डेंटल एजेनिसिस : टाइप और ट्रीटमेंट

जून 27, 2019
डेंटल एजेनिसिस यानी दांतों की अजनन एक ऐसी समस्या है जिसके बड़ी संख्या में लोग शिकार होते हैं। इस आर्टिकल में जानिए, क्या है यह समस्या और कैसे करें इसका इलाज।

डेंटल एजेनिसिस (Dental agenesis) या दांतों का अजनन एक या एकाधिक दांतों के न पनपने के कारण होने वाली दांतों की सबसे आम विरूपता है। इसका कारण दांतों की साफ़-सफ़ाई की गलत आदतें नहीं हैं।

यह एक जन्मजात समस्या है जो आमतौर पर एक ही परिवार के कई सदस्यों में भी दिखाई देती है। यह समस्या, हमारी सोच के विपरीत सभी दांतों को प्रभावित नहीं करती। इसके बजाय कृन्तक (incisors) और प्रीमोलर (premolars) पर असर डालती है।

समस्या की तुरंत डायग्नोसिस ज़रूरी है क्योंकि जितनी जल्दी समस्या का निदान होगा उतनी ही जल्दी इसका इलाज किया जा सकता है। इसका इलाज अनुपस्थित दांतों की जगह नए दांत लगाने या उन्हें ठीक करने के जरिये किया जाता है। यह समस्या को बिगड़ने से बचाएगा और रोगी के आत्म-विश्वास को बढ़ायेगा।

इस आर्टिकल में हम डेंटल एजेनिसिस के कारण, प्रकार और इलाज की जानकारी शेयर करेंगे।

डेंटल एजेनिसिस के कारण क्या हैं (Causes of Dental Agenesis)?

हालांकि दंत अजनन आमतौर पर एक विरासत में मिली समस्या है, लेकिन कई अन्य कारण भी हैं जिनसे कोई व्यक्ति इस बीमारी का शिकार हो सकता है।

इनमें सबसे आम शारीरिक अवरोध या रुकावट है जो दांत को सही ढंग से बनने की सहूलियत नहीं देता है। इस तरह यह आखिरकार गिर सकता है या अपूर्ण रह सकता है।

विकास करने के लिए पर्याप्त स्थान न होना भी एक कारण हो सकता है जिससे डेंटल एजेनेसिस प्रकट हो सकता है। कई रोगियों में जगह की कमी के कारण एक-दूसरे पर चढ़े हुए दांत (ओवरलैपिंग) होते हैं।

हालांकि जो लोग डेंटल एजेनिसिस से पीड़ित हैं, वे दन्ति नजन या ओडोन्टोजेनेसिस (odontogenesis) की समस्याओं से भी पीड़ित हो सकते हैं। इसका अर्थ है, उनके दाँत वैसे नहीं बनेंगे जैसा उन्हें बनना चाहिए। इसके कारण कुछ दांत निकल ही नहीं पाते।

दन्त-अजनन की किस्में

दंत अजनन कई दांतों की अनुपस्थिति या उनकी विकृति है। हालांकि, यह सभी दांतों को प्रभावित करेगा या नहीं, यह कुछ कारकों पर निर्भर करता है। इनमें विरासत में मिली डेंटल एजेनिसिस से लेकर समस्या का कितनी जल्दी निदान हुआ और मरीज ने इलाज शुरू कराया, ये तमाम बातें आती हैं।

यहाँ अजनन की किस्में हैं:

  • हाइपोडोन्शिया (Hypodontia) की विशेषता 1 से 6 के बीच दांतों की अनुपस्थिति है।
  • ऑलिगोडोन्शिया (Oligodontia) 6 से ज्यादा दांतों की अनुपस्थिति है।
  • एनोडोन्शिया (Anodontia) सबसे गंभीर टाइप है और इसमें सभी दांत अनुपस्थिति हो सकते हैं।

हाइपोडोन्शिया या ऑलिगोडोन्शिया के मरीजों के मुंह के एक या दोनों तरफ दांत गायब हो सकते हैं। यदि उनके मुंह के केवल एक तरफ दांत गायब हैं, तो वे एकतरफा अजनन (unilateral agenesis) से पीड़ित हैं। हालांकि अगर दोनों तरफ दांत गायब हैं, तो वे दोतरफा अजनन (bilateral agenesis) से पीड़ित हैं।

इसे भी आजमायें : 5 बेहतरीन नुस्खे मसूड़ों में संक्रमण का इलाज करने के लिए

उपलब्ध इलाज

यदि आपको संदेह है कि आपको डेंटल एजेनिसिस है, तो आपको पुष्टि के लिए डेंटिस्ट से मिलना चाहिए। तभी आप इलाज शुरू कर सकते हैं।

यहां कुछ संभावित चिकित्सीय उपाय दिए गए हैं:

दंत्य प्रतिस्थापन (Dental implants)

डेंटल एजेनिसिस के कारण Dental Agenesis

डेंटल एजेनिसिस  के मामलों में यह सबसे आम इलाज है।

आपकी उम्र, दांतों की स्थिति या गायब दांतों की संख्या, आदि के आधार पर आपका डेंटिस्ट यह तय करेगा कि आपके लिए सबसे अच्छा इलाज डेंटल इम्प्लांट है या नहीं है।

यह एक ऐसी प्रक्रिया है जो आमतौर पर कुछ दांतों के क्षतिग्रस्त होने या उनके गिर जाने की स्थिति में अपनाई जाती हैं। इम्प्लांट एक कृत्रिम दांत है जिसे मसूड़ों से लगा दिया जाता है। डेंटिस्ट एक तरह के स्क्रू से ऐसा करते हैं जो जबड़े में प्रत्यारोपित होता है।

इसके लिए डेंटिस्ट को मसूड़ों की स्थिति की बड़ी सावधानी से जांच करनी होगी कि क्या यह इलाज संतोषजनक परिणाम देगा या नहीं। इसलिए इस मामले में हम एक भरोसेमंद प्रोफेशनल की मदद लेने की ही सलाह देते हैं।

इसे भी पढ़ें : दांत से टार्टर को हटाने के लिए 3 प्रभावी घरेलू उपचार

विषमदंत (Orthodontics)

डेंटल एजेनिसिस Dental Agenesis

यदि आप हाइपोडोन्शिया से पीड़ित हैं तो आप इस इलाज का सहारा ले सकते हैं।

यदि आपको हाइपोडोन्शिया है, तो शायद आप डेंटल इम्प्लांट के बजाय ऑर्थोडॉन्टिक्स का विकल्प चुन सकते हैं। इस इलाज से आपके दांतों के बीच बचे हुए अंतराल को बंद करने में मदद मिलेगी और आपको दांतों का प्रत्यारोपण नहीं करवाना होगा।

इसके अलावा आपको आंशिक सर्जरी (prosthesis) की ज़रूरत भी हो सकती है। हालाँकि, यह ऊपर बताये गए किसी भी इलाज के संभव नहीं होने की स्थिति में ही अंतिम विकल्प के रूप में ही अपनाया जाना चाहिए।

मनचाहा नतीजा सुनिश्चित करने के लिए आपके लिए डेंटिस्ट का सही चुनाव बहुत अहम है

आपकी जानकारे में क्या कोई इस समस्या से पीड़ित है? क्या आप इससे पीड़ित हैं? अगर हाँ, तो आपने देखा, ऐसे इलाज हैं जो जल्द से जल्द इसे ठीक करने में आपकी दद कर सकते हैं।