होममेड राई और स्पेल्ट ब्रेड कैसे बनायें?

अक्टूबर 28, 2019
अगर आप हेल्दी और कम कैलोरी वाली ब्रेड बनाना चाहते हैं तो इस होममेड राई और स्पेल्ट को आजमायें! यह ऐसी रीपी है जिसमें भरपूर फाइबर हैं और जिसे आप स्नैक्स या ब्रेक फास्ट के रूप में आजमा सकते हैं।

कई घरों में व्हीट ब्रेड प्रधान भोजन है। हालांकि, कुछ लोगों ने इससे बचना शुरू कर दिया है क्योंकि इसमें मौजूद मैदा, स्टार्च और सोडियम की भारी मात्रा दरअसल हेल्थ के लिए कोई सेहतमंद विकल्प नहीं है। क्या आप कोई विकल्प आज़माना चाहेंगे? इस होममेड राई और स्पेल्ट ब्रेड को आजमायें?

मैदा से बनी ब्रेड से अलग यह रेसिपी साबुत अनाज की सामग्री पर आधारित है जो उनके पोषण गुणों को बरकरार रखती है। राई और स्पेल्ट दोनों ही डायेटरी फाइबर, एंटीऑक्सिडेंट और विटामिन B की अहम स्रोत हैं।

होममेड राई और स्पेल्ट ब्रेड के लाभ

ट्रेडिशनल व्हीट ब्रेड को बदलने वाली रेसिपी तेजी से पॉपुलर हो रही हैं। इसलिए अब कई तरह के विकल्प ढूंढना आसान हो गया है जो आपको बिना किसी अफ़सोस के ब्रेड का मजा लेने की सहूलियत देगा। कुल मिलाकर होममेड राई और स्पेल्ट ब्रेड उन विकल्पों में से एक है जिन्हें आप घर पर खुद तैयार कर सकते हैं

आप सुपरमार्केट में आसानी से इसकी सामग्री खरीद सकते हैं। इसे तैयार करने के स्टेप काफी आसान हैं। सबसे अच्छी बात यह है कि आप इसे ज्यादातर डाइट में शामिल कर सकते हैं, क्योंकि यह पचाने में आसान है और ऐसे पोषक तत्वों से भरी है जो आपके स्वास्थ्य और वजन दोनों के लिए अच्छे हैं

राई के फायदे

राई और स्पेल्ट ब्रेड

राई अन्य आवश्यक खनिजों और अमीनो एसिड के अलावा अपनी लौह सामग्री के लिए बाहर खड़ा है।

राई उन खाद्य पदार्थों में से एक है जिसे मैदे के विकल्प के रूप में प्रसिद्धि मिली है। जहाँ तक न्यूट्रिशन की बात है, इसमें मौजूद आयरन आपकी रोजाना की ज़रूरत का 18% तक पूरा करता है

दूसरे ऐसे खाद्य पदार्थों के मुकाबले राई में फास्फोरस, मैग्नीशियम, विटामिन बी और डायेटरी फाइबर ज्यादा मात्रा में होते हैं। यह अपने बिना रिफाइंड कार्बोहाइड्रेट के जरिये एनर्जी देता है, जो कि रिफाइंड कार्ब्स के विपरीत ब्लड शुगर में उछाल नहीं लाता है।

राई में लाइसिन होता है, एक ऐसा एमिनो एसिड जो दूसरे अनाज में नहीं होता है। इसमें बहुत कम फैट (सिर्फ 1.7%) होता है और एंटीऑक्सिडेंट देता है जो फ्री रेडिकल्स से लड़ने में मदद करता है।

राई फायदेमंद भी है क्योंकि इससे इन समस्याओं में मदद मिलती है:

  • हृदय रोगों से बचाव।
  • पाचन में सुधार।
  • हाई कोलेस्ट्रॉल पर नियंत्रण।
  • डायबिटीज का कम जोखिम।
  • वजन घटाने में मददगार।

इसे भी पढ़ें : दिव्य ब्रेड : एक स्वादिष्ट पुर्तगाली डेजर्ट

स्पेल्ट के फायदे

स्पेल्ट ब्रेड

इन अनाजों में काम्प्लेक्स कार्बोहाइड्रेट की ऊँची मात्रा है, जिससे शुगर बहुत धीमे जमा होता है।

स्पेल्ट अपने कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, विटामिन और मिनरल की भारी मात्रा के कारण अलग अहमियत रखती है। सामान्य गेहूं की तुलना में इसे पचाना आसान है और इसका ग्लाइसेमिक इंडेक्स भी काफी कम है। इसलिए यह डायबिटीज या मेटाबोलिज्म की गड़बड़ी वाले मरीजों के लिए आदर्श भोजन है।

स्पेल्ट में ये तत्व मौजूद हैं:

  • 75% कार्बोहाइड्रेट
  • 15% प्रोटीन
  • 5% फैट
  • डायेटरी फाइबर से भरपूर
  • विटामिन B1 और B2
  • कैल्शियम, मैग्नीशियम, फास्फोरस और पोटैशियम जैसे मिनरल

राई की तरह स्पेल्ट में भी लाइसिन (lysine) होता है, यह वह एमिनो एसिड है जिसे शरीर अपने आप सिंथेसिस नहीं करता है। कैल्शियम को एब्जोर्ब करने, हार्मोन स्राव और इम्यून सिस्टम को बढ़ावा देने के लिए लाइसिन बहुत अहम है

होममेड राई और स्पेल्ट ब्रेड कैसे बनायें

यह घर की बनी रोटी बनाने में आसान है और इसका उपयोग वस्तुतः किसी भी भोजन में किया जा सकता है।

होममेड राई और स्पेल्ट ब्रेड नाश्ते का आनंद लेने के लिए एक स्वादिष्ट विकल्प है। आप इसे लंच या डिनर में सूप या पास्ता के साथ भी परोस सकते हैं। इसे बाद में टोस्ट करने के लिए स्लाइस में भी फ्रीज कर सकते हैं।

घर पर इस रोटी बनाने की कोशिश करने के लिए तैयार हैं?

सामग्री

  • 1 कप पानी (250 मिलीलीटर)
  • 1/2 कप होल व्हीट राई का आटा (100 ग्राम)
  • 2 कप होल व्हीट स्पेल्ट फ्लोर (400 ग्राम)
  • 1 बड़ा चम्मच फ्रेश यीस्ट (20 ग्राम)
  • 1 चम्मच नमक (7 ग्राम)

तैयारी

  • पानी को थोड़ा गर्म करें (35° C/ 95° F से ज्यादा नहीं) और यीस्ट में छिड़कें।
  • एक बड़े बॉल में दोनों तरह के मैदा को डालें और अच्छी तरह मिलाएँ।
  • मिश्रण के बीचोंबीच एक छेद बनायें और धीरे-धीरे इसमें येस्ट और पानी डालें।
  • अब आटे को गूंथ लें जिससे सबकुछ अच्छी तरह मिक्स हो जाए। आटा मुलायम होना चाहिए।
  • फिर आटे को छोड़ दें जिससे यीस्ट एक्टिव हों। आटे को एक बॉल का आकार दें, इसे ट्रांसपैरेंट फिल्म से ढक दें और सूखे, गर्म स्थान पर रख दें।
  • ओवन को 220 ºC/430ºF पर प्रीहीट करें।
  • आटा आकार में दोगुना हो जाए तो इसे फिर से गूंधें जब तक कि आपने इसे मनचाहा आकार न दिया हो।
  • अगर आप चाहें तो एक साँचे का इस्तेमाल कर सकते हैं और एक बड़ा लोफ बनाएं। छोटे-छोटे रोल भी बना सकते हैं।
  • 30 मिनट के लिए ब्रेड को छोड़ दें। फिर इसे पहले से गरम ओवन में लगभग 220 ºC पर रखें और 25 मिनट के लिए छोड़ दें।
  • जब तक यह अच्छी तरह बेक्ड न हो जाए ब्रेड पर नजर रखें। अंत में इसे ओवन से बाहर निकालें और खाने से पहले ठंडा होने दें।

इस होममेड राई और स्पेल्ट ब्रेड को आजमायें!

अब जबकि आप इस फायदेमंद रेसिपी के बारे में जान गए हैं तो पूरी फैमिली के साथ इसका मजा लेने के लिए इसे घर पर आज़माना न भूलें।

  • Gråsten, S. M., Juntunen, K. S., Poutanen, K. S., Gylling, H. K., Miettinen, T. A., & Mykkänen, H. M. (2018). Rye Bread Improves Bowel Function and Decreases the Concentrations of Some Compounds That Are Putative Colon Cancer Risk Markers in Middle-Aged Women and Men. The Journal of Nutrition. https://doi.org/10.1093/jn/130.9.2215
  • Holma, R., Hongisto, S.-M., Saxelin, M., & Korpela, R. (2010). Constipation Is Relieved More by Rye Bread Than Wheat Bread or Laxatives without Increased Adverse Gastrointestinal Effects. The Journal of Nutrition. https://doi.org/10.3945/jn.109.118570
  • Gawlik-Dziki, U., Świeca, M., & Dziki, D. (2012). Comparison of phenolic acids profile and antioxidant potential of six varieties of spelt (Triticum spelta L.). Journal of Agricultural and Food Chemistry. https://doi.org/10.1021/jf3011239
  • Ruibal-Mendieta, N. L., Delacroix, D. L., Mignolet, E., Pycke, J. M., Marques, C., Rozenberg, R., … Larondelle, Y. (2005). Spelt (Triticum aestivum ssp. spelta) as a source of breadmaking flours and bran naturally enriched in oleic acid and minerals but not phytic acid. Journal of Agricultural and Food Chemistry. https://doi.org/10.1021/jf048506e
  • Skrabanja, V., Kovac, B., Golob, T., Liljeberg Elmståhl, H. G. M., Björck, I. M. E., & Kreft, I. (2001). Effect of spelt wheat flour and kernel on bread composition and nutritional characteristics. Journal of Agricultural and Food Chemistry. https://doi.org/10.1021/jf000819w