वैकेशन के बाद बच्चे को पढ़ाई करने के लिए कैसे मोटिवेट करें

13 जून, 2019
क्या आप अपने बच्चे को पढ़ाई के लिए प्रेरित करना चाहते हैं लेकिन यह नहीं जानते कि कैसे करें? ये आसान टिप्स आपके बच्चे को वापस पढ़ाई में दिल लगाने में मदद करेंगे।

कुछ ही दिनों में वैकेशन ख़त्म हो जायेगा और आपके बच्चे के स्कूल का पहला दिन सिर पर होगा। उस समय आप सबकुछ तैयार कर रहे होंगे लेकिन शायद आपका बच्चा उतना सक्रिय नहीं होगा। उनका मन अभी भी छुट्टी में लगा होगा।

अक्सर बच्चे अपनी रूटीन में लौटने की संभावना को लेकर बहुत उत्साहित नहीं होते। क्या आप जानना चाहते हैं, बच्चे को पढ़ाई के लिए कैसे प्रेरित करें?

छुट्टी ख़त्म होने के बाद अपनी सामान्य एक्टिविटी में वापस जाने में सुस्ती महसूस करना आम बात है। लेकिन कुछ रणनीतियाँ हैं जो अपनी रूटीन को फिर से शुरू करने में मदद कर सकती हैं।

अगर आप फिक्रमंद हैं कि आपके बच्चे को अपनी सामान्य दिनचर्या में वापस जाने में मुश्किल पेश आयेगी, तो इस आर्टिकल को पढ़ें। हम कुछ टिप्स शेयर करेंगे जो आपकी मदद करेंगी।

वैकेशन के बाद बच्चे को पढ़ाई के लिए मोटिवेट करें

वैकेशन के बाद बच्चे को पढ़ाई

इसकी कुंजी पहले से योजना बनाने में है। आपको ऐसी गतिविधियों के बारे में सोचना चाहिए जो बच्चा पहले दिन क्लास शुरू होने से पहले और स्कूल में शुरुआती हफ्तों के दौरान करेगा।

यहाँ कुछ सुझाव हैं:

शैक्षिक गतिविधियों का लाभ उठाएं

आप स्क्रैपबुक बना सकते हैं, क्विक थिंकिंग गेम सकते हैं, और बच्चे के साथ शब्दों को गेस करने का खेल खेल सकते हैं। आप शैक्षिक साइटों पर भी जा सकते हैं, जहाँ आपका बच्चा मुफ्त में मजेदार खेल खेल सकता है।

उदाहरण के लिए अगर आप उन्हें स्पैनिश सीखना चाहते हैं, तो आप उन्हें स्कूल वापस शुरू होने से एक या दो हफ़्ते पहले छोटी वर्कशॉप में दाखिल करा सकते हैं।

अगर संगीत उसकी हॉबी है, तो उसकी सीखने की आदतों को सक्रिय करने के लिए उन्हें म्यूजिक क्लास में दाखिला दिला सकते हैं।

यह लेख भी दिलचस्प होगा : अपने बच्चों को सपने देखना सिखायें, डरना नहीं

वैकेशन में सीखने का एक स्वस्थ माहौल बनाएं

बच्चे को पढ़ने की ओर प्रेरित करने के लिए आपको उनके पढने के लिए एक निर्दिष्ट स्थान तय कर देना चाहिए। यह शांत, आरामदेह और भटकाव से मुक्त होना चाहिए। यह अहम है कि यह स्पेस आकर्षक लगे।

यदि आपने अभी भी ऐसा कोई स्पेस नहीं चुना है, तो बच्चे की राय पर विचार करें। बच्चे को उस स्थान को अपनी पसंदीदा वस्तुओं से सजाने दें। यदि उसके पास पहले से ही एक डेस्क है, तो इसका लेआउट बदलना और इसे दोबारा सजाना बच्चे की प्रेरणा को बढ़ा सकता है।

स्कूल से मिली चीजों का मजा लें

स्कूल में मिलने वाली चीजों को खरीदना और उन्हें पुनर्निर्मित करना बच्चों को बहुत पसंद आ सकता है, खासकर यदि आप उन्हें बैकपैक, नोटबुक और पेंसिल चुनने की अनुमति देते हैं।

वैकेशन : गेम खेलें

स्कूल से जुड़ी ये गतिविधियाँ आपके बच्चे को स्कूल और होमवर्क से फिर से जोड़ देंगी जो उनकी प्रतीक्षा कर रही हैं।

उनके रिश्तों को जगाना

आप अपने घर में बच्चे के क्लासमेट को आमंत्रित कर सकते हैं या पार्क में दोस्तों के साथ मिला सकते हैं।

ऐसा कोई भी बहाना उनके स्कूल-फ्रेड्स साथ उनके रिश्ते को फिर से सजीव करने में मदद करेगा।

वैकेशन के दौरान उन्हें ज्यादा वीडियो गेम न खेलने दें

आपके बच्चे ने शायद छुट्टी के दौरान बहुत सारा वीडियो गेम खेला है।

स्कूल शुरू होने से पहले एक्सपर्ट की ऐसी सिफारिशों का पालन करना महत्वपूर्ण है ताकि उन्हें दिन में दो घंटे से अधिक नहीं खेलने दिया जाये। यह ज़रूरी है क्योंकि इससे उन्हें अपने स्कूल की पुरानी रूटीन में लौटना आसान हो जाएगा।

इसे भी पढ़ें: स्कूल में बच्चे का पहला दिन : 7 गलतियाँ जो पैरेंट करते हैं

सुबह जल्दी जागने के लिए तैयार करें

अपने बच्चे को इसके लिए तैयार करना अच्छा ख़याल है कि उन्हें स्कूल जाने के लिए जल्दी उठना शुरू करना होगा। बिस्तर पर जाना और जल्दी सोकर उठना न केवल आपके बच्चे के लिए बल्कि पूरे परिवार के लिए सुविधाजनक होता है।

जल्दी उठने से आपको अपने बच्चे का पसंदीदा नाश्ता तैयार करने का वक्त मिल जाएगा। इस तरह उनके पास बिना किसी हड़बड़ी के स्कूल जाने के लिए तैयार होने का पर्याप्त समय होगा।

वैकेशन में ही स्टडी हैबिट जगाएं

यह एक रूटीन को दोबारा ऑर्गनाइज़ करने के लिए अहम है जो आपके बच्चे को पढ़ने के लिए प्रेरित करेगा।

सबसे पहले किसी दृश्यमान जगह पर उनका शिड्यूल प्रदर्शित करें। हफ़्ते का स्टडी प्लान बनाने में उनकी मदद करें जिसे आप उनके असाइनमेंट के अनुसार ठीक कर सकें।

वैकेशन में ही स्टडी हैबिट जगाएं

बच्चे को यह समझने की जरूरत है कि पढ़ाई उसकी जिम्मेदारी है। हालांकि आपको उनके होमवर्क में उनकी मदद करनी चाहिए, लेकिन आपको उनके लिए खुद इसे करने से बचना चाहिए।

अगर आप उनकी स्टडी हैबिट को बढ़ावा देना चाहते हैं, तो इन युक्तियों पर ध्यान दें:

  • उन्हें दिन में एक घंटे पढ़ने का समय दें। इसे लगातार करे।
  • उन्हें अपने पढ़ने के दौरान ज़रूरी विश्राम लेने की अनुमति दें।
  • बच्चा जब आपसे या किसी एक्सपर्ट की मदद मांगे, तो इस पर ध्यान दें।
  • उनके होमवर्क में मदद करते समय अपना धैर्य न खोएं। बस अपने आपको याद दिलाते रहें कि आपको धीरज नहीं खोना है।

बच्चे को पढ़ाई के लिए प्रेरित करने में अभी देर नहीं हुई है। प्रत्येक नया सेशन उनकी पढ़ाई और स्कूल में उनकी सफलता को संभावना को बेहतर बनाने का अवसर है।

आप देख सकते हैं, बहुत कुछ आप पर निर्भर करता है। इसलिए आपको जल्द से जल्द एक प्लान बना लेना चाहिए।

  • Hodges, L. S., Gushiken, R. A., García, J., Ferrer, M., Croft, P., Cimiano Quintana, A., … Martín, J. L. (2008). Dealing with Jealousy/Que Hacer Con Los Celos. Aula de Infantil.
  • tandfonline.com/doi/abs/10.1174/021037001316949275
  • Buunk, B. P. (1997). Personality, birth order and attachment styles as related to various types of jealousy. Personality and Individual Differences.
  • sciencedirect.com/science/article/pii/S0191886997001360?via%3Dihub
  • Volling, B. L., McElwain, N. L., & Miller, A. L. (2002). Emotion regulation in context: The jealousy complex between young siblings and its relations with child and family characteristics. Child Development.
  • onlinelibrary.wiley.com/doi/abs/10.1111/1467-8624.00425