बहादुर वे हैं जो अपने टुकड़े उठाते हैं और खुद को दोबारा गढ़ते हैं

11 मार्च, 2019
अपने-अपने तरीके से हर कोई बहादुर है। हम सभी को मुश्किलों से उबरना होगा। अपनी बहादुरी का जश्न मनाइये!

बहादुर लोग हमेशा सुर्खियाँ नहीं बनाते हैं। दुनिया उन गुमनाम योद्धाओं और अनजाने लोगों से भरी पड़ी है जो परदे के पीछे अपना काम अंजाम देते हैं जिससे उन्हें मुसीबतों से बाहर निकलने में मदद मिलती है।

हर कोई ऐसे इंसान की तारीफ करता है क्योंकि वे एक दर्दनाक घटना से आसानी से निबटते हैं, किसी बीमारी या नुकसान या ब्रेकअप या किसी दुर्घटना से उबर चुके होते हैं।

यहाँ तक कि, यह भी हो सकता है कि आप खुद वह इंसान हों जो हाल ही में ठीक इसी तरह की परिस्थिति से गुज़रा है।

कोई बात नहीं, आपने अपने टूटे हुए टुकड़ों को उठाया और दिन-प्रतिदिन थोड़ा-थोड़ा करके अपने आप को फिर से बनाया। आपने हर टूटे किनारों को उम्मीद और साहस से भर दिया।

आपने उन पलों से जो सीखा है, वह कभी भी किसी किताब या व्यक्तिगत विकास पर आधारित कोर्स से नहीं मिल सकता है।

यह एक प्रकार का ज्ञान है जो अनुभव से प्राप्त होता है, बिना किसी दूसरे विकल्प के।

चलिए, इसके बारे में विस्तार से बात करते हैं।

आप जितना समझते हैं, आप उससे कहीं ज्यादा बहादुर हैं

आप जितना सोचते हैं, उससे कहीं ज्यादा बहादुर हैं

इंसानी दिमाग बदलावों का विरोध करता है। यह अप्रत्याशित घटनाओं या चीजों को देखने के हमारे नज़रिये में होने वाले अचानक बदलाव को स्वीकार नहीं करता है।

हालाँकि, आपके लिए इस पर भरोसा करना थोड़ा मुश्किल हो सकता है, पर ऐसे बहुत से साइकोलॉजिकल टूल्स हैं जिनसे आपको कठिनाइयों का सामना करने होगा।

आपका नेचुरल स्वभाव आपके अस्तित्व की गारंटी है। इसलिए जब भी नकारात्मक भावनायें आपके ऊपर हावी होने की कोशिश करें तो आपका अंदरूनी कम्पास आपको आगे बढ़ने और अपना रास्ता खोजने में मदद करेगा।

समस्या यह है कि आप हमेशा अपने आपको असुरक्षित नहीं होने देते हैं।

चोटिल होना, हताशा या नुकसान और धोखा आपको कमजोर या आपमें ताकत की कमी महसूस करा सकते हैं जिसे आपको वापस पाने की जरूरत है।

हालाँकि, एक बात जो हम साफ़ कर देना चाहते हैं: ज्यादा मजबूत बनने के लिए आपको एक नया कवच अपनाना होगा।

आपके साथ जो हुआ और दर्द जो आप इस समय महसूस करते हैं, उसे स्वीकार करना आपके घावों को भरने के लिये ज़रूरी है।

दूसरी ओर, विरोध करने वालों को इन मुसीबतों से उबरने में बहुत ज्यादा समय लगेगा।

इसे भी पढ़ें : नयी शुरूआत करने के लिए अपने दर्द को भूल जायें

खुद को फिर से गढ़ना, एक ऐसी प्रक्रिया जिसके लिए वक्त ही काफी नहीं है

दिल को जोड़ते हुए

आम धारणाओं के विपरीत वक्त अपने आप ही सब कुछ ठीक नहीं कर सकता है। दरअसल, कभी-कभी खुद वक्त भी दर्द को बढ़ा सकता है या भावनात्मक गड़बड़ी पैदा कर सकता है।

असल भरपाई स्वीकार करने, माफ़ करने की हिम्मत और खुश रहने की इच्छा को अपनाने से होती है।

समय आपकी समस्याओं को हल करने या दर्द के लिए दवा के रूप में काम नहीं करेगा।

यह आपका अपना नज़रिया है जो यह समझने में मदद करेगा कि कुछ चीजों को आप कभी नहीं भूल सकते।

हालांकि, आप उन तथ्यों के साथ जी सकते हैं क्योंकि आप उन सब के बावजूद अपने आपको आगे बढ़ने देते हैं।

समय का बीतना उन लोगों के पक्ष में हो सकता है, जो अपने साथ हुए हादसों से बहुत कुछ सीखने के बाद, अंदरूनी जख्मों के बावजूद फिर से दुनिया का सामने आने का फैसला करते हैं।

इसे भी पढ़ें : उन अंधेरे दिनों में कैसे जीवित रहें जब कुछ भी वैसे नहीं होता है जैसा आप चाहते हैं

ऐसी लड़ाइयाँ हैं जिन्हें आपको अकेले ही लड़ना होगा

किसी भी तरह की मुश्किल परिस्थिति से उबरने के दौरान आपको उन लोगों से सामाजिक और भावनात्मक मदद की जरूरत होगी जिन्हें आप प्यार करते हैं।

फिर भी, आप वह हैं जिसे पहला कदम उठाना पड़ेगा। यह आपके ऊपर निर्भर है कि आपके पास खुद की देखभाल करने की इच्छाशक्ति है क्योंकि आप बेहतरी के लिए बदलाव लाने के लिए पहियों की रफ़्तार बनाये रखने के काबिल हैं।

यह मुश्किल लग सकता है और यहां तक कि मायूस कर देने वाला (heartbreaking) भी हो सकता है, लेकिन डिप्रेशन, नुकसान या धोखे से उबरना एक बहुत बड़ा काम है, एक प्रक्रिया जो केवल एक ही नाम है: आपका अपना।

कोई भी आपके लिए रो नहीं सकता, कोई भी आपको हर दिन उठने और अपनी आदतों को बदलने की ताकत नहीं दे सकता है।

वे आपको प्रोत्साहित कर सकते हैं और आपका मार्गदर्शन कर सकते हैं, मगर जिम्मेदारी हमेशा खुद आपकी होती है।

4-दिल

मुसीबत आपको सिखाती है, लेकिन जिंदगी दुखदायी नहीं है – यह ख़ुशियों की खोज है

कुछ और जो आम है, वह है यह सोच कि “वह जिसने कुछ सहन नहीं किया उसने जीना नहीं सीखा” या “वास्तव में खुश रहने के लिए, आपको सबसे पहले कठिनाइयों से पार पाना होगा।”

इनमें से कोई भी सच नहीं है। दुःख सहना ज़रूरी नहीं है। असल में, क्या यह अच्छा हो सकता है यह जानने के लिये कोई भी दर्दनाक अनुभवों से नहीं गुजरना चाहिए।

हर किसी का अपना इतिहास, अपना अलग और विशेष फ्रेम ऑफ़ रेफ़रेंस होता है जिसमें उनकी बुद्धि और व्यक्तिगत गुण होते हैं।

हम सभी अपने-अपने तरीके से बहादुर रहे हैं।

हम सभी भाग्यशाली हैं कि हमें उस रास्ते को खोजने में मदद मिली है जिसने हमें मुश्किल समय से उबरने में मदद की है और वह बनने में मदद की, अब जो हम हैं: एक इंसान जो ज्यादा मजबूत, एकाग्रचित, खुश और परिपक्व है।

जिंदगी हमें सिखाती है, शांति और खुशी के समय, दोनों समय में।

सबसे महत्वपूर्ण बात उस पर गर्व महसूस करना है कि जो आपने हासिल किया है।

  • Sánchez Aragón, Rozzana., Martínez Cruz, Rebeca. (2014).Causas y Caracterización de las Etapas del Duelo Romántico. https://www.sciencedirect.com/science/article/pii/S200747191470378