हर्पीस जॉस्टर के लक्षण और निदान के बारे में अहम तथ्य

19 जुलाई, 2018
हर्पीस जॉस्टर एक ऐसी बीमारी है जो मुख्य रूप से 50 वर्ष से अधिक उम्र के वयस्कों और कमजोर इम्यून सिस्टम वाले लोगों को प्रभावित करती है।

हर्पीस जॉस्टर जिसे अंग्रेजी में शिंगल्स (भैंसिया दाद) कहते हैं, एक संक्रमण है जो वेरीसेल्ला जॉस्टर वायरस (varicella-zoster virus) के कारण होता है। शिंगल्स (Shingles) मुख्य रूप से त्वचा के नीचे नसों को प्रभावित करती है। इसके मुख्य लक्षणों में सूजन और फफोले जैसे उभार हैं। ये प्रभावित नर्व के पास निकलते हैं। इसलिए आसानी से दिखाई देते हैं।

प्रभावित त्वचा पर लाली और छोटे फफोले होते हैं जो नस के रास्ते पर उभरे दीखते हैं। इसलिए आम तौर पर लोग अंग्रेजी में इस बीमारी को “शिंगल्स” कहते हैं। ये फफोले त्वचा में जलने जैसा ही दर्द पैदा करते हैं। इसलिए दुनिया में कहीं-कहीं लोग इसे “सेंट एंथनी की आग” कहते हैं।

अधिकांश मामलों में, यह बीमारी बुजुर्ग वयस्कों को शिकार बनाती है। हालांकि बहुत से किशोरों को भी शिंगल एपिसोड का सामना करना पड़ा है, लेकिन ये आम तौर पर हल्के मामले होते हैं। बीमारी बड़े वयस्कों में अधिक जटिलताओं का कारण बनती है।

हर्पीस जॉस्टर के कारण (Causes of Shingles)

हर्पीस जॉस्टर के कारण

जिस वायरस के कारण हर्पीस जॉस्टर होता है उसी की वजह से चिकन पॉक्स या चेचक भी होता है। यह वायरस शरीर से पूरी तरह नहीं हटाया जा सकता। इसके बजाय, यह जीव में सुप्त अवस्था में रहता है। कुछ ख़ास परिस्थितियों में यह वायरस तंत्रिका नोड्स में पुनः सक्रिय हो उठता है।

जरूरी नहीं है कि हर कोई जिसे चेचक हुआ है उसे हर्पीस जॉस्टर भी होगा। आम तौर पर, वायरस उन लोगों में पुनः सक्रिय होता है जिनके इम्यून सिस्टम में उम्र या किसी अन्य बीमारी या फिर दवाओं के कारण अस्थायी या स्थायी परिवर्तन होते हैं। ऐसी दवाओं में कॉर्टिकोइड्स, रयुमेटिज्म दवायें अन्य रोग शामिल हैं।

हर्पीस जॉस्टर संक्रामक नहीं है। हालांकि इस बीमारी से पीड़ित व्यक्ति वेरीसेल्ला वायरस को किसी दूसरे व्यक्ति तक पहुंचा सकता है जिसको कभी चेचक नहीं हुआ है। वायरस केवल फफोलों के साथ सीधे संपर्क से स्थानांतरित हो सकता है।

50 साल से अधिक उम्र के वयस्कों को यह बीमारी होने की अधिक संभावना होती है। जिन लोगों का इम्यून सिस्टम एचआईवी के कारण कमजोर हो गया हो वे भी इसके लिए अति संवेदनशील होते हैं। इसी तरह जो लोग अपने पहले जन्मदिन से पूर्व वेरीसेल्ला से पीड़ित हो चुके हैं उनमें यह बीमारी विकसित हो सकती है।

 

इसे भी पढ़ें:

रिंगवर्म क्या है और इसका ट्रीटमेंट कैसे करते हैं?

हर्पीस जॉस्टर के लक्षण (Shingles Symptoms)

हर्पीस जॉस्टर का निदान

दर्द हर्पीस जॉस्टर के सबसे स्पष्ट लक्षणों में से एक है, और यह फफोले दिखाई देने से पहले भी हो सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि वायरस त्वचा की तंत्रिकाओं को प्रभावित करता है। अधिकांश मामलों में, दर्द के पहले अनुभव के बाद फफोले 1 से 14 दिनों के बीच दिखाई देते हैं, और दर्द या तो हल्का या गंभीर हो सकता है।

इसके पहले लक्षण हैं:

  1. खुजली
  2. गुदगुदी महसूस होना
  3. झुनझुनी
  4. केंद्रीय दर्द

इसके अलावा, शुरुआती चरण के दौरान निम्नलिखित लक्षण भी हो सकते हैं –

  • बुखार
  • सिरदर्द या सामान्य असुविधा
  • गैस्ट्रोइंटेस्टाइन की असुविधा

बिना किसी संदेह के, इस बीमारी का मुख्य लक्षण फफोलों की उपस्थिति है। शुरुआत में, विस्फोट छोटे होते हैं, लेकिन वे बड़े हो सकते हैं और अन्य फफोलों के साथ विलय होकर बड़े घाव बना सकते हैं। आम तौर पर इन घावों के बढ़ने की अवधि 3 से 5 दिनों तक होती है। बाद में, बीमारी के अंतिम चरण के अनुरूप पपड़ी बनती है।

जिन मामलों में वायरस सिर पर फिर से दिखाई देता है, यह व्यक्ति की दृष्टि या सुनने की शक्ति को प्रभावित कर सकता है। यदि यह मैंडीब्यूलर नर्व को प्रभावित करता है तो ओरल कैविटी, जीभ या गले में घाव हो सकते हैं। विरले मौकों पर, एक व्यक्ति स्वाद का अनुभव करने की शक्ति खो सकता है।

डायग्नोसिस और जटिलताएं

 

हर्पीस जॉस्टर डायग्नोसिस

हर्पीस जॉस्टर के रोगी की शारीरिक जांच करने के बाद उसकी क्लिनिकल हिस्ट्री और रिकॉर्ड को ध्यान में रखते हुए डायग्नोसिस की जाती है।

यदि कोई शक होता है कि वास्तव में हर्पीस जॉस्टर है या नहीं, तो लेबोरेटरी में परीक्षण के लिए घावों से स्किन सेल्स का एक नमूना लिया जा सकता है, जिससे मामले का मूल्यांकन किया जा सकेगा। एक निश्चित डायग्नोसिस के लिए रक्त परीक्षण एक और व्यवहार्य विधि है।

लेकिन बीमारी की डायग्नोसिस करने के लिए लम्बर पंचर किया जा सकता है, केवल तब जब तंत्रिका तंत्र प्रभावित हो। इसके अतिरिक्त, असामान्य मामलों में, एक टज़ैंक स्मीयर करवाना आवश्यक हो सकता है, जिसमें फफोलों में जमे तरल की स्क्रैपिंग और टेस्ट किया जाता है।

पोस्ट हेरपटिक न्युरॉल्जिया इस बीमारी की सबसे ज्यादा होने वाली गंभीर जटिलताओं में से एक है। यह 50% रोगियों में होता है जिसमें होने वाले दर्द को लोग जलने, बिजली के समान और असहनीय के रूप में वर्णन करते हैं। सबसे गंभीर मामलों में, दर्द एक व्यक्ति को पूरी तरह से अक्षम कर सकता है। सबसे बुरी बात यह है कि यह दर्द सप्ताह, महीनों, वर्षों और यहां तक ​​कि जीवन भर के लिए जारी रह सकता है।

अन्य जटिलताओं में आँख की समस्याएं हो सकती हैं, जब हर्पीस जॉस्टर आंख के नजदीक होता है। कई मामलों में, प्रभाव गंभीर हो सकते हैं। त्वचा पर अतिरिक्त संक्रमण हो सकते हैं, जैसे सेल्युलाईट या इंपेटिगो। कुछ मामलों में, इस प्रकार का हर्पीस मेनिंजाइटिस पैदा करता है।