संबंध में सम्मान बनाए रखने के लिए 5 उपाय

27 जून, 2019
किसी भी संबंध में सम्मान को अहमियत नहीं देने की भूल नहीं होनी चाहिए। अपने संबंध में सम्मान बनाए रखने के 5 उपाय सीखिए।

किसी भी संबंध में सम्मान को कम करते हुए नहीं आंकना चाहिए। संबंध में सम्मान दैनिक आधार पर अर्जित करना पड़ता है। दो व्यक्तियों की सच्ची मनोकामना के साथ, जो समझते हैं कि प्यार क्या है, हमें आपसी सम्मान का खयाल रखने की जरूरत है। और सबसे अहम यह जानना है कि हम एक-दूसरे का सम्मान कैसे बढ़ाएँगे।

बड़ा अजीब लगता है कि जब सम्मान पर बातें होती है, तो सभी जानते हैं कि इसे परिभाषित कैसे किया जाए। फिर भी, बहुत कम लोग जानते हैं कि इसका सही प्रयोग अपने जीवन पर कैसे करें। सम्मान का बुनियादी मुद्दा यह तथ्य है, कि हम सभी सम्मान चाहते हैं, पर इसके साथ-साथ, हम अपने आसपास के लोगों को सम्मान देना भूल जाते हैं

यह ऐसा लगता है, जैसे कि हम सोच रहे हैं, “पहले मुझे सम्मान दो, तब मैं तुम्हारा सम्मान करूँगा।”

यदि हम  रोमांटिक संबंधों पर इसका प्रयोग करने के बारे में बातें कर रहे हैं, तो यह विषय और भी पेचीदा हो जाता है। अक्सर, हम इसे कम करते हुए आंकते हैं। हम धारणा बना लेते हैं कि, “जो लोग आपको प्यार करते हैं, वे आपका सम्मान भी करते हैं।” यहीं से गलतफहमियाँ शुरू होती हैं।

संबंध में सम्मान का मतलब एक-दूसरे को आघात नहीं पहुँचाना नहीं है। यह एक मनोवैज्ञानिक और भावनात्मक मुद्दा है जिसमें अंतिम लक्ष्य इससे बहुत आगे तक जाता है। हम उस सम्मान की खोज करते हैं जो हमारा खयाल रखता है, हमें बढ़ने देता है और दो पार्टनरों को मित्रों में बदल देता है

आज, हम आपको इस विषय पर गहराई से खोज करने के लिए आमंत्रित करते हैं।

1.संबंध में सम्मान को एक उद्देश्य की जरूरत होती है

संबंध में सम्मान - जोड़ी

हम एक ऐसी दुनिया में रहते हैं जहाँ शब्द बिकते हैं और लोग अपने महान संबंधों के चमत्कार सोशल नेटवर्क्स पर शेयर करते हैं।  फिर भी, असली, दैनंदिन जीवन में, वे उस तरह नहीं रहते। जो हम सोशल मीडिया पर देखते हैं वह सच्चाई नहीं है

दयालुता का, सम्मान की तरह ही, कोई मोल नहीं रह जाता यदि किसी स्पष्ट उद्देश्य के साथ इसे नहीं दिखाया जाए या इसका आचरण नहीं किया जाए। रोमांटिक संबंधों में भी वही चीज होती है। प्यार, खुद-ब-खुद, किसी संबंध के पनपने के लिए, या इसे जीवित रखने के लिए भी काफी नहीं है

कई और पहलू हैं जो किसी संबंध को इसका पूरा अर्थ देते हैं। इसलिए, संबंध में सम्मान का मतलब है, रोजाना खयाल रखना और खयाल रखा जाना। इसका मतलब है दिलचस्पी दिखाना और दिलचस्पी से एक-दूसरे की बातें सुनना। हमें आपसी आदान-प्रदान और एक-दूसरे की जरूरतों की प्रत्याशा करने की आवश्यकता है। संक्षेप में, यह सब भावनात्मक पोषण के बारे में है।

खोजें : 5 व्यायाम जो आपके संबंध में सुधार करेंगे

2.हमदर्दी : एक आधार स्तम्भ

संबंध में सम्मान - हमदर्दी

कोई भी सच्चा सम्मान नहीं दिखा सकता, यदि उसमें मन की बात समझने की असली क्षमता और सच्ची हमदर्दी नहीं है। आदमी का दिमाग बुनियादी तौर पर एक अंग है, जो सामाजिक-मेलजोल, हमारे संवादों और हमारे जुड़ावों से विकसित हुआ है।

हमदर्दी, और इसे बनाने वाले मिरर न्यूरॉन्स (mirror neurons), दूसरे व्यक्ति को हमारे एक अंश के रूप में दिखाते हैं। हम समझ जाते हैं कि हमारा पार्टनर क्या महसूस कर रहा है, और इसके लिए उसे शब्दों में कहने की जरूरत नहीं होती।

यह सम्मान दिखाने के लिए बुनियादी गुण है। इसका मतलब है कि आपके लिए यह जानना जरूरी है, कि जो व्यक्ति आपके लिए इतनी अहमियत रखता है उसका खयाल रखने के लिए, आपको क्या करना चाहिए, क्या कहना चाहिए, और क्या नहीं कहना चाहिए।

3.अपने पार्टनर को जानने की अहमियत

कुछ लोग कहते हैं कि वे अपने पार्टनर को उतनी ही अच्छी तरह जानते हैं जैसे खुद को जानते हैं। पर असल में वे अपनी पसंदों और जरूरतों को अपने पार्टनर पर थोपने का काम कर रहे हैं। आइए इसे स्पष्ट करते हैं : एक खुशहाल, स्वस्थ संबंध बनाने के लिए, आपकी हर चीज एक जैसी होना जरूरी नहीं है

आपके पार्टनर की अभिलाषाओं, पसंदों और मान्यताओं को सम्मान देना अनिवार्य है। उतना ही अनिवार्य है, जितना यह जानना कि वे कौन हैं, उन्हें क्या पसंद नहीं है, वे किस चीज से परेशान हो जाते हैं, और उनके व्यक्तित्व और उनकी पहचान के पहलू। जानकारी के बिना, सम्मान नहीं होता। हमें इसे जरूर याद रखना चाहिए। नहीं तो, लगभग बिना जाने, हम अपने प्रिय व्यक्ति को यह सोचते हुए नाकाम कर देंगे, कि कुछ चीजों की अहमियत नहीं है।

यदि हमने कुछ चीजों को पहले ही गैरजरूरी “नामित” कर दिया है तो हम दूसरे व्यक्ति की जरूरतों का अनादर करेंगे,  और इस तरह अपने प्रिय व्यक्ति को निराश करेंगे।

इसे भी पढ़ें : किसी स्वस्थ संबंध की कुंजी

4.कृतज्ञता

संबंध में सम्मान

वह आखिरी बार कब था जब आपने अपने पार्टनर को धन्यवाद कहा था?

आपको सिर्फ “तुम जो हो उसके लिए धन्यवाद,” “हमेशा मेरे साथ होने के लिए धन्यवाद,” या  “तुमने इतनी खुशी दी,  धन्यवाद,” जैसे साधारण वाक्य ही वह सब-कुछ है जिसकी आपको जरूरत है। यह उनका आभार मानते हुए या उनकी सराहना करते हुए सम्मान देने का एक उपाय है।

विनम्रता के साथ कृतज्ञता का प्रदर्शन करना किसी भी तरह के बंधन को मजबूत करता है। रोमांटिक संबंधों के लिए भी यह चीज और भी ज्यादा लागू होती है। संबंध में सम्मान का निचोड़ यही है।

5.छोटी-छोटी बातों की अहमियत

हम छिट पुट भव्य भंगिमाओं से सम्मान नहीं दिखा सकते। सबसे खुशहाल और ज्यादा चलने वाले संबंध वे हैं जो जानते हैं कि छोटी-छोटी बातों पर ध्यान कैसे देना चाहिए। यही छोटी-छोटी बातें हैं जो दर्शाती हैं कि सम्मान कितना बुद्धिमान और अंतर्ज्ञानी है। इसे यह जानकारी भी है कि अहम बातों को रोशन कैसे किया जाए।

इसके साथ-साथ हम यह भी नही भूल सकते कि हम इन छोटी-छोटी बातों को संवाद के जरिए शेयर करते हैं। यहां हमे हमेशा याद रखना चाहिए :

  • कृतज्ञता भरे शब्दों का इस्तेमाल करना
  • आवाज  ऊँची किए बिना संवाद करना और अपने टोन के लिए सतर्क रहना।
  • संबंधसूचक संवाद का इस्तेमाल कीजिए : मैं जानता हूँ तुम्हें कैसा महसूस हो रहा है, और मैं तुम्हारी भावना का आदर करता हूँ। कहो मैं कैसे मदद करूँ? कहो तुम्हें और भी खुश रखने के लिए मैं क्या कर सकता हूँ?

अपने दैनंदिन जीवन में इन्हें अपनाते हुए सुनिश्चित कीजिए कि ये पहलू आपके संबंध के अंश बन जाएँ।