सरलता साधारण व्यक्ति को असाधारण बना देती है

17 सितम्बर, 2018
आपको यह कभी नहीं भूलना चाहिए कि कभी-कभी कम होना काफी होता है, आपको प्राधमिकता तय करने की ज़रूरत है। विचारों की सरलता का अर्थ यह नहीं है कि आप सरल हैं, बल्कि यह है कि आप विनम्र और ऑब्जेक्टिव हैं।

सरलता वह भाषा है जो हृदय से निकलती है, जिसमें झूठ की समझ और खोज नहीं होती। यह दूसरों को खुद अपने समान आदर करने की तथा आपके पास जो भी है उसे खुशी से स्वीकार करते हुए जीवन बिताने की इच्छा है।

यह सच है कि हम अपने दैनंदिन जीवन में सरलता और विनम्रता भरे आचरण देखने के आदी नहीं हैं। अधिकांश लोगों की महात्वाकांक्षाएँ ऊँची और उनके सपने बड़े होते हैं, और प्रथाएँ होती हैं जो उन पवित्र तथा आधारभूत क्रियाविधियों से दूर हैं जो विनम्रता को परिभाषित करती हैं।

फिर भी हममें से कई धीरे-धीरे एक बिंदु पर आ पहुँचते हैं, जहाँ अचानक जीवन के प्रति हमारा दृष्टिकोण बदल जाता है।

यही वह समय है जब आप अपने मूलतत्त्व, अपने उदग्म पर लौटने के लिए अपनी कुछ ‘परतें’ नोच फेंकने का निर्णय लेते हैं। आपने सरल-हृदयता का आचरण आरंभ कर दिया और आपको लगा कि आप इसके साथ ज्यादा खुश हैं।

आज हम आपको इस विषय पर विस्तार से चिंतन करने के लिये आमंत्रित करते हैं।

सरलता, उपलब्ध करने के लिए मूल्यवान लक्ष्य

आप एक अच्छे व्यक्ति हैं या बुरे, इससे सरलता का कुछ भी लेना-देना नहीं है। आप अच्छी तरह जानते हैं कि दूसरों के साथ आदर का व्यवहार करना, मर्यादा के साथ आचरण करना, तथा पारस्परिकता का व्यवहार करना कितना महत्वपूर्ण है।
परंतु सरलता एक जटिल आयाम है, जो मनोविज्ञान के कुछ पहलुओं पर निर्भर करता है, जो याद रखने लायक हैं।

सोच की सरलता

सोच की सरलता

सोच की सरलता महज साधारण विवेक-बुद्धि की कुशलता नहीं है। इसके विपरीत : यह चीजों को पूरी वस्तुनिष्ठता के साथ देखने की क्षमता है, जैसी वे सचमुच हैं।
ऐसे लोग हैं जो वास्तविकता तथा दूसरों के आचरणों को अपनी धारणा के अनुसार देखते हैं। दूसरी ओर, जिन लोगों की सोच में सरलता है उनके पास चीजों को, “वे जैसी हैं”, देखने की क्षमता है और उन चीजों को स्वीकारने की क्षमता है जिनसे वे सहमत नहीं भी हो सकते हैं।
वस्तुनिष्ठता और सरलता से चीजों को देखने में सक्षम होना आपको अधिक संतुलन और आत्मविश्वास से युक्त करता है। आपको हमेशा याद रखना चाहिए कि यह एक अच्छा गुण है।

इसे भी पढ़ें: अपनी नेगेटिव सोच को ऐसे खत्म करें, पायें स्वस्थ नज़रिया

किसी भी चीज से संलग्न नहीं होना एक उपहार है

सबसे पहले इसकी परिभाषा करना महत्वपूर्ण है कि संलग्नता से हमारा अर्थ क्या है। उदाहरण के लिए, बच्चे अपने माता-पिता से मिलने वाले प्रेम और सुरक्षा की भावनाओँ से संलग्न होते हैं।

  • किसी जोड़ी के प्रत्येक सदस्य को अपने संगी के साथ संलग्नता की आवश्यकता होती है, हालांकि हम यहाँ स्वस्थ संलग्नता की बात कर रहे हैं जहरीली और नियंत्रणकारी संलग्नता की नहीं।
  • वहीं, सरलता से रहने वाले व्यक्ति भौतिक वस्तुओं के साथ प्रयोजन का अनुभव नहीं करते, जो चीजें उनके पास हैं उनसे अधिक इकट्ठी करना नहीं चाहते, और किसी दूसरे व्यक्ति से इतना संलग्न होने से बचते हैं कि वे कहीँ अपनी स्वतंत्रता, अपना सत्व और अपनी पहचान न खो बैठें।
  • जो व्यक्ति सरलता से रहते हैं “वे वैसे ही हैं” और जानते हैं कि कैसे “इसे रहने दिया जाए”। वे अपने विचार दूसरों पर थोपना नहीं चाहते, राय देने पर काबू रखते हैं, पक्षपात नहीं करते और किसी भी चीज या व्यक्ति को नियंत्रित करने का प्रयास नहीं करते।

अपने साथ सामंजस्य में रहना और प्रतिवेश और दूसरे व्यक्तियों से आनंद लेना

आप जो हैं, उसे स्वीकार करने के लिए सबसे सीधा मार्ग है अपने-आप को जानना, उन भयों को समझिए जो आपको परिभाषित करते हैं, अपनी मजबूतियों को पहचानना और अपनी सीमाओँ को मान्यता देना है।

  • आप विश्वास करें या नहीं, यह एक ऐसी अवधारणा है जिसे साधारणतः हर व्यक्ति नहीं समझ पाता। स्वयं को स्वीकारना सकारात्मकता उत्पन्न करने और संबंधों का पोषण करने की ओर पहला चरण है।
  • जो व्यक्ति अपना यथार्थ रूप स्वीकार करता है वही दूसरों को स्वीकार कर सकता है, उनसे रिक्तताओँ की पूर्ति करने की अपेक्षा किए बिना, उनका आत्म-विश्वास बढ़ाता है, या भय से भरे आपके दिन को उज्ज्वल करता है।
  • जो व्यक्ति विनम्र होते हैं वे किसी से भी किसी चीज की अपेक्षा नहीं करते और स्वयं से भी किसी चीज की अपेक्षा नहीं करते। इसी तरह वे अपने गिर्द के लोगों को अपना सबसे अच्छा दे सकते हैं और इस तरह उन पारंपरिक निराशाओँ से बचते हैं जिन्हें हम में से कई अनुभव करने के लिए प्रवृत्त होते हैं।
सरलता का रास्ता

सरलता का मार्ग

आरंभ में हमने कहा था कि अधिकांश व्यक्ति अपने जीवन के किसी बिंदु पर सरलता की ओर शुरुआती कदम लेंगे।

  • यह होता है क्योंकि आप हमारे उस संसार से अभिभूत हो जाते हैं जिसका चरित्र-चित्रण प्रतियोगिता और तेज रफ्तार द्वारा किया जाता है जो आपको सबसे महत्वपूर्ण चीजों से दूर करता है : आपका कल्याण, शांतचित्तता, स्थिरता, मित्रता, परिवार और अवश्य ही – अपने आप से।
  • “कम काफी है” जैसी किसी अनिवार्य चीज को याद करना आपको वह प्राथमिकता सजाने में सहायता करता है कि क्या आपको सचमुच खुशी देगी।
  • सरलता के कार्य वे हैं जो भावनाओँ से ईमानदार हैं और हृदय से पवित्र हैं – किसी प्रिय व्यक्ति का स्पर्श, आपके बच्चों की हंसी, मित्रों से बातचीत, समुद्रतट पर टहलना, बदले में बिना कुछ मांगे किसी का उपकार करना।

इसमे कोई भी संदेह नहीं कि आपके गिर्द ऐसी व्यक्ति हैं जिनकी आत्माएँ सरल और अनोखी हैं जो आपके जीवन को संपन्न बनाते हैं। उन्हें खो मत दीजिए : वे प्रकाश हैं जो इस जटिल आधुनिक संसार के बीच चमकते हैं, और आपके लिए प्रेरणा के उदाहरण का काम करते हैं।
वे इस धनी भावनात्मक संसार में विनम्रता के आकाशदीप हैं जो आपके पथ को आलोकित करने में सहायता करते हैं। उनके जैसा बनने का प्रयास करना महत्व रखता है।