सॉफ्ट लिफ्ट के बारे में सबकुछ जानें

17 सितम्बर, 2020
सॉफ्ट लिफ्ट चेहरे का कायाकल्प करने की नई टेक्नीक है जो बोटुलिनम टोक्सिन ( botulinum toxin) को हयालूरोनिक एसिड (hyaluronic acid) में मिलाती है। यह कैसे होता है? इसके क्या फायदे हैं? इस आर्टिकल में इस बारे में बताएंगे!

सॉफ्ट लिफ्ट कई महिलाओं के लिए नया ब्यूटी एड बन रहा है। आपका चेहरा महत्वपूर्ण है, क्योंकि इसके जरिये आप दुनिया के सामने खुद को प्रेजेंट करती हैं। इसलिए यह सोच बहुत स्वाभाविक है कि इसे युवा और नेचुरल दिखते रहना चाहिये।

सौभाग्य से कम उम्र से ही नॉन-इनवेसिव ब्यूटी ट्रीटमेंट अपनाने से आपको बिना बहुत बदलाव किए और  बिना सर्जरी का सहारा लिए उम्र बढ़ने की समस्या से मुकाबला करने में मदद मिलती है।

सॉफ्ट लिफ्ट क्या है?

सॉफ्ट लिफ्ट किसी भी लिंग या उम्र के लोगों के लिए इस्तेमाल किया जाता है और यह चेहरे के सामंजस्य और संतुलन को बहाल करने और प्राकृतिक निखार लाने का दावा करता है। इसका किसी चीज से कोई विरोध नहीं है और उन सभी के लिए यह सही है जो अपने चेहरे की ताजगी को बहाल करना चाहते हैं।

आप इसे डॉक्टर के क्लिनिक में करा सकती हैं। दरअसल एक सेशन के बाद ही आप अपनी सामान्य एक्टिविटी  में लौट सकती हैं। आपको हासिल हने वाले परिणाम बहुत सकारात्मक हैं, क्योंकि आपका चेहरा बिल्कुल नया दिखेगा। इसके अलावा इसका प्रभाव लगभग चार महीने तक बना रहता है।

हालांकि यह न्यूनतम रूप से इनवेसिव है फिर भी इसे एक्सपर्ट द्वारा किया जाना चाहिए। डॉक्टर से पहले हे सलाह-मशविरा कर लेने से आपको यह तय करने में मदद मिलेगी कि यह तकनीक आपके लिए ठीक होगी या नहीं।

सॉफ्ट लिफ्ट एक गैर-सर्जिकल एंटी-एजिंग तकनीक है जो दिलचस्प नतीजे देती है। कुल मिलाकर यह त्वचा को युवा और स्वस्थ दिखने में मदद करती है।

नेचुरल एजिंग

फेसियल एजिंग से कई बदलाव होते हैं, जैसे कि डाइनेमिक रिंकल, स्टेटिक रिंकल और कोलेजन और हाइलूरोनिक एसिड की क्षति। त्वचा का झूलना इसका एक उदाहरण है। चेहरे की उम्र बढ़ने के दूसरे लक्षण हैं:

  • ग्रेविटी के कारण चेहरे के खिंचाव की क्षति
  • त्वचा की दृढ़ता में कमी
  • मात्रा में कमी
  • त्वचा के टेक्सचर और रंग में बदलाव

इन सभी बदलावों से त्वचा वक्त बीतने के साथ खराब हालत में जाने लगती है जिससे आपका चेहरा वृद्ध और थका हुआ दिखता है। हालाँकि सॉफ्ट लिफ्ट जैसी टेकनीक इसे कम करने में मदद करती हैं।

इसे भी पढ़ें : 40 की उम्र तक अपनी त्वचा को जवां बनाए रखने के लिए टिप्स

सॉफ्ट लिफ्ट प्रोसीजर क्या है?

सॉफ्ट लिफ्ट प्रोसीजर दो चीजों का उपयोग करती है:

  • बोटुलिनम टॉक्सिन टाइप A (Botulinum toxin type A), जिसका डाइनेमिक रिंकल के इलाज के लिए इस्तेमाल होता है, ऐसी झुर्रियां जो फेसियल मसल्स के मूवमेंट में बनती हैं।
  • Hyaluronic acid जो स्टेटिक झुर्रियों को भरता है। ये झुर्रियां अक्सर गहरी होती हैं और उस समय ज्यादा दिखाई देती हैं जब आपका चेहरा आराम में होता है। इसके अलावा इस पदार्थ को चेहरे और होंठों की आकृति का सामंजस्य बहाल करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है या उन हिसों को भरने के लिए जो उम्र बढ़ने के कारण बदल गए हैं।

जैसा कि इंटरनेशनल जर्नल ऑफ बायोलॉजिकल मैक्रोमोलेक्यूल्स में प्रकाशित एक स्टडी में कहा गया है, हाइलूरोनिक एसिड का त्वचा के रूपरंग ठीक करने में पॉजिटिव असर पड़ता है।

सॉफ्ट लिफ्ट सेशन के बाद बदलाव

सॉफ्ट लिफ्ट करने के लिए, विशेषज्ञ बोटुलिनम टॉक्सिन टाइप ए और हायल्यूरोनिक एसिड का सहारा लेते हैं।

सॉफ्ट लिफ्ट सेशन के बाद बदलाव

सॉफ्ट लिफ्ट एक गैर-इनवेसिव और गैर-सर्जिकल प्रक्रिया है जो चेहरे पर उम्र बढ़ने के संकेतों से लड़ने में मदद करती है। इसका परिणाम अधिक प्राकृतिक, कायाकल्प करने वाला और सुखद होता है। इसके बारे में सबसे अच्छी बात यह है कि आपको जोखिम लेने की ज़रूरत नहीं है या न ही बाकी वक्त कॉस्मेटिक सर्जरी की ज़रूरत है।

सॉफ्ट लिफ्टिंग एक एडवांस मेडिकल टेकनीक है, जो अत्याधुनिक एंटी-एजिंग ट्रीटमेंट (हाइलूरोनिक एसिड फिलर्स और बोटुलिनम टॉक्सिन टाइप A) के उपयोग के माध्यम से चेहरे को रिजेनेरेट करने में मदद करती है।

जिन अंगों में यह इलाज कर सकता है

इस तकनीक का उपयोग चेहरे के किसी भी क्षेत्र में किया जा सकता है जहां उम्र बढ़ने के चिन्हों को ठीक करने के लिए जरूरी हो। इनमें शामिल हैं:

  • नाक वाला हिस्सा (rhinomodelation and bunny lines)
  • ललाट क्षेत्र (भौहों वाले उभरे हुए क्षेत्र और ललाट की झुर्रियाँ)
  • नासोलैबियल फोल्ड्स, आंख के कोने की झुर्रियाँ (crow’s feet)
  • गाल में वॉल्यूम रिप्लेसमेंट
  • चेहरे के उभरे हुए क्षेत्र
  • होंठ (वॉल्यूमिंग और कंटूरिंग और लिप रिंकल्स)

चेहरे का कायाकल्प करने की चिकित्सा में लेटेस्ट ट्रेंड प्राकृतिक और सामंजस्यपूर्ण नतीजे हासिल करना है जो चेहरे की ख़ूबसूरती को सुशोभित करते हैं।

सॉफ्ट लिफ्ट से चेहरे के लगभग किसी भी क्षेत्र में सुधार करना संभव है। पहले सेशन से ही मिलने वाले परिणाम ध्यान देने योग्य होते हैं।

इसे भी पढ़ें : त्वचा के दाग-धब्बों और झुर्रियों का ट्रीटमेंट, सिर्फ़ दो घरेलू चीजों से

रिज्यूवेनेशन के 3R

फेसियल रिज्युवेनेशन की ट्रेडिशनल तकनीकों में एक बड़ा फर्क चेहरे के मूल्यांकन में एक्सपर्ट का दो आयामी दृष्टिकोण है। इससे पहले सिर्फ किसी एक झुर्री पर फोकस किया जाता था।

इस तकनीक ने इस ट्रीटमेंट में क्रांति ला दी। यह थ्री डायमेंशनल दृष्टिकोण से चेहरे का विश्लेषण करता है। यह चेहरे पर उम्र बढ़ने के सभी लक्षणों का इलाज करता है जो चेहरे के 3R में आते हैं और इसका कारण बनते हैं:

  • मांसपेशियों में रिलैक्शेसन : डायनामिक झुर्रियों को कम करता है (बोटुलिनम टॉक्सिन टाइप A से)।
  • नाक-नक्श में बहाली : स्टेटिक झुर्रियों का इलाज करने के लिए (हाइलूरोनिक एसिड + बोटुलिनम टॉक्सिन टाइप A)।
  • चेहरे के भरे-पूरेपन की बहाली : यह उन क्षेत्रों में पुनर्संरचना प्रदान करता है जहां जरूरत होती है (हाइलूरोनिक एसिड से)।

इन सभी कारणों से सॉफ्ट लिफ्ट एक अनोखा ट्रीटमेंट है जो पहले की एडवांस तकनीकों को शामिल करता है।

  • Small, R. (2014). Botulinum Toxin Injection for Facial Wrinkles. American Family Physician90(3), 168–175.
  • Sulamanidze M, Sulamanidze G. Facial lifting with Aptos Methods. J Cutan Aesthet Surg. 2008;1(1):7‐11. doi:10.4103/0974-2077.41149
  • Floyd, E. M., Sukato, D. C., & Perkins, S. W. (2019, May 1). Advances in Face-lift Techniques, 2013-2018: A Systematic Review. JAMA Facial Plastic Surgery. American Medical Association. https://doi.org/10.1001/jamafacial.2018.1472
  • Nigam, P., & Nigam, A. (2010, January 1). Botulinum toxin. Indian Journal of Dermatology. https://doi.org/10.4103/0019-5154.60343
  • Jankovic, J. (2010). Botulinum Toxin. In Encyclopedia of Movement Disorders (pp. 144–150). Elsevier Inc. https://doi.org/10.1016/B978-0-12-374105-9.00098-8