यदि आपके पार्टनर ने केयर करनी बंद कर दी है, तो आगे बढ़ें

जब एक व्यक्ति परवाह करना छोड़ दे तो उसके साथ बने रहने की आशा करना व्यर्थ है। इससे केवल दर्द और पीड़ा होती है। जरूरत है बहादुर और साहसी बनने की, जिससे हम जीवन में आगे बढ़ सकें।
यदि आपके पार्टनर ने केयर करनी बंद कर दी है, तो आगे बढ़ें

आखिरी अपडेट: 27 जून, 2019

ज़िन्दगी में कई बार हमें एहसास होता है कि कुछ लोग हमारे लिए सही नहीं हैं। यह अहसास अक्सर तब आता है जब आप उस व्यक्ति की केयर करना छोड़ देते हैं जिसके साथ आप हैं। या फिर जो आपके साथ है वह आपकी परवाह करना छोड़ देता है।

हम जानते हैं, यह एक अहम और दर्दनाक त्याग है। यह कठिन निर्णय है, जो यदि आप सावधान नहीं हैं, तो आपको कड़वाहट की ओर ले जा सकता है। पर अगर आप अब केयर नहीं करते है, तो उस चीज़ को जकड़ कर रखने का क्या मतलब है जो अब आपके लिए सही नहीं है? 

दूसरे शब्दों में, अगर उन्होंने आपकी केयर करनी बंद कर दी है, तो अब अपना मूल्य समझने की कोशिश करें। आगे बढ़ें और पीछे मुड़कर ना देखें।

जब उन्होंने मेरी परवाह करनी बंद कर दी है, तो मैं कैसे आगे बढ़ूं?

जब आप किसी के लिए महत्वपूर्ण नहीं रह जाते, तो आप पैनिक में आ सकते हैं। आप पर एंग्जायटी और स्ट्रेस हावी हो सकते हैं।

लेकिन, यह समय है शांत रहने और किसी दूसरे नजरिये से हालात की जांच करने का।

केयर

हजारों दूसरे लोग उसी तरह की स्थिति से गुज़र रहे हैं जिसमें आप हैं। जब आप इसे महसूस करते हैं, तो आपको अपनी समस्या अचानक इतनी बड़ी नहीं लगती है।

हमें इतना दुख और इतना बुरा इसलिए महसूस होता है क्योंकि हम अभी भी उस व्यक्ति के लिए एहसास और भावनाओं से भरे होते हैं जिसकी अब हम कोई हम परवाह नहीं करते।

अगर हम यह कहें कि किसी की केयर करना बंद कर देने पर कुछ नहीं होता, तो हम झूठ बोल रहे होंगेसच्चाई यह है कि दोनों पक्षों में से किसी एक को तो तकलीफ पहुँचेगी ही।

हालांकि, चीजें जैसी हैं, उन्हें वैसे ही स्वीकार करना सबसे अच्छी बात है जो आप कर सकते हैं। क्योंकि जिन्होंने अब आपकी परवाह करनी बंद कर दी है, उन्हें पकड़ कर रखना और भी बुरा होता है।

इस प्रकार की स्थिति अक्सर रोमांटिक रिश्तों में होती है जब दोनों पक्षों में से एक विरक्त हो जाता है या टूटे हुए दिल का अनुभव करता है। अकेले होने का या उस व्यक्ति के बिना होने का भय जो अब तक हमारे जीवन का इतना बड़ा हिस्सा रहा है, गंभीर एंग्जायटी पैदा करता है।

इमोशनल डिटैचमेंट के लक्षण : क्या उन्होंने केयर करनी बंद कर दी है

अगर आप किसी रिश्ते में हैं, तो आप केयर करनी बंद करते ही समझ जायेंगे। सच छिपा नहीं रहेगा। 

कभी-कभी इमोशनल डिटैचमेंट शारीरिक नहीं होता

इमोशनल डिचैचमेंट के लक्षण : क्या उन्होंने केयर करनी बंद कर दी है

इस कारण से नीचे दिए गए संकेतों के बारे में जागरूक होना बहुत महत्वपूर्ण है ताकि आप यह पता लगा सकें कि क्या आपका साथी भावनात्मक रूप से खुद को आपसे दूर कर रहा है या नहीं। इस तरह कम से कम आपको जानकारी रहेगी और आप जानकारी के अभाव का शिकार नहीं होंगे।

  • आप कुछ समय से इस व्यक्ति के लिए अब प्रायोरिटी नहीं रहे है। शायद आपकी रुचियां और लक्ष्य अब मेल नहीं खाते।

  • आप अकेलापन और खालीपन जैसी भावनाओं का अनुभव करना शुरू करते हैं क्योंकि अब आपका साथी आपकी आवश्यकताओं के बारे में चिंतित नहीं है।

  • आप अब अकेले हैं जो रिश्ते को बनाये रखने का प्रयास कर रहा है।

  • आपका साथी आपकी राय और विचारों पर ध्यान नहीं देता है और आप दोनों के बारे में सोचे बिना सिर्फ अपने फायदे के हिसाब से निर्णय लेना शुरू कर देता है।

  • वे किसी भी स्पष्ट कारण के बिना आपसे अपमानजनक, आलोचनात्मक बाते करना और खुद को दूर करना शुरू कर सकते हैं। रिश्ता अचानक बदल सा जाता है और एक युद्ध क्षेत्र में तब्दील हो जाता है।

यद्यपि आपने इसका विरोध करने की कोशिश की है, लेकिन आप इस व्यक्ति की केयर करना बंद कर देते हैं जिसे आप कभी प्यार किया करते थे। अब वही व्यक्ति आपके लिए जीना मुश्किल बना देता है और आप खुद को अपराधी महसूस करने लगते हैं।

वे नहीं चाहते हैं कि आप उन्हें छोड़ दें और ना ही वे आपको छोड़ना चाहते हैं। यह स्थिति को बहुत ही पेचीदा, जटिल और दर्दनाक बना देता है।

आपको सम्मान से अलविदा कह देना चाहिए

जब आप इस तरह की स्थिति में खुद को पायें तो बहुत ज़रूरी है कि आप उस व्यक्ति को अपने जीवन से जाने दें भले ही यह आपको जितना ही दर्दनाक क्यों न लगे। अपना मूल्य समझें और हार ना मानें।

केयर : अलविदा कह दें

यह आपकी गलती नहीं है कि आपने केयर करनी बंद कर दी है और न ही यह बात स्वीकार करना आपको एक बुरा इंसान बनाता है कि अब आप उस व्यक्ति के साथ भावनात्मक रूप से जुड़ा हुआ महसूस नहीं करते हैं।

साहस जुटायें और उस व्यक्ति को पीछे छोड़ दें। यह निर्णय आपके द्वारा लिए गए निर्णयों में सर्वोत्तम होगा।

यह आपके जीवन में पहली बार नहीं होगा कि आपको कुछ महत्वपूर्ण बात को पीछे छोड़ रहे हैंआपको यह समझने की ज़रूरत है कि लोग जीवन में आते-जाते रहते हैं।

अगर आपने किसी की परवाह करनी बंद कर दी है तो किसी और के तोड़े हुए संबंधों को सुधारने की कोशिश करके अपना और नुकसान न करें। चीजों को ठीक करने की कोशिश करना बेकार है। यदि आपने परवाह करनी बंद कर दी है तो आगे बढ़ना सीखें। यह समय है कि आप अपना गर्व संभालें और एक नई यात्रा की शुरुआत करें।

यह आपकी रुचि हो सकती है ...

अकेले या किसी पार्टनर के साथ: जब इससे कोई फर्क नहीं पड़ता, आप एकसाथ हैं या अलग-अलग
स्वास्थ्य की ओर
इसमें पढ़ें स्वास्थ्य की ओर
अकेले या किसी पार्टनर के साथ: जब इससे कोई फर्क नहीं पड़ता, आप एकसाथ हैं या अलग-अलग

पार्टनर या साथी से जुड़ी एक कहावत है, जिसे हमने हमेशा बहुत अहम तो माना है लेकिन उसके अर्थ को गहराई से समझने की कोशिश शायद नहीं की। "गलत संगति में रह...



  • Barrett, L. F., Lane, R. D., Sechrest, L. & Schwartz, G. E. (2000). Sex differences in emotional awareness. Personality and Social Psychology Bulletin, 26, 1027-1035. doi:10.1177/01461672002611001

  • Guzmán-González, Mónica; Carrasco, Natalia; Figueroa, Paulina; Trabucco, Caterina, & Vilca, Daniela. (2016). Estilos de Apego y Dificultades de Regulación Emocional en Estudiantes UniversitariosAttachment Styles and Emotional Regulation Difficulties Among University Students. Psykhe (Santiago), 25(1), 1-13

  • Haeussler, Isabel y Milicic, Neva. (1995). Confiar en uno mismo. Programa de desarrollo de la autoestima. Santiago: Dolmen.

  • Kerr, S. L, Melley, A. M., Travea, L. & Pole, M. (2003). The relationship of emotional expression and experience to adult attachment style. Individual Differences Research, 1, 108-123.

  • Naranjo Pereira, María Luisa (2007). Autoestima: un factor relevante en la vida de la persona y tema esencial del proceso educativo. Revista Electrónica “Actualidades Investigativas en Educación”. vol. 7, núm. 3, septiembre-diciembre, p. 0.