सेबोरिक डर्मटाइटिस के लिए जोरदार नेचुरल ट्रीटमेंट

सेबोरिक डर्माटाइटिस का प्रकोप स्ट्रेस के कारण दिखाई दे सकता है। इसलिए इसका मुकाबला करने के लिए इन उपचारों को इस्तेमाल करने के अलावा आपको विश्राम करने और तनाव से मुक्त होने की ज़रूरत है।
सेबोरिक डर्मटाइटिस के लिए जोरदार नेचुरल ट्रीटमेंट

आखिरी अपडेट: 05 अगस्त, 2018

इन प्राकृतिक उपचारों की मेहरबानी से आपको खुजली की कोई परेशानी अब नहीं होगी। सेबोरिक डर्मटाइटिस जिसे आम तौर पर सेबोरिया के नाम से जाना जाता है, त्वचा की एक क्रोनिक स्थिति है जो फंगस के कारण होती है।

इस क्रोनिक स्थिति वाले लोगों की प्रतिरक्षा प्रणाली में कमी होती है जो फंगस से लड़ने के प्रयास को पूरी तरह से अशक्त कर देती है।

सेबोरिक डर्मटाइटिस का चेहरे और स्कैल्प के विशिष्ट हिस्सों पर विस्फोट होता है, इस तरह से प्रभावित क्षेत्रों में एक बारीक विशल्कन और जलने की उत्तेजना उत्पन्न होती है। इसे सोरायसिस से भ्रमित नहीं किया जाना चाहिए क्योंकि सेबोरिया के लक्षण उसकी तुलना में काफी निष्क्रिय हैं।

सेबोरिया अतिरिक्त तेल के साथ लाल त्वचा के स्केल्स प्रस्तुत करता है। यह तनाव, मोटापा और तैलीय त्वचा जैसे लक्षणों वाले लोगों और एलकोहल आधारित लोशन का अत्यधिक उपयोग करने वालों में आम है।

सेबोरिक डर्मटाइटिस का इलाज करने के लिए प्राकृतिक उपचार

सेबोरिक डर्मटाइटिस

बाजार में, रासायनिक बेस से बने कई उत्पाद हैं जिनका उपयोग वर्तमान में सेबोरिक डर्मटाइटिस के इलाज के लिए किया जाता है। आज हम आपको बताएंगे कि सभी प्रकार की स्थितियों के लिए नेचुरल ट्रीटमेंट भी हैं, जिनमें सेबोरिक डर्मटाइटिस भी शामिल है।

यहाँ पर हम आपको कुछ प्राकृतिक उपचारों के बारे में जानकारी देंगे जिन्हें आप इस त्वचा की स्थिति के इलाज के लिए उपयोग कर सकते हैं।

1. नींबू

नींबू में एसिड और जोरदार सूजनरोधी गुण होते हैं जो फंगस से लड़ने में मदद करते हैं। इसके अलावा, यह प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है इसलिए यह हमें बीमारियों को रोकने में मदद करता है।

आपको क्या करना चाहिये?

  • एक नींबू को दो हिस्सों में काटें और उसका रस निचोड़ें।
  • एक स्प्रे करने की बोतल की मदद से, इसे सिर (या प्रभावित क्षेत्र) पर इस तरह से स्प्रे करें कि यह स्कैल्प को छुए।
  • अपने स्कैल्प की हल्के से मालिश करें और इसे 10 मिनट तक लगा रहने दें।
  • अच्छी तरह से धोएं।

त्वचा का नींबू से संपर्क होने पर चिरचिरा सकता है, लेकिन इसका मतलब है कि यह कवक पर सही ढंग से कार्य कर रहा है।

सेबोरिक डर्मटाइटिस: नींबू

2. मिट्टी का साबुन

आपको स्वास्थ्य खाद्य भंडार में मिट्टी का साबुन मिल सकता है। इसके जबरदस्त गुणों के लिए धन्यवाद यह जड़ से कवक से लड़ने में मदद करता है।

आपको क्या करना चाहिये?

  • चेहरे और स्कैल्प को धोने के लिए मिट्टी के साबुन का उपयोग करें।
  • 10 मिनट के लिए लगा रहने दें और गुनगुने पानी से धोएं।

पिछले वाले उपाय की तरह, इस प्रक्रिया में चिरचिराता नहीं है। मिट्टी के साबुन का उपयोग करें जब तक कि स्थिति का नामोनिशान मिट नहीं जाता।

3. नारियल के तेल के साथ नींबू का रस

नारियल के तेल में गजब के मिनरल होते हैं जो त्वचा को शुद्ध करने में मदद करते हैं। जब इसकी खूबियों को नींबू के गुणों के साथ जोड़ा जाता है तब तो मानो सोने में सुहागा।

सामग्री

  • 1 बड़ा चम्मच नींबू का रस (15 मिलीलीटर)
  • 5 बड़े चम्मच नारियल का तेल (75 ग्राम)

आपको क्या करना चाहिये?

  • दोनों अवयवों को अच्छी तरह से मिलाएं और मिश्रण को स्कैल्प पर लगायें।
  • अपने स्कैल्प की मालिश करें और इसे 10 मिनट के लिए लगा रहने दें। फिर गुनगुने पानी से धोएं।

बदलाव देखने के लिए एक सप्ताह तक रोज दिन में एक बार इसका उपयोग करें।

4. एलोवेरा

सेबोरिक डर्मटाइटिस: एलोवेरा

त्वचा और बालों के लिए कई उपचारों में एलोवेरा का प्रयोग किया जाता है। इस मामले में, हम प्राकृतिक रूप से सेबोरिया के इलाज के लिए इसके फंगस विरोधी गुणों का उपयोग करेंगे।

आपको क्या करना चाहिये?

  • एलोवेरा के पत्ते में से जेल निकालें और संसाधित करें ताकि आप इसे आसानी से लगा सकें।
  • जेल को अपनी त्वचा पर लगायें और मालिश करें। इसे 20 मिनट तक लगा रहने दें।
  • बताये गए समय के बाद गुनगुने पानी से धोएं।

परिणामों को देखने के लिए एक सप्ताह तक रोज दिन में एक बार मुसब्बर वेरा जेल का प्रयोग करें।

5. शहद

इसमें लाजबाब गुण होते हैं जो कवक के खिलाफ कार्य करते हैं और बदले में त्वचा के पीएच को पुनर्जीवित करने में मदद करते हैं। शहद को अंडे की सफेदी या सिर्फ पानी के साथ मिश्रित किया जा सकता है।

सामग्री

  • 1 कप उबला हुआ पानी (250 मिलीलीटर)
  • 2 बड़े चम्मच शहद (50 ग्राम)

आपको क्या करना चाहिये?

  • एक कटोरे में उबला हुआ पानी डालें, उसमें शहद डालें और अच्छी तरह मिलाएं।
  • मालिश करते हुए प्रभावित क्षेत्रों पर लगायें और 2 घंटे के लिए छोड़ दें।
  • गुनगुने पानी के साथ धोएं।

यह पसंदीदा उपचारों में से एक है और आप इसे हर दो दिनों में एक बार इस्तेमाल कर सकते हैं।

6. सेब का सिरका

एप्पल साइडर विनेगर का औषधीय उपचारों में प्रयोग किया जाता है क्योंकि इसकी संरचना में मैलिक एसिड मौजूद होता है जो कवक या बैक्टीरिया से लड़ने में जोरदार काम करता है।

आपको क्या करना चाहिये?

  • एक कटोरे में, उबला हुआ पानी और सेब का सिरका बराबर मात्रा में मिलाएं।
  • हल्के से मालिश करके इसे प्रभावित क्षेत्र पर लगायें।
  • 15 मिनट के लिए लगा रहने दें, फिर ठंडे पानी से धोएं ।

इस उपचार को तब तक इस्तेमाल करते रहें जब तक आप सेबोरिया के कारण होने वाले लक्षणों में कमी महसूस न करें।

सेबोरिक डर्मटाइटिस के कारण होने वाली खुजली और चुभन के इलाज के लिए इनमें से कुछ उपचारों का उपयोग करें और इस तकलीफ के बारे में भूल जाएँ।



  • Abarca Lachén, E., Hernando Martínez, P., & Gilaberte Calzada, Y. Revisión de las fórmulas magistrales (medicamentos individualizados) de mayor interés en dermatología pediátrica. Actas Dermo-Sifiliograficas, 2021: 112(4), 302–313. doi:10.1016/j.ad.2020.11.006
  • Aguado Gil, Leyre. Dermatitis seborreica. Clínica Universidad de Navarra. https://www.cun.es/enfermedades-tratamientos/enfermedades/dermatitis-seborreica
  • Aktaş Karabay E, Aksu Çerman A. Serum zinc levels in seborrheic dermatitis: a case-control study. Turk J Med Sci. 2019 Oct 24;49(5):1503-1508.
  • Barak-Shinar D, Del Río R, Green LJ. Treatment of Seborrheic Dermatitis Using a Novel Herbal-based Cream. J Clin Aesthet Dermatol. 2017 Apr;10(4):17-23.
  • Berk T, Scheinfeld N. Seborrheic dermatitis. P T. 2010 Jun;35(6):348-52.
  • Dall’Oglio F, Nasca MR, Gerbino C, Micali G. An Overview of the Diagnosis and Management of Seborrheic Dermatitis. Clin Cosmet Investig Dermatol. 2022 Aug 6;15:1537-1548.
  • Gupta M, Mahajan VK, Mehta KS, Chauhan PS. Zinc therapy in dermatology: a review. Dermatol Res Pract. 2014;2014:709152.
  • Liu-Walsh F, Tierney NK, Hauschild J, Rush AK, Masucci J, Leo GC, Capone KA. Prebiotic Colloidal Oat Supports the Growth of Cutaneous Commensal Bacteria Including S. epidermidis and Enhances the Production of Lactic Acid. Clin Cosmet Investig Dermatol. 2021 Jan 19;14:73-82.
  • Mcloone, Pauline & Oluwadun, Afolabi & Warnock, Alison & Fyfe, Lorna. Honey: A Therapeutic Agent for Disorders of the Skin. Central Asian Journal of Global Health. 2016: 5. 10.5195/cajgh.2016.241. https://www.researchgate.net/publication/305890170_Honey_A_Therapeutic_Agent_for_Disorders_of_the_Skin/citation/download
  • Polak K, Jobbágy A, Muszyński T, Wojciechowska K, Frątczak A, Bánvölgyi A, Bergler-Czop B, Kiss N. Microbiome Modulation as a Therapeutic Approach in Chronic Skin Diseases. Biomedicines. 2021 Oct 10;9(10):1436.
  • Saxena R, Mittal P, Clavaud C, Dhakan DB, Roy N, Breton L, Misra N, Sharma VK. Longitudinal study of the scalp microbiome suggests coconut oil to enrich healthy scalp commensals. Sci Rep. 2021 Mar 31;11(1):7220.
  • Siegfried E, Glenn E. Uso de aceite de oliva para el tratamiento de la dermatitis seborreica en niños. Arch Pediatr Adolesc Med. 2012;166(10):967. doi:10.1001/archpediatrics.2012.765
  • Thomsen BJ, Chow EY, Sapijaszko MJ. The Potential Uses of Omega-3 Fatty Acids in Dermatology: A Review. J Cutan Med Surg. 2020 Sep/Oct;24(5):481-494.
  • Varma, S. R., Sivaprakasam, T. O., Arumugam, I., Dilip, N., Raghuraman, M., Pavan, K. B., … & Paramesh, R. In vitro anti-inflammatory and skin protective properties of Virgin coconut oil. Journal of traditional and complementary medicine. 2019; 9(1): 5-14.

यह पाठ केवल सूचनात्मक उद्देश्यों के लिए प्रदान किया जाता है और किसी पेशेवर के साथ परामर्श की जगह नहीं लेता है। संदेह होने पर, अपने विशेषज्ञ से परामर्श करें।