5 गलतियाँ जो ईर्ष्यालु लोग करते हैं

अक्टूबर 19, 2019
हालांकि हममें से कइयों का मानना ​​है कि ईर्ष्या रोमांटिक लव की पर्याय है। पर तथ्य यह है कि ईर्ष्यालु लोग अपने रिश्तों का आनंद नहीं ले पाते हैं।

बहुत से लोग सोचते हैं, ईर्ष्या जताकर वे सिर्फ अपने पार्टनर को दिखा रहे हैं कि उन्हें कितना प्यार करते हैं। हालांकि ईर्ष्यालु इंसान को मालूम होना चाहिए, कुछ किस्म की ईर्ष्या बहुत ही नेगेटिव होती है।

हम सभी को किसी न किसी बात पर जलन होती है। अगर आपके भाई-बहन हैं, तो आपने शायद उस बच्चे के रूप में इस अजीब भावना का अनुभव किया होगा जब आपके पैरेंट ने आपके भाई या बहन पर ज्यादा ध्यान दिया या उनकी कुछ ज्यादा तारीफ़ की।

हालांकि ईर्ष्या आमतौर पर रोमांटिक रिलेशन में प्यार से जुड़ी रही है। उदाहरण के लिए, हम मानते हैं कि “अगर वह ईर्ष्या करता है, तो इसका मतलब है वह आपसे प्यार करता है।”

पर ईर्ष्या बहुत मामूली भी हो सकती है। यह लोगों को इस भावना के तहत अंधा कर सकती है कि उनके रिश्तों को नुकसान हो सकता है।

1. ईर्ष्यालु लोग अपने पार्टनर का शोषण करते हैं

 ईर्ष्यालु लोग अपने पार्टनर को चूस लेते हैं

ईर्ष्यालु लोग बहुत असुरक्षित महसूस करते हैं, और इससे वे हर वक्त अपने साथी को कंट्रोल करने की कोशिश करते हैं। वे अपने साथी को सम्पूर्ण रूप से पाना चाहते हैं। वे उसके किसी दूसरे व्यक्ति में दिलचस्पी लेने के बारे में नहीं सोच सकते।

यह दूसरे व्यक्ति को डिप्रेशन में डाल सकता है और वह अपने रिश्ते में थोड़ी स्पेस अपने लिए चाहता है। हालांकि यह बात निस्संदेह ईर्ष्यालु आदमी को और परेशान करती है।

उसे नाराज करने का अवांछित नतीजा हो सकता है: एक ब्रेकअप। हालाँकि, ईर्ष्यालु लोग यह महसूस नहीं करते कि दूसरा व्यक्ति क्या महसूस कर रहा है। ईर्ष्या की भावना उनकी सहानुभूति को शून्य कर देती है।

इसे भी पढ़ें : भावनात्मक रूप से एब्युसिव रिलेशन के 5 वार्निंग संकेत

2. वे लगातार सबूत खोजते रहते हैं

कुछ ऐसा है जिसे पिग्मेलियन इफ़ेक्ट कहा जाता है जो यह बताता है कि अगर कोई व्यक्ति यह मानता है कि कुछ होने वाला है तो अंत में ऐसा होता है।

ऐसा ईर्ष्या करने वाले लोगों के साथ होता है जो लगातार ऐसे संकेत की तलाश करते रहते हैं कि उनका साथी उन्हें धोखा दे रहा है

कोई भी मैसेज या किसी से संपर्क करना ऐसी आलोचना भरी तू-तू मैं-मैं को ट्रिगर कर सकता है कि “तुम मुझे प्यार नहीं करते।”

इस तरह का रवैया ऐसी जगह खत्म हो सकता है, जहाँ वे वह पाते हैं जिसे ढूंढ रहे हैं। यह उनका व्यवहार है जो वहाँ ले जाता है जहाँ वे जाना चाहते थे।

3. वे मदद हेल्प लेने से इनकार करते हैं

ईर्ष्यालु लोगों की नेगेटिव बात इस तथ्य में है कि वे मानते हैं कि वे नॉर्मल हैं या वे अपने पार्टनर के लिए प्यार जता रहे हैं, और यह मानने से इनकार करते हैं कि उनके रिश्ते में कोई समस्या है

यह संबंध बिगड़ने का कारण बनता है और वक्त के साथ दोनों पक्षों के लिए रिश्ता बहुत ही जहरीला हो जाता है।

हेल्प मांगना बहुत पॉजिटिव है। इस तरह दोनों पार्टनर के बीच कम्युनिकेशन में सुधार होगा और ईर्ष्या को निराधार विश्वास और अनावश्यक आशंका के नतीजे के रूप में देखा जाएगा।

इसे भी पढ़ें : क्या होता है, जब आप एक विषाक्त संबंध त्याग देते हैं

4. जलन रातोंरात गायब नहीं होती

रोमांटिक रिलेशन में एक ईर्ष्यालु साथी जितना भी कहे, “मैं बदल जाऊंगा,” सच्चाई यह है कि यह एक पेचीदा प्रक्रिया है और प्रोफेशनल हेल्प लेना हमेशा पॉजिटिव होता है

जब उनका साथी उबकर उन्हें छोड़ने की धमकी देता है, तो ईर्ष्यालु लोग कई वादे कर सकते हैं। पर आपको यह ध्यान रखना होगा कि यह प्रक्रिया लंबी होनी है।

आपको उन कुछ मान्यताओं से छुटकारा पाना होगा जिन्होंने रिश्तों में ईर्ष्या को “आम” बना दिया है। उन सभी आशंकाओं और असुरक्षाओं पर भी नज़र डालनी होगी जो उनकी वजह हैं।

5. ईर्ष्यालु लोग अचानक फट पड़ते हैं

अपने अविश्वास के कारण ईर्ष्यालु लोग हमेशा मूडी होते हैं। इसलिए जब उन्हें किसी बात के लिए “सबूत” का कोई छोटा सा टुकड़ा मिलता है, तो इससे उन्हें जलन हो सकती है और छिपे हुए गुस्से को बाहर निकाल सकते हैं। उनका साथी यह समझ नहीं पाता  कि क्या हो रहा है और स्थिति बदतर होती जाती है।

ईर्ष्यालु पार्टनर को यह महसूस करना चाहिए कि उनका साथी वैसा ही व्यवहार नहीं करेगा जैसा वे चाहते हैं और न ही उसे ऐसा करना चाहिए। दरअसल बदलना तो उन्हें खुद को होगा। उन्हें रिश्तों और ईर्ष्या को लेकर अपनी मान्यताओं को बदलना होगा। सिर्फ इसी तरह से वे रिलेशन को हेल्दी बना सकते हैं।

दूसरी ओर, ज्यादातर मामलों में किसी रिलेशन में बहुत ज्यादा जलन या ईर्ष्या ब्रेकअप का कारण बनेगी, क्योंकि इस स्थिति को झेल पाना असम्भव हो जाता है।

  • Perles, F., San Martín, J., Canto, J., & Moreno, P. (2011). Inteligencia emocional, celos, tendencia al abuso y estrategias de resolución de conflicto en la pareja. Escritos de Psicología / Psychological Writings, 4(1), 34–43.
    https://doi.org/10.5231/psy.writ.2011.0605

  • Canto, J. M., García, P., & Gómez, L. (2009). Celos y emociones : Factores de la relación de pareja en la reacción ante la infidelidad Jealousy and emotion : how partners react to infidelity. Athenea Digital, 55(primavera), 39–55.
    https://doi.org/10.5565/rev/athenead/v0n15.528

  • Carlen, A. M., Kasanzew, A., & López Pell, A. F. (2009). Tratamiento cognitivo conductual de los celos en la pareja. Revista Electrónica de Psicología Iztacala, 12(3), 173–186.
    http://revistas.unam.mx/index.php/repi/article/viewFile/15482/14714&;amp;a=bi&pagenumber=1&w=100

  • Canto Ortiz, J. M., Leiva, P. G., & Jacinto, L. G. (2009). Celos y emociones: Factores de la relación de pareja en la reacción ante la infidelidad. Athenea Digital, (15), 39–55.
    https://doi.org/10.5565/rev/athenead/v0n15.528

  • Scheinkman, M., Werneck, D., & LOGA, P. (2010). Desactivar los Celos en las Relaciones de Pareja: Un Enfoque de Múltiples Dimensiones. Family Process, 49(4), 486–504.
    https://doi.org/10.1111/(ISSN)1545-5300)