5 कारण जो हर वक्त आपके पेट में गैस बनती रहती है

25 जनवरी, 2019
क्या आपके पेट में हमेशा गैस बनती रहती है? यदि आपको बहुत ज्यादा गैस बनती है और खानपान में बदलाव करके भी हालात में कोई अंतर नहीं दिख रहा है तो तो चाय आजमायें और अपने स्पेशल केस के बारे में जानने के लिए किसी एक्सपर्ट से मिलें।

सबसे तकलीफ़देह और असुविधाजनक पाचन समस्याओं में से एक है पेट में गैस (Abdominal gas) होना।

यह बहुत से कारणों से हो सकता है। हालाँकि, आपकी लाइफस्टाइल का सबसे महत्वपूर्ण पहलू जो इसे प्रभावित करता है वह है आपकी डाइट, आपका आहार

आमतौर पर पेट में गैस होने पर आपको जो असुविधा महसूस होती है, वह व्यक्तिगत या सामाजिक ज्यादा होती है। आखिरकार, इसे किसी तरह से बाहर तो आना ही है, चाहे वह डकार से हो या पेट की वायु के रूप में।

हम सभी जानते हैं, परिवार के साथ इकट्ठे या किसी और के घर गेट-टुगेदर में बैठे हों, और अचानक पेट में गैस उठती है, और हमें कितना खराब महसूस होता है।

अगर ऐसा आपके साथ हो रहा है, तो आप पेपरमिंट या स्पीयरमिंट की कुछ विशिष्ट चाय पी सकते हैं। सबसे अहम बात वैसे भोजन से परहेज करना है जो समस्या पैदा कर रहे हैं

इनके बारे में इस पोस्ट में विस्तार से जानें।

1. पहचानें कि कौन सा खाद्य पदार्थ समस्या का कारण बन रहा है

पेट में गैस का कारण : खाद्य

सबसे पहले आपको यह तय करने की ज़रूरत है कि कौन से खाद्य पदार्थ समस्या पैदा कर रहे हैं जिससे भविष्य में उनसे बचा जा सके

आंतों की यह समस्या सभी के साथ एक ही तरह से नहीं होती है। यह हमेशा ही कुछ खाद्य पदार्थों के लिए हर इंसान की सहनशीलता पर निर्भर करती है।

इसलिए पेट में गैस बनने से पहले आप क्या खा रहे हैं, इसकी जानकारी रखना महत्वपूर्ण है

यह भी याद रखें कि हर कोई भोजन को अपने शरीर में एक ही तरह से नहीं पचाता है। इसलिए आपका दोस्त दाने या सीड्स नहीं खा सकता इसका अर्थ यह नहीं है कि आपको भी नहीं खाना है।

पेट में गैस बनने के कुछ सबसे संभावित कारण हैं:

  • कॉफ़ी
  • बीन्स (चना, मसूर दाल, हरी बीन्स)
  • मिर्च-मसालेदार भोजन
  • वसायुक्त गरिष्ठ खाना
  • सोडा या अल्कोहलिक ड्रिंक
  • लैक्टोज युक्त खाद्य पदार्थ, दही सहित
  • करी जैसे मसाले
  • मेवे और फल (सेब, केले, आड़ू, अंगूर)

इसे भी जानें : 10 लक्षण जो बताते है, आप ग्लूटेन इंटॉलरेंट हैं

मनोवैज्ञानिक समस्याएं

जिन लोगों को चिंता (एंग्जायटी), घबराहट (नर्वसनेस) या स्ट्रेस (तनाव) के अटैक आते हैं, या जो ऐसी स्थितियों में खूब खाते हैं, तो उन्हें ज्यादा पेट फूलने या डकार की शिकायत हो सकती है।

इस वजह से, हम न केवल यह ध्यान रखने की सलाह देते हैं कि आप क्या खाते हैं, बल्कि इस पर भी आप कैसे खाते हैं। खाने में पूरा समय लें।

खाने का शेड्यूल बनायें और बिना किसी हड़बड़ी के आराम से भोजन करें

3. दवाइयाँ

पेट में गैस का कारण : दवाइयां

कुछ दवाइयाँ पाचन एंजाइम को रोकती हैं। इंनके सेवन के दौरान ज्यादा संभावना होती है कि आपको गैस का अनुभव होगा।

पता लगाएँ कि क्या आपके ट्रीटमेंट की शुरुआत और पेट में गैस बनने की शुरुआत में कोई समानता है।

यदि हां, तो अपने डॉक्टर से बात करें और पूछें कि क्या दोनों चीजें एक-दूसरे से जुड़ी हो सकती हैं। अगर हाँ, तो वह आपको बताएँगे कि क्या दवा बदलना अच्छा रहेगा या क्या आपके पेट को सेफ रखने के लिए कोई ट्रीटमेंट उपलब्ध है।

हालांकि, अपने डॉक्टर से बात किए बिना दवा लेना बंद नहीं करना चाहिए भले ही आपको इसके और आपके पेट में गैस के बीच एक लिंक देखें।

4. आंतों की समस्याएं (Intestinal problems)

हालांकि ज्यादा संभावना यही है कि आपके पेट में बनने वाली गैस आपकी डाइट से जुड़ी हैं, आपको यह भी ध्यान देना चाहिए कि यह कितनी जल्दी-जल्दी हो रही है। कभी-कभी गैस एक चेतावनी होती है कि आपके शरीर में कुछ सही नहीं है।

रात में अत्यधिक गैस होने के मुख्य लक्षणों के साथ इर्रिटेबल बॉवेल सिंड्रोम (Irritable bowel syndrome) भी एक कारण होती है।

इस सिंड्रोम का कारण कई खाद्य पदार्थों के लिए इनटॉलेरेंस का होना है। IBS में आपको बहुत अधिक पेट दर्द और नॉजिया के गैस बनेगी

इसे भी आजमायें : 5 नेचुरल टी: पेट की गैस के अचूक इलाज़

5. आँतों की बैक्टीरिया (Intestinal bacteria)

पेट में गैस का कारण : आँतों की बैक्टीरिया

आपके शरीर में घुसने के बाद भोजन एक आश्चर्यजनक यात्रा से गुजरता है।

जब यह छोटी आंत (small intestines) से बड़ी आंत (large intestines) में जाता है, तो भोजन आंशिक रूप पच चुका होता है, जो आंतों की बैक्टीरिया को सक्रिय कर देता है

जब बैक्टीरिया काम करना शुरू कर देते हिं, तो गैस जमा हो सकती है और बाहर निकलने का रास्ता ढूंढ सकती है।

अगर मुझे पेट में गैस हो रही तो मैं क्या करूं?

गैस के कारण समस्याग्रस्त पेट से लड़ने के लिए आप कुछ आम नुस्खों का इस्तेमाल कर सकते हैं

इनमें सबसे आम और प्रभावी नुस्ख़े कुछ विशिष्ट चाय हैं जो इन सामग्रियों से बनी हों:

  • कैमोमाइल (Chamomile)
  • मोटी सौंफ़ (Anise)
  • पुदीना (Peppermint)
  • स्पीयरमिंट (Spearmint)
  • अदरक
  • सौंफ (Fennel)

जब तक आपको अपनी समस्या का सही नुस्खा न मिल जाए, इनमें से हर एक को आजमायें। ये सभी अपने तरीके से सहायक हो सकते हैं और समस्याओं को दूर कर सकते हैं।

आप एक कप पानी में एक बड़े चम्मच भरा एप्पल साइडर विनेगर को भी आजमा सकते हैं।

अगर मुझे बहुत ज्यादा गैस हो रहे है, तो मैं क्या करूं?

अगर आपको हर समय बहुत ज्यादा गैस बन रही है और यह हाथ से निकलता जा रहा है और कोई घरेलू उपाय काम नहीं कर पा रहा है, तो हम एक गैस्ट्रोएन्टेरोलॉजिस्ट से मिलने की सलाह देंगे

यह वह स्पेशलिस्ट है जिससे आपको सही डायग्नोसिस के लिए मिलना चाहिए।

जैसा कि आप देख सकते हैं, कई अलग-अलग कारण हैं जिनसे आपको गैस बन सकती है। इसलिए यह देखना सबसे अच्छा रहेगा कि आपके विशेष मामले का कारण क्या है।

फीचर्ड इमेज : wikiHow.com के सौजन्य से

  • Roudebush, P. (2001). Flatulence: causes and management options. Comp Contin Edu Pract Vet.
  • Kurbel, S., Kurbel, B., & Včev, A. (2006). Intestinal gases and flatulence: Possible causes of occurrence. Medical Hypotheses. https://doi.org/10.1016/j.mehy.2006.01.057
  • Sahakian, A. B., Jee, S. R., & Pimentel, M. (2010). Methane and the gastrointestinal tract. Digestive Diseases and Sciences. https://doi.org/10.1007/s10620-009-1012-0
  • Hasler WL. Gas and Bloating. Gastroenterol Hepatol (N Y). 2006;2(9):654–662.
  • Philpott HL, Nandurkar S, Lubel J, Gibson PR. Drug-induced gastrointestinal disorders. Frontline Gastroenterol. 2014;5(1):49–57. doi:10.1136/flgastro-2013-100316
  • Lacy BE, Gabbard SL, Crowell MD. Pathophysiology, evaluation, and treatment of bloating: hope, hype, or hot air?. Gastroenterol Hepatol (N Y). 2011;7(11):729–739.
  • Hasler, W. L. (2007). Irritable bowel syndrome and bloating. Best Practice and Research in Clinical Gastroenterology21(4), 689–707. https://doi.org/10.1016/j.bpg.2007.03.007