फ़ूड इनटॉलरेंस की मुख्य किस्में : कहीं आपको भी तो नहीं है यह समस्या?

जुलाई 15, 2019
खाद्य से एलर्जी और खाद्य-असहिष्णुता के लक्षणों में बहुत समानता है, लेकिन उनमें कुछ फर्क भी होता है। जहाँ तक बात फ़ूड इनटॉलरेंस की है, आप समय-समय पर इससे कुछ असुविधा का सामना करेंगे।

भोजन ऊर्जा का मुख्य स्रोत है। शरीर को ज़रूरी पोषण प्रदान करने के लिए आपको कई फ़ूड-ग्रुप के खाद्य रोजाना खाने की ज़रूरत होती है। पर कई लोगों को फ़ूड इनटॉलरेंस (food intolerance) यानी भोजन से असहिष्णुता की समस्या होती है। यह उन्हें अपना संतुलित आहार बनाए रखने में रुकावट डालता है।

कुछ किस्म का खाना खाने के बाद आपको बड़े अप्रिय लक्षणों का अनुभव हुआ हो सकता है। इस लेख में हम खाद्य असहिष्णुता की मुख्य किस्मों और उनसे जुड़े लक्षणों की बात करेंगे

फ़ूड एलर्जी और फ़ूड इनटॉलरेंस के बीच फर्क

सबसे पहले, यह जानना अहम है कि खाद्य से एलर्जी और खाद्य से असहिष्णुता के बीच अंतर है। क्योंकि पहली समस्या में आपका इम्यून सिस्टम शामिल होता है।

दूसरी ओर, फ़ूड इनटॉलरेंस का कारण किसी विशेष खाद्य के सही पाचन के लिए आपके शरीर में ज़रूरी किसी तत्व की कमी होती है। हालाँकि, एक इसका एक अपवाद है, ग्लूटेन। ग्लूटेन इनटॉलरेंस (Gluten intolerance) का कारण आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता में बदलाव होता है।

जिस व्यक्ति को किसी भोजन से एलर्जी है, वह उस खाद्य को बिल्कुल नहीं खा सकता। पर अगर किसी व्यक्ति को फ़ूड इनटॉलरेंस है, तो वह कुछ भोजन बिना किसी समस्या के निगल सकता है

इसे भी पढ़ें : अपच, मन्दाग्नि (फंशनल डिस्पेप्सिया) : कारण, लक्षण और इलाज

फ़ूड इनटॉलरेंस के लक्षण

कुछ खाद्य पदार्थ एलर्जी और इनटॉलरेंस दोनों का कारण बन सकते हैं। दोनों ही स्थितियों में समान लक्षण पैदा होते हैं। हमने ऊपर बताया, कुछ लक्षण इम्यून सिस्टम से जुड़े होते हैं, जबकि अन्य नहीं हैं।

फ़ूड एलर्जी के सबसे आम लक्षण हैं:

  • हीव्स (Hives)
  • चकत्ते (Rashes)
  • होंठ या पलकों की सूजन
  • आँखों की लाली
  • खांसी
  • दस्त और उल्टी
  • बंद नाक
  • सांस लेने मे तकलीफ
  • अल्प रक्त-चाप (Hypotension)

फ़ूड इनटॉलरेंस के लक्षण समान लेकिन थोड़े कम तीव्र होते हैं। फिर भी वे आपको परेशान कर सकते हैं। इनमें से कुछ हैं:

  • पेट में दर्द
  • गैस
  • दस्तपेट फूलना

एलर्जी आमतौर पर खाना निगलने के बाद 30 से 60 मिनट के भीतर उभरती है और यह संभावित रूप से गंभीर हो सकती है। दूसरी ओर, फ़ूड इनटॉलरेंस के लक्षण उभरने में ज्यादा वक्त लग सकता है और ये कुछ हल्के होते हैं।

अब आप जानते हैं, फ़ूड एलर्जी और फ़ूड इनटॉलरेंस के बीच मुख्य अंतर क्या है। आगे यह बताने का वक्त है कि सबसे आम किस्म के फ़ूड इनटॉलरेंस क्या हैं।

लैक्टोज इनटॉलरेंस (Lactose Intolerance)

फ़ूड  इनटॉलरेंस : Lactose Intolerance

यह इनटॉलरेंस दूध में मौजूद शुगर लैक्टोज को पचाने में आपके पाचन तंत्र की अक्षमता के कारण होता है।

लैक्टेज नाम के एंजाइम के स्राव में होने वाली कमी के कारण यह फ़ूड इनटॉलरेंस  होता है। यह एंजाइम लैक्टेज के पाचन और इस तरह उसके सही अवशोषण के लिए के लिए जिम्मेदार है। यह स्थिति अस्थायी या स्थायी हो सकती है।

ग्लूटेन इनटॉलरेंस या सीलिएक रोग (Celiac Disease)

ग्लूटेन एक ग्लाइकोप्रोटीन है जो गेहूं, जई या जौ जैसे कई खाद्य पदार्थों में मौजूद होता है। जब किसी की छोटी आंत ग्लूटेन को पचाने में असमर्थ हो, तो उसे ग्लूटेन इनटॉलरेंस की समस्या होती है। इसलिए आंत में एक सूजनकारी प्रतिक्रिया होती है। आमतौर पर यह पूरे जीवन की समस्या है।

अनिवार्य रूप से, यह एक ऑटोइम्यून-आधारित फ़ूड इनटॉलरेंस है। इसके मुख्य लक्षण हैं:

  • वजन कम होना और भूख कम लगना
  • मतली और उल्टी (Nausea and vomiting)
  • दस्त
  • मांसपेशियों का नुकसान

इस लेख को पढ़ें : 5 लक्षण जो बताते हैं, आपको ग्लूटेन खाना बंद कर देना चाहिए

सुक्रोज इनटॉलरेंस (Sucrose Intolerance)

यह आम शुगर के लिए होने वाला फ़ूड इनटॉलरेंस है जो सुक्रेज (sucrase) नाम के एंजाइम की कमी के कारण होता है

इस असहिष्णुता में एंजाइम की अनुपस्थिति सुक्रोज के उचित पाचन में बाधा डालती है। इसके कारण कई लोगों में दस्त, पेट फूलना और पेट-दर्द जैसे लक्षण दिखाई देते हैं।

फ्रुक्टोज का कम अवशोषण

फलों में मौजूद फ्रुक्टोज कई अलग-अलग किस्म के फ़ूड इनटॉलरेंस का कारण बनता है

फ्रुक्टोज फल, कुछ सब्जियों और शहद में मौजूद शुगर है। यदि आपकी आंत इस प्रकार के शुगर को पचाने में असमर्थ है, तो आप इन खाद्यों को खाने के बाद फ़ूड इनटॉलरेंस के विशिष्ट लक्षणों का शिकार होंगे।

समस्या जैसी भी हो, अगर आपको शक है कि आप फ़ूड इनटॉलरेंस से पीड़ित हैं, तो किसी प्रोफेशनल से मिलना अहम है। क्योंकि इन स्थितियों से सेहत को ठीक से कामकाज करने के लिए ज़रूरी पोषक तत्वों के कम अवशोषण से आपको कई स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं।

कुछ मामलों में कारण की पहचान करने के लिए आपको विशेष स्टडी की ज़रूरत हो सकती है। इससे आप अपने लिए सर्वोत्तम इलाज की खोज भी कर पाएंगे।

  • Ortolani, C., & Pastorello, E. A. (2006). Food allergies and food intolerances. Best Practice and Research: Clinical Gastroenterology. https://doi.org/10.1016/j.bpg.2005.11.010
  • Turnbull, J. L., Adams, H. N., & Gorard, D. A. (2015). Review article: The diagnosis and management of food allergy and food intolerances. Alimentary Pharmacology and Therapeutics. https://doi.org/10.1111/apt.12984
  • Montalto, M., Santoro, L., D’Onofrio, F., Curigliano, V., Gallo, A., Visca, D., … Gasbarrini, G. (2008). Adverse reactions to food: Allergies and intolerances. Digestive Diseases. https://doi.org/10.1159/000116766