मूत्र संक्रमण रोकने के लिए 8 सिफारिशें

जून 22, 2020
पेशाब को जरूरत से ज्यादा लंबे समय तक रोक कर रखना आपको एक हानिरहित आदत लग सकती है, पर यह बैक्टीरिया अटैक को बढ़ावा देता है और इसका नतीजा मूत्र संक्रमण के रूप में सामने आ सकता है।

मूत्र संक्रमण एक ऐसी स्थिति है जो बैक्टीरिया और वायरल एजेंट की अनियंत्रित बढ़त के कारण होता है। यह आपकी रोग प्रतिरोधी प्रणाली के कमजोर होने का संकेत है क्योंकि यही प्रणाली बैक्टीरियल हमले को नियंत्रित करने के लिए आवश्यक एंटीबॉडी पैदा करती है।

उनकी उपस्थिति उनके साथ पेशाब करते समय जलन जैसे लक्षण लाती है। इसके अलावा, वे पेशाब में परिवर्तन का कारण बनते हैं और कुछ मामलों में, बुखार और ठंड लगना।

यूरिनरी इन्फेक्शन (Urinary infection) एक ऐसी समस्या है जो सभी उम्र के लोगों को प्रभावित कर सकती है। हालांकि, यह मुख्य रूप से महिलाओं को प्रभावित करता है। क्योंकि उनमें मूत्रमार्ग बहुत छोटा है और बैक्टीरिया के लिए घुस पाना बहुत आसान बनाता है।

हालांकि यह छिटपुट और खामोशी से उभर सकता है, लेकिन इसका इलाज न करने से जटिलताएं हो सकती हैं और आपके जीवन की गुणवत्ता प्रभावित हो सकती है।

इसलिए इसे रोकना आना चाहिए। कुछ स्वस्थ आदतें अपनाकर और कुछ सिफारिशों पर अमल करके आप इसके जोखिम को कम कर सकते हैं।

देखें वे क्या हैं!

1. मूत्र संक्रमण रोकने के लिए कॉटन अंडरवियर पहनें

ज्यादातर महिलाएं इसे नजरअंदाज कर देती हैं, लेकिन अंडरवियर का मटीरियल बहुत महत्वपूर्ण है। इसका सम्बन्ध यूरिनरी ट्रैक्ट और गोपनीय अंगों में संक्रमण से पीड़ित होने की प्रवृत्ति से है।

इलास्टिक फैब्रिक वाला ऐसा कपड़ा जिसमें आपके पैरों के बीचोंबीच पड़ने वाले हिस्से में कॉटन न हो, नुकसानदेह हो सकता है। यह इस क्षेत्र में तरल के जमा होने की प्रवृत्ति को बढ़ाता है और बैक्टीरिया की ग्रोथ  के लिए एक आदर्श वातावरण बनाता है।

  • यह ज़रूरी है कि आप कॉटन अंडरवियर का चुनाव करें। इसकी साइज़ भी परफेक्ट होनी चाहिए। क्योंकि ज्यादा टाइट होने परम वे नुकसानदेह हो सकते हैं।

इसे भी जानें : यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन क्यों होते हैं

2. मूत्र संक्रमण रोकने के लिए ज्यादा पानी पियें

मूत्र संक्रमण के मामलों में अक्सर मुख्य ट्रिगर डिहाइड्रेशन होता है।

तरल की कमी किडनी के कामकाज पर असर डालती है। साथ ही, पर्याप्त मूत्र न बनने से बैक्टीरिया की ग्रोथ आसान हो सकती है।

पानी की कमी एक सूजनकारी प्रतिक्रिया पैदा करती है। इससे आपके लक्षण गंभीर हो जाते हैं।

इससे बचने के लिए रोजाना कम से कम 6 से 8 गिलास पानी पीने की सिफारिश की जाती है।

3. पेशाब को रोककर न रखें

पेशाब के लिए जाने में कुछ मिनटों की देर करना कोई ख़ास नुकसानदेह नहीं हो सकता। लेकिन ज्यादा देर तक मूत्र को रोककर रखना नुकसानदेह हो सकता है।

यह विशेष रूप से सच है अगर आप ब्लैडर को फूल जाने तक पेशाब को रोक कर रखें।

यह स्थिति मूत्र संक्रमण से जुड़ी है। क्योंकि मूत्र को अंदर रखने से बैक्टीरिया के लिए हमला करना आसान हो जाता है।

हर बार बाथरूम जाना महत्वपूर्ण है, भले ही बार-बार क्यों न जाना पड़े।

4. सुगंधित प्रोडक्ट से बचें

अपने  इंटिमेट अंगों की अच्छी स्वच्छता के लिए सुगंधित प्रोडक्ट का उपयोग करना ज़रूरी नहीं है।

आम तौर पर ये केमिकल कम्पाउंड से भरे होते हैं जो आपके पीएच लेवल को बदलते हैं। इससे बैक्टीरिया और फंगल अटैक की संभावना बढ़ जाती है।

  • इसके अलावा इनमें से कुछ आपके गोपनीय अंगों के नेचुरल लुब्रिकेंट पर भी असर डालते हैं। इससे संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है।
    प्राकृतिक चीजों से बने हल्के साबुन चुनें।
  • टेलकम पाउडर, परफ्यूम या फेमिनिन डियोद्रेंट से बचें।

5. नुकसानदेह खाद्य पदार्थों का कम सेवन करें

कुछ खाद्य पदार्थों का बहुत अधिक सेवन करने से आपकी इम्युनिटी कमजोर हो सकती है और इस तरह के संक्रमण का खतरा बढ़ सकता है।

इसलिए कि यह आपके टिशू में एक सूजनकारी प्रतिक्रिया का कारण बनता है। यह बैक्टीरिया को बिना कठिनाई के बढ़ने का अवसर देता है।

ऐसे खाद्यों में हैं:

  • मसालेदार चीजें
  • कॉफी और कैफीन युक्त पेय
  • शराब
  • पका हुआ ठंड़ा गोश्त
  • रिफाइंड शुगर
  • बहुत सारे नमक वाला खाना

इसे भी आजमायें : इन प्राकृतिक नुस्खों से करें यूरिनरी इन्फेक्शन का इलाज

6. यौन क्रिया के बाद पेशाब करना

यौनक्रिया के बाद तुरंत बाथरूम का उपयोग करना अच्छा है। क्योंकि मूत्र कुछ ऐसे कीटाणुओं को हटाने में मदद करता है जो यूरिनरी ट्रैक्ट में फंस जाते हैं।

यौनक्रिया के पहले और बाद में भी इस आदत को अपनाना चाहिए। यह मूत्राशय के संक्रमण को रोकता है।

7. लंबे समय तक नम कपड़ों के इस्तेमाल से बचें

जो लोग मूत्र संक्रमण से पीड़ित होते हैं, उन्हें लंबे समय तक गीले स्विमसूट के इस्तेमाल से बचना चाहिए। वे संक्रामक कीटाणुओं पर हमला करना आसान बनाते हैं।

आपके इंटिमेट अंगों को छूने वाले सभी गीले कपड़े इस तरह के संक्रमण के लिए एक ट्रिगर हो सकते हैं।

8. मूत्र संक्रमण रोकने के लिए प्रोबायोटिक खाद्य खाएं

नियमित प्रोबायोटिक्स वाला भोजन करना एक स्वस्थ आदत है। यह संक्रमण और सूजन की समस्याओं के जोखिम को कम करता है।

इन खाद्य पदार्थों में जीवित कल्चर की ज्यादा मात्रा होती है। ये उन्हें बैक्टीरिया, फंगस  और वायरस के हानिकारक काम को बेअसर करने की सहूलियत देते हैं।

ऐसे खाद्यों की कुछ किस्में हैं:

  • दही
  • केफिर
  • सूक्ष्म शैवाल
  • अचार
  • मिजोसूप
  • डार्क चॉकलेट

इन सभी सुझावों पर अमल करना सुनिश्चित करें। वे इन कष्टप्रद संक्रमण को रोकते हैं। फिर भी अगर संक्रमण हो तो जितनी जल्दी हो सके इलाज कराएं।