जब रोने की ज़रूरत बहुत तीव्र हो जाती है

12 जनवरी, 2019
कभी-कभी अपने आप को फिर ताकत से भरने और उन चीजों का सामना करने के लिए, जिनको जीवन आप के ऊपर फेंकता है, आपको अपनी रोने की ज़रूरत को पूरा करना पड़ता है।

आपकी रोने की ज़रूरत कमजोरी, उसको रोकने की ताकत की कमी, या आपने अब तक जो कुछ भी हासिल किया है उसे फेंकने की इच्छा से नहीं पैदा होती है।

यह इच्छा आप कितने मजबूत रहे हैं और आपको कितना रिलीज़ करने की ज़रूरत है उससे आती है।

अभी भी लोग जो व्यक्ति रोता है उसे कमजोर समझते हैं। यहां तक कि आप अपने को धिक्कार सकते हैं जब कुछ हालातों का सामना करने पर आपके आंसू उभर आते हैं।

एक के बाद एक कठिन हालातों को सहना, अपने परिवार के लिए ताकत का खंभा बनना, हमेशा हिम्मत के साथ खड़े रहना जब आप असल में जमीन पर गिरना चाहते हैं … आप अपने आप को मजबूत होने के लिए मजबूर कर रहे हैं जबकि आपके आस-पास की हर चीज कोर तक हिल चुकी है ।

सबसे मजबूत पेड़ भी सुनामी में बह जाता है

अगर आप रोते हैं और दुःख को बाहर जाने देते हैं तो वह नॉर्मल है। सबसे मजबूत पेड़ को भी सुनामी के जोर के सामने झुकना पड़ता है। आप पत्थर के बने हुए नहीं हैं और आपने सब तरफ से इतना सहन किया है।

सबसे बुरी चीज जो आप कर सकते हैं वह है उन आंसुओं को रोकना या निगल जाना और ऐसे बनना जैसे कि आपको उन्हें बाहर निकालने करने की ज़रूरत नहीं है।

आप जानते हैं कि कभी न कभी वे गिरेंगे। आप उस पल में देरी करने की जो भी कोशिश करें उससे कोई फर्क नहीं पड़ता, वह आयेगा । कोई भी अपने जीवन के हर दिन मजबूत नहीं रह सकता है।

जब ऐसा लगता है कि सब कुछ आपके खिलाफ हो गया है तब यह और ज्यादा चुनौतीपूर्ण होता है।

इसलिए आप रोएं। आपके अंदर जो भी गुस्सा, निराशा, और थकान है उसे बाहर निकालें। उसके बाद आप काफी बेहतर महसूस करेंगे। आखिरकार, हम सभी को उसे बाहर निकालने की ज़रूरत है।

लचीला होना ज़रूरी है। लेकिन दूसरी तरफ, आप जिस दबाव के संपर्क में आए हैं उसे बाहर निकालने का कोई तरीका होना चाहिए।

इस बात को स्वीकार करें और खुद को इतना परफेक्ट होने के लिए धक्का न दें।

रोने की ज़रूरत तनाव से आती है

बहुत ज्यादा सहन करने के बाद आंसू बहाने की ज़रूरत आपके अंदर बढ़ते हुए तनाव का नतीजा होती है।

चाहे आप इसे चाहते हों या नहीं, तनाव आपके जीवन की कई स्थितियों में मौजूद होता है। यह हमेशा तब प्रकट होता है जब आपको इसकी सबसे कम ज़रूरत होती है।

कभी-कभी यह आपको धीमा होने या अपने कुछ दायित्वों को छोड़ने के लिए प्रोत्साहित कर सकता है।

तनाव के तीन अलग चरण होते हैं। आपको उन्हें पहचानने का तरीका आना चाहिए। इससे आपको जैसे-जैसे स्थितियां खड़ी होती हैं उनसे ज्यादा अच्छी तरह से निपटने में मदद मिलेगी।

चेतावनी का चरण

यह तब होता है जब आपकी स्थिति से बचकर भागने की प्रतिक्रिया सक्रिय होती है। यह आपको बताती है कि आप खतरे का सामना करने जा रहे हैं। इस चरण में आप सोचते नहीं हैं, आप बस कार्य करते हैं।

प्रतिरोध का चरण

यदि पिछला चरण लंबे समय तक चलता रहता है तो आप दूसरे चरण में जाते हैं जहां आप जो आने वाला है, चाहे वह कुछ भी हो, उसका सामना करने की तैयारी करते हैं।

आप दृढ़ रहने के लिए ताकत जुटाते हैं लेकिन यह आपको थका देता है।

थकावट का चरण

जिस स्थिति की वजह से आपको तनाव हुआ है वह गायब नहीं हुई है लेकिन आपकी तैयारी का स्तर आपकी सारी ताकत को सोख लेता है।

इस समय आप रोने से एक कदम दूर होते हैं। उस मुक्ति की खोज कर रहे होते हैं जो आपको इतने लंबे समय तक प्रतिरोध करने के बाद अपने दुःख को बाहर निकालने देगी।

सीमाएं सेट करें

यदि आपने इस परिस्थिति का अनुभव नहीं किया है तो इसे फिर से होने से रोकने में सक्षम होना मुश्किल है।

इसके लिए, यह ज़रूरी है कि आप सीमाएं सेट करना सीखें, अपने बारे में ज्यादा सोचें और आपके पास जितना देने के लिए है उससे ज्यादा न दें।

  • कभी-कभी क्योंकि आप माता-पिता हैं, किसी अधिकार के पद पर हैं, या आपके ऊपर कोई निश्चित जिम्मेदारी है तो आप इतने सारे भारी पत्थरों का ढेर लगाते हैं कि आप डूब जाते हैं।
  • आप एक इंसान हैं, मशीन नहीं। आपकी सीमाएं हैं।
  • इसलिए हमने जिन चरणों का ऊपर जिक्र किया है उनके बारे में सतर्क होना ज़रूरी है। इससे आप जो चीजें कर रहें हैं और जिनका आपके ऊपर नेगेटिव असर हो रहा है उनको रोका जा सकता है।
  • समय पर ब्रेक लगाने से आपको यह जानने में मदद मिलेगी कि आप कितनी दूर जा सकते हैं।

लेकिन एक और इससे भी ज्यादा अहम बात है जिसे आपको करना सीखना है। आपको यह स्वीकार करना होगा कि आप हमेशा एक ऐसी दीवार नहीं बन सकते जिस पर दूसरे टेक लगाते हैं, या वह तख्ता जो सब चीजों का भार उठाता है।

खुद को कमजोर होने, रोने, गिरने की सहूलियत दें। केवल जब आप इसे स्वीकार करेंगे तब ही आप फिर से पुनर्निर्माण कर पाएंगे और उन उपायों को कर सकेंगे जो आपकी रक्षा करेंगे और आपको उन चरम सीमाओं पर जाने से रोकेंगे।

केवल आप जानते हैं कि आप कितनी दूर जा सकते हैं। खुद को पूरी तरह से खाली न करें। यदि आप कुछ करने में सक्षम नहीं हैं, तो कुछ भी बुरा नहीं होगा। आपकी रोने की ज़रूरत एक अच्छी बात है, और यह आपकी मदद करेगी।

  • Linares, R. (2015). Resiliencia o la adversidad como oportunidad. Madrid: Renacimiento.
  • Luthar, S. S. (2006). “Resilience in development: A synthesis of research across five decades”. En Cicchetti, D., and Cohen, D. J. Developmental psychopathology: Risk, disorder, and adaptation. Hoboken, NJ: John Wiley & Sons, pp. 739-795.
  • Santos, R. (2013). Levantarse y luchar. Barcelona: Mondadori.