अगली बार जब सो पाने में मुश्किल पेश आये तो इस ड्रिंक को आजमाइए

15 दिसम्बर, 2018
यह साबित हो चुका है, सेहतमंद खुशनुमा ज़िन्दगी को बनाए रखने के लिए रोज कम से कम 7 या 8 घंटे बिना किसी बाधा के सोना चाहिए।

हम अक्सर इस बात की अनदेखी करते हैं, शरीर के कामकाज में नींद की बहुत अहम भूमिका है। इसलिए शारीरिक और मानसिक सेहत के लिए नींद एक ज़रूरी चीज है।

जब हम सोते हैं, तो मस्तिष्क की सेहत और एनर्जी लेवल को बहाल करने वाली ज़रूरी क्रियाएं शरीर में एक्टिवेट हो जाती हैं। यही कारण है कि नींद बहुत महत्वपूर्ण है।

समस्या यह है कि मॉडर्न लाइफस्टाइल के कारण कई लोगों को नींद की कमी हो जाती है। यह एक कारक बन गया है जो कई बीमारियों की संभावना को बढ़ाता है।

इसके अलावा, नींद की कमी लगभग तत्काल ही कई समस्याएं पैदा करती है। एकाग्रता में कमी, थकान, कमजोरी और त्वचा की समस्याएं इनमें अहम हैं।

इसलिए पर्याप्त नींद पाना और ऐसी समस्याओं से निपटना जरूरी है जो हमें समय पर बिस्तर पर जाने से रोकती हैं। लेकिन अनिद्रा के लिए बहुत ज्यादा दवाएं लेने की सिफारिश नहीं की जाती क्योंकि आगे चलकर यह दवा पर आपकी निर्भरता और दूसरे साइड इफेक्ट का कारण बन सकती है।

अच्छी खबर यह है कि कुछ नेचुरल तरीके हैं जो अवांछित प्रभावों के बिना आराम से सोने के लिए प्रेरित करने में मदद करते हैं।

इस पोस्ट में हम आपके साथ एक दिलचस्प नुस्खा शेयर करना चाहते हैं, जिसमें ऐसी खूबियां हैं जो नींद की कठिनाइयों को दूर करने के साथ शरीर को आराम भी देती हैं।

क्या आप इसे आजमायेंगे?

इसे भी पढ़ें: क्या करें अगर देर रात अचानक नींद टूट जाए

नींद की रुकावटों से छुटकारा पाने के लिए नेचुरल ड्रिंक

आरामदायक नींद कई कारकों पर निर्भर करती है। कोई नेचुरल ड्रिंक पीना नींद की कठिनाइयों को हल करने में सहायक का काम कर सकता है।

इस मामले में हम स्वादिष्ट केले और दालचीनी की चाय पीने का सुझाव देते हैं। इसे बिस्तर पर जाने से पहले पीने से स्ट्रेस, टेंशन और अनिद्रा को प्रभावित करने वाले अन्य लक्षण कम हो जाते हैं।

पिछले कुछ सालों से यह उपाय बहुत पॉपुलर हो गया है। जो लोग अच्छी तरह से नहीं सो पाते हैं उनके लिए यह सोने की गोलियों का 100% नेचुरल विकल्प बन गया है।

इसके अवयवों का पौष्टिक संयोजन इसे कोर्टिसोल लेवल को नियंत्रित करने वाला आदर्श ड्रिंक बनाता है। कोर्टिसोल एक हार्मोन है जो तनाव को बढ़ाता है और हमें आराम करने से रोकता है।

नींद से जुड़े केले के लाभ

केला एक मीठा फल है जो अपनी पोटैशियम और मैग्नीशियम की पर्याप्त मात्रा के लिए खास तौर से जाना जाता है। ये दोनों ज़रूरी खनिज हैं जो नर्वस और कार्डियोवैस्कुलर सिस्टम की सेहत सुधारते हैं।

केले की एक सीमित मात्रा का सेवन हाइपरटेंशन को रोकता है, द्रव प्रतिधारण का मुकाबला करता है, और सूजन संबंधी विकारों के जोखिम को कम करता है।

वे एक मसल और वेरीकोस सेडेटिव जैसे भी काम करते हैं, जो बदले में आसानी से सोने के लिए प्रोत्साहित करता है।

इसके अलावा, केले में ट्रिप्टोफेन नाम का ज़रूरी एमिनो एसिड होता है, जिसके असर से शरीर में सेरोटोनिन का ज्यादा स्राव होता है। सेरोटोनिन एक न्यूरोट्रांसमीटर है जो अच्छी नींद से जुड़ा हुआ है।

आरामदायक नींद में सहायक दालचीनी की खूबियां

दालचीनी में यूजीनॉल नाम का एक सक्रिय पदार्थ होता है जिसमें सूजन रोकने के, शामक, एंटीस्पाज्मोडिक और एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं।

सीमित मात्रा में दालचीनी खाना ब्लड शुगर को नियंत्रित करने के लिए एक सहायक का काम करता है। ऐसा लगता है, यह ग्लूकोज के मेटाबोलिज्म में कारगर ढंग से कार्य करता है।

यह एंग्जायटी और घबराहट से छुटकारा पाने में भी मदद करता है। ये दो इमोशनल डिसऑर्डर हैं जिनकी वजह से भी नींद की समस्याएं पैदा होती हैं।

इसे भी पढ़ें: ड्रिंक जो बढ़ाते हैं आपका ब्लड प्रेशर

इस नेचुरल रेमेडी को कैसे तैयार करें जो आपको सोने में मदद करेगी?

आप बाजार से सामान खरीदने के बाद कुछ आसान स्टेप्स में इस सरल रेमेडी को तैयार कर सकते हैं। हमारी राय में हो सके तो ऑर्गनिक चीजें खरीदें।

निर्देशों का पालन करने के बाद आपको एक सेडेटिव असर वाला ड्रिंक मिलेगा जो आपको अनिद्रा और सोने की सभी प्रकार की कठिनाइयों से निपटने में मदद करेगा।

सामग्री

  • 1 पका हुआ केला
  • 1/4 छोटा चम्मच दालचीनी (2 ग्राम)
  • 1 लीटर पानी

इसे कैसे तैयार करें

  • पानी को उबालें। जब तक पानी उबल रहा हो केले को छीले बिना कई टुकड़ों में काट लें।
  • पानी उबल जाये तो केले के टुकड़ों को उसमें डालें और 5 मिनट के लिए धीमी आंच पर बर्तन को रखा रहने दें।
  • इतनी देर बाद, बर्तन को ढकें और केले को 10 से 15 मिनट तक रहने दें।
  • जब यह एक सहनीय तापमान तक पहुंच जाए तो इसे छानें और एक कप में सर्व करें।
  • फिर दालचीनी डालें और हिलाएं।
  • सोने से 30 या 40 मिनट पहले इस ड्रिंक को पियें।

इस रेमेडी का सबसे अच्छा नतीजा पाने के लिए, यह ध्यान रखें कि आप एक आरामदेह जगह पर सो रहे हैं।

बिस्तर पर जाने से कुछ घंटे पहले इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों का उपयोग करने से बचें।

यदि आप इस सलाह का पालन करते हैं और फिर भी आपको सोने में परेशानी होती है, तो दूसरे ट्रीटमेंट के बारे में बात करने के लिए अपने डॉक्टर से मुलाकात करें।

  • Ara, A., Los grandes remedios naturales. Vol. 130. Edaf, 2003.
  • Jackson, M. Manual De Remedios Naturales. Vol. 145. Edaf, 2003.
  • Loureiro, S. Guía de remedios naturales para niños. Grupo Planeta Spain, 2013.
  • Palma, J. A. “Protocolo diagnóstico de los trastornos del sueño.” Medicine-Programa de Formación Médica Continuada Acreditado 11.73 (2015): 4409-4413.