ओवरईटिंग के नतीजे

15 अक्टूबर, 2020
कई लोगों के लिए ओवरईटिंग के शारीरिक और मनोवैज्ञानिक दोनों तरह के नतीजे हो सकते हैं। सौभाग्य से कई स्ट्रेट्जी हैं जो आपको इस गलत आदत से बचने में मदद कर सकती हैं। आज हम आपको ज्यादा खाने के परिणामों और इससे बचने के तरीके के बारे में बताएंगे।

किसी न किसी बिंदु पर आप ओवरईटिंग करते हैं। ऐसा हो सकता है क्योंकि वह आपका फेवरिट फ़ूड था या आप वास्तव में बहुत भूखे थे या शायद किसी दूसरी वजह से। जबकि कभी-कभार ऐसा करना कोई बड़ा मुद्दा नहीं है, लेकिन बार-बार ज्यादा खाने के परिणाम बुरे हो सकते हैं।

इस अर्थ में बहुत ज्यादा खाने से आपको कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। इससे न सिर्फ आपको वजन बढ़ेगा, बल्कि आप अपने मूड से जुड़े फैक्टर का भी अनुभव कर सकते हैं।

आप इसे कैसे रोक सकते हैं?

हम नीचे इस आर्टिकल में कुछ नुस्खों की सिफारिशें करेंगे।

क्या ओवरईटिंग कोई समस्या है?

आम तौर पर कभी-कभी ओवरईटिंग के नतीजे न्यूनतम और अस्थायी होते हैं। हालांकि अगर खाने की इच्छा बार कंट्रोल से बाहर हो जाती है, तो यह संभवतः कई शारीरिक और मानसिक समस्याओं को जन्म देगा।

जिन लोगों की भूख ज्यादा होती है उनका न सिर्फ वजन बढ़ता है; बल्कि वे एक नेगेटिव दृष्टिकोण भी अपनाना शुरू करते हैं जो उन्हें अपने रोजमर्रा की जिन्दगी में जाने से रोक सकता है।

संभावित कारण

कई फैक्टर हैं जो जरूरत से ज्यादा खाने से जुड़े हुए हैं। जैसा कि हमने पहले ही जिक्र किया है, यह सिर्फ तभी नहीं होता जब आप अपना पसंदीदा भोजन खा रहे होते हैं। दरअसल बार-बार खाने का भोजन के साथ कुछ भी लेना-देना नहीं होता है। इसके बजाय इसे अक्सर बने रहने वाले स्ट्रेस या डाइट या ऐसे फैक्टर जो भोजन को रेस्ट्रिक्ट करते हैं।

बहुत अधिक खाने वाले व्यक्ति को खाने की जरूरत एंग्जायटी या ज्यादा कठोर डाइट जैसे फैक्टर से जुड़ी हो सकती है।

इसे भी पढ़े: लो-कार्ब डाइट, बौद्धिक प्रदर्शन और भावनाएँ

ओवरईटिंग के नतीजे

सबसे पहले ज्यादा खाने के शारीरिक परिणाम हो सकते हैं, जैसे एक्स्ट्रा वेट या मोटापा, हालांकि हमेशा ऐसा नहीं होता है। कई मामलों में परिणाम मनोवैज्ञानिक हो सकते हैं। यह ओवरवेट के साथ सामान्य लोगों के लिए भी सच है।

दी प्राइमरी केयर कम्पेनियन फॉर सीएनएस डिसॉर्डर में प्रकाशित जानकारी के अनुसार ओवरईटिंग के मनोवैज्ञानिक परिणामों में निम्नलिखित बातें शामिल हो सकते हैं:

  • भोजन पर काबू खो देना
  • सोशल आइसोलेशन
  • ऐंगज़ाइइटी बढ़ना
  • ऐंगज़ाइइटी या पीड़ा
  • पहले मजे देने वाली ऐक्टिविटी में भाग लेने पर कोई मजा न आना
  • स्मृति और एकाग्रता में परिवर्तन
  • भोजन और न्यूट्रीशन का पैशन
  • नींद में बदलाव
  • वर्क परफॉरमेंस में कमी
ओवरईटिंग से बचने में मददगार नुस्खे

अपराधबोध या एंग्जायटी में बढ़ोतरी उन परिणामों में से एक है जो लोग भोजन को लेकर खुद पर काबू नहीं रख पाते।

और अधिक जानें: क्या डुकन डाइट मोटापे से ग्रस्त लोगों के लिए फायदेमंद है?

ओवरईटिंग से बचने में मददगार नुस्खे

अत्यधिक खाने से बचने के लिए ऐसी स्ट्रेटजी हैं जिन्हें आप रोजाना लागू कर सकते हैं। हालाँकि आपको यह समझने की जरूरत है कि सिर्फ कमर्शियल ट्रीटमेंट ही विकल्प नहीं हैं। यदि आपको खाने के मामले में एंग्जायटी है, तो आप डॉक्टर या एक्सपर्ट से सबसे अच्छी सलाह पा सकते हैं।

अपनी भावनाओं को पहचानें

अपनी भावनाओं की पहचान करना आपकी समस्याओं से निपटने में भी मदद करती है। जो आप महसूस कर रहे हैं उसे लेकर कोई जर्नल शुरू करें और उन्हें नोट करें। यह भोजन की और हर वक्त देखने से भटकाने के साथ-साथ अपने बारे में दिलचस्प चीजों को खोजने में भी मदद कर सकता है।

भोजन पर ध्यान देने से बचें

जब आप  अपने खाने पर नोटिस करते हैं, तो यह खुद सजा देने का वक्त नहीं है। यदि आप अपने पसंदीदा खाने से परहेज करने जा रहे हैं, तो शायद आप लबे समय तक ऐसा नहीं कर पायेंगे। बल्कि इसके उलट उसे खाने की इच्छा बढ़ जायेगी।

वहीं जब आप अपना टारगेट पूरा नहीं कर पाते तो निराशा भी हो सकती है। परिणामस्वरूप आप ऐसे साइकल में फंस जाते जिससे बाहर निकलना मुश्किल होता है। इसलिए चरम पर जाने के बजाय हमेशा हेल्दी डाइट लेना ही सबसे अच्छा है।

इस तरह की एक्सरसाइज करें जिसमें मजा आए

कई अध्ययनों से संकेत मिलता है कि कुछ लोग जब वे भोजन करते हैं, तो क्षतिपूर्ति करने के लिए व्यायाम करते हैं। दूसरे शब्दों में, उनके लिए, व्यायाम बहुत अधिक खाने के लिए सजा है, और वजन बढ़ाने से बचने का एकमात्र तरीका है।

आपको याद रखना चाहिए कि शारीरिक व्यायाम स्वस्थ है, लेकिन लक्ष्य केवल वजन घटाने के बारे में नहीं होना चाहिए। आपको व्यायाम करना चाहिए क्योंकि यह आपकी भलाई के लिए अच्छा है, और सावधान रहें कि आपकी शारीरिक क्षमता से अधिक न हो। यदि आप इसका उपयोग नहीं करते हैं, तो धीरे-धीरे शुरू करें – प्रति दिन बीस से तीस मिनट के बीच।

नियमित रूप से व्यायाम करने से भोजन को लेकर आपकी चिंता कम हो सकती है। हालांकि, आपको अपनी भलाई के लिए व्यायाम करना चाहिए न कि खुद को दंडित करने के साधन के रूप में क्योंकि आपने बहुत अधिक खाया।

आप यह भी पढ़ना चाह सकते हैं: शारीरिक व्यायाम के मनोवैज्ञानिक लाभ

एक प्रोफेशनल से मिलें

जबकि हर कोई एक स्वास्थ्य पेशेवर के लिए नहीं जाता है जब यह अधिक खा जाता है, तो ऐसी परिस्थितियां होती हैं जब आपको चाहिए। यह विशेष रूप से सच है जब अत्यधिक खाने का भावनात्मक कारकों के साथ क्या करना है।

जैसा कि मेडिकल जर्नल करंट साइकियाट्री रिपोर्ट्स में एक अध्ययन में बताया गया है, मनोवैज्ञानिक थेरेपी उन व्यवहारों को पहचानने और सही करने में उपयोगी होती है, जो ओवरईटिंग का कारण बनते हैं। एक ही समय में, यह एक व्यक्ति की समग्र भलाई में सुधार करता है।

ज्यादा खाने के परिणाम: किन बातों का ध्यान रखें

लम्बे समय तक ओवरईटिंग से वजन बढ़ सकता है, साथ ही यह दूसरे नतीजे भी पैदा कर सकता है। इसलिए यह तय करना महत्वपूर्ण है कि ऐसा क्यों हो रहा है और जितनी जल्दी हो सके संबंधित फैक्टर की पहचान करें। इस तरह आप अपने जीवन की क्वालिटी को प्रभावित करने से रोकने के लिए पर्याप्त इलाज चुन सकते हैं।

  • Goldschmidt AB, Loth KA, MacLehose RF, Pisetsky EM, Berge JM, Neumark-Sztainer D. Overeating with and without loss of control: Associations with weight status, weight-related characteristics, and psychosocial health. Int J Eat Disord. 2015;48(8):1150‐1157. doi:10.1002/eat.22465
  • Razzoli M, Pearson C, Crow S, Bartolomucci A. Stress, overeating, and obesity: Insights from human studies and preclinical models. Neurosci Biobehav Rev. 2017;76(Pt A):154‐162. doi:10.1016/j.neubiorev.2017.01.026
  • Ferrario CR. Food Addiction and Obesity. Neuropsychopharmacology. 2017;42(1):361. doi:10.1038/npp.2016.221
  • Godoy F. Trastorno del comedor compulsivo: Incorporación del concepto en la salud pública chilena.Rev Chil Nutr. 2015.42(4),399-402.
  • Dittmer N, Jacobi C, Voderholzer U. Compulsive exercise in eating disorders: proposal for a definition and a clinical assessment. J Eat Disord. 2018;6:42. Published 2018 Nov 28. doi:10.1186/s40337-018-0219-x
  • Síndrome de edorexia: evaluación y diagnóstico. salud pública de méxico. 2014. Disponible en: http://www.scielo.org.mx/scielo.php?script=sci_arttext&pid=S0036-36342014000300007.
  • Iacovino JM, Gredysa DM, Altman M, Wilfley DE. Psychological treatments for binge eating disorder. Curr Psychiatry Rep. 2012;14(4):432‐446. doi:10.1007/s11920-012-0277-8