क्या है बाइसेप्स टेंडिनाइटिस का कारण?

22 अगस्त, 2019
बाइसेप्स टेंडिनिटिस का मुख्य कारण है, कंधों के ऊपर भुजाओं को रखने के रिपिटेटिव और बार-बार होने वाले मूवमेंट में ऊपरी बाइसेप्स का बहुत ज्यादा प्रयोग। इस बारे में यहाँ और पढ़ें!

बाइसेप्स टेंडिनाइटिस एक ऐसी स्थिति है जो बाइसेप्स मसल्स पर असर डालती है। हालाँकि आमतौर पर इसके गंभीर नतीजे नहीं होते हैं। इसका अक्सर उस वक्त पता लग जाता है जब व्यक्ति अपनी बांह को हिलाते हुए दर्द महसूस करता है।

कुल मिलाकर बाइसेप्स टेंडिनाइटिस के उभरने के कई कारण हो सकते हैं। इनमें ऐसी स्पोर्ट्स एक्टिविटी या वर्क एक्टिविटी शामिल हैं जिनमें हाथों के स्ट्रेंथ की ज़रूरत होती है। हालांकि यह दुर्लभ है, पर अगर ठीक से इलाज न हो तो यह समस्या टेंडन रप्चर तक जा सकती है।

बाइसेप्स टेंडिनाइटिस कंधे के दर्द के मुख्य कारणों में से एक है। भले ही यह एक सूजन से शुरू होती है लेकिन अंततः आंशिक या पूरी तरह से टेंडन रप्चर की ओर जा सकती है।

यहाँ हम इस स्थिति और इसके कारणों पर बारीकी से विचार करेंगे।

बाइसेप्स और इसके टेंडन

बाइसेप्स और इसके टेंडन

बाइसेप्स ज्यादातर मूवमेंट में भाग लेता है और आस-पास के जॉइंट्स को स्टेबल करने में मदद करता है।

यह वह मांसपेशी है जो ऊपरी बांह में होती है। डिस्टल टेंडन बाइसेप्स के निचले हिस्से को कोहनी से जोड़ते हैं। फिर करीब के टेंडन उस मसल को कंधे से जोड़ते हैं।

मूल रूप से टेंडन मजबूत कनेक्टिव टिशू होते हैं। यहाँ दो प्रॉक्सीमल टेंडन हैं। ये अलग-अलग पॉइंट पर शोल्डर ब्लेड से जुड़ते हैं। वे शोल्डर सॉकेट में हाथ के सबसे ऊँचे हिस्से को सपोर्ट करने में मददगार हैं। इसी तरह मूवमेंट की सहूलियत देते हैं।

बाइसेप्स कई मूवमेंट में शामिल होते हैं। यह फॉरवर्ड मूवमेंट (विशेष रूप से हथेलियों को आगे या ऊपर की ओर मोड़ने) में भाग लेता है। इसके अलावा यह कोहनी के झुकने में भी शामिल होता है। इसी तरह यह कंधे के जॉइंट को स्टेबल करने में मदद करता है।

क्या है बाइसेप्स टेंडिनाइटिस?

बाइसेप्स कई चोटों का शिकार हो सकते हैं जो कंधे और कोहनी दोनों में दिख हो सकते हैं। बाइक्स टेंडोनाइटिस तब होता है जब प्रॉक्सीमल  टेंडन के लंबे हिस्से में सूजन हो जाती है।

यह स्थिति एंटीरियर टेंडन में गंभीर दर्द का कारण बनती है। आमतौर पर यह तब होता है जब व्यक्ति बांह को कंधे से ऊपर उठाता है। यह स्थिति रोजमर्रा की एक्टिविटी को मुश्किल बना देती है, जैसे कि शर्ट पहनना, गेंद फेंकना, प्रभावित अंग की ओर करवट लेकर सोना।

बाइसेप्स टेंडिनाइटिस के कारण

उम्र, स्पोर्ट्स या ऐसी वर्क एक्टिविटी जिनमें हाथ की ताकत का बार-बार इस्तेमाल हो, बाइसेप्स पर असर डालती हैं।

बाइसेप्स टेंडोनाइटिस का सबसे आम कारण है, स्पोर्ट्स वर्क एक्टिविटी। इसी तरह सबसे आम कारणों में इन्फ्लेमेटरी बीमारियां, रोटेटर कफ इंजरी, पहले की चोट, आघात या सबक्रोमिअनल इम्परगमेंट सिंड्रोम (subacromial impingement syndrome) भी हैं।

कभी-कभी ह्युमेरल हेड असामान्य रूप से ऊपर  उठ जाता है और आगे के ओर बढ़ जाता है, जो बाइसेप्स को नुकसान पहुंचा सकता है। इससे सबक्रोमियल इम्प्लिमेंटेशन सिंड्रोम के रूप में जाना जाता है, जिससे बाइसेप्स टेंडिनाइटिस भी हो सकता है।

ऊपर बतायी गयी सभी बातें  सूजन, एडिमा या छोटे-मोटे जख्म का कारण बनती हैं। समस्या बढ़ जाए तो क्रोनिक डिजेनेरेशन हो सकता है। यह टेंडन के सामान्य कोलेजन फाइबर में बदलाव ले आता है। आखिरकार इससे टेंडन आंशिक या पूर्ण रूप से टूट सकते हैं।

बाइसेप्स टेंडिनिटिस से बचाव

इस स्थिति को रोकने का मुख्य तरीका उन सभी गतिविधियों से बचना है, जिनमें आपकी बाहों को सिर के ऊपर उठाना पड़े। बेसबॉल और टेनिस जैसे खेलों में मूवमेंट बहुत आम हैं।

अगर इन मूवमेंट से बच सकते हैं, तो आपको कंधे और ऊपरी बांह की मांसपेशियों को मजबूत करने के लिए एक्सरसाइज करना चाहिए। अगर कंधे की मांसपेशियां अच्छी तरह से विकसित हुई हैं, तो हाथ की स्टेबिलिटी नहीं जायेगी  और चोट लगने का खतरा कम होगा।

दूसरा प्रिवेंटिव उपाय इन मूवमेंट को सही टेकनीक के साथ करना है। गलत पॉस्चर कंधे को ज्यादा तनाव की ओर ले जाती हैं, जो कि बाइसेप्स टेंडिनाइटिस जैसी समस्याओं को शुरू करने की ओर जाता है।

अगर आप किसी ख़ास एक्टिविटी के दौरान दर्द महसूस करते हैं, तो इसे तब तक करना बंद करें जब तक कि डॉक्टर द्वारा जांच न करा लें।

Bard, H. (2012). Tendinopatías: etiopatogenia, diagnóstico y tratamiento. EMC-Aparato locomotor, 45(3), 1-20.