प्रेग्नेंसी के दौरान हाई शुगर डाइट का जोखिम

19 जनवरी, 2021
न्यूट्रीशन एजुकेशन और काउंसिलिंग गर्भवती महिलाओं की डाइट में सुधार लाने की आम स्ट्रेटजी होती है। हम इस आर्टिकल में हाई शुगर डाइट के रिस्क की व्याख्या करेंगे।

हाई शुगर डाइट से किसी को भी सेहत से जुडी जटिलताएं हो सकती हैं, लेकिन गर्भावस्था के दौरान यह बेहद समस्याजनक है। जटिलताएं बहुत बढ़ सकती हैं, और भविष्य में बीमारियों के बढ़ने का जोखिम इससे बढ़ जाता है।

गर्भावस्था एक ऐसा चरण है जो कई बदलावों के साथ आता है। शरीर एक नया जीवन बनाने के लिए तैयार करता है, और इसमें पूरे शरीर में परिवर्तन शामिल हैं।

गर्भावस्था में क्या होता है?

गर्भावस्था महत्वपूर्ण रूप से अहम स्टेज है। इसमें विकास की कई तरह की प्रक्रियाएं, मेटाबोलिक एडाप्टेशन, और गर्भ के बाहर बच्चे के जीवन की तैयारी से जुड़ी बहुत सी प्रक्रियाएं होती हैं।

यह एक ऐसी स्थिति है जहाँ माँ के शरीर में ग्लूकोज और प्लाज्मा लिपिड की मात्रा में बदलाव होता है, साथ ही साथ हार्मोन में भी बदलाव होता है, जैसे कि इंसुलिन। इसी तरह इस हार्मोन का एक निश्चित रेजिस्टेंस भी है।

दरअसल इसकी वजह यह सुनिश्चित करना होता है कि ग्लूकोज मां के मस्तिष्क और भ्रूण तक ठीक से पहुंच जाए। इसके अलावा यह ग्लूकोस को मैमेरी ग्लैंड की ओर निर्देशित करता है और दूसरे अंगों द्वारा इसका उपयोग कम करता है।

यह भी पढ़ें: गर्भावस्था की जटिल स्थिति प्री-एक्लेमप्सिया के बारे में सबकुछ जानें

गर्भावस्था और शुगर मेटाबोलिज्म

कुछ महिलाओं में पूरे गर्भावस्था के दौरान कार्बोहाइड्रेट मेटाबोलिज्म में बदलाव होता है। यह बदलाव नार्मल वैल्यू से ऊपर हाई फास्टिंग शुगर लेवल का कारण बनता है।

जब फास्टिंग ब्लड शुगर लेवल और इन्सुलिन लेवल नार्मल हो, या यहां तक ​​कि कम हो, तो कार्बोहाइड्रेट के सेवन के बाद ब्लड शुगर नार्मल वैल्यू से ऊपर उठ जाता है। ये बदलाव गर्भावस्था की तीसरी तिमाही में ज्यादा स्पष्ट होते हैं।

गर्भावस्था के दौरान जैसा कि हमने बताया है,  शरीर इंसुलिन के लिए ज्यादा रेजिस्टेंट हो जाता है। इस तरह कभी-कभी शरीर को भोजन में शुगर के मेटाबोलिज्म करने के लिए इस हार्मोन की ज्यादा जरूरत होती है। जब आपमें इंसुलिन अपर्याप्त या न हो तो ग्लूकोज आपके खून में जमा हो जाता है।

यदि आपका शरीर गर्भावस्था के दौरान ग्लूकोज को ठीक से कंट्रोल न करे तो कई मामलों में परिवर्तन भ्रूण के विकास को गंभीर रूप से प्रभावित कर सकता है। इसके अलावा बच्चे को बड़े होने पर डायबिटीज की चपेट में ले सकते हैं।

प्रेग्नेंसी के दौरान हाई शुगर डाइट और डायबिटीज

ऊपर हमने जो जिक्र किया है, इसके अलावा माँ गर्भावस्था में हाई शुगर डाइट का पालन कर सकती है, जो इस स्थिति को और भी अधिक बदल सकती है। तब जेस्टेशनल डायबिटीज हो सकता है। यह वह जगह है जहां गर्भावस्था के दौरान पहली बार डायबिटीज की डायग्नोसिस की जाती है।

आमतौर पर यह एक क्षणिक स्थिति है जब गर्भवती महिला पर्याप्त इंसुलिन पैदा नहीं कर सकती है या इसके लिए प्रतिरोधी बन जाती है, जिससे ब्लड शुगर बढ़ जाता है।

जेस्टेशनल डायबिटीज

इस समस्या वाली गर्भवती महिलाओं में कुछ रोगों का खतरा ज्यादा होता है जो कि निम्नलिखित हैं:

  • गर्भावस्था के दौरान हाई ब्लड प्रेशर
  • डायबिटीज से जुड़े रोग
  • सिजेरियन बर्थ

साथ ही, कई अध्ययनों से पता चलता है कि जेस्टेशनल डायबिटीज वाले 50% रोगियों में अगले 10 वर्षों में टाइप 2 डायबिटीज के विकास का खतरा बढ़ जाता है।

इसे भी पढ़ें : गर्भावस्था में हाई ब्लड प्रेशर : लक्षण और इलाज

गर्भावस्था के दौरान आपको क्या खाना चाहिए?

पहली बात ध्यान रखें कि जेस्टेशनल डायबिटीज को रोकने के लिए डाइट महत्वपूर्ण है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार गर्भावस्था के दौरान स्वस्थ आहार में पर्याप्त ऊर्जा, प्रोटीन, विटामिन और मिनरल होते हैं।

ऐसा करने के लिए आपको यह सुनिश्चित करने की जरूरत है कि आपको इन खाद्य पदार्थों में से पर्याप्त मात्रा में मिले:

  • सब्जियां और फल
  • लीन और मांस
  • मछली
  • फलियां
  • नट्स
  • साबुत अनाज

इसके अलावा, यह मत भूलिए कि मधुमेह के मामले में, उपचार में रक्त शर्करा के दैनिक नियंत्रण, स्वस्थ आहार और शारीरिक व्यायाम शामिल हैं। यदि रक्त शर्करा का स्तर बहुत अधिक है, तो डॉक्टर आवश्यक दवाएं लिखेंगे।

गर्भावस्था के दौरान हाई शुगर डाइट की सिफारिश नहीं की जाती है

गर्भावस्था के दौरान महिलाओं की पोषण संबंधी स्थिति में सुधार के लिए पोषण शिक्षा और परामर्श एक व्यापक रूप से इस्तेमाल की जाने वाली रणनीति है। इसके अतिरिक्त, यह भविष्य की जटिलताओं को रोकने में मदद करता है।

रणनीति मुख्य रूप से निम्नलिखित तत्वों पर केंद्रित है:

  • भोजन की मात्रा को ध्यान में रखते हुए माँ की डाइट में सुधार करें।
  • पर्याप्त और संतुलित डाइट के जरिये पर्याप्त वजन बढ़ाने को बढ़ावा दें।

शुगर कम होने पर स्वस्थ आहार का पालन करने के लिए डॉक्टरों और पोषण विशेषज्ञों की सलाह लेना महत्वपूर्ण है। इसी तरह गर्भावस्था के दौरान डेली फिजिकल एक्टिविटी करना जरूरी है।

  • Medina-Pérez EA, Sánchez-Reyes A, Hernández-Peredo AR, Martínez-López MA, Jiménez-Flores CN, Serrano-Ortiz I . Diabetes gestacional. Diagnóstico y tratamiento en el primer nivel de atención. Med. interna Méx. 2017; 33(1):91-98.
  • Efecto de una dieta personalizada en mujeres embarazadas con sobrepeso u obesidad. Rev Chil Nutr 2016;(3):230-238.
  • Vigil-De Gracia P, Olmedo J. Diabetes gestacional: conceptos actuales. Ginecol. obstet. Méx. 2017;85(6):380-390.
  • Who.[Internet] Asesoramiento nutricional durante el embarazo. Actualizado el 5 de abril de 2019.Disponible en: https://www.who.int/elena/titles/nutrition_counselling_pregnancy/es/