ऑर्थोडॉन्टिक्स के साथ डेंटल हाइजीन रखने की 7 अहम बातें

31 जनवरी, 2020
अगर आपने ऑर्थोडॉन्टिक्स कराया है तो डेंटल हाइजीन आपसे ज्यादा वक्त और केयर की मांग करती है। यह जाहिर है ज्यादा प्रयास की मांग करती है लेकिन वास्तव में यह प्रयास सार्थक है। क्योंकि यह आपके ब्रेसिज़, रिटेनर या हेडगियर का सही ढंग से काम करना सुनिश्चित करता है।

ऑर्थोडॉन्टिक्स के साथ अच्छी डेंटल हाइजीन बनाए रखना आसान नहीं है। साथ ही दाँत और ब्रेसिज को साफ-स्वच्छ रखना दोनोंदांतों की सड़न और मसूड़े की सूजन जैसी समस्याओं की रोकथाम निश्चित करने के लिए ज़रूरी है।

ब्रेसिज़ या दूसरे ऑर्थोडॉन्टिक्स वाले व्यक्ति को अपने ओरल हाइजीन में बहुत मशक्कत करनी होगी, खासकर अगर वे फिक्स किए गए हैं। उन्हें इसके लिए ज्यादा वक्त देने और पर्याप्त हाइजीन के लिए उपलब्ध तमाम उपकरणों का इस्तेमाल करने की ज़रूरत होगी।

डेंटल हाइजीन के लिए ब्रश हैबिट

सौभाग्य से ऑर्थोडॉन्टिक्स के साथ पर्याप्त डेंटल हाइजीन बरतना आसान है। वे सामान्य से ज्यादा वक्त की मांग करते हैं, और इससे यह भी गारंटी होती है कि आप भविष्य में किसी अन्य समस्या के शिकार न हों। नीचे हम इसके लिए 7 बुनियादी आईडिया शेयर करेंगे।

1. डेंटल हाइजीन के लिए ब्रश हैबिट

ऑर्थोडॉन्टिक्स कराने वाले लोगों को उचित डेंटल हाइजीन रखने के लिए सबसे अहम उपाय टूथ ब्रशिंग है। आपको अपने दांतों को दिन में कम से कम तीन बार ब्रश करना चाहिए। हालाँकि कुछ भी खाने या शुगर वाला खाना खाने के बाद अपने दाँतों पर ब्रश करना भी ज़रूरी है।

रात को ब्रश करना सबसे ज़रूरी है और आपको इसमें सबसे ज्यादा वक्त देना चाहिए। हर दाँत को अलग-अलग, दोनों तरफ और भीतरी भागों में धीरे-धीरे ब्रश करना अच्छा है। बैक्टीरियल प्लाक से लड़ने के लिए ब्रश करना बहुत अहम है।

टूथ ब्रशिंग सबसे ज़रूरी ओरल हाइजीन हैबिट में से एक है। अगर आपने ब्रेसिज़ लगवाया है तो सही साफ़-सफाई निश्चित करने के लिए कुछ भी खाने के बाद ब्रश करना सबसे अच्छा है।

इसे भी पढ़ें : डेंटल प्लाक से छुटकारा पाने के 10 नेचुरल नुस्ख़े

2. टूथब्रश

ऑर्थोडॉन्टिक्स के साथ डेंटल हाइजीन के लिए विशेष टूथब्रश हैं। वे वी-आकार के होते हैं, जो उन्हें ऑर्थोडॉन्टिक्स के आसपास साफ करने की सहूलियत देता है।

हालांकि कई एक्सपर्ट का मानना ​​है कि इलेक्ट्रिक टूथब्रश का इस्तेमाल करना बेस्ट है। बेस्ट इलेक्ट्रिक टूथब्रश रिचार्जेबल होते हैं और इसमें ऑसिलेटिंग तकनीक होती है। साथ ही आपको ऑर्थोडॉन्टिक्स के लिए एक विशिष्ट हेड चुनना होगा। टूथब्रश में प्रेशर सेंसर लगा हो तो और भी अच्छा है। यह आपको ज्यादा दबाव डालने और ऑर्थोडॉन्टिक्स को नुकसान पहुंचाने से बचाएगा।

इस लेख में आपकी रुचि हो सकती है: दांतों की क्षय : क्यों होती है डेंटल कैविटी?

3. टूथपेस्ट

एक नियम के रूप में फ्लोराइड टूथपेस्ट का इस्तेमाल करना अच्छा है, क्योंकि यह दांतों की क्षय के लिए आपके रेजिस्टेंस को बढ़ाने में मदद करता है और सॉफ्ट होता है। अब्रेसिव टूथपेस्ट की सिफारिश नहीं की जाती है, क्योंकि यह दाँत के एनामेल को नुकसान पहुंचाता है और कभी-कभी ब्रेसिज़ पर भी असर डालता है।

अगर आपको कोई दूसरी समस्या है, जैसे कि मुंह से दुर्गंध या मसूड़े में सूजन, तो अपने डेंटिस्ट से सलाह लें, क्योंकि वे टूथपेस्ट की ख़ास टाइप का उपयोग करने की सलाह देते हैं। हालांकि याद रखें कि टूथपेस्ट तो बस कॉम्प्लीमेंट है, ब्रश करना सबसे अहम बात है।

4. डेंटल हाइजीन फ्लॉसिंग

हां, आपको फ्लॉस करना चाहिए। फ्लॉसिंग आपको ऑर्थोडॉन्टिक्स के साथ सही डेंटल हाइजीन के लिए दांतों के बीच की जगह तक पहुंचने की सहूलियत देता है। हालाँकि जब आपके पास ब्रेसिज हों तो दांतों को ब्रश करने से कोई फर्क नहीं पड़ता, हमेशा कुछ स्पॉट छूट जायेंगे।

ब्रेसिज़ दांतों में खाद्य के छोटे टुकड़ों को छोड़ने की संभावना ज्यादा छोड़ता  है। आदर्श रूप से आपको वैक्स वाले डेंटल फ्लॉस का उपयोग करना चाहिए; अगर इसमें फ्लॉस थ्रेडर है तो और भी अच्छा है। फ्लॉस को धीरे से ऊपर और नीचे ले जाना चाहिए। फिर इंटरडेंटल गैप में फ्लॉस करें।

डेंटल हाइजीन फ्लॉसिंग

फ्लॉसिंग दांतों और ब्रेसिज़ के बीच बचे-खुचे फ़ूड वेस्कीट को साफ़ करने में मदद करती है।

5. प्लेक रीवीलर की अहमियत

प्लेक रीलीवर उन जगहों की पहचान करने में मदद करता है जहां कम से कम फ़ूड वेस्ट हैं। यदि आप ख़ास ऑर्थोडॉन्टिक्स का उपयोग करते हैं, तो आप ब्रश करने पर भी भरोसा नहीं कर सकते हैं, क्योंकि आप कुछ क्षेत्रों को अनदेखा कर देंगे।

ब्रश करने के बाद इसका इस्तेमाल करना चाहिए। यह न सिर्फ बताता है कि आपको उन जगहों पर फिर से ब्रश करना चाहिए बल्कि यह आपको उन जगहों तक जाने में भी मदद करता है जहां आप सही डेंटल हाइजीन नहीं बरत पा रहे हैं।

आपको यह लेख जरूर पढ़ना चाहिए: दांत का फोड़ा और उसका इलाज कैसे करें

6. माउथवॉश

ब्रेसिज़ वालों के लिए माउथवॉश जरूरी है। ब्रश करने के बाद इसका उपयोग किया जाता है। इसका मुख्य काम बैक्टीरिया और दूसरे माइक्रोब को ख़त्म करना है।

कुछ माउथवॉश उन लोगों के लिए विशेष रूप से सही  हैं जिनके पास ऑर्थोडॉन्टिक्स हैं, क्योंकि उनके पास ऐसे घटक हैं जो इन उपकरणों को नुकसान नहीं पहुंचाते हैं। किसी भी मामले में, फ्लोराइड के साथ एक अच्छा माउथवॉश दांत तामचीनी की रक्षा करने में मदद करता है।


माउथवॉश का उपयोग दंत स्वच्छता के लिए एक अच्छा पूरक है। इसके अलावा, यह बैक्टीरिया को खत्म करने में मदद करता है।

7. डेंटल हाइजीन के लिए ओरल इरिगेशन

एक मौखिक सिंचाई अच्छी डेंटल हाइजीन बनाए रखने के लिए एक आदर्श पूरक है। हालाँकि, यह मत भूलो, खासकर जब आपके पास ब्रेसिज़ होते हैं, तो कई ऐसे क्षेत्र होते हैं जहाँ छोटे खाद्य स्क्रैप बन सकते हैं और किसी का ध्यान नहीं जा सकता है।

एक मौखिक इरिगेटर एक स्पंदित पानी की एक धारा प्रदान करता है जो मुंह के सभी कोनों तक पहुंचता है। यह उन लोगों के लिए पूरी तरह उपयुक्त है जिन्हें अपने दंत स्वच्छता में विशेष देखभाल की आवश्यकता होती है। बाजार में कई प्रकार के मौखिक सिंचाई होते हैं, जो साधारण से लेकर परिष्कृत सुविधाओं वाले होते हैं।

निष्कर्ष

यदि आपके पास ब्रेसिज़ है, तो मौखिक स्वच्छता की आदतों को बढ़ावा देना आवश्यक है। इसलिए, ब्रश करने में सुधार करने, उपयुक्त टूथब्रश चुनने और दंत फ्लॉस और माउथवॉश जैसी अन्य वस्तुओं का उपयोग करने की सिफारिश की गई है। नियमित रूप से रूढ़िवादी के पास जाना भी आवश्यक है।

  • Soria-Hernández, M. A., Molina, N., & Rodríguez, R. (2008). Hábitos de higiene bucal y su influencia sobre la frecuencia de caries dental. Acta pediátrica de México, 29(1), 21-24.
  • Arnold WH, Dorow A, Langenhorst S, Gintner Z, Bánóczy J, Gaengler P. Effect of fluoride toothpastes on enamel demineralization. BMC Oral Health. 2006;6:8. Published 2006 Jun 15. doi:10.1186/1472-6831-6-8
  • Asl Aminabadi N, Balaei E, Pouralibaba F. The Effect of 0.2% Sodium Fluoride Mouthwash in Prevention of Dental Caries According to the DMFT Index. J Dent Res Dent Clin Dent Prospects. 2007;1(2):71–76. doi:10.5681/joddd.2007.012
  • Cozzani M, Ragazzini G, Delucchi A, et al. Oral hygiene compliance in orthodontic patients: a randomized controlled study on the effects of a post-treatment communication. Prog Orthod. 2016;17(1):41. doi:10.1186/s40510-016-0154-9
  • Atassi, F., & Awartani, F. (2010). Oral hygiene status among orthodontic patients. Journal of Contemporary Dental Practice11(4), 25–32.