प्याज और सफेद सिरका : पैरों की कैलस के लिए सर्वश्रेष्ठ नुस्खा

इनमें मौजूद दो कम्पाउंड के गुणों को धन्यवाद, जिनकी बदौलत यह प्याज और सफेद सिरके का नुस्खा पैरों की कैलस को खत्म करने और फंगस से लड़ने में सबसे प्रभावी नुस्खों में से एक है।
प्याज और सफेद सिरका : पैरों की कैलस के लिए सर्वश्रेष्ठ नुस्खा

आखिरी अपडेट: 17 अप्रैल, 2019

क्या आप जानते हैं, पैरों की कैलस के लिए सबसे अच्छे इलाज में से एक प्याज और सफेद सिरका का संयोजन है?

आमतौर पर लोग ज्यादा घर्षण, गलत जूते पहनने या उन्हें ज्यादा देर तक पहनने के कारण पैरों की कैलस (Foot Calluses) से पीड़ित होते हैं।

पैरों के कुछ घट्टे या कैलस दर्दनाक हो सकते हैं। उनसे बचने के लिए आपको अपने पैरों को ज्यादा से ज्यादा मुलायम और तरोताजा रखने की कोशिश करने की ज़रूरत है। उदाहरण के लिए आप गर्मियों में एस्प्राडिल (espadrilles) का उपयोग कर सकते हैं। समुद्र तट पर नंगे पांव चलने से भी बहुत मदद मिल सकती है।

हालांकि कुछ कैलस से छुटकारा पाना वाकई मुश्किल हो सकता है, लेकिन प्राकृतिक इलाज मौजूद हैं जो उन्हें बाहर निकालने में मदद कर सकते हैं। आपको इस आर्टिकल में शेयर किए गए नेचुरल नुस्ख़े को तैयार करने के लिए सिर्फ दो चीजों की ज़रूरत है: प्याज और सफेद सिरका।

पैरों की कैलस के लिए सर्वश्रेष्ठ प्राकृतिक नुस्खा

आपकी किचन में शायद प्याज और सिरका मौजूद हैं। हालांकि सर्वोत्तम नतीजों के लिए सफेद सिरके का उपयोग करना सुनिश्चित करना होगा। इस नुस्ख़े के लिए आपको कुछ चीजों की भी ज़रूरत होगी।

सामग्री

  • 1 प्याज
  • ½ कप सफेद सिरका (100 मिलीलीटर)
पैरों की कैलस के लिए सर्वश्रेष्ठ प्राकृतिक नुस्खा

  • प्लास्टिकशीट
  • कॉटन
  • प्युमिक स्टोन
  • पुराने मोज़े

आप देख सकते हैं, सामग्री और बाकी चीजें हासिल करना बहुत मुश्किल नहीं है।

प्याज और सफ़ेद सिरके का नुस्खा कैसे बनायें

पैरों की कैलस : प्याज और सफ़ेद सिरके का नुस्खा

इस प्राकृतिक नुस्ख़े को बनाने के लिए आपको सबसे पहले सफेद सिरके को एक साफ कंटेनर में डालना होगा। किसी भी रोगाणु या बैक्टीरिया को हटाने के लिए प्याज को धो लें। फिर इन चरणों का पालन करें।

  • प्याज  के तीन स्लाइस काटें और उन्हें सफेद सिरका के साथ कंटेनर में डुबो दें। उन्हें पूरी सुबह या दोपहर के लिए भिगो दें।
  • निर्धारित समय के बाद कॉटन बॉल को इस मिश्रण में भिगोकर अपने पैर की कैलस पर लगाएं।
  • फिर, अपने पैरों को प्लास्टिक शीट से कवर कर दें। शीट को अपनी जगह पर रखने के लिए मोज़े पहन लें।

आपको इस नुस्ख़े को रात में लगाना चाहिए और इसके साथ ही सोना चाहिए। घट्टे जितने लंबे समय तक इस नुस्ख़े के संपर्क में रहेंगे परिणाम उतना ही बेहतर होगा।

आगे क्या करना है

अगली सुबह उठकर अपने पैरों को साबुन और पानी से धो लें। फिर पैरों की कैलस को धीरे से खुरचने के लिए प्यूमिक स्टोन का उपयोग करें। ऐसा करने के बाद, आप पायेंगे कि आपके पैर बहुत नरम हो गए हैं।

यदि आपके पैरों के घट्टे बहुत मोटे या कठोर हैं, तो संभवत: उनसे छुटकारा पान थोड़ा मुश्किल होगा। इसलिए आपको इस प्रक्रिया को फिर से दोहराना होगा जब तक वांछित परिणाम न मिल जाए।

नए घट्टो के लिए आपको इस नुस्ख़े को महीने में कम से कम एक या दो बार लगाना चाहिए। इस तरह आप सुनिश्चित करेंगे कि वे सख्त न हों।

एक नुस्खा जो फंगस को रोकता है

पैरों की कैलस : फंगस

नए कैलस को बनने से रोकने या जो घट्टे आप पहले ही विकसित कर चुके हैं, उन्हें बदतर होने से रोकने के लिए बता दें कि प्याज और सफेद सिरका पैरों की फंगस को रोक सकते हैं। उस समय यह और महत्वपूर्ण है अगर आप स्विमिंग पूल या जिम जाते हैं और कभी-कभी नहाते वक्त फ्लिप-फ्लॉप्स पहनना भूल जाते हैं।

कोई नया प्रोडक्ट खरीदने के बजाय आप इन दो सामग्रियों का उपयोग कर सकते हैं जो आपके पास पहले से ही हैं।

सबसे अच्छी बात यह है कि पैरों की फंगस रोकने का यह नुस्खा बनाना बहुत आसान है।

आप पैरों की कैलस से निपटने के लिए क्या उपयोग करते हैं? हम आपको यह प्राकृतिक इलाज आजमाने की सलाह देते हैं, लेकिन परिणाम प्राप्त करने के लिए आपको लगातार इसे इस्तेमाल करना होगा।

इस ट्रीटमेंट को कम से कम एक महीने के लिए लगातार लगाएं। हालांकि ट्रीटमेंट की अवधि आपके पैरों की स्थिति पर निर्भर करेगी। आप देखेंगे कि वे बहुत अधिक चिकने और कैलस-मुक्त हो गए हैं!

यह आपकी रुचि हो सकती है ...
पैरों के कैलस कैसे निकालें: DIY दही और विनेगर की रेसिपी
स्वास्थ्य की ओरइसमें पढ़ें स्वास्थ्य की ओर
पैरों के कैलस कैसे निकालें: DIY दही और विनेगर की रेसिपी

कैलस या घट्टे दिखने में भद्दे लगते हैं। लेकिन ये असुविधाजनक और दर्दनाक भी हो सकते हैं। यह सबसे आम बीमारियों में से एक है। इसलिए कैलस (Calluses) को ...



  • Stefania Jabłońska, Majewski Sławomir Choroby skóry i choroby przenoszone drogą płciową PZWL 2005, ​ISBN 83-200-3367-5​.