सर्विकोब्रैकियल सिंड्रोम: दर्द आपकी गर्दन से होकर बाजुओं तक जाता है

सर्विकोब्रैकियल सिंड्रोम किसी चोट या लंबे समय के स्ट्रेस के परिणाम की तरह भी लग सकता है। बारी-बारी से ठंडे और गर्म शावर में नहाने से हमें दर्द से राहत मिल सकती है।
सर्विकोब्रैकियल सिंड्रोम: दर्द आपकी गर्दन से होकर बाजुओं तक जाता है

आखिरी अपडेट: 31 अक्टूबर, 2018

हम इस नाम से थोड़ा असमंजस में पड़ सकते हैं, लेकिन सर्विकोब्रैकियल सिंड्रोम (Cervicobrachial syndrome) हमारी सोच से कहीं ज्यादा आम है

इसका मतलब है, ग्रीवा क्षेत्र में दर्द जो गर्दन में शुरू होता है और रीढ़ की हड्डी तक जाता है। यहाँ से यह बाजुओं और उंगलियों तक चला जाता है।

यह करीब-करीब अक्षम कर देने वाला दर्द है। हालांकि, इस स्थिति के बारे में एक गलत विश्वास यह है कि यह केवल स्पोर्ट्स के लोगों को ही प्रभावित करता है

स्ट्रेस, क्रोनिक एंग्जायटी और यहां तक ​​कि गठिया जैसे फैक्टर इस प्रकार के बहुत दर्दनाक विकार का कारण बनते हैं

नीचे हम इस समस्या के बारे में और ज्यादा जानकारी देना चाहते हैं।

सर्विकोब्रैकियल सिंड्रोम: जब चलना-फिरना तकलीफ़देह हो जाता है

अपने सिर को हिलाना, कुछ लेने के लिए आगे बढ़ना, बैठना, पढ़ना, लेटना, यहां तक ​​कि सांस लेना, जो भी आप करते हैं वह कष्टदायक हो जाता है। सर्विकोब्रैकियल सिंड्रोम मुख्य रूप से आपके स्पाइनल कॉर्ड को प्रभावित करता है।

इस मामले में हम गर्दन की मोच या खिंची हुई मांसपेयों के किसी आम मामले का सामना नहीं कर रहे हैं। यह उससे भी कहीं ज्यादा है

रीढ़ की हड्डी के ऊपर के क्षेत्र की कल्पना करें। इसका अर्थ है वर्टिब्रल कॉलम सी-1 से सी-7, जो सबसे छोटे हैं।

इन छोटे वर्टिब्रल कॉलम के अंदर लिगामेंट्स, टेंडन, मांसपेशियाँ, नर्व फाइबर हैं। जब इनमें से कुछ में सूजन आ जाती है, तो दर्द हमारे शरीर के विभिन्न क्षेत्रों तक पहुंच जाता है।

सूजन रीढ़ की हड्डी में शुरू होकर कंधे, कंधे की ब्लेड, बांहों यहां तक ​​कि धड़ तक पहुंच सकता है।

सर्विकोब्रैकियल सिंड्रोम के कारण

  • दर्दनाक चोट: जैसा कि पहले उल्लेख किया है, सर्विकोब्रैकियल सिंड्रोम के मुख्य कारणों में से एक दुर्घटना या खेल के दौरान आई चोट होती है। हड्डी या जोड़ का उखड़ना, फ्रैक्चर, मोच या मांसपेशी का उखड़ना आम तौर पर इसके मुख्य कारण हैं।
  • साथ ही, लम्बे समय से लिया गया स्ट्रेस और एंग्जायटी भी इस समस्या के कारण बन सकते हैं। आपको इसे ध्यान में रखना चाहिए।
  • संधिवात (rheumatism) जैसी सूजन प्रक्रियायें भी इसका कारण बन सकती हैं।
  • दूसरी तरफ गठिया (arthritis) जैसी अपरिवर्तनीय बीमारियों से प्रभावित लोग समय के साथ सर्विकोब्रैकियल सिंड्रोम का शिकार हो सकते हैं
  • हम तपेदिक (tuberculosis) जैसी संक्रामक बीमारियों को भी नहीं छोड़ सकते हैं।

यह भी पढ़ें : एक्सरसाइज रूटीन: इनसे गर्दन की मांसपेशियों को मजबूत बनायें  

सर्विकोब्रैकियल सिंड्रोम: चित्र

इसके लक्षण क्या हैं?

आपने जरूर किसी को यह कहते हुए सुना होगा, “ऐसा लगता है कि किसी ने मुझे पीठ में मारा है।” एक तरह से यह इसी तरह का होता है।

फर्क यह है कि इस जगह के अलावा, दर्द बहुत तेजी से शरीर के अन्य क्षेत्रों में फैलता है

  • सर्विकोब्रैकियल सिंड्रोम के अन्य लक्षणों में गहरी ऐंठन (cramps), संवेदनशीलता विकार (sensitivity disorder), मांसपेशियों की कमजोरी, सिहरन या तीव्र ठंडी या गर्मी की सनसनाहट है। इसके अलावा जलन के साथ दर्द का हमने पहले ही उल्लेख किया है।
  • वैसे, यह भी संभव है कि हम बैठते समय सिरदर्द, गर्दन में अकड़न, चक्कर आने या मितली का अनुभव करें … लगभग किसी भी मूवमेंट के साथ तीव्र असुविधा होती है।

क्या ट्रीटमेंट मौजूद हैं?

सर्विकोब्रैकियल सिंड्रोम के लिए अत्यधिक निजी ट्रीटमेंट की ज़रूरत होती है जो केवल हेल्थ प्रोफेशनल ही कर सकते हैं। सबसे पहले, सूजन को कम करने के लिए सही दवाओं का उपयोग करना आवश्यक है।

  • फिजियोथेरेपी दर्द से जूझने और चलना-फिरना बहाल करने में एक अहम भूमिका निभाती है।
  • एक और बहुत ही उपयुक्त तकनीक गर्म और ठंडी थेरेपी है। गर्म शावर, हॉट वाटर बैग्स, यहां तक ​​कि रोजमेरी और शराब के साथ मालिश भी बहुत प्रभावी हैं।
  • हम यह भी नहीं भूल सकते कि जब हमें सर्विकोब्रैकियल सिंड्रोम का पता चलता है, तो इस हालत में आराम करना बहुत आवश्यक है। सबसे ऊपर, मांसपेशी  और हड्डी के दर्द की इन सभी स्थितियों में हमें जीवन के बारे में अलग ढंग से सोचने की ज़रूरत होती है।  
  • डॉक्टर आपको दर्द वाले हाथ को सिर के नीचे रखकर पीठ के बल लेटकर आराम करने की सलाह देते हैं

सर्विकोब्रैकियल सिंड्रोम की एक अच्छी डायग्नोसिस है

आम तौर पर सर्विकोब्रैकियल सिंड्रोम की एक अच्छी डायग्नोसिस है। इसका क्या मतलब है? इसका मतलब है कि अच्छे क्लीनिकल हिस्ट्री वाले लोगों में चार से छह सप्ताह के भीतर सुधार देखा जाता है।

बिना किसी संदेह के समस्या उन रोगियों के साथ होती है जिन्हे संधिवात या गठिया होता है। पुरानी बीमारियों से सामना करते समय, शुरुआती कुछ हफ़्तों में सुधार के साथ-साथ तेज़ असुविधा का अनुभव करना सामान्य बात है

हमारे मामले में अगर हम इन असुविधाओं में से कुछ से पीड़ित हैं, तो हमें स्वस्थ लाइफस्टाइल अपनाने का हर संभव प्रयास करना होगा। एक संतुलित आहार, एक्सरसाइज और स्ट्रेस और एंग्जायटी की निगरानी करना बहुत उपयोगी होता है।

ज्यादा जटिल लक्षण वाले मरीजों के लिए सर्जरी पर विचार करना संभव है। हालांकि, यह निर्णय हमेशा डॉक्टर ही लेंगे

यह आपकी रुचि हो सकती है ...
फाइब्रोमायेल्जिया डिसऑर्डर के बारे जानिये ये अहम बातें
स्वास्थ्य की ओरइसमें पढ़ें स्वास्थ्य की ओर
फाइब्रोमायेल्जिया डिसऑर्डर के बारे जानिये ये अहम बातें

फाइब्रोम्याल्जिया डिसऑर्डर एक ऐसी मस्क्युलोस्केलेटल अवस्था है जिसमें रोगी अपने शरीर के कुछ हिस्सों में होने वाले दर्द के प्रति अतिसंवेदनशील हो जाता...