सेबोरिक डर्मटाइटिस के लिए जोरदार नेचुरल ट्रीटमेंट

अगस्त 6, 2018
सेबोरिक डर्माटाइटिस का प्रकोप स्ट्रेस के कारण दिखाई दे सकता है। इसलिए इसका मुकाबला करने के लिए इन उपचारों को इस्तेमाल करने के अलावा आपको विश्राम करने और तनाव से मुक्त होने की ज़रूरत है।

इन प्राकृतिक उपचारों की मेहरबानी से आपको खुजली की कोई परेशानी अब नहीं होगी। सेबोरिक डर्मटाइटिस जिसे आम तौर पर सेबोरिया के नाम से जाना जाता है, त्वचा की एक क्रोनिक स्थिति है जो फंगस के कारण होती है।

इस क्रोनिक स्थिति वाले लोगों की प्रतिरक्षा प्रणाली में कमी होती है जो फंगस से लड़ने के प्रयास को पूरी तरह से अशक्त कर देती है।

सेबोरिक डर्मटाइटिस का चेहरे और स्कैल्प के विशिष्ट हिस्सों पर विस्फोट होता है, इस तरह से प्रभावित क्षेत्रों में एक बारीक विशल्कन और जलने की उत्तेजना उत्पन्न होती है। इसे सोरायसिस से भ्रमित नहीं किया जाना चाहिए क्योंकि सेबोरिया के लक्षण उसकी तुलना में काफी निष्क्रिय हैं।

सेबोरिया अतिरिक्त तेल के साथ लाल त्वचा के स्केल्स प्रस्तुत करता है। यह तनाव, मोटापा और तैलीय त्वचा जैसे लक्षणों वाले लोगों और एलकोहल आधारित लोशन का अत्यधिक उपयोग करने वालों में आम है।

सेबोरिक डर्मटाइटिस का इलाज करने के लिए प्राकृतिक उपचार

सेबोरिक डर्मटाइटिस

बाजार में, रासायनिक बेस से बने कई उत्पाद हैं जिनका उपयोग वर्तमान में सेबोरिक डर्मटाइटिस के इलाज के लिए किया जाता है। आज हम आपको बताएंगे कि सभी प्रकार की स्थितियों के लिए नेचुरल ट्रीटमेंट भी हैं, जिनमें सेबोरिक डर्मटाइटिस भी शामिल है।

यहाँ पर हम आपको कुछ प्राकृतिक उपचारों के बारे में जानकारी देंगे जिन्हें आप इस त्वचा की स्थिति के इलाज के लिए उपयोग कर सकते हैं।

1. नींबू

नींबू में एसिड और जोरदार सूजनरोधी गुण होते हैं जो फंगस से लड़ने में मदद करते हैं। इसके अलावा, यह प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है इसलिए यह हमें बीमारियों को रोकने में मदद करता है।

इसे भी पढ़ें: अतिश्रम के शिकार लीवर के लक्षण

आपको क्या करना चाहिये?

  • एक नींबू को दो हिस्सों में काटें और उसका रस निचोड़ें।
  • एक स्प्रे करने की बोतल की मदद से, इसे सिर (या प्रभावित क्षेत्र) पर इस तरह से स्प्रे करें कि यह स्कैल्प को छुए।
  • अपने स्कैल्प की हल्के से मालिश करें और इसे 10 मिनट तक लगा रहने दें।
  • अच्छी तरह से धोएं।

त्वचा का नींबू से संपर्क होने पर चिरचिरा सकता है, लेकिन इसका मतलब है कि यह कवक पर सही ढंग से कार्य कर रहा है।

सेबोरिक डर्मटाइटिस: नींबू

2. मिट्टी का साबुन

आपको स्वास्थ्य खाद्य भंडार में मिट्टी का साबुन मिल सकता है। इसके जबरदस्त गुणों के लिए धन्यवाद यह जड़ से कवक से लड़ने में मदद करता है।

आपको क्या करना चाहिये?

  • चेहरे और स्कैल्प को धोने के लिए मिट्टी के साबुन का उपयोग करें।
  • 10 मिनट के लिए लगा रहने दें और गुनगुने पानी से धोएं।

पिछले वाले उपाय की तरह, इस प्रक्रिया में चिरचिराता नहीं है। मिट्टी के साबुन का उपयोग करें जब तक कि स्थिति का नामोनिशान मिट नहीं जाता।

3. नारियल के तेल के साथ नींबू का रस

नारियल के तेल में गजब के मिनरल होते हैं जो त्वचा को शुद्ध करने में मदद करते हैं। जब इसकी खूबियों को नींबू के गुणों के साथ जोड़ा जाता है तब तो मानो सोने में सुहागा।

सामग्री

  • 1 बड़ा चम्मच नींबू का रस (15 मिलीलीटर)
  • 5 बड़े चम्मच नारियल का तेल (75 ग्राम)

आपको क्या करना चाहिये?

  • दोनों अवयवों को अच्छी तरह से मिलाएं और मिश्रण को स्कैल्प पर लगायें।
  • अपने स्कैल्प की मालिश करें और इसे 10 मिनट के लिए लगा रहने दें। फिर गुनगुने पानी से धोएं।

बदलाव देखने के लिए एक सप्ताह तक रोज दिन में एक बार इसका उपयोग करें।

4. एलोवेरा

सेबोरिक डर्मटाइटिस: एलोवेरा

त्वचा और बालों के लिए कई उपचारों में एलोवेरा का प्रयोग किया जाता है। इस मामले में, हम प्राकृतिक रूप से सेबोरिया के इलाज के लिए इसके फंगस विरोधी गुणों का उपयोग करेंगे।

आपको क्या करना चाहिये?

  • एलोवेरा के पत्ते में से जेल निकालें और संसाधित करें ताकि आप इसे आसानी से लगा सकें।
  • जेल को अपनी त्वचा पर लगायें और मालिश करें। इसे 20 मिनट तक लगा रहने दें।
  • बताये गए समय के बाद गुनगुने पानी से धोएं।

परिणामों को देखने के लिए एक सप्ताह तक रोज दिन में एक बार मुसब्बर वेरा जेल का प्रयोग करें।

इसे भी पढ़ें: 4 नाईट क्रीम घर पर बनाएं, पायें स्वस्थ शानदार त्वचा

5. शहद

इसमें लाजबाब गुण होते हैं जो कवक के खिलाफ कार्य करते हैं और बदले में त्वचा के पीएच को पुनर्जीवित करने में मदद करते हैं। शहद को अंडे की सफेदी या सिर्फ पानी के साथ मिश्रित किया जा सकता है।

सामग्री

  • 1 कप उबला हुआ पानी (250 मिलीलीटर)
  • 2 बड़े चम्मच शहद (50 ग्राम)

आपको क्या करना चाहिये?

  • एक कटोरे में उबला हुआ पानी डालें, उसमें शहद डालें और अच्छी तरह मिलाएं।
  • मालिश करते हुए प्रभावित क्षेत्रों पर लगायें और 2 घंटे के लिए छोड़ दें।
  • गुनगुने पानी के साथ धोएं।

यह पसंदीदा उपचारों में से एक है और आप इसे हर दो दिनों में एक बार इस्तेमाल कर सकते हैं।

6. सेब का सिरका

एप्पल साइडर विनेगर का औषधीय उपचारों में प्रयोग किया जाता है क्योंकि इसकी संरचना में मैलिक एसिड मौजूद होता है जो कवक या बैक्टीरिया से लड़ने में जोरदार काम करता है।

आपको क्या करना चाहिये?

  • एक कटोरे में, उबला हुआ पानी और सेब का सिरका बराबर मात्रा में मिलाएं।
  • हल्के से मालिश करके इसे प्रभावित क्षेत्र पर लगायें।
  • 15 मिनट के लिए लगा रहने दें, फिर ठंडे पानी से धोएं ।

इस उपचार को तब तक इस्तेमाल करते रहें जब तक आप सेबोरिया के कारण होने वाले लक्षणों में कमी महसूस न करें।

सेबोरिक डर्मटाइटिस के कारण होने वाली खुजली और चुभन के इलाज के लिए इनमें से कुछ उपचारों का उपयोग करें और इस तकलीफ के बारे में भूल जाएँ।

  • Erchiga, V. C., Martos, A. O., Casaño, V., Crespo Erchiga, A., & Fajardo, F. S. (1999). Aislamiento e identificación de Malassezia spp en pitiriasis versicolor, dermatitis seborreica y piel sana. Rev Iberoam Micol16, 16–21.
  • Calderón, M., Quiñones, M. A., & Pedraza, J. (2011). Efectos Benéficos del Aloe en la Salud. Vertienter, Revista Especializada En Ciencias de La Salud14(2), 53–73. Retrieved from http://www.medigraphic.com/pdfs/vertientes/vre-2011/vre112a.pdf
  • Cabrera, L., De Rodríguez, G. O., Céspedes, E., & Colina, A. (2003). Actividad antibacteriana de miel de abejas multiflorales (Apis mellifera scutellata) de cuatro zonas apícolas del estado Zulia, Venezuela. Revista Cientifica de La Facultad de Ciencias Veterinarias de La Universidad Del Zulia13(3), 205–211.