.org/10.1002/ptr.6033
  • Lakhan SE, Vieira KF. Nutritional and herbal supplements for anxiety and anxiety-related disorders: systematic review. Nutr J. 2010;9:42. Published 2010 Oct 7. doi:10.1186/1475-2891-9-42
  • Linde, K., Berner, M. M., & Kriston, L. (2008). St John’s wort for major depression. Cochrane Database of Systematic Reviews. https://doi.org/10.1002/14651858.CD000448.pub3
  • Fedurco M, Gregorová J, Šebrlová K, et al. Modulatory Effects of Eschscholzia californica Alkaloids on Recombinant GABAA Receptors. Biochem Res Int. 2015;2015:617620. doi:10.1155/2015/617620
  • Shen, J., Zhang, J., Deng, M., Liu, Y., Hu, Y., & Zhang, L. (2016). The Antidepressant Effect of Angelica sinensis Extracts on Chronic Unpredictable Mild Stress-Induced Depression Is Mediated via the Upregulation of the BDNF Signaling Pathway in Rats. Evidence-Based Complementary and Alternative Medicine. https://doi.org/10.1155/2016/7434692
  • Behboodi Moghadam Z, Rezaei E, Shirood Gholami R, Kheirkhah M, Haghani H. The effect of Valerian root extract on the severity of pre menstrual syndrome symptoms. J Tradit Complement Med. 2016;6(3):309–315. Published 2016 Jan 19. doi:10.1016/j.jtcme.2015.09.001
  • Lee S, Rhee DK. Efectos del ginseng sobre la depresión relacionada con el estrés, la ansiedad y el eje hipotalámico-pituitario-adrenal. J Ginseng Res . 2017; 41 (4): 589–594. doi: 10.1016 / j.jgr.2017.01.010