मिर्गी का दौरा: यह क्या है और कैसे प्रतिक्रिया करें

22 सितम्बर, 2020
हमारे समाज में मिर्गी का दौरा पड़ना कुछ लोगों के लिए बहुत दर्दनाक होता है। ऐसी स्थितीत में हममें से कई लोग यह नहीं जानते कि कैसे प्रतिक्रिया करें या उनकी उनकी मदद करें। ज्यादा जानने के लिए आगे पढ़ें!

आबादी का 3%  हिस्सा अपने जीवन में कम से कम एक बार मिर्गी के दौरे का सामना करते हैं । इसलिए यह बहुत आम स्थिति है। दरअसल यह दूसरा सबसे आम न्यूरोलॉजिकल फैक्टर है जिसकी वजह से लोग अस्पताल के इमरजेंसी में दाखिल होते हैं।

मिर्गी एक क्रोनिक बीमारी है। यह छुआछूत से नहीं फैलती और किसी भी उम्र के लोगों को प्रभावित कर सकती है। इसके अलावा दुनिया भर में लगभग 5 करोड़ लोग इससे पीड़ित हैं और लगभग 80% रोगी निम्न और मध्यम आय वाले देशों में रहते हैं।

आगे हम बताएंगे कि मिर्गी का दौरा पड़ना क्या होता है और किसी व्यक्ति को तब तक सुरक्षित रखा जा सकता है जब तक कि मिर्गी (epileptic seizure)  ख़त्म न हो जाए।

मिर्गी का दौरा (epileptic seizure) क्या है?

परिभाषा के अनुसार मिर्गी का दौरा कई लक्षणों का एक समूह है, जिनमें में से कुछ तो उससे अलग होते हैं जिन्हें लोकप्रिय रूप से दौरा कहा जाता है और उन पर लोगों का ध्यान नहीं जाता: आम तौर पर चेतना लुप्त हो जाती है और शरीर सिकुड़ जाता है। ये लक्षण इसलिए आते हैं कि मस्तिष्क में न्यूरॉन्स का एक समूह एक ही समय में सक्रिय होने का फैसला करता है और साथ ही अपनी एक्टिविटी को अत्यधिक और असामान्य रूप से करने लगता है।

कुल मिलाकर मिर्गी के दौरे दो तरह के होते हैं:

  • तीव्र लक्षणों वाली मिर्गी (Acute symptomatic seizure -ASS) : मस्तिष्क के बाहर या अंदर की चोट इसका कारण होती है। ब्रेन ट्रामा, सेरेब्रोवैस्कुलर रोग, मस्तिष्क संक्रमण, बुखार, नशा या खून में सोडियम और शुगर लेवल का असंतुलन ऐसे दौरे का कारण बन सकता है।
  • बिना किसी स्पष्ट कारण वाली मिर्गी (Unprovoked seizures) : इसे आम मिर्गी के रूप में जाना जाता है। जिन 10 लोगों में ऐसे दौरे पड़ते हैं उनमें से छह मिर्गी से पीड़ित होते हैं जिसकी पहचान नहीं हो पाती।

इंटरनेशनल लीग अगेंस्ट एपिलेप्सी (ILAE) के अनुसार मिर्गी एक मस्तिष्क की गड़बड़ी है जो मिर्गी के दौरे और इसके न्यूरोबायोलॉजिकल, संज्ञानात्मक, मनोवैज्ञानिक और सामाजिक परिणामों से उत्पन्न होने वाली स्थायी प्रवृत्ति की विशेषता है। दूसरे शब्दों में हममें से किसी को भी एपिलेप्टिक सिज़र आ सकता है, लेकिन हममें से सभी को एपिलेप्सी या मिर्गी नहीं होगी।

आप इस लेख को पसंद कर सकते हैं: 8 लक्षण: महिलाओं को इन्हें नज़रंदाज़ नहीं करना चाहिए

मिर्गी के दौरे के टाइप : लक्षण

यह जानना आवश्यक है कि मिर्गी के दो मुख्य प्रकार हैं: सामान्यीकृत दौरे और फोकल शुरुआत वाले दौरे।

सामान्यीकृत दौरे

दुर्भाग्य से पूरे मस्तिष्क में असामान्य एक्टिविटी होती है और अक्सर चेतना खो जाती है। इसके अनेक कारण हैं:

  • अनुपस्थित मिर्गी (Absence seizures) : यह आमतौर पर बच्चों और युवाओं में होती है। व्यक्ति कुछ सेकंड के लिए चेतना खो देता है। दूसरे लक्षण नहीं दीखते। इस दौरान वे आमतौर पर कोई प्रतिक्रिया नहीं देते और अपने परिवेश से डिस्कनेक्ट हो जाते हैं। वे बेहोश नहीं होते या मांसपेशियों में संकुचन नहीं होता है। वे बस रुक जाते हैं और आगे की ओर घूरते हैं।
  • मायोक्लोनिक मिर्गी (Myoclonic seizures) : इस तरह की सामान्यीकृत मिर्गी में चेतना लुप्त नहीं होती। इससे हाथ-पैरों की मांसपेशियों में झटके आते हैं।
  • टॉनिक सिजर (Tonic seizures): वे अचानक ही एक टॉनिक कॉन्ट्रैक्शन का कारण बनते हैं। शरीर एक तख़्त की तरह सख्त हो जाता है और चेतना खो जाती है।
  • टॉनिक-क्लोनिक सिजर (Tonic-clonic seizure) : इसे हम सामान्य रूप से “एपिलेप्टिक सिजर” से जोड़ते हैं। सबसे पहले एक टॉनिक कॉन्ट्रैक्शन का स्टेज होता है, जिसके बाद क्लोनिक मसल जर्क आते हैं। यह हमेशा ही चेतना खोने के साथ-साथ होता है। अक्सर रोगी अपनी जीभ के पिछले हिस्से को काटता है। यह आम तौर पर एक और दो मिनट के बीच रहता है और फिर उसके बाद कई मिनट की उलझन की स्थिति रहती है।

फोकल ऑनसेट सिजर

इस मामले में असामान्य गतिविधि सिर्फ न्यूरॉन के एक विशिष्ट ग्रुप में होती है। यह प्रभावित क्षेत्र के आधार पर कई लक्षणों का कारण बनता है, जैसे एक हाथ में झटका और विजुअल और घ्राणइन्द्रिय हेलोसिनेशन।

इस लेख में आपकी रुचि हो सकती है: वेजिटेटिव स्टेट : जानिये इसके बारे में सबकुछ

क्या करना चाहिए

यदि किसी को एपिलेप्टिक सिजर है, तो आपको यह करना चाहिए:

  • ध्यान से व्यक्ति को ज़मीन पर या ऐसी जगह लिटायें जहाँ आसपास कोई सख्त या नुकीली चीज न हो। आपको किसी चिकनी और सपाट चीज पर उनके सिर को रखना चाहिए।
  • फिर श्वास बेहतर बनाने के लिए व्यक्ति को एक तरफ लिटायें।
  • उनकी गर्दन के आसपास मौजूद तंग कपडे को ढीला करें।
  • उन्हें रोकने या मूवमेंट रोकने की कोशिश न करें – बस यह सुनिश्चित करें कि वातावरण में ऐसा कुछ न हो जो उन्हें नुकसान पहुंचा सके।
  • संकट खत्म होने तक व्यक्ति के साथ रहें।

अधिकांश एपिलेप्टिक सिजर आपातकालीन स्थिति नहीं हैं और खुद ही समाप्त हो जाते हैं। इसीलिए यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि सिजर के दौरान व्यक्ति किसी बाहरी वस्तुओं से चोटिल न हो। हालांकि अक्सर यह सिफारिश की जाती है कि वे अपने सिजर रिपोर्ट अपने डॉक्टर को दे दें।

क्या नहीं करना चाहिए

इस समय आपको क्या करना चाहिए, इसके अलावा, यह जानना महत्वपूर्ण है कि ऐसी गलतियों से बचने के लिए क्या सावधानी बरतें जो रोगी के विकास को जटिल बना सकती हैं। और सबसे पहले, आपको सीपीआर की कोशिश नहीं करनी चाहिए।

इसके अलावा, आपको मिर्गी के दौरे के दौरान व्यक्ति को नहीं पकड़ना चाहिए, उनके मुंह में वस्तुओं को डालना चाहिए, या उनकी जीभ को पकड़ना चाहिए। यह उस व्यक्ति के साथ होने वाले संकट के लिए सबसे अच्छा है जो पक्ष की ओर है और अपनी जीभ को उसी स्थिति में रखता है।

अंत में, आपको संकट के तुरंत बाद व्यक्ति को भोजन या तरल पदार्थ नहीं देने चाहिए, कम से कम जब तक आप इस बात की पुष्टि नहीं करते कि प्रभावित व्यक्ति सतर्क है।

  • Centro para el control y la prevención de las enfermedades. Primeros auxilios para las convulsiones | Epilepsia | CDC [Internet]. 2019. [citado 4 de abril de 2020]. Disponible en: https://www.cdc.gov/epilepsy/spanish/primeros-auxilios.html
  • Megiddo I, Colson A, Chisholm D, Dua T, Nandi A, Laxminarayan R. Health and economic benefits of public financing of epilepsy treatment in India: An agent-based simulation model. Epilepsia. 1 de marzo de 2016;57(3):464-74.
  • ILAE. Welcome to the International League Against Epilepsy [Internet]. [citado 4 de abril de 2020]. Disponible en: https://www.ilae.org/
  • Fauser S, Cloppenborg T, Polster T, Specht U, Woermann FG, Bien CG. Genetic generalized epilepsies with frontal lesions mimicking migratory disorders on the epilepsy monitoring unit. Epilepsia Open. 2020;