इस होममेड क्रीम से मुंह के आसपास झुर्रियां घटाएं

11 फ़रवरी, 2019
चेहरे के बाकी हिस्सों की त्वचा की तुलना में आपके होंठों के आस-पास की त्वचा थोड़ी ज्यादा संवेदनशील होती है। इसलिए इस हिस्से में असमय उम्र बढ़ने के लक्षण दिखाई देना बहुत आम है। इस नेचुरल होममेड क्रीम से अपनी त्वचा का रंग-रूप में सुधारना सीखें।

आपके होंठों के आस-पास की त्वचा आपके चेहरे के बाकी हिस्सों की त्वचा से थोड़ा ज्यादा नाजुक होती है। इस वजह से समय से पहले आपके मुंह के आस-पास कुछ झुर्रियां होना एक सामान्य बात है। आप इस क्रीम का उपयोग करके इनको कम कर सकते हैं।

आप लगातार धूप, जहरीले पदार्थ और अन्य चीजों के संपर्क में रहते हैं जो आपकी त्वचा के लिए नुकसानदेह हैं। इससे आपकी त्वचा असामान्य हो सकती है। ऐसा तब होता है जब त्वचा अपना कोलेजन और इलास्टिन खो देती है। हालांकि ये प्रभाव अलग-अलग हो सकते हैं, लेकिन बहुत से लोग ऐसे प्रभावों को कम करने के तरीके ढूंढते रहते हैं।

सौभाग्य से, आजकल कई प्रकार के कॉस्मेटिक ट्रीटमेंट उपलब्ध हैं जो त्वचा का पोषण करते हैं। ये आपके मुंह के आस-पास झुर्रियों की उपस्थिति को कम कर सकते हैं, ताकि आपकी त्वचा ज्यादा युवा दिखाई दे।

लेकिन बाजार में बिकने वाले कुछ उत्पाद काफी महंगे हैं। यदि उनके दाम बहुत ज्यादा हैं तो हममें से अधिकांश लोग उन्हें नियमित रूप से नहीं खरीद सकते हैं।

इसलिए आज हम आपके साथ एक नेचुरल नुस्खा शेयर करना चाहते हैं। यह शानदार उपाय उन इन्ग्रेडिएंट को मिलाता है जो कम दाम में बाजारू प्रोडक्ट की तरह असर करते हैं।

यह एक होममेड क्रीम है जिसे आप अपने मुंह के आसपास की झुर्रियों की उपस्थिति को कम करने के लिए मधुमोम (beeswax), बादाम का तेल (almond oil) और अन्य लाभकारी यौगिकों के साथ बना सकते हैं।

इसे आजमाकर देखें!

अपने मुंह के आस-पास झुर्रियाँ कम करने के लिए होममेड क्रीम

यह क्रीम एक 100% नेचुरल उत्पाद है। यह त्वचा के लिए कई सेहतमंद इन्ग्रेडिएंट के लाभों को संयोजित करती है। ये अतिरिक्त पोषक तत्व और सुरक्षात्मक पदार्थ आपकी त्वचा को ज्यादा युवा दिखने में मदद कर सकते हैं।

इसमें विटामिन E, ज़रूरी फैटी एसिड और जोरदार एंटीऑक्सिडेंट होते हैं जो फ्री रेडिकल्स के नेगेटिव असर को कम करने में मदद करते हैं। इस तरह यह चेहरे के इस क्षेत्र में कोशिकाओं को क्षय होने से रोकती है।

इसके अलावा, यह होममेड क्रीम एक लाजवाब नेचुरल मॉइस्चराइजर है। मॉइस्चराइजर सूखेपन को रोकने में मदद करते हैं। वे कोलेजन और इलास्टिन के कम होने की प्रक्रिया को धीमा करते हैं।

आइये इसे बनाने के तरीके के बारे में बात करने से पहले इसके हर इन्ग्रेडिएंट के लाभ पर एक नज़र डालें।

मधुमोम (beeswax) के फायदे

होममेड क्रीम : मधुमोम (beeswax) के फायदे 

मधुमोम (beeswax) एक नेचुरल पदार्थ है जिसे युवा मधुमक्खियां अपने छत्ते को पर्यावरण में प्रतिकूल ताकतों से बचाने के लिए बनाती हैं।

इसमें मुख्य रूप से लॉन्ग चेन हाइड्रोकार्बन होते हैं, जिसमें पैराफिन (paraffins) और ओलेइन (oleins) शामिल हैं।

सालों से मधुमोम को एक नेचुरल कॉस्मेटिक के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। लोगों ने इसे इसलिए महत्व दिया है क्योंकि यह त्वचा के पीएच को नियंत्रित करता है, संक्रमण को रोकता है और उम्र बढ़ाने वाले कारणों के खिलाफ एक सुरक्षात्मक बैरियर बना सकता है।

त्वचा पर मधुमोम लगाने से अशुद्धियों और मृत कोशिकाओं की उपस्थिति कम हो जाती है। इस तरह यह सेल में ऑक्सीकरण की प्रक्रिया का अनुकूलन करता है।

बादाम के तेल के फायदे (The benefits of almond oil)

बादाम के तेल में पाए जाने वाले फैटी एसिड आपको अतिरिक्त नमी और कोमलता देने के लिए त्वचा के रोमछिद्रों में आसानी से प्रवेश करते हैं।

इसमें विटामिन A और E होते हैं जो एंटीऑक्सिडेंट और नेचुरल सूजन रोकने वाले एजेंट के रूप में कार्य करते हैं। ये विटामिन और बादाम के तेल में मौजूद मिनरल आपकी त्वचा पर जहरीले पदार्थों के नेगेटिव असर का मुकाबला करने में मदद कर सकते हैं।

इसके अलावा, यह तेल ब्लड सर्कुलेशन को भी सुधारता है और मृत कोशिकाओं की सफाई को आसान कर देता है। जैसा कि आप कल्पना कर सकते हैं, उम्र बढ़ने के साथ यह आपकी त्वचा के रूप को सुधारने के लिए अहम है।

गुलाब के एसेंशियल ऑयल के लाभ (The benefits of rose essential oil)

होममेड क्रीम : गुलाब के एसेंशियल ऑयल के लाभ

गुलाब का तेल एक नेचुरल उत्पाद है जिसकी कुछ नेचुरलिस्ट चेहरे और नाजुक त्वचा की देखभाल के लिए सिफारिश करते हैं।

इसके अलावा, यह अपनी मॉइस्चराइज और कायाकल्प करने की क्षमता के लिए खास जाना जाता है। यह धब्बों, निशानों और उम्र बढ़ने के संकेतों को कम करने के लिए आदर्श है।

गुलाब के तेल में ओमेगा 3 फैटी एसिड, विटामिन E और अन्य एंटीऑक्सिडेंट होते हैं।

इस होममेड क्रीम को कैसे तैयार करें

होममेड क्रीम : गुलाब के एसेंशियल ऑयल के लाभ

आप इस होममेड क्रीम को बनाने के लिए एक हर्बल या कॉस्मेटिक स्टोर से इन्ग्रेडिएंट खरीद सकते हैं।

सुनिश्चित करें कि आप सबसे अच्छी क्वालिटी के इन्ग्रेडिएंट लें ताकि उनका अधिकतम लाभ मिल सके।

इन्ग्रेडिएंट

  • 12 बड़े चम्मच मधुमोम (120 ग्राम)
  • 1 कप बादाम का तेल (200 ग्राम)
  • 2 बड़े चम्मच गुलाब का एसेंशियल ऑयल (30 ग्राम)
  • 1 1/2 बड़े चम्मच गुलाब जल (15 मिली)

निर्देश

  • सबसे पहले मधुमोम को हीट रेजिस्टेंट कंटेनर में रखें और एक डबल बॉयलर में डालें।
  • जब मधुमोम पिघल जाए तो बादाम का तेल और गुलाब का तेल डालें।
  • फिर एक लकड़ी के बर्तन में सबकुछ निकालें।
  • आखिर में गुलाब जल डालें।
  • स्थिर होकर जमने से पहले इसे एक एयरटाइट ग्लास जार में डालें और अंधेरी जगह पर रखें।

इसे कैसे लगाएं

  • ज़रूरत के मुताबकि क्रीम की मात्रा लें और इसे अपने मुंह के किनारे पर हल्के से मालिश करके लगायें।
  • इसे धोएं नहीं और त्वचा को इसे अवशोषित करने दें।
  • पॉजिटिव परिणाम पाने के लिए हर रात इसका उपयोग करें।

आसान है, है ना? यदि आप इन निर्देशों का पालन करेंगे तो आपको पता चलेगा कि ज्यादा पैसे खर्च किये बिना आप अपने मुंह के आसपास झुर्रियों को कम करने के लिए स्किन क्रीम तैयार कर सकते हैं।

इसे आजमाकर देखें। हम जानते हैं, आप इसे बहुत पसंद करेंगी!

  • La Cera de Abeja un producto útil y valioso. Consultado el día 12 de enero  de
    2017. De la World Wide Web: http://www.fao.org/docrep/008/y5110s/y5110s07.htm
  • Morgan, J.Townley, S. y Smith, R. (01 April 2002). Measurement of physical and
    mechanical properties of beeswax.MaterialsScience and Technology, (18), 463.
  • Ahmad, Z. (2010). The uses and properties of almond oil. Complementary Therapies in Clinical Practice. https://doi.org/10.1016/j.ctcp.2009.06.015
  • Casetti, F., Wölfle, U., Gehring, W., & Schempp, C. M. (2011). Dermocosmetics for dry skin: A new role for botanical extracts. Skin Pharmacology and Physiology. https://doi.org/10.1159/000329214
  • Wei, A., & Shibamoto, T. (2007). Antioxidant activities and volatile constituents of various essential oils. Journal of Agricultural and Food Chemistry. https://doi.org/10.1021/jf062959x