डेली वॉकिंग में छिपा है आपकी सेहत का वरदान

जुलाई 27, 2018
रोज़ाना 30 मिनट पैदल चलने से आपके तन और मन, दोनों ही में कई बदलाव आ जाएंगे। इस आदत को अपनी डेली रूटीन का हिस्सा बना लेने पर गंभीरता से सोचें।

डेली वॉकिंग में छिपा है आपकी सेहत के लिए बड़ा वरदान। निष्क्रिय जीवन शैली से आपकी सेहत को नुकसान पहुँच सकता है और आप सुस्ती के कारण पैदा होने वाली बीमारियों की चपेट में आ सकते हैं। निष्क्रियता आपकी ज़िन्दगी का रंग फीका कर सकती है।

अपनी जीवन शैली में बदलाव लाने के लिए यह आपके लिए किसी खतरे की घंटी जैसा हो सकता है। बस थोड़ी-सी कोशिश से आप अपनी सेहत और मूड में बड़े बदलाव देख सकेंगे। ज्यादा एनेर्जेटिक महसूस करने के लिए आपको बस थोड़ा हिलने-डुलने की ज़रूरत ही तो है!

लेकिन आपको इस बात का ध्यान रखना होगा कि एक्सरसाइज का पूरा फायदा उठाने के लिए आपको इसे लगातार करते रहना होगा। बस एक छोटी-सी कोशिश से आप बगैर किसी परेशानी के स्वस्थ आदतों को अपना सकेंगे

इसे भी पढ़ें:  वज़न घटाने के लिए कितना पैदल चलें?

डेली वॉकिंग आपके लिए क्यों अच्छी है?

डेली वॉकिंग में छिपा है आपकी सेहत का वरदान: कम वज़न

रोज़ कम से कम 30 मिनट सैर करना सेहतमंद आदतें अपनाने का एक तरीका होता है। इसे शुरू करने से पहले आपको हमेशा वार्म-अप भी कर लेना चाहिए। इससे आप संभावित चोटों से बच सकेंगे। इसके अलावा भरपूर पानी पीना न भूलें!

एक्सरसाइज का फैसला लेने पर आपको अपने शरीर की तरफ थोड़ा ध्यान ज़रूर देना चाहिए। अगर आपको एक्सरसाइज ख़त्म करने से पहले बहुत ज़्यादा थकान महसूस होती है तो इसमें अति न करके थोड़ा ब्रेक ले लें। अपने शरीर को ज़्यादा कष्ट से बचाने के लिए आप कुछ-कुछ मिनटों के अंतराल पर ब्रेक ले सकते हैं। ध्यान रखें कि इस प्रक्रिया को आपको लगातार दोहराते रहना होगा।

अगर आपको लगता है कि आप अगले लेवल पर जाने को तैयार हैं तो फैसला करने से पहले किसी विशेषज्ञ की सलाह ज़रूर ले लें। अपनी उम्र, वज़न और शारीरिक अवस्था के अनुसार अपनी सीमा को निर्धारित कर लेना बहुत ज़रूरी होता है।

ऐसा करने से आप चोट लगने के जोखिम के बगैर एक्सरसाइज़ कर पाएंगे। अगर आप किसी रोग से ग्रस्त हैं तो व्यायाम शुरू करने से पहले अपने डॉक्टर को कंसल्ट करना बहुत आवश्यक होता है। आपका डॉक्टर आपको बता देगा कि आपके लिए सर्वश्रेष्ठ एक्सरसाइज कौन सी होगी।

डेली वॉकिंग के सबसे बड़े फायदे

डेली वॉकिंग में छिपा है आपकी सेहत का वरदान: फायदे

  • रक्त संचार पर इसका सकारात्मक असर होता है इसलिए यह एक स्वस्थ आदत होती है। इससे प्रत्येक कोशिका को पोषण और ऑक्सीजन मिलना ज़्यादा आसान हो जाता है।
  • आप हाथ-पैर की बीमारियों से बच सकेंगे।
  • खून में शुगर लेवल कम होने से आपको मधुमेह होने की संभावना भी कम हो जाएगी।
  • दूसरी तरफ कोलेस्ट्रॉल स्तर को कम करने, कैलोरी जलाकर सबसे स्वस्थ तरीके से आप अपना वज़न कम कर पाने में सफल होंगे। ध्यान दें कि आप फैट तो कम करेंगे ही, अपनी मांसपेशियों को मज़बूत भी बना लेंगे।
  • सैर पर जाना शुरू करने के कुछ दिन बाद से अपने दैनिक कार्यों के दौरान आप अधिक ऊर्जावान महसूस करने लगेंगे। दूसरे शब्दों में कहें तो अपने शरीर में आते सकारात्मक बदलावों को शीशे में देखकर आपके आत्म-विश्वास में निखार आएगा।
  • आपके जॉइंट्स और हड्डियाँ पहले से ज़्यादा स्वस्थ होंगी। आपकी मांसपेशियां फटने, हड्डियों में फ्रैक्चर या कॉन्ट्रैक्चर आने, या इनसे संबंधित समस्याएं आने की संभावना कम हो जाएगी। आप ज़्यादा चुस्त-दुरुस्त भी रहेंगे
  • आपका पाचन-तंत्र भी बेहतर हो जाएगा क्योंकि रोज़ाना सैर पर जाने से कब्ज़ से बचा जा सकता है।
  • आपके दिल और श्वसन प्रणाली में नाटकीय सुधार आ जाएंगे।

डेली वॉकिंग से स्ट्रेस भी कम हो जाएगा। आपको सोने में भी कोई परेशानी नहीं आएगी क्योंकि ज़्यादा ऊर्जा खर्च कर देने के कारण आपको जल्दी नींद आ जाया करेगी। वॉक करने से आपके शरीर से ऐसे हॉर्मोन निकलते हैं जो आपको ज़्यादा संतुष्ट और खुश रखने में मददगार होते हैं। इसीलिए आपके तनावग्रस्त होने की संभावना कम ही रहेगी।

इसे भी पढ़ें:  9 आसान नेचुरल टिप्स फ़िर से जवाँ दिखने के लिए

डेली वॉकिंग शुरू करें आज ही

डेली वॉकिंग में छिपा है आपकी सेहत का वरदान: रोज़ाना सैर पर जाएं

इन बातों का पूरा फायदा उठाने के लिए बस इस बात का ध्यान रखें कि आपने उचित कपड़े पहने हुए हैं। किसी किस्म की चोट से बचने के लिए एक्सरसाइज पूरी करने के बाद स्ट्रेचिंग करना भी न भूलें। रोज़ाना वॉकिंग पर जाने के साथ-साथ संतुलित आहार का सेवन करने और ढेर सारा पानी पीने से अच्छा कुछ भी नहीं।

हिलना-डुलना आपके शरीर की प्रकृति का हिस्सा होता है। लंबे समय तक निष्क्रिय बैठे रहने से आपको बुढ़ापा जल्दी आ जाता है। रोज़ाना सैर पर जाने से शुरू-शुरू में आपको थोड़ी परेशानी ज़रूर हो सकती है, लेकिन आप बस अपने शरीर को पहुँचने वाले सभी फायदों को ध्यान में रखें।

  • Cenarruzabeitia, J. J. V., Hernández, J. A. M., & Martínez-González, M. Á. (2003). Beneficios de la actividad física y riesgos del sedentarismo. Medicina clínica121(17), 665-672.
  • Cristi-Montero, C. (2013). ¿ Es suficiente recomendar a los pacientes salir a caminar?: importancia de la cadencia. Nutrición Hospitalaria28(4), 1018-1021.
  • Rodríguez Hernández, M. (2011). Caminar 10000 pasos al día para mantener una buena salud y calidad de vida. InterSedes: Revista de las Sedes Regionales12(24).