क्या यह सच है कि महिलाओं के पीरियड सिंक्रोनाइज़ होते हैं?

21 अक्टूबर, 2020
यह पॉपुलर धारणा है कि इकट्ठे रहने पर महिलाओं के पीरियड सिंक्रोनाइज हो जाते हैं। यह सच है कि 50 सालों की एक स्टडी में इस विश्वास की पुष्टि होने पर भी इसके पक्ष मेमन अभी भी कोई निश्चित प्रमाण नहीं है। और अधिक जानने के लिए आगे पढ़ें।

महिलाओं के पीरियड सिंक्रोनाइज़ होते हैं, यह विचार एक लोकप्रिय मिथ है जिसका जिक्र लोग पिछले पचास सालों से कर रहे हैं। एक कॉलेज छात्रावास में इकट्ठे रहने वाली महिलाओं पर एक स्टडी के बाद मनोवैज्ञानिक मरथा मैकक्लिंटॉक ने पहली बार इस विचार को पेश किया था। उनकी रिसर्च को साइंस जर्नल नेचर ने भी अनुमोदित किया था।

मेनस्ट्रुअल सिंक्रोनी का उनका सिद्धांत कहता है कि जब महिलाएं एक साथ रहती हैं या इकट्ठे बहुत समय बिताती हैं, तो उनका मेनस्ट्रुअल साइकल तालमेल दर्शाता है। मैक्लिंटॉक के अनुसार उनके सिद्धांत की पुष्टि भी हुई थी। बाद में यह कहा गया कि फेरोमोन (pheromones) इसं सिंक्रोनाइज़ेशन के लिए जिम्मेदार हैं।

फेरोमोन (pheromones) क्या हैं?

फेरोमोन एक तरह के एक्टोहोर्मोन हैं जिनका वैज्ञानिकों ने चूहों और दूसरे जानवरों में अध्ययन किया है। वे एक ही प्रजाति के सदस्यों के बीच कम्युनिकेशन और व्यवहार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

इंसान के मामले में अध्ययन ने साफ़ तरह से  फेरोमोन के जरिये कम्युनिकेशन को नहीं दिखाया है। इसलिए हम यह नतीजा नहीं निकाल सकते कि यह हार्मोन सिस्टम उस सिद्धांत की व्याख्या करता है जो महिलाओं की पीरियड को सिंक्रनाइज़ करता है। स्पष्ट कहें तो  पीरियड सिंक्रोनाइज़ेशन थियरी की पुष्टि या उपेक्षा करने के लिए और ज्यादा अध्ययन की जरूरत है।

इसे भी पढ़ें : महिलाओं के बीच दोस्ती: स्ट्रेस का मुकाबला करने का शानदार तरीका

मेनस्ट्रुअल साइकल कैसे रेगुलेट होता है?

हॉर्मोन की बदौलत स्त्रियों में पीरियड एक साइकल के तहत चलता है

अब स्त्री देह के बारे में बहुत ज्ञान उपलब्ध है। यह ऐसा विषय है जिसका विज्ञान ने गहराई से अध्ययन किया है और यह अभी भी जारी है।

जन्म से ही स्त्री शरीर की ओवेरी में ओव्युल मौजूद होते हैं। ये यौवन की शुरुआत तक बिना बदले वहाँ मौजूद रहते हैं। फिर इस चरण में होने वाले परिवर्तनों की बदौलत महिलाएं अपने फर्टाइल स्टेज में जाती हैं। इस बिंदु पर महिलाओं को हर महीने मेनस्ट्रुअल साइकल होता है।

इन साइकल का रेगुलेशन मस्तिष्क और ओवेरी में हार्मोन उत्तेजक और अवरोधक हर्मोने के माध्यम से होता है। मस्तिष्क के एक क्षेत्र को हाइपोथैलेमस कहा जाता है जो समय-समय पर हाइपोथैलेमिक हार्मोन का स्राव करता है (LH y FSH)। ये हार्मोन अंडाशय पर सीधा असर डालते हैं।

इस हार्मोनल स्राव के नतीजे में ओवेरी एक परिपक्व ऑवयुल पैदा करता है। साथ ही यह स्टेरॉयड हार्मोन का स्राव भी करता है जो उन हॉर्मोन से अलग होते हैं जो हाइपोथैलेमस से निकलते हैं। परिपक्व ऑवयुल निषेचन के लिए बिल्कुल तैयार होता है। और अगर शुक्राणु स्वस्थ हाल में ऑवयुल तक पहुंचे तो यह एक जाइगॉट बन जाएगा।

इस चरण में एंडोमेट्रियम जो यूटेरस की अंदरूनी परत है, उसका मोटा होना शुरू हो जाता है। अगर ऑवयुल फर्टिलाइज़ हो जाए तो कुछ दिनों बाद यह मोटे हो चुके एंडोमेट्रियम में प्लांट हो जाएगा। लेकिन अगर ऑवयुल फर्टिलाइज़ न हो तो एंडोमेट्रियम कुछ बदलावों से गुजरना होगा जो आखिरकार उसे डिटैच कर देगा।

ऊपर बतायी गई पूरी प्रक्रिया सामान्य रूप से हर 28 से 35 दिनों में दोहरायी जाएगी। महिला की पीरीअड का पहला दिन 1 दिन माना जाता है। और उस बिंदु से उदाहरण के लिए, महिलाएं अपने सबसे फरटाईल दिनों को निर्धारित करने के लिए गिनती कर सकती हैं।

हम पीरियड के बीच परिवर्तनशीलता के बारे में क्या जानते हैं?

सामान्य तौर पर मेनस्ट्रुअल साइकल में बीस और चालीस की उम्र के बीच थोड़ा बदलाव होता है। दूसरे शब्दों में यह मासिक धर्म के संकेतों की तिथियों और  पीरियड के दोहराव का सबसे रेगुलर होने का समय है।

बीस साल की उम्र से पहले और चालीस साल की उम्र के बाद महिलाएं लगातार साइकल में सबसे ज्यादा भिन्नता का अनुभव करती हैं। इसका मतलब है कि अनियमित पीरियड ज्यादा आते हैं। विभिन्न परिस्थितियाँ एक महिला के साइकल में उम्र के अलावा परिवर्तनशीलता पैदा कर सकती हैं।

किशोरावस्था के दौरान, अनियमितता आम है क्योंकि एक महिला की हार्मोनल प्रणाली अभी तक पूर्ण परिपक्वता तक नहीं पहुंची है। यह वही परिवर्तनशीलता चालीस वर्ष से अधिक उम्र की महिलाओं में होती है और जब तक वे रजोनिवृत्ति तक नहीं पहुंच जाती हैं। हालाँकि, इस मामले में, यह इसलिए है क्योंकि उनके डिम्बग्रंथि भंडार बाहर चल रहे हैं।

क्या अधिक, तनाव, मोटापा, कम वजन, थायराइड की समस्याएं, दवा, और मधुमेह जैसी कुछ बीमारियां भी अनियमितताएं पैदा कर सकती हैं। परिवर्तन कभी-कभार हो सकते हैं और विशेष रूप से एक चक्र से संबंधित हो सकते हैं। हालांकि, वे कई महीनों तक भी चल सकते हैं।

अपनी अवधि का ध्यान रखें। एक महिला के मासिक धर्म चक्र में अनियमितता और अनियमितता कई कारकों पर निर्भर करती है

यह भी देखें: अपने हॉर्मोन को नियंत्रित करने के 5 घरेलू उपाय

क्या महिलाओं के पीरियड सिंक्रोनाइज़ होते हैं? साक्ष्य अनिर्णायक है

2006 में, जगियेलोनियन विश्वविद्यालय में एसोसिएट प्रोफेसर, अन्ना ज़ियोमेकविक्ज़ ने निष्कर्ष निकाला कि उन्होंने मैक्लिंटॉक के समान एक अध्ययन में भाग लेने वाली महिला के बीच सिंक्रनाइज़ेशन का निरीक्षण नहीं किया। हम कह सकते हैं, फिर भी, वहाँ अभी भी मासिक धर्म के तुल्यकालन, या मनुष्यों में फेरोमोन के अस्तित्व के निर्णायक सबूतों की कमी है।

कई लोग इस धारणा का बचाव करते हैं कि महिला की समयावधि सिंक्रनाइज़ होती है। हालांकि, अगर हम वर्तमान तथ्यों पर एक कड़ी नज़र डालें, तो हम केवल यह कह सकते हैं कि दावा एक मिथक है। शायद, भविष्य में, अध्ययन अधिक अंतर्दृष्टि और प्रमाण प्रदान करने का प्रबंधन करेगा।

  • Corrine K Welt, MD., retrieved on 14 May 2020, Physiology of the normal menstrual cycle, Evidence-based Clinical Decision Support- UpToDate. https://www.uptodate.com/contents/physiology-of-the-normal-menstrual-cycle?search=menstruaci%C3%B3n%20sincronixaci%C3%B3n&source=search_result&selectedTitle=3~150&usage_type=default&display_rank=3.
  • B. David Vantman and col., Reproductive physiology and evolutive changes with women age, Tema central: Infertilidad, Vol. 21. Núm. 3, páginas 348-362 (Mayo 2010).
  • Precone V and cols, Pheromone receptors and their putative ligands: possible role in humans, Eur Rev Med Pharmacol Sci. 2020 Feb;24(4):2140-2150. doi: 10.26355/eurrev_202002_20394.