इर्रिटेबल बॉवेल सिंड्रोम का इलाज करने के लिए क्या खाएं

दिसम्बर 3, 2019
हर आदमी को ध्यान रखना चाहिए कि जो वे खा रहे हैं, वे खाद्य उनके शरीर के लिए बेहतर हैं या बदतर। हालांकि फल और सब्जियां आम तौर पर इर्रिटेबल बॉवेल सिंड्रोम या IBS से पीड़ित लोगों के लिए अच्छी होती हैं।

क्या आप जानना चाहेंगे कि इर्रिटेबल बॉवेल सिंड्रोम का इलाज कैसे करें? यह सिंड्रोम आपकी इंटेसटाइन के रास्ते में बदलाव लाता है और पेट दर्द का कारण बनता है। ऐसे में आपको बारी-बारी से डायरिया और कब्ज हो सकती है। यह सिंड्रोम उन चीजों से बहुत करीब से जुड़ा है, जो आप खाते हैं।

इस लेख में हम आपको बताएंगे, इर्रिटेबल बॉवेल सिंड्रोम के इलाज के लिए आपको क्या खाना चाहिए, साथ ही किन खाद्य पदार्थों से आपको बचना चाहिए

इर्रिटेबल बॉवेल सिंड्रोम क्या है?

IBS के नाम से नाम से जाना जाने वाला इर्रिटेबल बॉवेल सिंड्रोम की व्यापकता इस बात पर निर्भर करती है कि आप कहां रहते हैं। उदाहरण के लिए औद्योगिक देशों में यह सीधे स्त्री और फ़ूड हैबिट से जुड़ा हो सकता है। यह आपके मूड से भी प्रभावित हो सकता है, क्योंकि मूड आंतों के सिक्रेशन को प्रभावित करता है।

अगर आप एंग्जायटी ग्रस्त हैं, क्रोधित या दुखी हैं, तो आपका शरीर ज्यादा एसिड का स्राव करता है। ये एसिड फैट के पाचन के लिए जिम्मेदार होते हैं, लेकिन एक लैक्जेटिव के रूप में भी काम करते हैं। इसका मतलब है, ये दस्त पैदा कर सकते हैं।

हाल के वर्षों तक इर्रिटेबल बॉवेल सिंड्रोम के रोगी की विशिष्ट प्रोफ़ाइल एक अधेड़ महिला थी जो अपने बच्चों की देखभाल करते हुए घर के बाहर काम करती थी। हालांकि समस्या अब सभी उम्र के लोगों, यहां तक ​​कि बच्चों और किशोरों में देखी जाती है।

आम तौर पर यह क्रोनिक स्थिति है जो बिना सूचना के आ सकती है और जा सकती है। इसके लक्षण मूल रूप से पेट की गड़बड़ी, कब्ज, दस्त और पेट फूलने के रूप में देखे जा सकते हैं।

हालाँकि, इसकी डायग्नोसिस इतनी आसान नहीं है क्योंकि यह अन्य स्थितियों के साथ अपच में भी ऐसे लक्षण देखे जा सकते हैं। यह निश्चित करने के लिए कि यह IBS है, पेट दर्द 3 महीने तक हर महीने 3 दिन दिखाई देना चाहिए और साथ ही निम्न में से एक लक्षण भी होना चाहिए

  • लक्षणों का बिगड़ना जैसा कि मल के आकार या रंग में देखा जा सकता है।
  • बॉवेल मूवमेंट में बदलाव के बाद लक्षणों का उभरना।
  • मल त्याग करने के बाद लक्षणों में सुधार।

अधिक जानना चाहते हैं? पढ़ें : कोलन को डिटॉक्स करने वाली 5 लाजवाब चाय कैसे बनायें

इर्रिटेबल बॉवेल सिंड्रोम का इलाज कैसे करना चाहिए?

हालांकि हर आदमी की डाइट अलग होगी, पर कुछ निश्चित दिशा-निर्देश हैं जिनका इर्रिटेबल बॉवेल सिंड्रोम वाले ज्यादातर लोगों को पालन करना चाहिए।

इर्रिटेबल बॉवेल सिंड्रोम में फाइबर की संतुलित मात्रा खाएं

इर्रिटेबल बॉवेल सिंड्रोम में फाइबर की संतुलित मात्रा खाएं

  • आपको न घुलने वाले फाइबर (जो साबुत अनाज से आते हैं) का सेवन कम करना चाहिए, जिससे यह आंतों के मूवमेंट को असंतुलित करने में योगदान करते हैं।
  • दूसरी ओर, आपको अपने घुलनशील फाइबर का सेवन बढ़ाना चाहिए जो मल के उत्पादन और मल त्याग में मदद करता है।

फैट और चीनी से बचें

ज्यादा फैट वाले खाद्य या रिफाइन शुगर और फ्रुक्टोज (कुछ फलों में पाई जाने वाली एक प्रकार की चीनी) से IBS के लक्षण बिगड़ सकते हैं।

इसका ध्यान रखें की क्या पीते हो

  • कॉफी और चाय का सेवन कम मात्रा में करना चाहिए। जितना हो सके शराब से बचना चाहिए।
  • इसके अलावा एक दिन में 8 गिलास पानी पीना न भूलें। इस तरह आप सुनिश्चित करेंगे कि आपका पूरा शरीर हाइड्रेटेड है, खासकर जब मल तैयार करने की बात आती है।

पानी या हर्बल चाय कब्ज से लड़ने में मदद करती है।

स्ट्रेस पर काबू रखें

इर्रिटेबल बॉवेल सिंड्रोम के इलाज के लिए अपनी चिंता, नर्व और एंग्जायटी पर काबू रखना बहुत महत्वपूर्ण है। हालांकि यह आसान नहीं है, पर तनाव से दूर रहें।

अक्सर यह दृष्टिकोण अहम हो जाता है की आप हालत  से कैसे निपटते हैं। बहुत ज्यादा चिंता न करें, काम की समस्याओं को घर पर न लाएं, अपने पसंद की चीजें करने में समय दें और अच्छी नींद लें

अगर आप इनमें से एक अच्छी डाइट शामिल करेंगे तो आप कुछ समय में अपने इर्रिटेबल बॉवेल सिंड्रोम में सुधार कर पाएंगे।

इर्रिटेबल बॉवेल सिंड्रोम के लिए आदर्श खाद्य पदार्थ

इर्रिटेबल बॉवेल सिंड्रोम के लिए आदर्श खाद्य पदार्थ

खाने की आदतें इस स्थिति से बहुत करीब से जुड़ी हुई हैं। जो कारक आपको सबसे ज्यादा प्रभावित करते हैं, वे हैं आपके द्वारा खाए जाने वाले भोजन की मात्रा और आप उन्हें कितनी बार खाते हैं। बार-बार लेकिन कम मात्रा में खाने की सलाह दी जाती है।

उदाहरण के लिए अगर आप आम तौर पर दिन में 3 बड़े भोजन खाते हैं, तो अब 6 छोटे भोजन खाने की कोशिश करें (प्रत्येक भोजन को मूल रूप से विभाजित करें)। प्रत्येक कौर को अच्छी तरह से चबाना और धीरे-धीरे खाना न भूलें। जल्दी-जल्दी खाने से गैस और अपच होगी। खाने के लिए वक्त निकालें। 5 मिनट में या काम करते हैं वक्त लांच खाना ठीक नहीं है!

हर दिन एक ही समय पर नाश्ता, दोपहर का भोजन और रात का खाना खाने की कोशिश करें। समय बदलने से आपकी आंतों पर बहुत असर पड़ता है और दर्द हो सकता है। हम मैश किए हुए खाद्य पदार्थों का चुनाव करने की सलाह देते हैं क्योंकि वे पचाने में आसान होते हैं।

बहुत से लोग सोचते हैं, इर्रिटेबल बॉवेल सिंड्रोम ग्लूटेन खाने से आता है, लेकिन यह सच नहीं है। सीलिएक रोग वाले कुछ लोगों को आंतों की समस्या भी होती है, हर किसी को गेहूं खाना बंद नहीं करना चाहिए। यह निश्चित करने के लिए डॉक्टर से जांच करवाएं।

इर्रिटेबल बॉवेल सिंड्रोम वाले लोगों के लिए कुछ खाद्य पदार्थ:

फल

हम उन्हें छीलकर खाने की सलाह देते हैं, और संभव हो तो उबला हुआ या बेक किया हुआ। आपके पास सेब, तरबूज, तरबूज और केले हो सकते हैं।

इस लेख को देखें: 5 नेचुरल टी: पेट की गैस के अचूक इलाज़

सब्जियां

उन्हें भाप दें ताकि उनके सभी पोषक तत्व बरकरार रहें और उन्हें पचाने में आसानी हो। इस स्थिति के लिए सबसे अच्छे दाल, शतावरी, प्याज और लहसुन हैं।

फलियां और अनाज


अगर आपको IBS से पीड़ित हैं तो मटर, दाल और सोयाबीन से बड़ी मदद हो सकती है। जब अनाज की बात आती है, तो हम गेहूं, जौ और राई की सलाह देते हैं।

डेयरी

यदि आपको लैक्टोज इनटॉलेरेंस हैं, तो आप वेजिटेबल मिल्क का विकल्प चुन सकते हैं। वरना फैट फ्री होने पर डेयरी प्रोडक्ट भी सुरक्षित हैं।

Weaver, K. R., Melkus, G. D. E., & Henderson, W. A. (2017). Irritable bowel syndrome. American Journal of Nursing. https://doi.org/10.1097/01.NAJ.0000520253.57459.01<;/p>

Choung, R. S., & Saito, Y. A. (2014). Epidemiology of Irritable Bowel Syndrome. In GI Epidemiology: Diseases and Clinical Methodology: Second Edition. https://doi.org/10.1002/9781118727072.ch20<;/p>

El-Salhy, M., & Gundersen, D. (2015). Diet in irritable bowel syndrome. Nutrition Journal. https://doi.org/10.1186/s12937-015-0022-3<;/p>