शरीर में प्रोटीन के कामकाज के बारे में जानिये

09 नवम्बर, 2020
प्रोटीन शरीर में अहम भूमिका निभाते हैं। उनमें टिशू को पैदा करने की क्षमता है, साथ ही कई दूसरी चीजें भी। और अधिक जानने के लिए पढ़ना जारी रखें!

क्या आप शरीर में प्रोटीन के कामकाज के बारे में जानते हैं? ये मॉलिक्यूल कई अहम प्रक्रियाओं के लिए आवश्यक हैं, इसलिए सभी व्यक्तियों को उन्हें अपने डाइट में शामिल करना चाहिए।

इसी तरह प्रोटीन अमीनो एसिड नाम की संरचनात्मक इकाइयों से बना होता है। उनमें से कुछ मनुष्य के शरीर में नहीं बनते और इस कारण उन्हें आवश्यक माना जाता है। डाइट के माध्यम से उन्हें हासिल करने का कोई दूसरा तरीका नहीं है।

शरीर में प्रोटीन के कामकाज के बारे में

आम तौर पर प्रोटीन मॉलिक्यूल में 4 मूल तत्व होते हैं: कार्बन, हाइड्रोजन, ऑक्सीजन और नाइट्रोजन। इसके अलावा उनमें सल्फर, आयरन, कापर या अन्य मिनरल भी हो सकते हैं।

प्रोटीन जीवित प्राणियों में मौलिक भूमिका निभाते हैं क्योंकि वे अधिकतम कामकाज के लिए आवश्यक मैक्रोन्यूट्रिएंट होते हैं। उनके बहुमुखी और कई तरह के काम होते हैं जिनमें मुख्य है टिशू और मांसपेशियों के निर्माण में मदद करना।

यह भी पढ़ें: 7 हाई प्रोटीन सब्जियाँ जो घटाती हैं वजन

अगली बार, हम उनके कामकाज के बारे में बात करेंगे।

  • स्ट्रक्चर और प्लास्टिसिटी : शरीर में प्रोटीन का एक अहम काम सेल संरचनाओं का निर्माण करना है। वे टिशू की मरम्मत करते हैं, सपोर्ट देते हैं, और लोच और प्रतिरोध प्रदान करते हैं। इसके दो क्लासिक उदाहरण हैं। सबसे पहले कोलेजन, जो हड्डियों और टेंडन में पाया जाता है। दूसरे, केराटिन (keratin) जो बालों, त्वचा और नाखूनों में पाया जाता है। अध्ययन के अनुसार मसल मास को पाने के लिए प्रोटीन का सेवन बुनियादी बातों में से एक है।
  • रेगुलेशन : कुछ हार्मोन, जैसे इंसुलिन और ग्लूकाजेन में एक प्रोटीसिक प्रकृति होती है। ये दो हार्मोन खून में ग्लूकोज की मात्रा को रेगुलेट करते हैं। एक और मामला कैल्सीटोनिन (calcitonin) है जो कैल्शियम के मेटाबोलिज्म के लिए जिम्मेदार है। इसके अलावा ऐसे प्रोटीन होते हैं जिनका काम सेल डिवीजन और जीन एक्सप्रेशन को निर्देशित कर रहा है।
  • रक्षा: प्रोटीन इम्युनोग्लोबुलिन (immunoglobulins) बनाने में मदद करते हैं। ये एंटीबॉडी हैं जो बाहरी एजेंटों के खिलाफ शरीर की रक्षा करने में सक्षम हैं। उदाहरण के लिए म्यूसिन म्यूकस मेम्ब्रेन की हिफाजत करता है और इसमें एक कीटाणुनाशक प्रभाव होता है। फाइब्रिनोजेन (fibrinogen) और थ्रोम्बिन (thrombin) भी है, जो रक्त के थक्कों को बनाने में योगदान करते हैं और इस प्रकार रक्तस्राव को रोकते हैं।
  • होमियोस्टेसिस (Homeostasis): प्रोटीन में होमोस्टैसिस नाम की प्रक्रिया के माध्यम से अंदरूनी वातावरण को स्थिर रखने की क्षमता होती है। यह सुनिश्चित करता है कि शरीर का पीएच, अम्लता और ऑसमाटिक संतुलन हर समय नार्मल वैल्यू के भीतर रहे।
  • एंजाइम: कई प्रोटीन एंजाइम होते हैं, जिसका अर्थ है कि वे शरीर को तेज गति से उत्तेजनाओं पर रियेक्ट करने की सहूलियत देते हैं। वे सबस्ट्रेट्स के साथ इंगेज करने की अपनी क्षमता के कारण इस प्रक्रिया में तेजी लाने में सक्षम हैं। उदाहरण के लिए ऐसे एंजाइम होते हैं जो भोजन को तोड़ने की अनुमति देते हैं, जैसे कि एमाइलेज (amylase), लाइपेज (lipase) और प्रोटीज़ (protease)।
  • ट्रांसपोर्ट : वे शरीर के तरल पदार्थों के ट्रांसपोर्ट में मदद करते हैं, जैसे ऑक्सीजन (हीमोग्लोबिन और मायोग्लोबिन के माध्यम से) और फैट (एपोप्रोटीन के माध्यम से)। सेलुलर लेवल पर आप कह सकते हैं कि वे चैनल और रिसेप्टर्स हैं जो सेल मेम्ब्रेन के माध्यम से कम्पाउंड के प्रवेश और निकासी की सहूलियत देते हैं।
  • रिजर्व: प्रोटीन एक एनर्जी रिजर्व भी है, अगर उन्हें फ्युएल के रूप में इस्तेमाल करने की आवश्यकता हो। हालांकि अक्सर शरीर उनका इस तरह इस्तेमाल नहीं करता लेकिन अगर कार्बोहाइड्रेट उपलब्ध न हो तो यह संभव है।

स्रोत

प्रोटीन प्रदान करने वाले खाद्य पशु और वनस्पति मूल से आते हैं हालांकि, उन सबके गुणवत्ता भिन्न होती है। पशु स्रोतों से आये खाद्य में हाई आर्गेनिक वैल्यू होता है क्योंकि उनमें अमीनो एसिड होते हैं जो शरीर के लिए आवश्यक हैं। दूसरी ओर वेजिटेबल सोर्स में कुछ कमी होती है।

वैज्ञानिक स्टडी के अनुसार सोयाबीन को छोड़कर जब आप प्लांट मूल वाले प्रोटीन खाते हैं तो आपको इष्टतम गुणवत्ता के लिए खाद्य पदार्थों को कॉम्बिने में लेना चाहिए। अन्यथा आप हमेशा कुछ प्रमुख घटकों को खाना याद नहीं रखेंगे।

आप इसमें अच्छे प्रोटीन पा सकते हैं:

  • रेड और वाईट मीट
  • अंडे
  • मिल्क प्रोडक्ट
  • बीन्स : विशेष रूप से सोयाबीन, छोले और दाल
  • सीड्स और बीज

वैज्ञानिक रिसर्च  शारीरिक वजन के हिसाब से प्रति किलोग्राम 0.8 ग्राम प्रोटीन खाने की सलाह देते हैं। यह आवश्यकता प्रत्येक व्यक्ति की रोजाना की जरूरत के अनुसार बदलती रहती है। उदाहरण के लिए गर्भवती महिलाओं, बच्चों, किशोरों और बड़ों को अतिरिक्त मात्रा में इसका सेवन करना चाहिए।

एथलीटों के मामले में यह अलग होगा क्योंकि वे जिस फिजिकल एक्टिविटी को अंजाम देते हैं उसका इससे बहुत कुछ लेना-देना है। वास्तव में, इंटरनेशनल सोसायटी ऑफ स्पोर्ट्स न्यूट्रीशन के जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, उन्हें हर दिन कम से कम 2 ग्राम प्रोटीन का उपभोग करना चाहिए।

शरीर में प्रोटीन के कामकाज

यह भी पढ़ें: प्रोटीन शेक : वे आख़िर इतने फायदेमंद क्यों होते हैं?

शरीर में प्रोटीन के कामकाज के बारे में जानना क्यों जरूरी है

यह पोषक तत्व कई महत्वपूर्ण कार्यों के लिए आवश्यक है। सभी व्यक्तियों को इसके सेवन पर ध्यान देना चाहिए। अब जैसा कि पहले बताया गया पशु मूल के खाद्य पदार्थों के माध्यम से अच्छी गुणवत्ता वाला प्रोटीन खाया जा सकता है। इसलिए जो लोग शाकाहारी भोजन खाते हैं, उन्हें न्यूट्रीशनिस्ट से सलाह लेना चाहिए।

आप देख सकते हैं, शरीर में प्रोटीन के कामकाज के बारे में सीखना महत्वपूर्ण है। आखिरकार ये मॉलिक्यूल सिर्फ टिशू बनाने के लिए नहीं हैं। शरीर में कई प्रक्रियाओं को प्रभावित करने की उनकी क्षमता के कारण वे अपरिहार्य हैं। हमारा स्वास्थ्य उन पर निर्भर करता है, इसलिए उन्हें हमारे डाइट में शामिल करना जरूरी है।

  • Wolfe, R. R. (2017). Branched-chain amino acids and muscle protein synthesis in humans: myth or reality?. Journal of the International Society of Sports Nutrition14(1), 1-7.
  • Amador-Licona, N., Moreno-Vargas, E. V., & Martinez-Cordero, C. (2018). Ingesta de proteína, lípidos séricos y fuerza muscular en ancianos. Nutrición Hospitalaria35(1), 65-70.
  • Guerra, M., Hernández, M. N., López, M., & Alfaro, M. J. (2013). Valores de referencia de proteínas para la población venezolana. Archivos latinoamericanos de nutrición63(4), 278.
  • Guillén, M. V. L. (2009). Estructura y Propiedades de las Proteínas. Obtenido de http://www. uv. es: http://www. uv. es/tunon/pdf_doc/proteinas_09. pdf. 34p.
  • Miyahira, J. (2016). Importancia de mantener constante el medio interno. Revista Medica Herediana27(4), 197-198.
  • González-Torres, Laura, et al. “Las proteínas en la nutrición.” Revista salud pública y nutrición 8.2 (2007): 1-7.
  • de Luna Jiménez, Alfonso. “Valor nutritivo de la proteína de soya.” Investigación y Ciencia: de la Universidad Autónoma de Aguascalientes 36 (2006): 29-34.