ड्रग्स और स्तम्भन दोष : क्या इनके बीच कोई सम्बन्ध है?

जुलाई 28, 2019

इरेक्टाइल डिसफंक्शन या स्तम्भन दोष कई लोगों के लिए बड़ी समस्या हो उठती है। क्या स्तंभन दोष और दवाओं के बीच कोई संबंध है? इस आर्टिकल में इसका जवाब पायें।

कई तरह की गड़बड़ियां इंसान के यौन प्रदर्शन को प्रभावित कर सकती हैं और सेक्स के आनंद में बाधा डाल सकती हैं। ऐसी ही एक गड़बड़ी है इरेक्टाइल डिसफंक्शन (Erectile Dysfunction) यानी स्तम्भन दोष। शरीर पर असर डालने वाले कई अलग-अलग कारणों को ध्यान में रखते हुए आप खुद से पूछ सकते हैं कि क्या दवाएं और स्तंभन दोष के बीच कोई संबंध है

जब कोई आदमी डॉक्टर को बताता है कि वह सेक्स के दौरान पर्याप्त इरेक्शन बनाए रखने में वह असमर्थ है, तो उसे इस संभावना को खारिज करने के लिए उसे शारीरिक और मानसिक दोनों तरह के मूल्यांकन से गुजरना पड़ता है। कहीं तनाव या एंग्जायटी उसके स्तंभन दोष का कारण तो नहीं है?

सभी ज़रूरी टेस्ट कराने के बाद अगर डॉक्टर यह डायग्नोसिस करे कि रोगी स्तंभन दोष से पीड़ित है, तो वे इसे इसके एटियलजि (etiology) के अनुसार क्लासिफाई करेंगे: न्यूरोजेनिक (neurogenic), एंडोक्राइनोलॉजिकल (endocrinological), वैस्कुलोजेनिक (vasculogenic) या दवा प्रेरित (drug-induced)।

दवाओं के नेगेटिव असर से भी हो सकता है स्तम्भन दोष

दवाओं के नेगेटिव असर से भी हो सकता है स्तम्भन दोष

हालाँकि आप केवल “हार्ड” ड्रग्स के बारे में सोच रहे होंगे। लेकिन शराब और तंबाकू भी आपके यौन स्वास्थ्य पर असर डाल सकते हैं

दूसरे “ड्रग्स” भी हैं जिन्हें लोग कामुकता को प्रभावित करने वाला नहीं मानते हैं।

उदाहरण के लिए शराब और तंबाकू ऐसे ड्रग्स हैं जो आपकी सेहत को नेगेटिव रूप से प्रभावित करते हैं। इसके अलावा एंटीडिप्रेसेंट, हार्मोनल ड्रग्स और कार्डियक मेडिकेशन भी स्तंभन दोष से जुड़े हो सकते हैं।

इसे भी पढ़ें : संबंध में सम्मान बनाए रखने के लिए 5 उपाय

ड्रग्स और स्तम्भन दोष (Drugs and Erectile Dysfunction)

नीचे, हम “ड्रग्स एंड सेक्सुएलिटी: ग्रेट एनीमीज़” (स्पैनिश आर्टिकल) में शेयर किए गए नतीजों के अनुसार ड्रग्स और स्तंभन दोष के बीच आपसी संबंधों का विश्लेषण करेंगे। हम उन दवाओं की भी बात करेंगे जो यौन प्रदर्शन को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकती हैं।

ट्रैंक्विलाइज़र (Tranquilizer) : एंग्जायटी या स्ट्रेस का इलाज करने के लिए सबसे अधिक इस्तेमाल की जाने वाली डायजेपाम (diazepam) जैसी बेंजोडायजेपाइन (benzodiazepine) दवाएं। ये उत्तेजना को कम कर सकती हैं या संभोग को रोक सकती हैं, खासकर जब डोज ज्यादा हो।

सिंथेटिक हार्मोन (Synthetic hormone): उन्हें हमेशा डॉक्टर की निगरानी के तहत ही लिया जाना चाहिए। वरना वे इरेक्शन को प्रभावित कर सकती हैं।

एंटीडिप्रेसेंट (Antidepressants) : कम मात्रा में लेने पर वे उस व्यक्ति की यौन प्रतिक्रिया को सुधारने में मदद कर सकती हैं जो अवसाद से पीड़ित है। हालांकि कई मामलों में ज्यादा डोज की ज़रूरत पड़ सकती है, जो कामुकता को प्रभावित कर सकती हैं, और संभवतः कम उत्तेजना और स्तंभन दोष की ओर ले जा सकती है।

ड्रग्स और सेक्स

ड्रग्स और सेक्स

टॉक्सिक हैबिट से बचना सेहत से जुड़ी समस्याओं को कम करने का सबसे पहला उपाय है, खासकर बात जब सेक्स की हो।

जिन दवाओं का हमने ऊपर जिक्र किया है उनमें से कई यौन क्षमता पर असर डाल सकती हैं। आपको शायद कोई फिल्म याद होगी जिसमें एक कपल ने सेक्स के बाद सिगरेट जलाई थी। हालांकि आपको इसमें कोई नुकसान नहीं दिखेगा। लेकिन यह स्तंभन दोष का कारण बन सकता है।

  • तंबाकू (Tobacco) : युवा लोगों में इस तरह के नशीले पदार्थ संभोग के दौरान इरेक्शन को प्रभावित कर सकते हैं। इस आदत को छोड़ने से सुधार हो सकता है।
  • हेरोइन (Heroin) : यह “हार्ड” नशा सेन्ट्रल नर्वस सिस्टम के लिए डिप्रेशेंट का काम करता है। इसलिए यह कामेच्छा में कमी का कारण बनता है और इसकी लत से सेक्स में रुचि घट सकती है।
  • मारिजुआना (Marijuana) : इस ड्रग के ज्यादा सेवन से भी सेक्स में रुचि कम हो सकती है। इसके असर से एकाग्रता और कोआर्डिनेशन में कमी आती है। इससे यौन प्रदर्शन पर असर पड़ता है।
  • स्टेरॉयड (Steroid) : लंबे समय तक स्टेरॉयड के इस्तेमाल से प्रोस्टेट का आकार बढ़ जाता है, और टेस्टिस का आकार घट जाता है। इससे भी स्तंभन दोष पैदा होता है।

इस भी जानें : संतुष्ट जोड़ों की 6 आदतें

निष्कर्ष

ये कुछ ऐसे उदाहरण हैं जो स्तंभन दोष का कारण बन सकते हैं। ये दवाएं आपकी सेहत को नुकसान पहुंचा सकती हैं और अपनी कामुकता का भरपूर मजा लेने से रोक सकती हैं। इसलिए इन आदतों से बचने के लिए स्वस्थ आदतें अपनाना और अपने सही मेंटल हेल्थ के लिए डॉक्टर की मदद लेना ज़रूरी है।

  • Cabello Santamaría, Francisco. (2010). Aspectos psicosociales del manejo de la disfunción eréctil: Hábitos tóxicos y estilo de vida. La pareja en la disfunción eréctil. Psicoterapia y terapia de pareja. Archivos Españoles de Urología (Ed. impresa)63(8), 693-702. Recuperado en 16 de marzo de 2019, de http://scielo.isciii.es/scielo.php?script=sci_arttext&pid=S0004-06142010000800016&lng=es&tlng=es.
  • Prieto Castro, Rafael, Campos Hernández, Pablo, Robles Casilda, Rafael, Ruíz García, Jesús, & Requena Tapia, María José. (2010). Epidemiología de la disfunción eréctil: Factores de riesgo. Archivos Españoles de Urología (Ed. impresa)63(8), 637-639. Recuperado en 16 de marzo de 2019, de http://scielo.isciii.es/scielo.php?script=sci_arttext&pid=S0004-06142010000800010&lng=es&tlng=es.
  • Santibáñez, Claudio, Anchique, Claudia, Herdy, Artur, Zeballos, Cecilia, González, Graciela, Fernández, Rosalía, Araya, Ma. Virginia, & Soto, Paula. (2016). Prevalencia de disfunción eréctil y factores asociados en pacientes con indicación de rehabilitación cardíaca. Revista chilena de cardiología35(3), 216-221. https://dx.doi.org/10.4067/S0718-85602016000300002