त्वचा को गोरा बनाने के लिए इस प्राकृतिक घरेलू क्रीम का उपयोग करें

मई 18, 2018
यह क्रीम त्वचा को शीघ्र प्राकृतिक रूप से गोरा बनाने के लिए उत्तम है। त्वचा को गोरा बनाने की इस क्रीम की मुख्य घटक दही है। बेशक, इस क्रीम को स्वयं बनायें और  त्वचा को गोरा बनाने के लिए इसका इस्तेमाल करें|

हमारी त्वचा रोज तरोताजा होती रहती है| लेकिन कभी-कभी ऐसा नहीं हो पाता। त्वचा को गोरा बनाने की जरूरत पड़ने लगती है। क्योंकि सभी महिलाएं जानती हैं, धूप और वातावरण के जहरीले पदार्थों जैसे कारकों का उनकी त्वचा पर बुरा असर होता है।

इससे त्वचा में कोलेजेन और लचीलापन नहीं रहता है। इससे मृत कोशिकाएं इकट्ठी होती जाती हैं। इन सब कारणों से त्वचा देखने में खराब लगती है| उस पर असमय बुढ़ापे के चिन्ह दिखाई देने लगते हैं।

इस समस्या के निदान के लिए अनेक कॉस्मेटिक उत्पाद बने हैं। नुकसान को कम करने और त्वचा को दोबारा स्वस्थ बनाने के लिए कई व्यावसायिक तकनीकें भी हैंl लेकिन इनके लिए काफी पैसे खर्च करने पड़ते हैं। सभी लोग इनका फायदा नहीं उठा सकते। अच्छी बात यह है कि इसके लिए कई सस्ते विकल्प उपलब्ध हैं। इनमें नुकसानदेह केमिकल या प्रक्रियाओं का उपयोग नहीं होता है।

इस लेख में हम आपको ऐसी ही एक घरेलू क्रीम के बारे में बतायेंगे। इसमें दही के प्राकृतिक गुणों का उपयोग होता है। आप त्वचा को गोरा बनाने के लिए इसका इस्तेमाल कर सकती हैं। इससे त्वचा पर रेखाएं और झुर्रियां भी कम पड़ती हैं। क्या आप इसे आजमाने के लिए तैयार हैं?

त्वचा को गोरा बनाने के लिए दही और बादाम से बनी प्राकृतिक क्रीम

त्वचा को गोरा बनाने के लिए
इस क्रीम में उपयोग किये गए तत्व मृत कोशिकाओं को हटाने में असरदार हैं। प्राकृतिक दही एक उम्दा हेल्दी फ़ूड है। इसमें लैक्टिक एसिड होता है। यह त्वचा के नेचुरल पीएच को सही रखता है। इससे त्वचा साफ रहती है| उस पर दाग-धब्बे नहीं पड़ते हैं।

इसके अलावा यह एक उम्दा मॉइस्चराइजर है| और अपनी प्राकृतिक नमी बनाये रखने में त्वचा की मदद करता है। यह तेल उत्पन्न करने वाली त्वचा की अपनी नेचुरल प्रक्रिया में बाधा नहीं डालता।

दही में मौजूद जीवाणु त्वचा के लिए स्वास्थ्यवर्धक होते हैं। ये दानों से बचाते हैं, रेखायें और झुर्रियां जल्दी नहीं पड़ने देते।

त्वचा को गोरा बनाने में सहायक बादाम का आटा
इसके अतिरिक्त, बादाम के आटे में आवश्यक फैटी एसिड और एंटीऑक्सीडेंट होते हैं| ये त्वचा के लिए बेहद फायदेमंद हैं।

इसमें विटामिन इ अधिक मात्रा में होता है। यह त्वचा को फ्री रेडिकल्स से होने वाले ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस से सुरक्षित रखता है| सेल्स और टिश्यू की क्षति को भी रोकता है। इसमें मौजूद प्राकृतिक तेल खुश्क त्वचा को स्वस्थ बनाते हैं। यह एक्जिमा और सोरायसिस जैसी समस्याओं से बचाता है।

हमलोग इस क्रीम में थोड़ा शहद और नींबू का रस भी डालेंगे। ये क्रीम में मौजूद त्वचा को गोरा बनाने की क्षमता को बढ़ाते हैं।

त्वचा को गोरा बनाने वाली प्राकृतिक क्रीम कैसे बनायें?

त्वचा को गोरा बनाने की चीजें
त्वचा को गोरा बनाने वाली इस क्रीम में सिर्फ प्राकृतिक चीजों का इस्तेमाल होता है। इसलिए इसको आसानी से और जल्दी बना सकते हैं।

इसको बनाने की सामग्री भी आसानी से मिल जाती है। आपको बिलकुल ऑर्गनिक चीजें ही लेनी चाहिए। सस्ती चीजें भी मिल सकती हैं, लेकिन उनकी गुणवत्ता में कमी हो सकती है।

सामग्री

  • 1/2 कप प्राकृतिक दही
  • 4 बादाम
  • 2 बड़ा चम्मच नींबू का रस
  • 1 बड़ा चम्मच शहद

बनाने की विधि

  • बादाम को मिक्सर या प्रोसेसर में डालें और पाउडर बनायें। आप चाहें तो इसकी जगह बादाम का आटा खरीद सकते हैं।
  • आटे को एक कटोरे में रखें और उसमें दही, रस और शहद मिलाएं।
  • अच्छी तरह से मिलाएं और एक मिनट के लिए इसे छोड़ दें।

इस्तेमाल करने का तरीका

  • रोज रात को सोने से पहले सारा मेकअप हटायें और अपनी त्वचा को अच्छी तरह साफ कर लें।
  • इस क्रीम को अच्छी तरह चेहरे पर लगायें और 20 मिनट के लिए उसे लगा रहने दें।
  • गुनगुने पानी से धोएं और एक कपड़े से थपथपाकर पोंछें।

सलाह:

बेहतरीन परिणाम के लिए इस क्रीम को रोज इस्तेमाल करें। इसे अपनी सुन्दरता बनाये रखने के रोजाना के प्रयासों में शामिल करें। सिर्फ कभी-कभार उपयोग करने से इसका असर दिखाई नहीं देगा।

कोशिश करके इसका उपयोग दिन में न करें। धूप में नींबू के रस का नेगेटिव असर हो सकता है। यह रात के वक्त शरीर में होने वाली प्राकृतिक प्रक्रियाओं में सहायता करता है। इसलिए इसे रात में इस्तेमाल करना चाहिए।

इसको पहली बार लगाने पर आपकी त्वचा ताज़ी और साफ हो जाएगी। आपको बहुत अच्छा लगेगा। लेकिन आपकी त्वचा को गोरा बनाने में इसे कुछ हफ्ते लग सकते हैं। 

बेहतर परिणाम के लिए चाहें तो इसे गले और छाती पर भी लगा सकती हैं। लेकिन ज़रा सावधानी से। ये अंग ज्यादा सेंसेटिव होते हैं।

इस क्रीम का असर बढ़ाने के लिए रोजाना एक अच्छा सनस्क्रीन इस्तेमाल करना बेहतर होगा।

 

 

  1. Upadhyay, R., Dwivedi, P., & Ahmad, S. (2010). Screening of antibacterial activity of six plant essential oils against pathogenic bacterial strains. Asian Journal of Medical Sciences, 2(3), 152-158
  2. Kodad, O. (2008). Variability of oil content and of major fatty acid composition in almond (Prunus amygdalus Batsch) and its relationship with kernel quality. [Abstract]. Journal of Agricultural and Food Chemistry, 56, 4096-4101
  3. Sumit, K., Vivek, S., Sujata, S., & Ashish, B. (2012). Herbal cosmetics: Used for skin and hair. Inventi Rapid: Cosmeceuticals, 4, 1-7
  4. Sultana, Y., Kohli, K., Athar, M., Khar, R., & Aqil, M. (2007). Effect of pre-treatment of almond oil on ultraviolet B-induced cutaneous photoaging in mice. [Abstract]. Journal of Cosmetic Dermatology, 6(1), 14-19