क्या कैंसर वंशानुगत है? आपको क्या जानना चाहिए

हालांकि कई लोग यह सवाल पूछते हैं, "क्या कैंसर वंशानुगत है?", इसमें कोई शक नहीं है कि कई अन्य बाहरी कारक हैं जो इसका कारण बन सकते हैं।
क्या कैंसर वंशानुगत है? आपको क्या जानना चाहिए

आखिरी अपडेट: 07 दिसम्बर, 2018

यह एक सवाल है जिसे अधिकांश लोगों ने कभी न कभी पूछा है: क्या कैंसर वंशानुगत है? उदाहरण के लिए, अगर किसी की मां को स्तन कैंसर था तो क्या उसे भी होगा?

सबसे पहले, हमें यह स्पष्ट करना चाहिए कि कैंसर में निश्चित रूप से जेनेटिक घटक होता है। लेकिन सिर्फ इसलिए कि यह जेनेटिक है इसका मतलब यह नहीं है कि यह “वंशानुगत” है।

वर्तमान में, यह बीमारी इतनी आम है कि हम में से अधिकांश लोगों का लगभग निश्चित रूप से एक रिश्तेदार है जो बीमार है। या शायद आपके जीवन में कोई सबसे कठिन टेस्ट से गुजर चुका है और दुख की बात है कि उसे वश में नहीं कर पाया है।

लेकिन जैसा कि कुछ एक्सपर्ट्स ने कहा है, कुछ प्रकार के कैंसर हैं जो कुछ परिवारों में ज्यादा आम होते हैं।

कई पीढ़ियों में मोटापा या तंबाकू के उत्पादों का उपयोग ऐसे कारक हैं जो आपके संभावित रिस्क को निर्धारित कर सकते हैं।

दूसरी तरफ, हम यह भी जानते हैं कि विभिन्न प्रकार के कैंसर हैं जिनको फैमिली ट्री के जरिये विरासत में पाने की ज्यादा संभावना है।

फिर भी, हमें ऊपर बताए गए आईडिया पर एक बार फिर जोर देना चाहिए: हम एक ऐसी बीमारी की बात कर रहे हैं जिसमें जेनेटिक घटक है, लेकिन इसका वंशानुगत होना ज़रूरी नहीं है।

आज हम आपको जितनी भी जानकारी की ज़रूरत है वह देंगे।

कैंसर और जेनेटिक विरासत

यूनिवर्सिटी ऑफ सालामानका (स्पेन) के कैंसर रिसर्च सेंटर ने 2010 में “जेनेटिक काउंसलिंग: अ गाइड टू हेरेडिटरी कैंसर” नाम की एक रिपोर्ट प्रकाशित करी थी।

रिपोर्ट में यह पता लगाने की कोशिश की गयी कि जेनेटिक एनालिसिस यह निर्धारित कर सकती है या नहीं कि कोई व्यक्ति डीएनए अनुक्रम का वाहक है जो उसे कैंसर होने के लिए और ज्यादा “संवेदनशील” बना सकता है।

आम तौर पर, आपकी अपने परिवार से कुछ ऑन्कोलॉजिकल बीमारियों को विरासत में पाने की 5 और 10% के बीच संभावना है। इन कैंसर में आम तौर पर कोई ज्ञात पर्यावरणीय कारक नहीं होते हैं।

कैंसर कारकों के जटिल संयोजन के कारण होता है

कैंसर एक जेनेटिक बीमारी है। यह कुछ जीन में शुरू होता है, चाहे वह आंतरिक या बाहरी कारकों के कारण होता है, और कोशिकाओं के बढ़ने तक वे जीन बदलते और रूपांतरित होते हैं।

  • इन जेनेटिक विविधताओं को आपकी जीवनशैली से जुड़ी चीजों से बढ़ाया जा सकता है। आप जिस एनवायरनमेंट में रोज रहते हैं वह भी एक ट्रिगर हो सकता है।
  • साथ ही, आम तौर पर यह सब चीजों का एक सूक्ष्म संयोजन है। लेकिन केवल वंशानुगत कारकों के कारण एक ट्यूमर विकसित करने की संभावना बहुत कम है।
  • तंबाकू का उपयोग, पर्यावरण प्रदूषक, और खराब आहार संबंधी आदतें एक ज्यादा बड़ा रिस्क पैदा करती हैं।

आप कब निर्धारित कर सकते हैं कि कैंसर होने के लिए आपकी वंशानुगत पूर्ववृत्ति है?

कैंसर की शुरुआत आम तौर पर विभिन्न कारकों के संयोजन के कारण होती है इसलिए कई पहलुओं पर विचार करना ज़रूरी है।

हम उन्हें नीचे समझाएंगे।

  • जब परिवार के कई अलग-अलग सदस्यों में एक ही प्रकार का कैंसर दिखाई देता है।
  • जब वह कैंसर विभिन्न पीढ़ियों को प्रभावित करता है: दादा दादी, बच्चे, नाती-पोते।
  • जब युवा आयु (60 से पहले) में कुछ परिवार के सदस्यों में निदान होता है।

कैंसर जिनमें एक वंशानुगत घटक है

कुछ प्रकार के कैंसर हैं जिनमें एक वंशानुगत घटक है। रिस्क कारक 5 से 10% की दहलीज पर बना रहता है।

यह बहुत ज्यादा नहीं है, लेकिन आपको ज्यादा चौकस होने और अपने डॉक्टर को बताने की ज़रूरत है ताकि सही मूल्यांकन किया जा सके।

  • स्तन कैंसर
  • अंडाशयी कैंसर
  • गैर पॉलीसिस्टिक कोलन कैंसर
  • मेलेनोमा (त्वचा कैंसर का सबसे खतरनाक प्रकार)

क्या कोई टेस्ट है जो यह निर्धारित कर सकता है कि आपको इस तरह के कैंसर होंगे या नहीं?

ऐसे कई टेस्ट हैं जो वास्तव में आपको अपने रिस्क के बारे में कुछ जानकारी दे सकते हैं। लेकिन हमें पहले कुछ अहम मुद्दों को स्पष्ट करना चाहिए:

  • ये जेनेटिक टेस्ट आपको यह नहीं बताएंगे कि आपको वंशानुगत प्रकार का कैंसर होगा या नहीं – वे केवल आपको बताएंगे कि इसकी कितनी संभावना होगी।
  • सबसे पहले आपको अपने डॉक्टर से बात करनी चाहिए। बाद में वे आपको कैंसर जेनेटिक काउंसलिंग नाम की यूनिट के पास भेजते हैं।
  • इसका कार्य कैंसर के वंशानुगत रूपों को स्टडी करना और आपको सलाह देना है। यह केवल लैबोरेटरी टेस्ट के परिणाम को पाने के बारे में नहीं है।
  • यह आपको सलाह देने के लिए भी मौजूद है: यहां आप अपने व्यक्तिगत और पारिवारिक रिस्क का मूल्यांकन करेंगे। आप यह भी सीखेंगे कि आपको कौन सी निगरानी की रणनीतियों का पालन करना चाहिए और अपने रिस्क को कैसे कम करना चाहिए।

हमें फिर से इस बात पर जोर देना चाहिए कि वंशानुगत कारकों के कारण कैंसर होने का रिस्क बहुत कम है।

लेकिन क्योंकि यह लोगों में एक बहुत ही आम डर है ये जेनेटिक काउंसलिंग यूनिट उपयोगी और कारगर होने के लिए बनाई गई हैं।

यदि पारिवारिक संबंध है तो आप कैंसर को कैसे रोक सकते हैं?

जैसा कि हमने पहले कहा था, सबसे अहम बात यह है कि सही मेडिकल सलाह प्राप्त की जाये। उदाहरण के लिए, अगर आपके परिवार में कई महिलाओं को स्तन कैंसर हो चूका है तो आपको नियमित स्तन परिक्षण और मैमोग्राम करवाना ज़रूरी है।

साथ ही, याद रखें कि जेनेटिक घटक खुद आम तौर पर बीमारी को विकसित करने का कारण नहीं बनता है। कैंसर ज्यादातर, अन्य कारकों के लिए धन्यवाद जो आपके रिस्क और संवेदनशीलता को बढ़ाते हैं, के कारण होता है।

  • तंबाकू के उपयोग से बचना ज़रूरी है।
  • ओबिसिटी या ज्यादा वजन होना एक और रिस्क कारक है।
  • फैट और चीनी से भरपूर आहार एक और खतरा है जिससे आपको दूर रहना चाहिए।
  • आसन्न जीवनशैली न बनाये रखें।
  • एक अस्वास्थ्यकर एनवायरनमेंट में रहने या दूषित करने वाले पदार्थों या प्रदूषकों के साथ काम करना एक और रिस्क है।

फिर भी, आपको रोजाना के जीवन में कौन सी रणनीतियों का पालन करना चाहिए यह बताने के लिए हमेशा स्पेशलिस्ट उपलब्ध होंगे।

यह आपकी रुचि हो सकती है ...
ओवेरियन कैंसर के 7 लक्षण जिनके बारे में हर महिला को पता होना चाहिए
स्वास्थ्य की ओरइसमें पढ़ें स्वास्थ्य की ओर
ओवेरियन कैंसर के 7 लक्षण जिनके बारे में हर महिला को पता होना चाहिए

ओवेरियन कैंसर के लक्षणों पर ध्यान देना इसलिए ज़रूरी होता है कि वह स्त्री जननांग की एक स्थाई बीमारी होती है। चुपचाप विकसित होने की वजह से इसे "साइलेंट किलर" के नाम से भी जाना जाता है।



  • A. Antoniou, P. D. Pharoah, S. Narod et al., Average risks of breast and ovarian cancer associated with BRCA1 or BRCA2 mutations detected in case Series unselected for family history: a combined analysis of 22 studies, Am J Hum Genet 72 (2003), 1117–1130.
  • A.C. Antoniou, P.D. Pharoah, G. McMullan et al., A comprehensive model for familial breast cancer incorporating BRCA1, BRCA2 and other genes, Br J Cancer 86 (2002), 76–83.
  • I. Ayan, J.W. Luca, N. Jaffe et al., De novo germline mutations of the p53 gene in young children with sarcomas, Oncology Reports 4 (1997), 679–683.