विभिन्न तरह के वेजाइनल डिस्चार्ज

01 अप्रैल, 2020
वेजाइनल डिस्चार्ज को आमतौर पर उसके रंग के अनुसार क्लासिफाई किया जाता है, लेकिन वे मात्रा और गंध में भी अलग होते हैं।

हालांकि ज्यादातर लोग इससे अनजान हैं या इसके बारे में बात करने में बहुत शर्मिंदा होते हैं, पर यह सच है कि वेजाइनल डिस्चार्ज कई तरह का होता है। क्योंकि यह गंध, रंग और मात्रा में बदल सकता है।

वेजाइनल डिस्चार्ज जैसा कि इसके नाम से पता चलता है, योनि में मौजूद कुछ ग्लैंड द्वारा किये जाँव वाले स्राव हैं। यह लिक्विड बिल्कुल सामान्य और ज़रूरी है, क्योंकि यह योनि की सेहत को बनाए रखने के लिए ज़रूरी कई अहम कार्यों को पूरा करता है

उनमें से एक यह है कि यह योनि को “साफ” करने की सहूलियत देता है। दूसरे शब्दों में यह मृत कोशिकाओं और बैक्टीरिया को खत्म करने में मदद करता है, जो संक्रमण को रोकने में मदद करता है। इसके अलावा यह महिला प्रजनन प्रणाली की सेहत का एक बड़ा इंडिकेटर है।

इस बहाव में होने वाली सभी तब्दीलियाँ आपको बीमारियों का पता लगाने में मदद कर सकती हैं। इसलिए यह लेख कई तरह के वेजाइनल डिस्चार्ज की व्याख्या करेगा और बताएगा कि उनका क्या मतलब है।

क्यों होते हैं कई तरह के वेजाइनल डिस्चार्ज

संक्रमण या सेक्सुअली ट्रांसमिटेड रोगों की मौजूदगी के कारण वेजाइनल डिस्चार्ज में बदलाव ला सकता है।

इससे पहले कि हम कई तरह के वेजाइनल डिस्चार्ज का जिक्र करें आपको मालूम होना चाहिए कि शारीरिक रूप से पीरियड के हर साइकल के दौरान डिस्चार्ज बदल जाता है। दूसरे शब्दों में मेंस्ट्रुअल साइकल के हर क्षण डिस्चार्ज कई तरह के होते हैं। यह पूरी तरह से सामान्य है।

इस मामले में स्राव महिला हार्मोन के आधार पर बदलते हैं, जो पीरियड के दौरान भी अलग-अलग होते हैं। उदाहरण के लिए जब ओव्यूलेशन करीब हो तो डिस्चार्ज बढ़ जाता है और गाढ़ा हो जाता है। क्योंकि प्रजनन एक भूमिका निभाता है और महिला को फर्टिलाइजेशन के लिए तैयार करने में मदद करता है।

उसी तरह जब एक महिला यौन उत्तेजाना में होती है, तो डिस्चार्ज बढ़ जाता है। आमतौर पर यह साफ़ या दूधिया सफेद रंग का होता है। हालांकि यह पानीदार, पारदर्शी और कम या ज्यादा मात्रा में भी हो सकता है।

इसके अलावा सभी तरह के योनि स्राव में एक विशिष्ट गंध होती है, और महिलाओं को इससे शर्मिंदा नहीं होना चाहिए। दरअसल हर महिला को मालूम होना चाहिए कि कौन सी गंध सामान्य है, क्योंकि संक्रमण या बीमारी में इसकी प्रकृति बदल सकती है।

इस लेख को पसंद कर सकते हैं: 6 घरेलू उपाय अत्यधिक वेजाइनल डिस्चार्ज को अलविदा कहने के लिए

वेजाइनल डिस्चार्ज के प्रकार

वेजाइनल डिस्चार्ज के प्रकार

वेजाइनल डिस्चार्ज को रंग, गंध, स्थिरता और मात्रा के हिसाब से अलग किया जा सकता है। संक्रमण या बीमारी इनके पैटर्न को बदल सकती है।

जब वेजाइनल डिस्चार्ज को अलग करने की बात आती है तो सबसे महत्वपूर्ण बात इसका रंग है। हालाँकि गंध, स्टेबिलिटी और मात्रा का विश्लेषण करना भी ज़रूरी है।

सबसे पहले, जैसा कि हमने पहले ही बताया, डिस्चार्ज सफेद हो सकता है, जो कि सामान्य बात है। हालांकि जब यह ज्यादा भूरा और प्रचुर मात्रा में हो तो यह एक खराब संकेत हो सकता है। यदि डिस्चार्ज सफेद है, लेकिन आप खुजली या जलन महसूस करें तो आपको कैंडिडिआसिस हो सकता है।

कैंडिडा (Candida) नाम के यीस्ट के कारण होने वाला कैंडिडिआसिस महिलाओं में बहुत ही आम संक्रमण है। कई स्टडी में कहा गया है कि यह सबसे आम योनि समस्याओं में से एक है। दूसरी चीजों के अलावा यह योनि के पीएच में होने वाले बदलाव से जुड़ा है।

इसके अलावा डिस्चार्ज पीला हो सकता है। इन मामलों में यह आमतौर पर तेज गंध और खुजली या जलन जैसी अन्य असुविधाओं के साथ होता है। यह संकेत है कि आप संक्रमण से पीड़ित हैं, जो यौन संचारित रोग भी हो सकता है या कुछ और भी। ज्यादा आम ट्राइकोमोनिएसिस (trichomoniasis), क्लैमाइडिया (chlamydia) और गोनोरिया (gonorrhea) हैं

डिस्चार्ज भूरे रंग का भी हो सकता है क्योंकि इसमें खून क्वे धब्बे होते हैं। इस तरह का डिस्चार्ज अक्सर मासिक धर्म के ठीक पहले या बाद में होता है। यह संभोग के कारण होने वाले छोटे घाव के कारण भी हो सकता है।

हालांकि अगर डिस्चार्ज का रंग नहीं बदले तो यह कैंसर जैसी गंभीर बीमारियों का संकेत हो सकता है। इसी तरह अगर वेजाइना में कोई बाहरी चीज है तो जलन पैदा कर सकती है।

इसे भी पढ़ें : ह्यूमन पैपिलोमा वायरस : वह जो आपको जानना चाहिए

निष्कर्ष

वेजाइनल डिस्चार्ज कई तरह के होते हैं क्योंकि यह एक ऐसा स्राव है, जो अपने आप में शारीरिक रूप से बदल जाता है। इस तरह इसके सभी पहलुओं पर ध्यान देना अहम है, क्योंकि रंग या मात्रा में बदलाव बीमारी का संकेत हो सकता है।

गंध पर ध्यान देना भी ज़रूरी है। ऐसा इसलिए है क्योंकि यह उन मापदंडों में से एक है जो संक्रमण को बदल देते हैं। हालाँकि यह सलाह दी जाती है कि अगर आप किसी भी तरह के डिस्चार्ज में कोई बदलाव चाहते हैं, तो हमेशा स्त्री रोग विशेषज्ञ के पास जाएं ताकि वे यह देख सकें कि यह सामान्य है या नहीं।

  • Spence D, Melville C. Vaginal discharge. BMJ. 2007;335(7630):1147–1151. doi:10.1136/bmj.39378.633287.80
  • Sánchez-Hernández, J. A., González-Belén, L., Rojas-Valderrama, K., & Muñoz-Zurita, G. (2017). Prevalencia de Candida albicans y su relación con cambios en el pH vaginal. Atención Familiar, 24(1), 18–22. https://doi.org/10.1016/j.af.2017.01.003
  • Sivaranjini R, Jaisankar T, Thappa DM, et al. Spectrum of vaginal discharge in a tertiary care setting. Trop Parasitol. 2013;3(2):135–139. doi:10.4103/2229-5070.122140
  • Zemouri C, Wi TE, Kiarie J, et al. The Performance of the Vaginal Discharge Syndromic Management in Treating Vaginal and Cervical Infection: A Systematic Review and Meta-Analysis. PLoS One. 2016;11(10):e0163365. Published 2016 Oct 5. doi:10.1371/journal.pone.0163365
  • Mitchell H. Vaginal discharge–causes, diagnosis, and treatment. BMJ. 2004;328(7451):1306–1308. doi:10.1136/bmj.328.7451.1306