मूत्र असंयमिता का इलाज करने वाली पांच आदतें

यूरिनरी इन्कंटिनेंस यानी मूत्र असंयमिता का इलाज करने में डाइट में बदलाव और कुछ एक्सरसाइज मदद कर सकती हैं। हालांकि दूसरे इलाजों का सहारा लेना ज़रूरी  है, पर मूत्र असंयम के इलाज के लिए ये आसान आदतें सहायक हो सकती हैं। यहाँ उनकी जानकारी लें!
मूत्र असंयमिता का इलाज करने वाली पांच आदतें

आखिरी अपडेट: 01 सितम्बर, 2019

यूरिनरी इन्कंटिनेंस (Urinary Incontinence) यानी मूत्र असंयमिता की विशेषता ब्लैडर (मूत्राशय) पर कंट्रोल न कर पाना है। यह हल्का हो सकता है, जिसमें मामूली यूरिन लीकेज (urine leakage) होता है। गंभीर यूरिनरी इन्कंटिनेंस में मूत्राशय पूरी तरह से खुद को खाली कर देता है। क्या आप जानते हैं, कौन सी आदतें मूत्र असंयमिता का इलाज करने में मदद कर सकती हैं?

इसका इलाज इसके पीछे छिपे कारणों के आधार पर अलग-अलग हो सकता है। पर कुछ बुनियादी आदतें इसे नियंत्रित करने में मदद कर सकती हैं। इस आर्टिकल में हम पांच बातें शेयर करेंगे जिनपर आपको ध्यान देना चाहिए।

मूत्र असंयमिता (Urinary Incontinence) का इलाज करने के लिए पांच आदतें

अपने ब्लैडर यानी मूत्राशय पर नियंत्रण खोने से सेहत से जुड़ी कई समस्याएं हो सकती हैं। मूत्र असंयम अपने आप में कोई बीमारी नहीं बल्कि एक लक्षण है। यूरिन लीकेज अचानक होता है, और खाँसने, छींकने या बहुत ज्यादा स्ट्रेस लेने पर यह हो सकता है।

कुछ रोगियों में यह गंभीर रूप ले लेता है जो पेशाब करने का जबरदस्त आग्रह महसूस करने के बाद उन्हें सही वक्त पर टॉयलेट तक पहुंचने में असमर्थ बनाता है। इसकी गंभीरता के बावजूद मूत्र असंयम के इलाज के लिए कुछ आसान आदतों को आजमाने की कोशिश कर सकते हैं।

नीचे उनके बारे में जानें!

1. डाइट में बदलाव करें

मूत्र असंयमिता (Urinary Incontinence) का इलाज

कुछ मसालेदार या शुगर वाले खाद्य पदार्थों का सेवन करने से पेशाब की मात्रा बढ़ जाती है।

मूत्र असंयम के इलाज के लिए एक अहम बात आहार में सुधार करना है। कई लोग इस महत्वपूर्ण पहलू को अनदेखा करते हैं। कुछ खाद्य पदार्थ इस स्थिति में नेगेटिव असर डाल सकते हैं।

इसलिए आपको मसालेदार, एसिडिक और शुगर वाला खाना बंद कर देना चाहिए या कम खाना चाहिए। कॉफी और कैफीन के अन्य स्रोतों से बचना भी बुद्धिमानी का काम है

2. यूरिनरी इन्कंटिनेंस का इलाज करने के लिए अपने मूत्राशय को दोबारा ट्रेन करें

मूत्राशय की दोबारा ट्रेनिंग में पेशाब में भूमिका निभाने वाली मांसपेशियों को मजबूत करने की आसान टेकनीक शामिल होती है। इसका लक्ष्य मूत्राशय खाली करने के लिए निश्चित समय निर्धारित करने में मदद करना है। इस प्रकार पहली तकनीक बाथरूम जाने का वक्त तय कर लेना है।

आदर्श रूप से जब तक आपके शरीर को ब्लैडर खाली करने की आदत नहीं हो जाती है, तब तक जितना संभव हो उतना पेशाब करने का आग्रह करना चाहिए। बेशक ऐसा धीरे-धीरे करना महत्वपूर्ण है। हर घंटे, फिर हर दो घंटे पर जाना शुरू करें, जब तक कि आप बाथरूम गए बिना चार घंटे नहीं बिता सकें।

एक और आसान तकनीक मूत्र को रोक रखने की क्षमता को ताकतवर बनाना है। इसमें पेशाब करने की तत्काल ज़रूरत महसूस करते ही तुरंत बाथरूम न जाना है। इसे पांच मिनट देरी से शुरू करें, फिर 10 मिनट और इसी तरह जब तक आप अपने ब्लैडर पर ज्यादा से ज्यादा कंट्रोल न महसूस करें।

3. मूत्र असंयमिता का इलाज करने के लिए पेल्विक फ्लोर एक्सरसाइज

मूत्र असंयमिता का इलाज करने के लिए पेल्विक फ्लोर एक्सरसाइज

कीगेल एक्सरसाइज (Kegel exercises) मूत्र असंयमिता पर अपने प्रभाव के लिए जानी जाती हैं क्योंकि वे पेल्विक फ्लोर को मजबूत करती हैं।

मूत्र असंयमिता के इलाज के लिए पेल्विक फ्लोर एक्सरसाइज सबसे अच्छे हैं। अगर कोई हल्की एक्सरसाइज मूत्र असंयमिता से पीड़ित हो तो आमतौर पर पहला इलाज ऐसी एक्सरसाइज  ही होती हैं। सबसे अच्छी ज्ञात एक्सरसाइज कीगेल एक्सरसाइज है जिसे आप हर दिन घर पर कर सकते हैं

क्या करें

  • 5 से 10 सेकंड के लिए अपनी पैल्विक फ्लोर मसल्स को टाइट करें और फिर रिलैक्स करें
  • फिर उतनी ही देर आराम करें। पैल्विक फ्लोर मसल्स वे मसल्स हैं जिनका इस्तेमाल आप मूत्र प्रवाह के बीच इसे रोकने के लिए करते हैं। यदि आप नहीं जानते कि इसे कैसे करना है, तो जब आप बाथरूम में हों तो यूरिन फ्लो को रोकने का प्रयास करें
  • दूसरी एक्सरसाइज जैसे कि ब्रिज या एलिवेटेड पेल्विक फ्लोर आपकी मदद कर सकती हैं। हालाँकि आपको सही मांसपेशियों के कॉन्ट्रैक्शन पर ध्यान देना चाहिए।

4. तंबाकू से बचें

तम्बाकू सेवन मूत्राशय के न्यूरल फंशन में बाधा डालता है। इसमें टॉक्सिक तत्व होने के कारण स्मोकिंग से पेल्विक फ्लोर की मांसपेशियां कमजोर हो सकती हैं। विशेष रूप से निकोटीन ब्लैडर में अत्यधिक कॉन्ट्रैक्शन पैदा कर सकता है, जिसके परिणामस्वरूप अचानक पेशाब करने की ज़रूरत बढ़ जाती है।

दूसरी ओर, आपको यह भी याद रखना चाहिए कि स्मोकिंग से क्रॉनिक खांसी हो सकती है, जो मूत्र के रिसाव को भी प्रभावित करती है। खांसते समय पेल्विक फ्लोर पर पेट का दबाव बढ़ जाता है, जिससे मूत्राशय और युरेथ्रा डूब जाते हैं।

5. मूत्र असंयम का इलाज करने के लिए शराब से बचें

शराब का ज्यादा सेवन मूत्राशय, यूरिनरी ट्रैक्ट और किडनी वाल के कमजोर होने और जलन पैदा होने से जुड़ा है। इसलिए यदि आप अपने मूत्र असंयमिता का इलाज करना चाहते हैं, तो आपको मादक पेय से बचना चाहिए।

अल्कोहल मूत्राशय को ओवरस्टीलेट करता है और मूत्र को रोक रखने की अपनी क्षमता को कम करता है। इसके अलावा चूंकि यह डिहाइड्रेशन करता है, यह यूरिनरी ट्रैक्ट के संक्रमण का जोखिम बढ़ाता है। अगर आप मूत्र असंयम के लक्षणों से पीड़ित हैं तो शराब से पूरी तरह बचें! इसके बजाय, ज्यादा पानी पियें।

अंत में, मूत्र असंयम के लक्षणों से पीड़ित होने पर डॉक्टर से मिलना ज़रूरी होता है। जितनी जल्दी आप डायग्नोसिस करेंगे, उतना ही बेहतर आपका इलाज होगा।

यह आपकी रुचि हो सकती है ...
5 ड्रिंक : यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन, UTI से मुकाबला करने के लिए
स्वास्थ्य की ओर
इसमें पढ़ें स्वास्थ्य की ओर
5 ड्रिंक : यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन, UTI से मुकाबला करने के लिए

यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन (UTI) तब होता है जब खतरनाक माइक्रोऑर्गनिज्म आपके यूरिनरी ट्रैक्ट में पहुँच जाते हैं। इसमें आपके गुर्दे (kidney) और मूत्रा...