क्या आप जानती हैं, क्रो’ज फूट को आप रोक सकती हैं

08 जून, 2020
क्रो’ज फूट शायद आपको बता रहे हैं कि आपके लीवर को डिटॉक्स करने की ज़रूरत है। अगर आप इसका समाधान करें तो आँखों की बाहरी कोर वाली झुर्रियों के खिलाफ आप सफल हो पाएंगी।
 

क्रो’ज फूट सिर्फ रूप रंग की समस्या नहीं है

वे यह भी बताते हैं कि आपका लीवर कैसा है। इसलिए आप उन्हें प्राकृतिक रूप से रोक सकती हैं और एक ही समय में अपने पूरे स्वास्थ्य में सुधार कर सकते हैं।

नीचे जानिए कि क्रो’ज फूट का अर्थ क्या है और कैसे खर्चीले ब्यूटी ट्रीटमेंट के बिना ही  उन्हें आसानी से, असरदार और प्राकृतिक ढंग से रोका जा सकता है।

क्रो’ज फूट क्या है और उनका क्या मतलब है?

क्रो’ज फूट वे झुर्रियाँ हैं जो आपकी आंखों से कनपटी की ओर बढ़ती हैं (वे जो मुस्कुराते और हँसते वक्त उभरती हैं)।

वे “स्माइल लाइन्स” हैं, लेकिन आप उन्हें कुछ लोगों में ज्यादा देखती हैं तो इसका अर्थ लिवर फंक्शन की समस्या से जुड़ा है।

क्रो’ज फूट विशेषकर कम उम्र में (जैसे कि 20 के दशक में) का मतलब है कि आपके लीवर की कार्यक्षमता कमजोर है।

“इस लेख पर एक नज़र डालें: शरीर की अंदरूनी सफ़ाई के लिए 6 शानदार डिटॉक्स टी

लिवर की कमजोरी का क्या कारण है?

क्रो’ज फूट क्या है

कई कारक हैं जो आपके लिवर को नुकसान पहुंचा सकते हैं। ये क्रो’ज फूट के उभरने को बढ़ावा देते हैं:

  • अच्छी तरह से खाना नहीं खाना। ढेर सारे तले हुए खाद्य पदार्थ और खराब गुणवत्ता वाला फैट (पेस्ट्री, मार्जरीन, क्रीम, डेयरी, आदि), चीनी,
  • आर्टिफीसियल स्वीटनर और मैदा खाना।
  • मीट और डेरी प्रोडक्ट की अधिकता। इन्हें संयम से खाना चाहिए।
  • कई नॉन-ऑर्गनिक खाद्य पदार्थों में पाए जाने वाले फ़ूड एडेटिव।
  • कुछ दवाएं।
  • शराब या धूम्रपान जैसी जहरीली आदतें।
  • नेगेटिव भावनायें विशेष रूप से गुस्सा।
  • स्ट्रेस।
  • पर्यावरण का प्रदूषण।

मैं अपने लिवर में सुधार कैसे कर सकता हूं?

आपका लिवर  वह अंग है जो आपके मेटाबोलिज्म, इम्प्रयून सिस्टम और खून की सफ़ाई में भूमिका निभाता है।

जबकि यह हर दिन आपके साथ होने वाली सभी तरह की चीजों का असर महसूस करता है, फिर भी इसे पुनर्जीवित करने की अद्भुत क्षमता है।

इसीलिए कुछ खास उपाय और नेचुरल टेकनीक इसके स्वास्थ्य को बेहतर बनाने और क्रो’ज फूट को रोकने या कम करने में सक्षम हैं।

 

हीट लेना

कमजोर होने पर आपके लिवर का टेम्परेचर नीचे चला जाता है, इसलिए लोकल हीट लगाने पर इसमें सुधार हो सकता है।

आप इसे कई अलग-अलग तरीकों से कर सकते हैं:

  • हीटिंग पैड
  • गर्म पानी की बोतलें
  • एक सूखे कपड़े के नीचे गर्म नम वॉशक्लॉथ

सोने से पहले हर दिन आधे घंटे के लिए गर्मी लें क्योंकि आपको इससे नींद का एहसास हो सकता है।

कॉफी एनीमा (Coffee enema)

कॉफी एनीमा जीजीटी एंजाइम  (gamma-glutamyl transferase) की एक्टिविटी को बढ़ाता है। यह एंजाइम स्वस्थ लिवर के लिए आवश्यक है। यह पित्त को बाहर निकालने और आपके शरीर को डिटॉक्सिफाई करने में मदद करता है।

कॉफी एनीमा को पाउडर कॉफी के साथ किया जाता है, और इसे हफ़्ते में एक या दो बार लगाया जा सकता है।

इसे भी आजमायें : ग्रीन स्मूदी के साथ हफ़्ते भर का डिटॉक्स प्लान आजमाएं

औषधीय पौधे

क्रो’ज फूट क्या है : मेडिसिनल प्लांट

कड़वे मेडिसिनल प्लांट आपके लिवर के लिए अच्छे हैं और आपके पूरे पाचन में सुधार करते हैं।

कुछ चाय बिना किसी साइड इफेक्ट के आपके लिवर फंक्शन को नियंत्रित और बेहतर बनाने में मदद कर सकती हैं, और इस तरह क्रो’ज फूट के इलाज में भी मदद करती हैं।

अपने लिवर के लिए हर रात एक प्लांट बेस्ड टी लें:

  • मिल्क थिस्ल
  • नागदौन (Wormwood)
  • Boldo
  • आर्टीचोक
 
  • dandelion

आप इसे स्टेविया से मीठा कर सकते हैं और थोड़ा सा नींबू का रस मिलाकर और भी अधिक असरदार बना सकते हैं।

अमीनो एसिड सप्लीमेंट

लीवर को डिटॉक्स करने के सबसे सुविधाजनक तरीकों में से एक है, लिवर फंक्शन को बेहतर बनाने की क्षमता वाले प्लांट-बेस्ड सप्लीमेंट्स लेना।

इसका एक विकल्प अमीनो एसिड है, विशेष रूप से:

  • L-Arginine
  • L-Ornithine
  • L-Citrulline

नोट: अमीनो एसिड आपके लिवर के लिए अच्छा हो सकता है, पर अगर आपको सिरोसिस है तो इनका सेवन न करें।

ग्रीन स्मूदी

हरी सब्जियों में आपके लिवर को फिर से रिजेनेरेट करने की शक्ति होती है।

इसलिए इन्हें कच्चे रूप में ज्यादा खाना और उनके पोषक तत्वों को अधिक अवशोषित करने का एक तरीका इन्हें हरी स्मूदी में लेना है।

सेब, स्ट्रॉबेरी और केले जैसे फलों को पत्तेदार साग जैसे पालक, चुकंदर और अरुगुला के साथ मिलाते हैं।

इससे उम्कदा हरे रंग और स्वादिष्ट साथ ही बहुत ही पौष्टिक और डिटॉक्सिफाइंग स्मूदी बनती है।

आप हर सुबह नाश्ते में ग्रीन स्मूदी ले सकते हैं और यहां तक ​​कि अगर चाहें तो दूसरी चीजें भी मिला सकते हैं जैसे कि : दूध के विकल्प, नट्स, बीज, कोको आदि।
आजमाकर देखें!

 
  • Newswire, P. R. (2013). Los veinteañeros enfrentan signos tempranos de envejecimiento: empiezan a aparecer las líneas finas, las arrugas, y la falta de brillo. Hispanic PR Wire (Spanish).
  • Nacionales, I., & Nacional, B. (2016). Cambios en la piel por el envejecimiento.