कार्लोस रिओस का इंटरव्यू : क्या आप रीयल फ़ूड खाते हैं?

03 सितम्बर, 2019
रीयल फ़ूड मूवमेंट के निर्माता कार्लोस रियोस हमें याद दिलाते हैं कि फ़ूड इंडस्ट्री अक्सर हमें, हम क्या खा रहे हैं, इस बारे में मिश्रित संदेश देती है। आखिरकार अनजाने ही हम प्रोसेस्ड फ़ूड खाने के आदी हो जाते हैं।

रीयल फ़ूड मूवमेंट महज कोई सनक नहीं है। इसके जन्मदाता, न्यूट्रीशन एक्सपर्ट कार्लोस रिओस हजारों लोगों को एक नई और स्वस्थ लाइफस्टाइल अपनाने की सीख दे रहे हैं, उन्हें प्रेरित कर रहे हैं। जहाँ तक भोजन का सवाल है, उनके लिए सहज भोजन सबसे बेहतर भोजन है।

हम जानते हैं, फ़ूड इंडस्ट्री सनकी और ऐसे गुरुओं से भरी हुई है जो चमत्कार का वादा करते हैं। पर कार्लोस रिओस की उपलब्धियाँ इससे कहीं आगे हैं। उनका आंदोलन कुछ साल पहले शुरू हुआ था और सोशल नेटवर्क के माध्यम से वायरल हो गया। यह दो बातें पूरी कर रहा है।

पहला, यह उपभोक्ताओं को डिवाइस और ज्ञान प्रदान कर रहा है जिससे वे समझ सकें कि वे हर दिन क्या खाते हैं। दूसरा, उपभोक्ताओं की आंखें खोल रहा है ताकि वे हेल्दी, रीयल फ़ूड खाने की ज़रूरत को समझ सकें।

हमने एक इंटरव्यू में कार्लोस रिओस से बातचीत की जो नीचे दी गयी है।

यह इंडस्ट्री न्यूट्रीशन और कैलोरी के बारे में बात करना पसंद करती है जिससे आप यह मानें कि आप जो खा रहे हैं, वह स्वस्थ है। इसकी ऐसी कन्फयूजिंग भाषा है, जिससे आख्रिरकार आप प्रोसेस्ड फ़ूड खाने का आदी हो जाते हैं। ”

कार्लोस रिओस का इंटरव्यू

कार्लोस रिओस न्यूट्रीशन एक्सपर्ट है, जिसने स्पेन के सेविला में पाब्लो डी ओलावाइड यूनिवर्सिटी में अपनी पढ़ाई पूरी की और रीयल फ़ूड मूवमेंट के निर्माता हैं। उनके सोशल मीडिया फॉलोवर हजारों की तादाद में हैं। लोगों में अवेयरनेस बढ़ाने का उनका लक्ष्य आश्चर्यजनक नतीजे दे रहा है।

उनकी किताब ईट रियल फूड: ए गाइड टू ट्रांसफॉर्मिंग योर डाइट एंड योर हेल्थ” काफी हिट हुई है और साइंटिफिक लिटरेचर द्वारा समर्थित एक अनिवार्य हैंडबुक के रूप में सामने आयी है। कार्लोस रिओस अक्सर दोहराते हैं : “हम रीयल फ़ूड नहीं खाते हैं, बल्कि ऐसे प्रोडक्ट खाते हैं जो हमारे आगे प्रस्तुत किये जाते हैं”।

उनके साथ इस इंटरव्यू में हमने इस बात पर फोकस किया है कि रीयल फ़ूड क्या है। इस इंटरव्यू में हमें दोबारा महसूस हुआ कि ज्ञान ही शक्ति है। हम क्या खाते हैं, यह जानना हमें अपनी सेहत में इन्वेस्ट करने के बेहतर विकल्प पाने में मदद करता है

इसे भी पढ़ें : अपनी वीकेंड की आदतें बदलें और इन 5 टिप्स की मदद से वजन घटाएं

रीयल फ़ूड मूवमेंट की पहल कदमी कहां से हुई?

कार्लोस रिओस : रियल फ़ूड मूवमेंट

यह कुछ ऐसा था जो मैंने अपने रोगियों के साथ शुरू किया था। एक बार जब मुझे फ़ूड पर फोकस करने और प्रोसेस्ड फ़ूड के खतरों के बारे में प्रक्षिक्षण देने के अच्छे नतीजों का एहसास हुआ, मैंने इसे आम लोगों के साथ शेयर करने का फैसला किया, क्योंकि सोशल मीडिया पर मैं काफी एक्टिव था और बड़ी ऑडियंस तक पहुंचने की संभावना मुझे दिखी।

अगर वास्तविक भोजन लंबे समय से हमारी पहुंच के भीतर है, तो भी अधिकतर आबादी सेहतमंद डाइट का पालन क्यों नहीं करती है?

क्योंकि फ़ूड इंडस्ट्री ने लोगों की हेक्टिक लाइफ का फायदा उठाया है। वे ज्यादातर ऐसे प्रोडक्ट बेचते हैं जिनका सेवन करना और अपने साथ रखना (प्रोसेस्ड फ़ूड) आसान होता है। इस तरह इसने धीरे-धीरे रीयल फ़ूड का सेवन कम कर दिया है।

सबसे बुरी चीज क्या है जिसे हम खा सकते हैं? क्या कोई ऐसा फ़ूड है जिसे हमें अपनी डाइट से हटा देनी चाहिए?

आम तौर पर सभी प्रोसेस्ड फ़ूड अनहेल्दी होते हैं और उनका एक साथ इकठ्ठा हो जाना उन्हें खतरनाक बना देता है। ऐसे फ़ूड में कोल्ड ड्रिंक आटे हैं, जिसका सेवन लोग सबसे ज्यादा करते हैं, जबकि इससे पूरी तरह बचना चाहिए।

बारी जब भोजन खरीदने की आये, तो हमें किस बात पर नजर रखनी चाहिए?

इन्ग्रेडिएंट (सामग्रियों) पर। हालांकि लोग हमेशा कैलोरी या फैट पर फोकस करते हैं लेकिन इन्ग्रेडिएंट सबसे महत्वपूर्ण होते हैं। फ़ूड इंडस्ट्री जानती हैम हम क्या देखते हैं। इसलिए वे हमें प्रोडक्ट को “लाइट” या कम कैलोरी वाला दिखाकर मूर्ख बनाने की कोशिश करते हैं। क्योंकि वे जानते हैं कि इससे उनका प्रोडक्ट आकर्षक दिखता है।

जबकि इसके बावजूद ये प्रोडक्ट अपने ओरिजिनल वर्जन की तरह ही अनहेल्दी होते हैं। इसलिए हम क्या खा रहे हैं और यह सेहतमंद है या नुकसानदेह, यह जानने का एकमात्र तरीका उसमें मौजूद इन्ग्रेडिएंट या सामग्री है

आगे पढ़ें: वज़न घटाने का सबसे असरदार तरीका: अपना मेटाबोलिज्म तेज़ करें

क्या आप हमें बता सकते हैं, भोजन के बीच हमें क्या खा या पी सकते हैं?

बिना एडेड साल्ट वाले नेचुरल नट्स और रोस्टेड नट्स, फ्रूट, प्राकृतिक दही, अचार, ऑलिव और एडाम (edamame) अच्छे विकल्प हैं। पानी पीना सबसे अच्छा है। हालांकि आप पानी या स्पार्कलिंग वाटर, नींबू, और बर्फ से “रियल फ़ूड सोडा” बना सकते हैं।

मीडिया लोगों को कई प्रोसेस्ड या शुगर वाले खाने दिखाता है। आइये बच्चों की बात करते हैं। हम उन्हें इस पहल में शामिल होने में कैसे मदद कर सकते हैं?

हम बच्चों को यह नहीं समझा सकते कि “यह भोजन हेल्दी है” या “यह प्रोसेस्ड फ़ूड है।” बच्चे अपनी कल्पना का बहुत इस्तेमाल करते हैं। साथ ही वे अपनी इंद्रियों से जो चुनते हैं। इसलिए हमें एक क्रिएटिव, टेस्टी और “प्लेफुल” तरीके से उनके आगे रियल फ़ूड पेश करना चाहिए।

अंत में हम रियल फ़ूड पाथ कैसे शुरू कर सकते हैं?

हमारे एक महीने के रियल फ़ूड चैलेंज के जरिये। हमारे इंस्टाग्राम पर बहुत सी जानकारी है, जिससे आप शुरुआत कर सकते हैं। इस चैलेंज से आप सिर्फ एक महीने में इतने तमाम तरीकों से लाभान्वित होंगे कि अपनी पिछली आदतों पर वापस नहीं लौटेंगे।

  • Srour B., Fezeu LK., Kesse Guyot E., Alles B., et al., Ultra processed food intake and risk of cardiovascular disease: prospective cohort study. BMJ, 2019.
  • Horst KW., Serlie MJ., Fructose consumption, lipogenesis, and non alcoholic fatty liver disease. Nutrients, 2017.
  • Aune D., Giovacnnucci E., Boffetta P., Fadness LT., et al., Fruit and vegetable intake and the risk of cardiovascular disease, total cancer and all cause mortality a systematic review and dose response meta analysis of prospective studies. Int J Epidemiol, 2017. 46 (3): 1029-1056.