ट्रेस एलिमेंट क्यों इतने अहम हैं?

शरीर के तमाम कामकाज के लिए ट्रेस एलिमेंट बहुत आवश्यक सूक्ष्म न्यूट्रिएंट हैं। शरीर में इनकी पर्याप्त मात्रा न होने पर मेटाबोलिक गड़बडी और क्रोनिक बीमारियां हो सकती हैं।
ट्रेस एलिमेंट क्यों इतने अहम हैं?

आखिरी अपडेट: 22 जनवरी, 2021

ट्रेस एलिमेंट हेल्थ एक्टिविटी में अहम भूमिका निभाते हैं। दरअसल एक्सपर्ट का अनुमान है कि वे जीवित प्राणियों में कम से कम पांच कार्यों को पूरा करते हैं। उन्हें ट्रेस मेटल के रूप में भी जाना जाता है और आप उन्हें आमतौर पर भोजन के जरिये हासिल कर सकते हैं।

वे किससे बने हैं? वे किन अंगों में होते हैं? इस आर्टिकल में हम आपको ट्रेस एलिमेंट के बारे में जानने लायक जरूरी हर बात बताना चाहते हैं। इसके अलावा, हम आपको उनके बारे में सबसे अहम बातें बताएंगे और वे शरीर में क्या काम करते हैं।

ट्रेस एलिमेंट क्या हैं?

ट्रेस एलिमेंट वे मिनरल हैं जो शरीर में बहुत कम मात्रा में मिलते हैं। वे शरीर के सामान्य कामकाज करने के लिए जरूरी हैं।

आम तौर पर वे मेटाबोलिक कामों में मदद करते हैं, जैसे हार्मोन या सेल मेम्ब्रेन जैसी संरचनाओं का रेगुलेशन और गठन। इसके अलावा वे एंजाइम एक्टिविटी में भाग लेते हैं।

ट्रेस एलिमेंट क्या हैं?

इसे देखें: इस स्पाइस टी से अपना मेटाबोलिज्म एक्टिव करें

वे महत्वपूर्ण क्यों हैं?

जैसा कि हमने पहले ही बताया है  ट्रेस एलिमेंट शरीर में विभिन्न कामों को पूरा करते हैं। उदाहरण के लिए यहां सबसे महत्वपूर्ण हैं:

  • कैल्शियम: यह नर्वस सिस्टम में हस्तक्षेप करता है। यह हड्डियों, दांतों और खून के थक्के बनने में भूमिका निभाता है।
  • कॉपर: यह शरीर के टिशू का हिस्सा है, जैसे कि लीवर, मस्तिष्क, किडनी और हृदय।
  • फ्लोरीन: यह दांतों का हिस्सा है।
  • फास्फोरस: प्रोटीन बनाने में मदद करता है।
  • आयरन: यह हीमोग्लोबिन को बनाता है। इसके अलावा यह सेलुलर रेस्पिरेशन, ग्लूकोज ऑक्सीडेशन, फैटी एसिड ऑक्सीडेशन और डीएनए सिंथेसिस में शामिल होता है।
  • मैंगनीज: यह कुछ एंजाइमों का एक हिस्सा है। यदि आपके शरीर में यह पर्याप्त नहीं है, तो यह वजन घटाने, म्यूकस की सूजन और मतली का कारण बन सकता है। इसके अतिरिक्त यह यौन और प्रजनन कार्यों में भूमिका निभा सकता है।
  • मैग्नीशियम: यह ग्लूकोज मेटाबोलिज्म में मदद करता है।
  • पोटैशियम: यह अंदरूनी वातावरण को संतुलित करता है।
  • सोडियम: पोटैशियम की तरह यह भी अंदरूनी वातावरण को संतुलित करता है।
  • आयोडीन: यह थायरॉयड फंशन के लिए आवश्यक है।
  • जिंक : यह प्रोटीन और न्यूक्लिक एसिड के मेटाबोलिज्म में शामिल है। इसलिए यह गर्भावस्था और भ्रूण के विकास में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। साथ ही यह कई एंजाइम एक्टिविटी को बढ़ावा देता है।

अगर इनकी कमी हो तो क्या होगा?

यह साफ़ हो जाना चाहिए कि कुछ ट्रेस एलिमेंट को बहुत जरूरी माना जाता है, इसलिए पर्याप्त मात्रा में न होने पर मेटाबोलिज्म और शारीरिक बदलाव होते हैं। इसके अलावा वे मेटाबोलिक रोगों से जुड़े हैं।

दरअसल कई अध्ययनों से पता चलता है कि आयरन की कमी दुनिया भर में कुपोषण के सबसे लगातार पहलुओं में से एक है। विकासशील देशों में आयरन की कमी आमतौर पर दूसरी कमियों के साथ जुड़ी देखी जाती है। उदाहरण के लिए यह अक्सर जिंक और आयोडीन की कमी के साथ; विटामिन A, B12 और फोलिक एसिड की कमी के साथ जुड़ी देखी जाती है।

आयरन की कमी के कारण

आयरन की कमी के सबसे आम कारणों में से कुछ हैं:

  • कम आयरन डाइट : खराब पोषण, पुरानी शराब, पशु प्रोटीन और विटामिन सी की खपत में कमी।
  • जिन स्थितियों में आपको इसकी ज्यादा जरूरत होती है: गर्भावस्था, सर्जरी, मासिक धर्म, बचपन और किशोरावस्था, जठरांत्र रक्तस्राव, गुर्दे की बीमारी और बहुत कुछ।
  • अपर्याप्त गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल अवशोषण: कुछ खाद्य पदार्थों या दवाओं के साथ अवशोषण में हस्तक्षेप हो सकता है।

अन्य ट्रेस तत्वों के लिए कमी निम्नलिखित लक्षणों का कारण बन सकती है:

  • फोलिक एसिड: न्यूरल ट्यूब दोष या गर्भपात।
  • आयोडीन: गर्भावस्था या बौद्धिक अक्षमताओं का नुकसान।
  • सेलेनियम, तांबा, कैल्शियम: वे गर्भावस्था की जटिलताओं और भ्रूण के विकास के मुद्दों के साथ जुड़े हुए हैं।
  • मैग्नीशियम: प्रीएक्लेम्पसिया और प्रीटर्म जन्म।
  • जिंक : प्रीक्लेम्पसिया और समय से पहले प्रसव का खतरा।

इसे भी पढ़ें : मेटाबोलिज्म को तेज़ करने वाले खाद्य पदार्थों की मदद से हाइपोथायरॉइडिज्म का मुकाबला करें

क्या हम सबको ट्रेस एलिमेंट  की बराबर मात्रा में जरूरत होती है?

यह ऐसी चीज है जिसके बारे में हमें स्पष्ट होना चाहिए। इसके अलावा जीवन की विभिन्न स्थितियाँ होती हैं जहाँ आपको ज्यादा ट्रेस एलिमेंट की जरूरत होगी। जैसा कि हमने पहले ही बताया है, इसमें गर्भावस्था, स्तनपान, बचपन या किशोरावस्था शामिल है।

इसके अलावा याद रखें कि कुछ बीमारियों में आपकी ज़रूरतें बदल सकती हैं। जो भी हो इन्हें पर्याप्त मात्रा में लेना सुनिश्चित करें।

ट्रेस एलिमेंट की कमी को रोकें

कमी से बचने का सबसे अच्छा तरीका बैलेंस डाइट लेना है। जिसमें पशु और वेजिटेबल दोनों ही स्रोतों के कई अलग-अलग खाद्य पदार्थ शामिल हैं। यह न भूलें कि ट्रेस मिनरल लेने का सबसे अच्छा तरीका उन्हें भोजन के जरिये प्राप्त करना है।

गर्भावस्था, बचपन या कुछ बीमारियों में इनकी कमियों को रोकने के लिए क्या सलाह होगी, इस बारे में अपने डॉक्टर से बात करना सबसे अच्छा रहेगा। इसके अलावा, वे आपको बता सकते हैं कि आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए आपको किस सप्लीमेंट की जरूरत हो सकती है।

अंतिम निष्कर्ष

ट्रेस एलिमेंट बहुत से शारीरिक कामकाज करते हैं, इसलिए इनकी पर्याप्त मात्रा न होने पर स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं।

अंत में इनकी कमियों को रोकने के लिए आपको बैलेंस डाइट अपनाना चाहिए। कभी-कभी आपको भविष्य की समस्याओं से बचने के लिए सप्लीमेंट लेने की जरूरत पड़ सकती है।

यह आपकी रुचि हो सकती है ...
वज़न घटाने का सबसे असरदार तरीका: अपना मेटाबोलिज्म तेज़ करें
स्वास्थ्य की ओरइसमें पढ़ें स्वास्थ्य की ओर
वज़न घटाने का सबसे असरदार तरीका: अपना मेटाबोलिज्म तेज़ करें

बात जब वज़न घटाने के बेहतरीन विकल्पों की आती है तो हर किसी की राय अलग-अलग होती है। कुछ लोगों को लगता है, खाना न खाना या कठोर डाइट प्लान पर रहना ही स...



  • Reynaud AC. Requerimiento de micronutrientes y oligoelementos. Rev. peru. ginecol. obstet. 2014;60(2): 161-170.
  • Urdaneta Machado JR, Urribarrí L, Villalobos M, García J, Guerra M, ZambranoDeficiencia de oligoelementos durante el primer trimestre del embarazo en Maracaibo, Venezuela. An Venez Nutr 2013; 26(1): 14 – 22.
  • Ramírez Hernández J, Bonete MJ, Martínez Espinosa RM. Propuesta de una nueva clasificación de los oligoelementos para su aplicación en nutrición, oligoterapia, y otras estrategias terapéuticas. Nutr Hosp. 2015;31(3):1020-1033.