गर्मियों के मुख्य पैथोजेन

26 सितम्बर, 2020
गर्म और आर्द्र वातावरण के कारण कुछ पैथोजेन गर्मियों में ज्यादा फलते-फूलते हैं। गर्मियों के सबसे आम रोगजनक क्या हैं? पता लगाने के लिए पढ़ते रहें।

हम सभी जानते हैं, गर्मियों का आगमन पर्यावरण में तापमान में अचानक बढ़ोतरी कर देता है। नतीजतन कुछ तरह के संक्रमण की संभावना भी बढ़ जाती है। क्योंकि कुछ माइक्रोब इन स्थितियों के तहत बढ़ने करने में सक्षम होते हैं। गर्मियों के ये मुख्य पैथोजेन क्या हैं? आइये देखते हैं।

वायरस, बैक्टीरिया और कवक के संपर्क में वर्ष के किसी भी समय हो सकता है। हालांकि, गर्मियों की विशिष्ट विशेषताओं को देखते हुए, कुछ गर्मी के महीनों के दौरान अधिक आसानी से फैलने का प्रबंधन करते हैं। नीचे दिए गए पैराग्राफ में, हम आपको उन लोगों के बारे में बताएंगे जो अक्सर होते हैं, साथ ही साथ हमारे स्वास्थ्य को कैसे प्रभावित करते हैं।

पैथोजेन क्या हैं?

पैथोजेन वे सूक्ष्मजीव हैं जिनमें होस्ट के शरीर में घुसकर असुविधा या बीमारी पैदा करने की क्षमता होती है। इस परिभाषा में वायरस, बैक्टीरिया, फंगस, प्रोटोजोआ और अन्य जटिल सूक्ष्मजीवों सहित तमाम रोगाणु शामिल हैं।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि जिन बीमारियों का हम नीचे जिक्र कर रहे हैं उनमें से कुछ के एकाधिक कारण होते हैं। दूसरे शब्दों में, वे विभिन्न जोनरा और यहां तक ​​कि अलग-अलग ऑर्डर के पैथोजेन के कारण हो सकते हैं। दरअसल यह ग्रुपिंग उनका ट्रीटमेंट आसान बनाने में मदद करती है।

गर्मियों के मुख्य पैथोजेन क्या हैं?

वायरस और बैक्टीरिया जो सूजन का कारण बनते हैं

कंजक्टिवाइटिस और कान के संक्रमण सूजन पैदा करने वाली बीमारियां हैं जो गर्मियों के दौरान सार्वजनिक स्विमिंग पूल में होते हैं। कंजक्टिवाइटिस में कंजक्टिव लेयर में सूजन होती है – यह वह म्यूकस मेम्ब्रेन है जो आंख के इंटीरियर को कवर करती है। इसके लक्षण में निम्न बातें शामिल हैं:

  • आँख की सूजन
  • आँख का लाल होना
  • आंसू बहना
  • पीला द्रव निकलना

कंजक्टिवाइटिस वायरस के कारण बी ही हो सकता है और बैक्टीरिया से भी। हालांकि कंजक्टिवाइटिस के ज्यादातर मामलों में एडिनोवायारस (adenovirus) जिम्मेदार होता है। यह वायरस सीधे संपर्क के अलावा दूषित पानी में वायरस कणों के जरिये फैलता है।

दूसरी ओर कान के बाहरी ईयर कैनाल में संक्रमण का जहां तक सवाल है, ये ज्यादातर बैक्टीरिया के कारण होते हैं। कान के संक्रमण को स्थान अनुसार आंतरिक (इंटरनल ईयर इन्फेक्शन) या बाहरी (आउटर इयर इन्फेक्शन) के रूप में क्लासिफाई किया जाता है। उनकी क्लिनिकल लक्षण में ये बातें शामिल होती हैं:

  • सुनने में कठिनाई होना
  • कान में दर्द
  • स्पर्श करने से तकलीफ

दोनों बीमारियों में कुछ सामान्यता है: जो पैथोजेन उनका कारण होते हैं, चाहे वायरस हों या बैक्टीरिया, वे पानी और गर्म तापमान में रहते हैं। इसलिए इस प्रकार के पैथोजेन के लिए स्विमिंग पूल का गर्म पानी सही प्रजनन स्थल है।

इसे ध्यान में रखते हुए, उचित हाइजीन हैबिट अपनाना और अपनी निजी वस्तुओं का इस्तेमाल करना महत्वपूर्ण है। याद रखें, ये सूक्ष्मजीव सतहों पर भी जीवित रहते हैं।

तुम भी पढ़ने के लिए चाहते हो सकता है: क्या होते हैं एंटीबॉडी?

फ़ूड पॉयजनिंग का कारण बनने वाले पैथोजेन

फ़ूड पॉयजनिंग का कारण बनने वाले पैथोजेन

खाद्य पदार्थों के मामले में सही हाइजीन का पालन न करना फ़ूड पॉयजनिंग का कारण होता है

गर्मियों के बुफे के बाद तेज डायरिया से पीड़ित होने की तकलीफ किसने नहीं झेली है? गर्मी के दिनों में फूड प्वॉइजनिंग बहुत आम है।

तापमान में वृद्धि कई जीवों के फलने-फूलने  में मददगार होती है जो फ़ूड पॉयजनिंग का कारण बनती है। छुट्टी में हमारी आदतें बदल जाती हैं। समुद्र के किनारे या पूल पर भोजन करना, जहाँ हाइजीन के उपाय कम हैं, अपने घर में खाने की तुलना में बहुत ज्यादा जोखिम भरा है।

मेडलाइनप्लस के अनुसार गर्मियों में सबसे आम रोगजनकों में से कुछ जो इस क्लिनिकल कंडीशन का कारण बनते हैं:

  • कैम्पिलोबैक्टर जीनस (Campylobacter genus) से जुड़ा बैक्टीरिया, ग्राम-नेगेटिव बैसिली जो फ्लैजिलम के कारण मोबाइल होते हैं।
  • ई. कोलाई (E. Coli) बैक्टीरिया, जो आम तौर पर बिना किसी समस्या के इंसानी आँतों के माइक्रोबायोटा के बीच रहता है। हालांकि इसके कुछ स्ट्रेन म्यूकस मेम्ब्रेन से छिपकर दस्त पैदा करते हैं।
  • विब्रियो कॉलरा (Vibrio cholera) वह बैक्टीरिया है जिसमें दो सेरोटाइप शामिल होते हैं, जिन्हें हम हैजा के नाम से जानते हैं।
  • साल्मोनेला जीनस से संबंधित बैक्टीरिया गर्म तापमान में प्रजनन करने में समर्थ होता है।

जैसा कि आप देख सकते हैं, दस्त के लगभग सभी गर्मियों के मामले बैक्टीरिया जनित हैं। क्योंकि यह किसी जानवर के माइक्रोबायोटा के लिए अपने मांस के साथ इसे मिला लेना आसान होता है। यह उस पानी के साथ भी आम है जो खाना पकाने के लिए और बर्तन साफ ​​करने के लिए उपयोग किया जाता है।

हमारे और अधिक जानकारी प्राप्त करें: खांसी, एलर्जी या फ्लू के इलाज में मदद के लिए प्याज का इस्तेमाल करें

गर्मियों के दौरान दूसरे आम पैथोजेन

गर्मी के महीनों में ये पैथोजेन खूब फलते-फूलते हैं। हम इस आर्टिकल को कुछ दूसरे पैथोजेन पर टिप्पणी किए बिना ख़त्म नहीं कर सकते हैं जो इस मौसम में आम होते हैं।

  • विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार मनुष्यों में इन्सेक्ट से ट्रांसमिट होने वाली 10 आम बीमारियाँ हैं। इन स्पीशीज में से अधिकांश का रिप्रोडक्टिव साइकल  वसंत और गर्मियों के बीच वयस्कता के साथ ख़त्म होता है। इसलिए साल के इस समय उनकी व्यापकता बढ़ जाती है। उदाहरण के लिए इनमें डेंगू, मलेरिया, लीशमैनियासिस और पीले बुखार जैसे रोग शामिल हैं, जो अक्सर वायरस और प्रोटोजोआ से होते हैं।
  • गर्मियों में त्वचा रोगों का कारण बनने वाले फंगस भी बहुत आम है। स्विमिंग पूल और पब्लिक बाथरूम जैसी जगहें इनके प्रजनन के लिए अच्छी जगहें हैं। क्योंकि हाई टेम्परेचर और आर्द्रता इन फंगस के फलने-फूलने में मदद करती है।

आप देख सकते हैं, गर्मियों में बीमारी का कारण बनने वाले पैथोजेन की सूची व्यावहारिक रूप से अनंत है। इनमें बैक्टीरिया प्रमुख हैं क्योंकि वे सूजन संबंधी बीमारियों के साथ-साथ गैस्ट्रोएंटेराइटिस और डायरिया का कारण बनते हैं।

इसलिए छुट्टी के समय खाने, शावर, स्नान करने और बाथरूम जाने में अत्यधिक सावधानी बरतना महत्वपूर्ण है। यदि संक्रमण का कोई लक्षण देखें तो डॉक्टर से मिलें।

  • Perencevich EN, McGregor JC, Shardell M, et al. Summer Peaks in the Incidences of Gram-Negative Bacterial Infection Among Hospitalized Patients. Infect Control Hosp Epidemiol. 2008;29(12):1124‐1131. doi:10.1086/592698
  • Fares A. Factors influencing the seasonal patterns of infectious diseases. Int J Prev Med. 2013;4(2):128‐132.
  • Durkin MJ, Dicks KV, Baker AW, et al. Seasonal Variation of Common Surgical Site Infections: Does Season Matter?. Infect Control Hosp Epidemiol. 2015;36(9):1011‐1016. doi:10.1017/ice.2015.121
  • Eber MR, Shardell M, Schweizer ML, Laxminarayan R, Perencevich EN. Seasonal and temperature-associated increases in gram-negative bacterial bloodstream infections among hospitalized patients. PLoS One. 2011;6(9):e25298. doi:10.1371/journal.pone.0025298