शिशु का दूध छुड़ाना: उसे खिलाने की शुरूआत कैसे करें

अपने शिशु का दूध छुड़ाना आपके बच्चे की जिन्दगी का महत्वपूर्ण अनुभव है। प्रक्रिया को धैर्य और सावधानी से किया जाना चाहिए यह ध्यान में रखते हुए कि कम से कम शुरू में वे नए खाद्य को नकार सकते हैं।
शिशु का दूध छुड़ाना: उसे खिलाने की शुरूआत कैसे करें

आखिरी अपडेट: 03 दिसम्बर, 2020

अपने शिशु का दूध छुड़ाना बच्चे के जीवन का वह समय होता है जब उन्हें मां द्वारा दूध पिलाना बंद किया जाता है। यह स्टेप अलग-अलग उम्र में हो सकता है और हर फैमिली अलग-अलग तरीकों से और अलग-अलग समय पर यह प्रक्रिया शुरू कर सकती है। हालाँकि इसे जब भी किया जाये, यह शीरे-धीरे किया जाना चाहिए और साथ ही बड़े प्यार से।

इस प्रक्रिया को कब और कैसे किया जाना चाहिए इस बात को बायोलॉजिकल, सामाजिक और सांस्कृतिक पहलू प्रभावित करते हैं। विज्ञान ने इसे करने के लिए सबसे अच्छा वक्त और तरीका तय नहीं किया है। हम जो जानते हैं वह यह है कि यदि संभव हो तो 6 महीने की उम्र तक मान का दूध पिलाया जाना चाहिए। हालांकि विश्व स्वास्थ्य संगठन का मानना ​​है कि बच्चे के दूसरे जन्मदिन के बाद इसे जारी नहीं रखाना चाहिए।

शिशु का दूध छुड़ाना: एक बदलाव भरी प्रक्रिया

बात जब शिशु के दूध छुड़ाने की हो तो प्रत्येक संस्कृति के अलग-अलग तरीके हैं।

उदाहरण के लिए इनुइट कल्चर में 7 वर्ष की आयु तक स्तनपान कराया जाता है। दूसरी ओर पश्चिमी संस्कृतियों में  लंबे समय तक स्तनपान करना आम नहीं है। यह कब और कैसे खत्म किया जाए यह ऐसा फैसला है जो विभिन्न सोशल फैक्टर के अलावा निश्चित रूप से प्रत्येक माँ और उसके बच्चे की स्थिति से जुड़ा हुआ है।

हालाँकि अंतर्राष्ट्रीय निकाय इस बात पर सहमत हैं कि स्तनपान दो साल से ज्यादा की उम्र तक नहीं कराया जाना चाहिए। इसके अलावा वे सलाह देते हैं कि 6 महीने की उम्र तक बच्चे को विशेष रूप से मान का दूध मिलना चाहिए, क्योंकि इस तरल में उनके जीवन के इस पडाव के लिए जरूरी सभी आवश्यक पोषक तत्व होते हैं।


विश्व स्वास्थ्य संगठन 6 महीने तक विशेष स्तनपान की सलाह देता है।

इसे भी पढ़ें : डायपर रैश को रोकने के लिए चार टिप्स

शिशु का दूध छुड़ाना : तरीके

शिशु का दूध छुड़ाना छुड़ाना कई अलग-अलग तरीकों से किया जा सकता है। कभी-कभी लम्बे समय तक बच्चे से अलग रहने या संक्रामक रोगों के कारण मां के पास कोई विकल्प नहीं होता है।

स्वैच्छिक रूप से दूध तब छुड़ाया जाता है जब बच्चे या माँ यह तय करते हैं कि ब्रेस्टफीडिंग बंद करने का वक्त आ गया है। यदि यह बच्चे का “फैसला” है, तो वे बस वे इसमें दिलचस्पी खो सकते हैं और जारी नहीं रखना चाहते हैं। ऐसा अचानक या धीरे-धीरे हो सकता है।

माँ यह भी तय कर सकती है कि व्यक्तिगत या काम के कारणों से स्तनपान बंद करने का वक्त आ गया है।

हमें इस बात पर ध्यान देना चाहिए कि यदि माँ ब्रेस्टफीडिंग कराना बंद करने का फैसला करे तो शिशु नाराजगी जता सकता है। यदि यह बच्चे की पहल नहीं है, तो ऐसा अक्सर हो सकता है। यह ऐसी प्रक्रिया है जिसमें बहुत प्रयास करने की जरूरत होती है और हम सिफारिश करेंगे कि आप इसे धैर्य के साथ धीरे-धीरे आगे बढ़ाएं।

ठोस खाद्यों को पहले पहल कैसे दिया जाए

वह बिंदु जिस पर बच्चे को ठोस भोजन शुरू किया जाना चाहिए, और उस भोजन में क्या होना चाहिए, ये ऐसे विचार हैं जो वक्त के साथ बदल गए हैं। आम तौर पर पेडियाट्रीशियन यह सलाह देते हैं कि शिशु को सॉलिड फ़ूड तब खिलाना शुरू करना है जब वह अपना सिर सीधा रखने लगे और भोजन लाते देख मुंह खोल ले। यह आमतौर पर 4 से 6 महीने की उम्र के बीच होता है।

जिस बच्चे ने पहलेक सॉलिड फ़ूड नहीं खाया है उसे इसे खाने में कठिनाई हो सकती है या यहां तक ​​कि वह शुरू में कुछ खाद्यों से इनकार भी कर सकता है। इसलिए उन्हें एक बार में आधा चम्मच देना ही अच्छा रहेगा। इससे उसे भोजन को मुंह से गले की ओर ले जाने में मदद मिलेगी।

आप चाहें तो उसे भोजन से पहले कुछ चम्मच ब्रेस्टफीड भी दे सकती हैं जिससे यह भोजन उसे एकदम अजनबी चीज न लगे।

बच्चे को खाने के लिए मजबूर करना अच्छा नहीं है। इसके बजाय गाने और गेम दिखाकर इसे करना शानदार आईडिया है और यह उसे धीरे-धीरे सीखने में मदद करता है। अगर आपको लगे कि वे पर्याप्त भोजन नहीं खा रहे हैं तो हमेशा उन्हें कुछ ब्रेस्टफीडिंग या बोतल का दूध देना ठीक रहेगा।

बच्चे की डाइट में शुरुआती सॉलिड फ़ूड देने के दो तरीके हैं। पहला ट्रेडिशनल  तरीका, जिसमें पहले बेबी फ़ूड शामिल होता है और फिर अन्य खाद्य पदार्थ। दूसरा वह है जो बच्चे द्वारा सेल्फ रेगुलेटेड होता है, जिसमें पैरेंट्स उन्हें अपने हाथों से भोजन के टुकड़े लेने की अनुमति देते हैं, उन्हें अपने मुंह में डालते हैं, और उन्हें स्वाद लेते हैं, धीरे-धीरे ठोस भोजन के अनुकूल होने के लिए।


वीनिंग एक लंबी प्रक्रिया है जिसके लिए धैर्य की आवश्यकता होती है। आप अन्य दूध की खुराक के साथ मदद कर सकते हैं।

आपको इसमें रुचि भी हो सकती है:बच्चों में चोकिंग : क्या करना चाहिए और इसे कैसे रोकें

शिशु का दूध छुड़ाना को छुड़ाने के टिप्स

अपने बच्चे का वजन कम प्रगतिशील होना चाहिए। बच्चे के भोजन के मुख्य स्रोत के रूप में स्तन के दूध को रोकने की यह प्रक्रिया सभी शिशुओं के लिए समान नहीं है। 12 महीने से कम उम्र में, माँ धीरे-धीरे दूध पिलाने की संख्या कम कर देगी, जबकि उन लोगों के साथ जो एक वर्ष से अधिक उम्र के हैं, माता-पिता विचलित होने का उपयोग करते हैं, जैसे कि खेल खेलना या सैर के लिए बाहर जाना।

हम अनुशंसा करते हैं कि आप अपने बच्चे को कभी भी सीधे “नहीं” दें जब वे खिलाना चाहते हैं। आप उन्हें बता सकते हैं कि वे घर पहुंचने पर उन्हें खाना खिला सकते हैं, या उन्हें खिलौने के साथ विचलित कर सकते हैं ताकि उन्हें खिलाने की अपनी इच्छा को थोड़ी देर के लिए भूल सकें। जब आपका बच्चा समझ सकता है, तो आप “बातचीत” करना शुरू कर सकते हैं और उन्हें बता सकते हैं कि स्तन का दूध केवल सोने के लिए है, उदाहरण के लिए।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि आपके बच्चे को अपने जीवन में निश्चित समय पर शुरू नहीं करना चाहिए। उदाहरण के लिए, जब वे हाल ही में स्थानांतरित किए गए घर में, या यदि आप परिवार में एक नए बच्चे का स्वागत करने के बारे में नहीं हैं, तो वे ऐसा न करें। न ही आपको तथाकथित विकास के दौरान ऐसा करना चाहिए।

आपको यह याद रखने की ज़रूरत है कि वीनिंग बच्चे के लिए एक तनावपूर्ण समय है। इस वजह से, स्तनपान वापस लेने की भरपाई के लिए उनके साथ अधिक समय बिताना एक अच्छा विचार है।

यह आपकी रुचि हो सकती है ...
एटोपिक और सेबोरिक डर्मेटाइटिस के बीच फर्क
स्वास्थ्य की ओर
इसमें पढ़ें स्वास्थ्य की ओर
एटोपिक और सेबोरिक डर्मेटाइटिस के बीच फर्क

एटोपिक और सेबोरिक डर्मेटाइटिस दो आम स्किन कंडीशन हैं। हालांकि कई लोग दोनों के बीच फर्क नहीं कर पाते हैं, पर वास्तव में इनमें बहुत फर्क है।



  • Odent, M., Cisneros, M. V., & Balbás, M. J. (2007). El bebé es un mamífero. Ob Stare.
  • Oribe, M., Lertxundi, A., Basterrechea, M., Begiristain, H., Santa Marina, L., Villar, M., … & Ibarluzea, J. (2015). Prevalencia y factores asociados con la duración de la lactancia materna exclusiva durante los 6 primeros meses en la cohorte INMA de Guipúzcoa. Gaceta Sanitaria, 29(1), 4-9.
  • International Baby Food Action Network, and UNICEF. “Lactancia materna: una estrategia para mejorar la salud, el crecimiento y la nutrición del lactante y del niño pequeño.” (2004).
  • Castillo Belén, Juan Ramón, et al. “Lactancia materna e inmunidad: Impacto social.” Medisan 13.4 (2009): 0-0.
  • Roy, M. R. (2006). El destete natural. Medicina naturista, (10), 161-167.
  • Díaz-Gómez, N. M. “¿ En qué situaciones está contraindicada la lactancia materna.” Acta Pediatr Esp 63.8 (2005): 321-327.
  • Vidal, A. Viñas. “La lactancia materna: técnica, contraindicaciones e interacciones con medicamentos.” Pediatría Integral 15.4 (2011): 317-328.
  • Díaz-Gomez, M. “Contraindicaciones y falsas contraindicaciones para la lactancia materna.” J. Maldonado, J. Ansótegui, M. Gómez, A. Papí, M. Aguilar, L. Rivera,… & D. Gómez de La Torre (Eds.), Lactancia materna: Guía para profesionales 5 (2004): 107-118.
  • Romero-Velarde, Enrique, et al. “Consenso para las prácticas de alimentación complementaria en lactantes sanos.” Boletín médico del Hospital Infantil de México 73.5 (2016): 338-356.
  • Garibay, Edgar M. Vásquez, et al. “Recomendaciones para la alimentación del niño durante los primeros 23 meses de vida.” Pediatría de México 14.1 (2012): 25-42.