3 नेचुरल सॉल्यूशन जो बेली बटन की सफ़ाई करने में असरदार हैं

अगस्त 23, 2019
बेली बटन यानी नाभि क्षेत्र शरीर का वह अंग है, जिसे लोग अक्सर इग्नोर करते हैं। जबकि इसे साफ रखना संक्रमण और दूसरी समस्याओं को रोकने के लिए बहुत ज़रूरी है। अपनी बेली बटन को साफ़ करने का नेचुरल सॉल्यूशन अब जान लीजिये!

क्या आप अपनी बेली बटन को साफ़ करती हैं? क्या शावर लेने के बाद अपने नाभि क्षेत्र को आप अच्छी तरह सुखाती हैं?

शायद ऩही।

क्योंकि यह देह का वह अंग है, जिसे लोग अक्सर इग्नोर करते हैं। जबकि शरीर के इस हिस्से की अच्छी साफ़-सफ़ाई कई तरह के संक्रमण का खतरा कम करती है। इस लेख में बेली बटन की सफ़ाई करने में जबरदस्त असरदार नेचुरल सॉल्यूशन के बारे में जानिये।

नाभि क्षेत्र नमी और गंदगी को जमा करने के लिए जाना जाता है। इसलिए यह बैक्टीरिया की ग्रोथ के लिए एकदम परफेक्ट प्रजनन क्षेत्र बन जाता है। इससे ऑमफेलाइटिस (omphalitis) हो सकता है, जो अम्ब्लिकल स्टंप का इन्फेक्शन है।

अपने बेली बटन को नेचुरल तरीके से साफ करें

आपके नाभि क्षेत्र पर किन चीजों से गंदगी जमा हो सकती है?

कुछ तरह की फैब्रिक, बीच सैंड, डेड स्किन सेल्स जो प्राकृतिक रूप से चमड़ी से छूटती रहती हैं और वह फैट जिसे हमारा शरीर पैदा करता हैं, ये सभी शरीर के इस हिस्से को गंदा कर सकते हैं।

शावर लेने या स्नान करने के बाद आपको अपने बेली बटनको अच्छी तरह से सुखा लेना चाहिए।

बेली बटन को नेचुरल तरीके से साफ करें

कुल मिलाकर बेली बटन शरीर का हिस्सा है जिसे बहुत से लोग इग्नोर करते हैं। यह अक्सर फैट, डेड सेल्स और गंदगी के कणों को इकठ्ठा कर लेता है।

आपके बेली बटन पर अतिरिक्त गंदगी के जमा होने से खुजली, लालिमा और अत्यधिक ड्राईनेस हो सकती है। ऐसे में अगर हाइजीन की कमी रही तो बैक्टीरिया फैल सकता है। इससे फंगस पनप सकते हैं, और संक्रमण हो सकता है। यह बदबू का कारण बन सकता है। इससे बचने के लिए आपको हर दिन अपनी नाभि की सफ़ाई करनी चाहिए।

आइए देखें कि कैसे।

इसे भी पढ़ें : शावर के फव्वारे में पानी का दबाव बढ़ाने के आसान तरीके

1. बेली बटन की सफ़ाई के लिए टी ट्री ऑइल (Tea Tree Oil)

टी ट्री ऑयल का एक अद्भुत गुण यह है कि यह एंटीफंगल एजेंट है। यह संक्रमण और फंगस से लड़ने में शानदार सहयोगी है जो शरीर के इस हिस्से की ठीक से साफ़-सफ़ाई न करने पर जमा हो सकते हैं।

  • नाभि क्षेत्र को साफ करने के लिए टी ट्री ऑयल का उपयोग करने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि कॉटन स्वैब पर इसकी एक बूंद लगाएं।
  • फिर, अपने बेली बटन को अच्छी तरह से साफ करने के लिए इसका उपयोग करें।
  • इसमें अति न करें क्योंकि यह आपके नाभि क्षेत्र की नाजुक त्वचा के लिए कठोर साबित हो सकता है।

2. रोजमेरी अल्कोहल (Rosemary Alcohol)

रोज़मेरी अल्कोहल ऑम्फलाइटिस के लिए शानदार नुस्खा है। बेली बटन को साफ करने में मदद करने के लिए रोज़मेरी अल्कोहल उपयोगी है और साथ ही एक सुखद गंध छोड़ती है।

मेंहदी में अद्भुत सुगंधित गुण होते हैं जो ऐसे मामलों में इसे ज़रूरी बनाते हैं। इसके अलावा यह बेली बटन की नाजुक त्वचा को नुकसान नहीं पहुंचाती है।

इसे लगाने के लिए एक कॉटन स्वैब का भी उपयोग करें।

ऐसा करने से पहले हम बेली बटन को साबुन से धोने और इसे अच्छी तरह से सुखा लेने की सलाह देते हैं।

रोज़मेरी अल्कोहल नाभि क्षेत्र को साफ करने और कीटाणुरहित करने के लिए सबसे अच्छे सॉल्यूशन में से एक है। इसे कम मात्रा में लगाने से इस अंग की खामियों और अप्रिय गंध से मुक्त रखने में मदद मिलती है।

इसे भी पढ़ें : करिश्मा जो नारियल का तेल आपके बालों के लिए कर सकता है

3. नारियल तेल

नाभि क्षेत्र को साफ करने के लिए आप जिस आख़िरी नेचुरल सॉल्यूशन का उपयोग कर सकते हैं वह है नारियल का तेल। पर अपने बेली बटन को टी ट्री ऑयल या रोज़मेरी अल्कोहल से साफ करने के बाद ही इसका इस्तेमाल करना चाहिए।

कोकोनट ऑयल एक अद्भुत मॉइस्चराइज़र है। बहुत से लोग हर दिन इसका इस्तेमाल करते हैं। पर इसमें ऐसे गुण भी होते हैं जो ऐसे बैक्टीरिया को कम करते हैं जो आपके बेली बटन पर जम सकते हैं। इसलिए आपको ऊपर बताये गए विकल्पों से नाभि क्षेत्र को साफ करने के बाद ही इसका इस्तेमाल करना चाहिए। इस तरह यह अंग संक्रमण और दूसरी समस्याओं से मुक्त हो जाएगा।

अपने शरीर के सभी अंगों पर ध्यान दें और बेली बटन की सफ़ाई करें

शायद अब तक आपने महसूस नहीं किया होगा, आपने अपने बेली बटन को पूरी तरह से इग्नोर किया है। हालाँकि आपको पता होना चाहिए, यह बहुत ज़रूरी है कि आप शॉवर लेने के बाद अपने बेली बटन को अच्छी तरह से सुखा लें।

अगर आप पहले बेली बटन में जलन, खुजली या लालिमा का शिकार रही हैं, तो हम आपको इस लेख में शेयर किए गए सॉल्यूशन का उपयोग हफ़्सते में कम से कम एक बार करने के लिए प्रोत्साहित करेंगे। इस तरह आप उस संक्रमण का ख़तरा कम कर देंगी जो शरीर के इस क्षेत्र को प्रभावित कर सकते हैं।

अगर आपको पहले से ही ऐसे लक्षण दिख रहे हैं जो बताते हैं कि कुछ गडबड है, तो अपने डॉक्टर से मिलने में देर न करें। वे संक्रमण को खत्म करने के लिए शायद कोई क्रीम लिखेंगे। फिर आपको हमारे बताये हुए इन सुझावों को ध्यान में रखना चाहिए जिससे ऐसा फिर से आपके साथ न हो।

क्या आप अपना बेली बटन साफ़ करती हैं? अगर हाँ, तो यह कैसे करती हैं?

  • Galindo, J., González, N., Delgado, D., Sosa, A., González, R., Torres, V., … & Cairo, J. (2009). Efecto del aceite de coco en la población de bacterias metanogénicas y su relación con otros grupos microbianos del rumen en condiciones in vitro. Revista Cubana de Ciencia Agrícola43(2).
  • Martinello, M.A., & Pramparo, M.. (2005). Poder Antioxidante de Extractos de Romero Concentrados por Destilación Molecular. Información tecnológica16(5), 17-20. https://dx.doi.org/10.4067/S0718-07642005000500004
  • Pérez Mendoza, Magdialis, & Berasategui Hernández, Kenia. (2015). Caracterización clínico-epidemiológica de la onfalitis en un servicio de Neonatología. Medicentro Electrónica19(3), 157-159. Recuperado en 28 de marzo de 2019, de http://scielo.sld.cu/scielo.php?script=sci_arttext&pid=S1029-30432015000300004&lng=es&tlng=es.