वेरीकोस वेंस के इलाज के लिए आर्निका मरहम का उपयोग कैसे करें

फ़रवरी 12, 2019
वेरीकोस और स्पाइडर वेंस सामान्य समस्याएं हैं जो आम तौर पर गर्भावस्था या 50 साल की उम्र के बाद महिलाओं में होती हैं। इस शानदार होममेड नेचुरल साधन से इन फैली हुई नसों और केशिकाओं का इलाज करना सीखें।  

वेरीकोस वेंस और स्पाइडर वेंस ऐसी सौंदर्य समस्याएं हैं जो वयस्क महिलाओं की आबादी के एक बड़े हिस्से को प्रभावित करती हैं। वे आम तौर पर सर्कुलेटरी सिस्टम की एक विशिष्ट समस्या का नतीजा होती हैं। यह लगभग हमेशा ही निचले छोरों में नसों और केशिकाओं को चौड़ी कर देती है। आज की पोस्ट में हम आपको इस बदसूरती भरे दोष का इलाज करने के लिए आर्निका मरहम इस्तेमाल करने का तरीका दिखायेंगे।

सामान्य रूप से वेरीकोस और स्पाइडर वेंस का रंग लाल या नीला होता है। ये अक्सर त्वचा पर साफ-साफ दिखाई देती हैं क्योंकि इनकी वजह से सूजन होती है। ये ज्यादातर पिंडलियों और जांघों के अंदरूनी हिस्से में विकसित होती हैं। लेकिन ये शरीर के अन्य हिस्सों में भी दिखाई दे सकती हैं।

वेरीकोस वेंस के इलाज के लिए आर्निका मरहम

शरीर में होने वाले हार्मोन से जुड़े बदलावों के कारण अधिकांश महिलाएं गर्भावस्था के दौरान या 50 वर्ष की उम्र से इस स्थिति से पीड़ित होने लगती हैं।

इनके पीछे चाहे कोई भी कारण हो, जिन लोगों को वेरीकोस या स्पाइडर वेंस हैं वे उनकी उपस्थिति को कम करना चाहते हैं। सिर्फ इसलिए नहीं कि इनकी वजह से उनके पैर देखने में अच्छे नहीं लगते, बल्कि इसलिए भी कि इनके कारण सूजन और दर्द हो सकता है।

सौभाग्य से, विभिन्न प्रकार के ट्रीटमेंट और नेचुरल प्रोडक्ट हैं जिनका लगातार उपयोग करने से इन्हें कम करने में मदद मिल सकती है। आर्निका मरहम इन उपायों में से एक है। यह सूजन को रोकने (anti-inflammatory) और थक्कारोधी प्रभावों (anticoagulant effects) के लिए सैकड़ों वर्षों से मूल्यवान रहा है।

इसे भी आजमायें : वेरीकोस वेंस से छुटकारा पाने के लिए आजमाएं ये 3 प्राकृतिक इलाज

वेरीकोस वेंस और स्पाइडर वेंस को कम करने के लिए आर्निका मरहम

आर्निका मरहम एक ऑर्गनिक उत्पाद है जिसका उपयोग सैकड़ों वर्षों से रक्त संचार की समस्याओं के मामले में  एक नेचुरल ट्रीटमेंट के रूप में किया जाता है। यह एक एल्पाइन पौधा है जो सड़कों पर जंगली रूप से उगता है और यूरोपीय और लैटिन अमेरिकी देशों में बहुत आम है।

पूरे इतिहास में इसे अपने होम्योपैथिक गुणों के लिए महत्व दिया गया है। आर्निका मांसपेशियों की चोट, जोड़ों के दर्द और सूजन संबंधी विकारों के उपचार के लिए उपयुक्त है। वास्तव में, इसके कई अर्क और एक्टिव कम्पाउंड का दवाई उद्योग में औषधियों, मलहम और अन्य लोकल रूप से लगाये जाने वाले  उत्पादों को बनाने के लिए उपयोग किया जाता है।

आर्निका मरहम

वेरीकोस वेंस के इलाज के मामले में इसका मुख्य लाभ स्थानीय रूप से ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाने और शरीर के ऊपर वाले भाग में रक्त की वापसी में मदद करने की क्षमता है। नतीजतन यह रक्त के प्रवाह को प्रभावित किए बिना नस की साइज़ को कम करता है। इससे सूजन पर बहुत पॉजिटिव असर होता है।

इसके अलावा, इससे त्वचा की मालिश करने से पैरों का दर्द और तनाव घटता महसूस होता है। ऐसा खास तौर से कड़ी मशक्कत या दिन भर की मेहनत के बाद होता है। इसके अलावा, यह मोच, चोट और अन्य सतही घावों के लिए भी एक अच्छा ट्रीटमेंट है।

वेरीकोस और स्पाइडर वेंस के इलाज के लिए आर्निका मरहम बनाने की विधि

वेरीकोस और स्पाइडर वेंस के इलाज के लिए आर्निका मरहम बनाने की विधि

इस नेचुरल मरहम की सामग्रियों का संयोजन एक बहुत कारगर उत्पाद बनाता है जो वेरीकोस और स्पाइडर वेंस की उपस्थिति को कम करने में मददगार है। इसके सूजन रोकने, नसों को आराम देने वाले गुण प्रभावित क्षेत्र में रक्त के प्रवाह को बढ़ाते है जिससे यह वेरीकोस वेंस की मौजूदगी को कम कर सकता है।

इस मरहम को त्वचा पर मालिश करने से लसीका प्रणाली (lymphatic system) को मदद मिलती है। साथ ही, यह नुकसानदेह और तरल पदार्थों को बाहर निकलने की क्रिया को भी बढ़ावा देता है। हालांकि यह इन स्थितियों के लिए कोई चमत्कारिक इलाज नहीं है, नियमित रूप से आर्निका मरहम का उपयोग डाइट, एक्सरसाइज और अन्य आदतें जो काम करती हैं उसे सप्लीमेंट करने में मदद करता है।

मनचाहे नतीजे पाने के लिए, इन समस्याओं के उभरने के शुरुआती चरणों में इस मरहम को लगाना सबसे अच्छा होगा। क्योंकि ये समस्याएं जितनी ज्यादा बढ़ जाती हैं, उसके बाद उनसे पीछा छुडाना उतना ही मुश्किल हो जाता है।

इसे भी आजमायें : लाइफस्टाइल में ये बदलाव करके अपनी नसों की सेहत सुधारें

आइये इस शानदार नेचुरल मरहम को बनाने के तरीके पर एक नज़र डालें:

इन्ग्रेडिएंट

  • 2 बड़े चम्मच मधुमोम (beeswax)
  • 2 बड़े चम्मच शिया बटर (shea butter) के
  • 1 बड़ा चम्मच बादाम का तेल
  • 2 बड़े चम्मच आर्निका तेल
  • और, अंत में, 1 विटामिन E की कैप्सूल

तरीका

  • पहले मधुमोम को डबल बॉयलर में पिघलाएं।
  • जब यह पिघल जाए तो इसमें शिया बटर और बादाम का तेल मिलाएं।
  • उसके बाद, आंच को एकदम धीमा कर दें और एक सिलिकॉन के चम्मच के साथ हिलाएं जब तक सब चीजें अच्छे से मिश्रित न हो जायें।
  • मिश्रण तैयार हो जाए तो उसे आंच से हटाएं।
  • इसके बाद, तुरंत आर्निका तेल और विटामिन E की कैप्सूल डालें।
  • इसे कुछ मिनटों के लिए यूंही रहने दें और जमने से पहले एक एयरटाइट ग्लास जार में डालें।

इसे कैसे लगाएं

  • सबसे पहले, इसे ज़रूरत के अनुसार उचित मात्रा में लें और प्रभावितअंगों पर मालिश करके लगायें
  • फिर इसे अपनी त्वचा में अवशोषित होने दें
  • इसे रोज रात को लगायें
  • आपको कटे हुए हिस्सों या खुले घावों पर इसका उपयोग नहीं करना चाहिए

आप देख सकते हैं, वेरीकोस वेंस का मुकाबला करने के लिए यह मरहम तैयार करना आसान है। ऊपर दिए गए स्टेप्स अपनाएँ और इस मरहम का सबसे ज्यादा फायदा उठाने के लिए हर एक सिफारिश का अनुसरण करें। यदि ऐसा करेंगे तो कुछ ही समय में आप अच्छे नतीजे देखना और महसूस करना शुरू कर देंगे।

  • Ovejero, L., & Ibañez, P. (2012). Varices. Asociación Española de Enfermería Vascular y Heridas.
  • Moñux, G. (2009). Varices y trombosis venosa profunda. Libro de la salud cardiovascular.
  • Montenegro, J. (2017). Varices.