तीन लाजवाब इको-फ्रेंडली तरीके वॉशिंग मशीन से फफूंदी हटाने के लिए

18 जून, 2018
इन इको-फ्रेंडली तरकीबों का फायदा उठाने के साथ-साथ यह भी जरूरी है कि आप वॉशिंग मशीन को इस्तेमाल करने के बाद उसे खुला छोड़ दें ताकि उसके अंदर का हिस्सा अच्छी तरह से सूख जाये। ऐसा करने से फफूंदी उत्पन्न करने वाले सूक्ष्मजीवी जमा नहीं हो पाते हैं। इसलिए न रहेगी नमी, न होगा फफूंदी बनाने वाले सूक्ष्मजीवों का बसेरा।

आजकल वॉशिंग मशीन के बिना किसी का भी काम नहीं चलता है। इसलिए करीब-करीब सभी लोगों के घर में यह अहम साधन उपलब्ध होता है। यह एक गजब की चीज है जो सिर्फ कपड़े नहीं धोती। यह बहुत जल्दी कपड़े धोती है और आपके जीवन को कहीं ज्यादा आसान बना देती है।

सच्चाई तो यह है कि बहुत से ऐसे लोग भी हैं जो एक भरोसेमंद वॉशिंग मशीन के बिना अपने घर की कल्पना भी नहीं कर सकते। लेकिन अफसोस की बात है कि ज्यादातर लोग इस जोरदार साधन की ठीक से देखभाल नहीं करते हैं और न ही इसे कीटाणुमुक्त करने के बारे में सोचते हैं

वॉशिंग मशीन का तो सारा समय साबुन और साफ-सफाई की चीजों की संगति में ही बीतता है तो उसे रोजाना साफ करने की क्या ज़रूरत है, लोग इसी धोखे में रह जाते हैं।

दरअसल परेशानी की बात यह है कि हमें शुरू में पता नहीं चलता है कि हमारी वॉशिंग मशीन बैक्टीरिया और फफूंदी के पनपने के लिए एक बहुत बढ़िया जगह है। इनकी वजह से मशीन के काम पर बुरा असर पड़ सकता है और उसमें बदबू आ सकती है।

इसके अलावा मशीन की गोंददार लाइनिंग और दीवारों में थोड़ा बहुत पानी और डिटर्जेंट लगा रह जाता है। इससे सूक्ष्मजीवों को फूलने-फलने के लिए एक सुखद वातावरण मिल जाता है।

खुशखबरी यह है कि वॉशिंग मशीन से फफूंदी हटाने के लिए बाज़ार में बिकने वाले महंगे और तेज़ केमिकल्स का इस्तेमाल करना कतई ज़रूरी नहीं है।

यहाँ हम तीन गजब के इको-फ्रेंडली तरीकों का राज शेयर करेंगे जिनसे आपकी वॉशिंग मशीन चकाचक साफ हो जायेगी और उसमें फफूंदी का निशान भी नहीं रहेगा। सबसे अच्छी बात है कि ये सस्ते या मुफ्त हैं!

चलिये आगे बढ़ें और आज ही इनको आजमायें!

1. वॉशिंग मशीन को साफ करने के लिए नींबू और हाइड्रोजन पेरॉक्साइड

नींबू के रोगाणुरोधी और फंगसरोधी कुदरती गुणों को हाइड्रोजन पेरॉक्साइड की खूबियों के साथ जोड़कर हमें एक जोरदार घोल प्राप्त होता है जो मशीन को फर्स्ट क्लास रखने में मदद करता है, वह भी एकदम सस्ते और आसान तरीके से।

यह मिश्रण मशीन में जमे हुए बचे-खुचे साबुन को हटाता है। इस तरह ये फफूंदी की वजह से पैदा होने वाली बदबू को बेअसर कर  देता है।

घटक

  • 6 प्याले पानी (1.5 l)
  • 1/4 प्याला नींबू का रस (62 ml)
  • 1/2 प्याला हाइड्रोजन पेरॉक्साइड (125 ml)

आपको किन चीजों की ज़रूरत होगी

  • 1 गहरा कंटेनर
  • 1 माइक्रोफाइबर कपड़ा

बनाने का तरीका

  • एक गहरे कटोरे में पानी डालें और फिर उसमें नींबू के रस और हाइड्रोजन पेरॉक्साइड को ऐसे ही मिलायें।
  • सभी चीजों के ठीक से मिल जाने पर आपका घोल इस्तेमाल करने के लिए तैयार है!

कैसे इस्तेमाल करें

  • इस घोल को वॉशिंग मशीन की रबर लाइनिंग पर स्प्रे करें और सीधे ड्रम में भी डालें।
  • इसे 10 से 15 मिनट तक के लिए छोड़ दें ताकि इसका असर हो सके, फिर माइक्रोफाइबर कपड़े से अतिरिक्त घोल को हटायें।
  • बाद में, बेहतरीन सफाई के लिए, बचे हुए घोल को एक साबुन के कम्पार्टमेंट में डालें और अपनी वॉशिंग मशीन को नॉर्मल हॉट साइकिल पर चलायें।
  • यह आखिरी स्टेप आपको मशीन के पूरे अंदर के हिस्से के साथ सारे पाइप को भी कीटाणुमुक्त करने में मदद करता है।

2. एप्पल साइडर विनेगर या सेब का सिरका

एप्पल साइडर विनेगर की तो जितनी भी तारीफ की जाये वह कम है। यह एक ऐसी जबरदस्त चीज है जिसको सिर्फ गुनगुने पानी के साथ मिलाकर पतला करके एक नेचुरल कीटाणुनाशक बना सकते हैं। इसका उपयोग करके आप अपनी वॉशिंग मशीन में पनपने वाले नुकसानदेह बैक्टीरिया, फंगस और दूसरे सूक्ष्मजीवों से पूरी तरह से छुटकारा पा सकते हैं।

जब आप इस घोल को लगाते हैं तो यह आपकी मशीन की गोंददार लाइनिंग पर लगे हुए फफूंदी के गहरे रंग के दाग-धब्बे भी हटा देता है। इसके अलावा यह ड्रम और पाइप में एकत्र होने वाले साबुन के अवशेष को भी साफ करता है।

घटक

  • 5 प्याले पानी (1.2 l)
  • 1/2 प्याला एप्पल साइडर विनेगर (125 ml)

आपको किन चीजों की जरूरत होगी

  • 1 बोतल जिसमें एटमाइज़र स्प्रे पंप लगा हो
  • 1 माइक्रोफाइबर कपड़ा

बनाने का तरीका

  • पानी को गर्म करें। जब वह उबलने लगे तो उसमें एप्पल साइडर विनेगर डालें।
  • थोड़ा सा घोल बोतल में भरें और बाकी को संभाल कर रखें।

कैसे इस्तेमाल करें

  • घोल को वॉशिंग मशीन की रबर लाइनिंग पर स्प्रे करें और अपने माइक्रोफाइबर कपड़े से फफूंदी हटायें।
  • बाकी बचे हुए घोल को मशीन में साबुन डालने के कम्पार्टमेंट में डालें और एक छोटा साइकल शुरू करें।
  • जब साइकल पूरा हो जाये तो अपनी मशीन को खोलें और कुछ घंटों के लिए उसमें हवा लगने दें।

3. सफेद सिरका और नींबू का रस

सफेद सिरका और नींबू के रस को मिलाकर बनाया हुआ घोल वॉशिंग मशीन के साबुन के कम्पार्टमेंट, ड्रम, पाइप और बाकी जगहों, जहाँ तक पहुंचना मुश्किल होता है, कीटाणुमुक्त करने में  मदद करता है।

ये घटक फफूंदी को उत्पन्न करने वाले फंगस से छुटकारा दिलाते हैं और अप्रिय गंध को बेअसर करने का जोरदार काम करते हैं।

घटक

  • 5 प्याले पानी (1.2 l)
  • 1 प्याला सफेद सिरका (250 ml)
  • 1/4 प्याला नींबू का रस (62 ml)

आपको किन चीजों की जरूरत होगी

  • 1 बोतल जिसमें एटमाइज़र स्प्रे पंप लगा हो
  • 1 कपड़ा या स्पंज

बनाने का तरीका

  • पानी को गर्म करें और सफेद सिरका मिलायें।
  • फिर, नींबू के रस को ऐसे ही डालें और मिलायें ताकि सब चीजें अच्छी तरह मिल जायें।

कैसे इस्तेमाल करें

  • थोड़े से घोल को स्प्रे करने की बोतल में डालें और बाकी को अपनी वॉशिंग मशीन के ड्रम और साबुन के कम्पार्टमेंट के बीच में बांट दें।
  • स्प्रे करने की बोतल की सहायता से घोल को गोंददार लाइनिंग पर डालें और अपने स्पंज की मदद से फफूंदी हटायें।
  • फिर, अपनी मशीन को एक छोटे साइकल पर चलायें ताकि बचा हुआ घोल उन जगहों को साफ कर सके जहाँ तक पहुंचना मुश्किल होता है।
  • जब साइकल पूरा हो जाये तो वॉशिंग मशीन को खुला छोड़ दें ताकि बची हुई नमी सूख जाये।

जैसा कि हमने देखा, वॉशिंग मशीन को अच्छी तरह से साफ करने, जिसकी उसे वाकई सख्त जरूरत है, के लिए चंद मिनट ही काफी हैं। अगर अभी तक आपने ऐसा नहीं किया है तो अब शुरू करें। यह काम बहुत आसान है। हमने जो अलग-अलग तरह के घोल आपको बताये हैं उनमें से किसी भी एक को चुनें और उसके जबरदस्त असर का महीने में कम से कम दो बार लाभ उठायें!