'तीन बुद्धिमान बंदरों' की मोहक शिक्षा

13 फ़रवरी, 2019
आपने संभवतः तीन बुद्धिमान बंदरों की मशहूर तस्वीर देखी है। पर क्या आप उनका वास्तविक मतलब जानते हैं?

टोशो गु श्राइन (मंदिर) के तीन बुद्धिमान बंदरों की श्रेष्ठ कथा एक सरल, पर कालातीत शिक्षा है– हम क्या कहते हैं, सुनते है और देखते हैं, इसके प्रति सावधान रहना चाहिए। यह प्रसिद्ध पवित्र स्थल जापान में है। नक्काशी की हुई बंदरों की आकृतियों में से एक ने मुंह बंद कर रखा है, दूसरे ने आंखें और तीसरे ने अपने कान। तारीख लिखी है– 1636।

कम ही चित्र होते हैं जो कई सीमाओं को लांघते हुए हम तक पहुंचते हैं और सदियों तक रहते हैं  -जैसा कि यह। अब ये तीनों बुद्धिमान बंदर आइकॉन हैं। हालांकि, इन तीनों चित्रों का अर्थ समय के साथ धीरे-धीरे  गुम होता जा रहा है।

जापानियों के पास सतर्क आचरण का एक दार्शनिक संकेत है :

‘बुरा मत देखो, बुरा मत सुनो, बुरा मत बोलो’।

यह शिक्षा कन्फ्यूशियस के लेखन से आई है। बहुत से लोग इस संदेश को ‘आत्मसमर्पण’ के रूप में देखते हैं। लेकिन बहुत से इतिहासकार इन तीनों बंदरों की मूर्तियों और सुकरात के ‘ट्रिपल फिल्टर टेस्ट’ के बीच समानता देखते हैं।

इस प्रतिमा चित्र में दरअसल आज के हमारे आधुनिक जीवन के लिए बहुत से सार्थक संदेश हैं। इसका प्राचीन पूर्वी विनम्रता से कोई लेना देना नहीं है या इसका अर्थ अन्याय को देखना या सुनना नहीं है।

पढ़ना जारी रखें, सुकरात और तीन बुद्धिमान बंदरों से और भी अधिक शिक्षा ग्रहण करें।

सुकरात के ‘ट्रिपल फिल्टर टेस्ट’

तीन बुद्धिमान बंदर और सुकरात के तिहरे फिल्टर के बीच समानता को समझने के लिए सुकरात की कथा में आई शिक्षा को समझना ज़रूरी है:

एकबार सुकरात के एक शिष्य ने आकर उन्हें यह सूचना दी कि कोई उनकी आलोचना कर रहा है।

इससे पहले कि वह परेशान छात्र कुछ और कहता, सुकरात ने उससे तीन सवाल पूछे। ये तीन सवाल तीन फिल्टर या तीन परीक्षण थे जिन पर शिष्य को सुकरात को संबोधित करने से पहले विचार करना था। वे थे :

  • सच का परीक्षण : आप जो कहने वाले हैं क्या वह वास्तव में सत्य है? आप जो बात मुझे कौशल, सावधानी और संयम के साथ बताना चाहते हैं आप आश्वस्त तो हैं न कि आपने पूरी तरह उसकी सत्यता की परख कर ली है?
  • भलाई का परीक्षण : आप मुझसे जो कुछ कहना चाहते हैं वह अच्छी और सज्जनतापूर्ण तो है न?
  • अनिवार्यता परीक्षण : जो आप मुझसे बताने जा रहे हैं वह आवश्यक है? क्या यह उपयोगी है या मुझे बताने के लिए किसी उद्देश्य की पूर्ति करता है?

ये तीन फिल्टर हर चीज के बारे में हमें अधिक विवेकपूर्ण, सतर्क और महत्वपूर्ण होने में मदद करने और मार्गदर्शक बनाने के लिए हैं

बहुत से लोग इस शिक्षा और तोशो गु मंदिर के तीन बुद्धिमान बंदरों के बीच एक संबंध कायम करते हैं।

आप पसंद कर सकते हैं : डिप्रेशन से पीड़ित लोगों के लिए स्टीफन हॉकिंग का संदेश

तीन बुद्धिमान बंदरों की शिक्षा

चलिए इस प्रसिद्ध चित्र पर एक बारीक नजर डालें :

तीन बुद्धिमान बंदरों : 'बुरा मत देखो, बुरा मत सुनो, बुरा मत बोलो'

जो बंदर अपना मुंह ढके हुए है वह इवाजारू (lwazaru) है।

इवाजारू बाईं तरफ सबसे छोटा बंदर है।

जापानी दर्शन में, यह बंदर बुराई न फैलाने की आवश्यकता का प्रतिनिधित्व करता है। इसका संबंध इस आशय से भी है कि अपने असंतोष और ‘नकारात्मक’ विचारों को व्यक्त न करें।

समझदारी है कि जरूरत से ज़्यादा अपनी निजी भावनात्मक दुनिया को नहीं दिखाना चाहिए। यह शांत और संयत/ नियंत्रित होने जैसा है।

जहां तक सुकरात के तीन परीक्षणों के साथ इसका क्या तालमेल है, व्यर्थ की बातों के अलावा भी बहुत कुछ करने को है।

क्योंकि अफवाह हमेशा सच साबित नहीं होते। वे सही नहीं होते, और यह हमेशा ज़रूरी नहीं कि उन्हें जोर शोर से कहा जाए।

जिस बंदर ने अपने कान बंद कर रखा है वह किकाज़ारू (Kikazaru) है

तीन बुद्धिमान बंदरों की शिक्षा

बीच वाला बंदर किकाज़ारू  है।

जापान में, जो लोग अफवाह, निंदा या गंदी खबरें फैलाते हैं उन्हें बहुत नकारात्मक नज़रों से देखा जाता है।

इसलिए जापानी लोग अपनी समरूपता की रक्षा के लिए इस तरह की सूचनाओं को सुनने से बेहतर अपने कान बंद कर लेने में विश्वास रखते हैं।

यह परंपरागत विचार पश्चिमी दुनिया में थोड़ी निराधार कहा जा सकता है। आखिरकार, पश्चिमी दुनिया में भी गंदी खबरें, व्यर्थ की बातें और निंदा हमेशा हर जगह उड़ती रहती हैं।

आगे पढें: जो कुछ भी अच्छा मिले, उसे गले लगाएं, और हमेशा अपने साथ रखें

लेकिन, अगर आप सुकरात के तीन परीक्षण के चश्मे से देखें तो इसके अर्थ में कुछ अलग रंग दिख सकते हैं।

  • कभी कभी आप नकारात्मक जानकारी सुनना चाहते हैं, क्योंकि यह फायदेमंद होता है। उदाहरण के लिए, आप अपने बॉस से कहते हैं कि उनके ग्राहक खुश नहीं हैं और उन्हें पकड़े रहने के लिए प्रयास की जरूरत है।

लेकिन, अगर यह जानकारी नकारात्मक और फायदेमंद नहीं है तो यह समय किकाजरू से शिक्षा ग्रहण करने का है :  अपना मुंह बंद रखें।

जिस बंदर ने अपनी आंखें बंद कर रखी है, वह मिजारू  है।

illustrated monkeys : तीन बुद्धिमान बंदरों

दार्शनिक और नैतिक कोड (सूक्ति संहिता) संताई के अनुसार, अन्याय को न देखें, न सुनें और न बोलें। निश्चित रूप से यह विचार वास्तविक जीवन में अवरोध पैदा नहीं करता।

लेकिन पुनः, यदि आप इसे सुकरात के परीक्षण के दृष्टिकोण से देखें तो आप कुछ बातों का संज्ञान पा सकते हैं। यह हमारे लिए प्रत्यक्ष संदेश है कि जो चीज उपयोगी या अच्छी नहीं है वहां आंखें बंद कर लें।

अंत में, तीनों बुद्धिमान बंदर हमारी जरूरतों के लिए एक खास शिक्षा देते हैं। सतर्क और विवेकी होने का महत्व समझाते हैं, खास तौर से नुकसानदायक या नकारात्मक विचारों के प्रति।

‘अपने कहे के प्रति सावधान रहें। उन तमाम गैर-उपयोगी और निराशावादी बातों को सुनने से पहले अपने कान बंद कर लें। जो भी आपके लिए नुकसानदायक और नाखुश करने वाली चीजें हैं उन्हें न देखें।’