गुदा-खुजली से जुड़ी वे बातें जिन्हें आपको जानना चाहिए

मई 14, 2019
यह जानना अहम है कि खुजली की जड़ें कहाँ हैं? गुदा-खुजली के कई कारण हो सकते हैं, और अच्छा आहार और साफ़-सफ़ाई इसे रोकने में अहम है। डाइट में ज्यादा से ज्यादा फाइबर शामिल करने की कोशिश कीजिये।

आपने शायद ही किसी को गुदा-खुजली यानी एनल इचिंग (Anal Itching) के बारे में बात करते हुए सुना होगा। वैसे तो यह डिनर टेबल पर के जाने वाली कोई बातचीत नहीं हो सकती। पर दिलचस्प बात यह है कि बहुत से लोग इससे पीड़ित होते हैं। वास्तव में, आप जितना ‌सोच सकते हैं, यह उससे कहीं ज्यादा आम समस्या है और शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति हो जो कभी न कभी इससे पीड़ित न हुआ हो।

गुदा-खुजली एक खुजली है जो गुदा क्षेत्र और उसके आसपास की जगहों में होती है। यह आमतौर पर पहले ‌लालिमा, सूजन और, निश्चित रूप से, अत्यधिक खुजली का कारण बनती है। यह कष्टप्रद स्थिति पुरुषों और महिलाओं दोनों को समान रूप से प्रभावित कर सकती है। हालाँकि, यह आमतौर पर पुरुषों में अधिक होती है

गुदा-खुजली के कारण

गुदा खुजली गुदा में कमियों के कारण

सबसे पहले, यह स्पष्ट कर लेना महत्वपूर्ण है कि गुदा-खुजली गुदा में कमियों या बीमारियों से संबंधित नहीं है। इस जगह त्वचा के ऊतक केवल इससे पीड़ित हैं।

कुल मिलाकर, कई चीजें इसका कारण बन सकती हैं। इस लेख में, हम कुछ सबसे महत्वपूर्ण कारणों को सूचीबद्ध करेंगे।

जलन या एक रासायनिक एलर्जी

बहुत सारे रसायन होते हैं जो आपके गुदा क्षेत्र के संपर्क में आते हैं। हालांकि, अधिकांश लोग यह भी नहीं जानते होंगे कि वे क्या हैं।

कई व्यक्तिगत हेल्थ प्रोडक्ट में आमतौर से इस प्रकार की कई चीजों को शामिल किया जाता है। ये रसायन त्वचा के ऊतकों में एलर्जी पैदा कर सकते हैं, इसके परिणामस्वरूप गुदा-खुजली होती है।

ये संभावित उदाहरण हो सकते हैं

  • टॉयलेट पेपर
  • मेडिकल पाउडर
  • साबुन (अंतरंग स्थानों और पारंपरिक लोगों के लिए)
  • परफ्यूम
  • क्रीम

हम भी सलाह देते हैं : खांसी, एलर्जी या फ्लू के इलाज में मदद के लिए प्याज का इस्तेमाल करें

बहुत अधिक बल लगाकर खुद को साफ करना

टॉइलेट पेपर का प्रयोग सावधानी से करें

जब आप मल त्याग करते हैं तो गुदा क्षेत्र बहुत गंदा हो जाता है, इसलिए इसे ठीक से साफ करना मूलभूत बातें हैं। हालांकि, समस्या यह है कि कभी-कभी, बहुत अधिक या जोर लगा कर सफाई, आपकी त्वचा के लिए विषाक्त हो सकती है।

टॉयलेट पेपर को बहुत अधिक दबाव के साथ रगड़ने से घर्षण के कारण त्वचा का घिसना और जलन हो सकती है। यह गुदा-खुजली का कारण बन सकता है।

इसलिए, यदि संभव हो, तो मल त्याग के बाद गुदा क्षेत्र को साफ करने के लिए पानी का उपयोग करने की कोशिश करें। इसके अलावा, हमेशा आप यकीनन सॉफ्ट टॉयलेट पेपर खरीदें।

खराब स्वास्थ्य

गुदा की साफ़-सफाई की गलत आदतों के कारण कई समस्याएं हो सकती हैं। इस प्रकार, आपको उस क्षेत्र से अतिरिक्त मल पदार्थ को हमेशा सही ढंग से साफ कर लेने की आदत बनानी चाहिए। हालांकि बहुत अधिक दबाव के साथ न रगड़ें।

यदि मल पूरी तरह से हटाया नहीं गया है और आपके गुदा-मुख पर लगा रहे तो यह लगभग तुरंत खुजली पैदा कर सकता है। जब आप तरल मल त्याग करते हैं तो यह समस्या आमतौर पर अधिक दिखाई देती है।

आहार

गुदा खुजली में लाल मिर्च हानिकारक

कुछ खाद्य पदार्थ हैं जो आपके शरीर के लिए बहुत अच्छे नहीं हैं क्योंकि वे जलन पैदा कर सकते हैं। हालांकि, इसका प्रभाव एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में अलग-अलग हो सकता है। हर चीज हर किसी को उसी तरह प्रभावित नहीं करती है

उदाहरण के लिए, कुछ खाद्य पदार्थ जिनके कारण जलन हो सकती है, जिसके परिणामस्वरूप गुदा-खुजली हो सकती है‌ वे निम्नलिखित हैं:

  • मसालेदार या अम्लीय खाद्य पदार्थ (ला‌ल मिर्च, काली मिर्च, खटाई या टमाटर)
  • कैफीन के साथ पेय (शीतल पेय, कॉफी या चाय)
  • चाकलेट
  • मसाले

गुदा-खुजली से कैसे लड़ें

सौभाग्य से, गुदा-खुजली को रोकने के लिए कुछ अलग प्राकृतिक तरीके हैं

लहसुन

गुदा खुजली में लहसुन फायदेमंद

इस अवयव में एंटीसेप्टिक और जीवाणुरोधी गुण गुदा-खुजली के इलाज के लिए एकदम सही हैं। आप इसे साबुत खा सकते हैं या इसे अपने व्यंजनों में एक मसाला के रूप में शामिल कर सकते हैं।

एलोविरा (घृतकुमारी)

एलोवेरा

हम एलोवेरा के शांतिदायक और मॉइस्चराइजिंग गुणों के बारे में बात कर रहे हैं जो दर्द, सूजन, और गुदा-खुजली की रोकथाम करते हैं।

वहीं, जेल लगाने से बवासीर के इलाज में मदद मिलती है।

आपको यह भी पसंद आ सकता हैं: एलोवेरा से वेरीकोस वेंस का इलाज करें

दही

गुदा-खुजली के इलाज के लिए सभी प्रकार के दही अच्छे नहीं हैं। हम बहुत सारे प्रोबायोटिक्स (आपके शरीर के लिए स्वस्थ बैक्टीरिया) वाली प्राकृतिक दही का उपयोग करने की सलाह देते हैं।

ये जीव इस स्थान की सेहत को प्रोत्साहित करते हैं और खुजली से जुड़ी समस्याओं से लड़ते हैं।

  • उनके लाभ प्राप्त करने के लिए, आप दही को सीधे लगा सकते हैं या इसे खा सकते हैं (प्रति दिन कम से कम 2 कप)।

फायबर

गुदा खुजली में फाइबर का उपयोग बढ़ाएँ.

आहार में आपके द्वारा खाए जाने वाले फाइबर की मात्रा बढ़ने से आपकी पाचन प्रक्रिया में सुधार होता है। ऐसा करने से पहले यह सुनिश्चित कर लें कि आपका मल त्याग तरल के रूप में नहीं है। अतः, जैसे-जैसे समय बीतेगा, यह गुदा खुजली के उपचार में मदद कर सकता है।