मेनिस्कस ऑपरेशन के बाद घुटने का पुनर्वास

जुलाई 1, 2019
मिनिस्कस  ऑपरेशन के बाद घुटने की पुनर्वास प्रक्रिया तुरंत शुरू होनी चाहिए। देखभाल और रिकवरी एक्सरसाइज को टालना ठीक नहीं है, क्योंकि इससे घुटने की गतिशीलता खतरे में पड़ सकती है।

मेनिस्कस ऑपरेशन के बाद घुटने का पुनर्वास एक ऐसी प्रक्रिया है जिसे रोगी की सेहत और चोट की स्थिति के आधार पर कुछ हफ्तों तक बढ़ाया जा सकता है। इसका असली मकसद जॉइंट की कार्यक्षमता को फिर से बहाल करने में मदद करना है। क्योंकि आर्टिक्युलर कार्टिलेज को मेनिस्कस के बिना जीवन में ढलना होगा।

यह वक्त एथलिटों के लिए काफी महत्वपूर्ण होता है क्योंकि यह उन्हें इस समय अपनी एथलेटिक गतिविधि को फिर से शुरू करने की सहूलियत देता है। इसके अलावा, जहाँ तक मांसपेशियों को सुडौल बनाने और उन्हें मजबूत करने की बात है, यह अहम होता है और नई जटिलताओं या नए घावों को बनने से रोकता है।

इलाज के इस स्टेज में जाने से पहले मरीजों के मन में कुछ सवाल होना आम बात है। इसलिए यह क्या है और इसे कब शुरू करना है, आपको इन सबसे प्रासंगिक पहलुओं की अच्छी तरह जांच करनी चाहिए।

मेनिस्कस (Meniscus) में चोट क्यों लगती है?

मेनिस्कस फाइब्रोकार्टिलेज (fibrocartilage) है जो फीमर (femur) और टिबिया (tibia) के बीच स्थित है। यह घुटने को लचीलापन और रोटेशन क्षमता देता है। यह जॉइंट को स्थिरता देने मदद करता है और शरीर के वजन को सही ढंग से वितरण करने की सहूलियत देता है।

मेनिस्कस के सबसे आम जख्म घुमावदार गति और गलत सपोर्ट के कारण होते हैं। हालांकि, यह एक डिजेनेरेटिव स्थिति का नतीज़ा भी हो सकता है जो वक्सत बीतने के साथ बद से बदतर होता जाता है।

इस लेख को भी पढ़ें: 10 ट्रिक : डाइट के जरिये घुटने का दर्द कम करें

मेनिस्कस ऑपरेशन क्या है?

घुटने से जुड़े सर्जिकल तरीके समय के साथ विकसित हुए हैं। भले ही यह ओपन सर्जरी के जरिये किया जाता है, लेकिन ऑर्थ्रोस्कोपी (arthroscopy) के माध्यम से ऑपरेशन करना ज्यादा आम है। यह उन टेकनीक का हिस्सा है जिन्हें “न्यूनतम इनवेसिव” के रूप में देखा जाता है।

यह आधुनिक प्रक्रिया संक्रमण के जोखिम को 50% तक कम क देती है और ज्यादा तेज रिकवरी की सहूलियत देती है। इसके लिए डॉक्टर लोकल या स्पाइनल एनेस्थेसिया का उपयोग करता है और घुटने में एक चीरा बनाता है। फिर वह एक आर्थोस्कोप की एंट्री बनाता है।

यह सर्जिकल डिवाइस करीब एक पेंसिल की साइज़ की होती है और डॉक्टर को एक छोटे कैमरे के जरिये चोट की सही सीमा की जानकारी देती है। एक बार जब वे चोट को पहचान लेते हैं, तो मेनिस्कस के जख्मी भाग को हटाने या उसकी मरम्मत करने के लिए सर्जरी की अन्य चीजों का उपयोग करते हैं।

घुटने के पुनर्वास का उद्देश्य क्या है?

घुटना एक जटिल और नाजुक संरचना है। इसे ध्यान में रखते हुए मेनिस्कस ऑपरेशन के बाद एक पूर्ण पुनर्वास प्रक्रिया पर विचार करना ज़रूरी है। इस रिकवरी को अनदेखा करने से जॉइंट पर नए घावों की संभावना हो सकती है। सामान्य तौर पर घुटने की पुनर्वास प्रक्रिया के निम्नलिखित उद्देश्य हैं:

  • ब्लड फ्लो को बढ़ावा देकर रिकवरी में तेजी लाना।
  • जॉइंट की कठोरता को कम करना जो स्थिर रहने से साइड इफेक्ट के रूप में होता है।
  • निष्क्रियता से प्रभावित मांसपेशियों को क्षयग्रस्त होने और कमजोर पड़ने से रोकना।

पुनर्वास कब शुरू करें

मेनिस्कस सर्जरी के बाद तुरंत ही घुटने का पुनर्वास शुरू होना चाहिए। जैसे ही ऑपरेशन ख़त्म हो, कुछ एक्सरसाइज और देखभाल प्रक्रिया को अपनाना ज़रूरी होता है जो रिकवरी के फैक्टर को निर्धारित करते हैं।

प्रक्रिया के 24 घंटे बाद घुटने की एक्सरसाइज शुरू होनी चाहिए।

मेनिस्ककस ऑपरेशन के बाद पुनर्वास योजना

ऑपरेशन के बाद, जैसा कि आर्थोस्कोपी में होता है, जॉइंट की रिहैबिलिटेशन प्लान अपनाना ज़रूरी है। इस पूरक इलाज में हर रोगी की विशेषताओं और विकास के आधार पर धीरे-धीरे आगे बढ़ना चाहिए।

इसी तरह, इन पहलुओं को उस समय से बहुत गहरा सम्बन्ध है जो मेनिस्कस पुनर्वास के लिए ज़रूरी है। इसलिए, जब बात आंतरिक मेनिस्कस की हो, तो पुनर्वास 3 या 5 तक चल सकता है। हालांकि, बाहरी मेनिस्कस के मामले में पुनर्वास अवधि को 7 हफ़्सते तक बढ़ाया जा सकता है।

इसे भी पढ़ें : इन व्यायामों से चोटिल घुटनों को मजबूत बनाएं

सर्जरी के बाद देखभाल

ऑपरेशन के ठीक बाद घुटने के पुनर्वास के लिए पहला कदम  शुरू होता है। यह देखभाल करने और आदतों की एक पूरी श्रृंखला है जो जॉइंट की मूवमेंट को ठीक करने की कोशिश से पहले सूजन को कम करना संभव बनाती है। इसमें शामिल है:

  • घुटने को ऊँचा रखना
  • प्रभावित अंग पर बर्फ लगाना
  • दर्द से राहत के लिए एनाल्जेसिक और एंटी इन्फ्लेमेटरी दवाओं का इस्तेमाल करना।
  • ऑपरेशन वाले घुटने पर पूरा वजन पड़ने से बचने के लिए बैसाखी इस्तेमाल करना।

पुनर्वास एक्सरसाइज

घुटने के पुनर्वास का एक बड़ा हिस्सा एक फिजियोथेरेपिस्ट की देखरेख में किए जाने वाले अभ्यासों के साथ होता है। इन गतिविधियों का उद्देश्य घुटने को ठीक करना और चोट से बाधित गतिविधियों को फिर से शुरू करने में मदद करना है।
उपचार करते समय, कई पहलुओं पर विचार करना महत्वपूर्ण है:
एक व्यायाम कार्यक्रम अन्य चिकित्सीय और निवारक उपायों के साथ होना चाहिए।

  • गतिविधियों को चोट और ऑपरेशन के प्रकार के अनुकूल होना चाहिए।
  • प्रशिक्षण दिनचर्या को कई चरणों की श्रृंखला से गुजरना होगा जहां कई उद्देश्यों को पूरा किए बिना आगे बढ़ना संभव नहीं है। इस प्रकार, इन चरणों में से प्रत्येक को रोगी की उम्र, शारीरिक स्थिति और संभावित बीमारियों के आधार पर व्यक्तिगत होना होगा।
  • अंत में, रोगी को उच्च तीव्रता वाले वर्कआउट करने में कई सप्ताह लगेंगे। पहले 6 हफ्तों के दौरान, रोगी क्रॉल, स्क्वेटिंग या घुटने टेकने की स्थिति में नहीं जा पाएगा।

जैसा कि पहले उल्लेख किया गया है, प्रत्येक रोगी में पुनर्वास अवधि भिन्न होती है। एक डॉक्टर को यह विचार करना चाहिए कि सभी रोगी व्यायाम और स्थापित चिकित्सा के लिए समान प्रतिक्रिया नहीं देते हैं। हालाँकि, यह निश्चित है कि रिकवरी बहुत कम है जब यह एक आर्थ्रोस्कोपिक प्रक्रिया है और पारंपरिक सर्जरी नहीं है।

Barber, F. A. (1994). Accelerated rehabilitation for meniscus repairs. Arthroscopy: The Journal of Arthroscopic & Related Surgery10(2), 206-210.
Barber, F. A., & Click, S. D. (1997). Meniscus repair rehabilitation with concurrent anterior cruciate reconstruction. Arthroscopy: The Journal of Arthroscopic & Related Surgery13(4), 433-437.
Shelbourne, K. D., Patel, D. V., Adsit, W. S., & Porter, D. A. (1996). Rehabilitation after meniscal repair. Clinics in sports medicine15(3), 595-612.