7 आम गलतियां जो फेस वाश के समय आप अक्सर करती हैं

02 नवम्बर, 2018
फेस वाशिंग को मनचाहा स्वच्छतापूर्ण और रिफ्रेशिंग बनाने के लिए आपको पूरी प्रक्रिया पर फोकस करने और प्रत्येक स्टेप में सावधानी बरतने की जरूरत है।
 

आम तौर पर चेहरे को धोने का काम आपके ब्यूटी रूटीन का सबसे आसान हिस्सा है। इसलिए लोगों को फेस वाश की प्रक्रिया में गलतियां करते देखना आम बात है। आपको याद रखना चाहिए, इनमें से कुछ गलतियाँ आप पर भारी पड़ सकती हैं और आपके चेहरे के लिए समस्याएं भी पैदा कर सकती हैं।

यह न भूलें कि चेहरा आपके सबसे संवेदनशील अंगों में से एक है। इसके साथ बहुत सावधानी से पेश आना चाहिए। आपकी जिन आदतों के कारण समस्याएं पैदा हो रही हैं उन्हें तुरंत बदलें।

आइये हम बताते हैं वे क्या हैं।

1. चेहरे को धोने से पहले हाथों को न धोना

यह बहुत ही आम गलती है। बहुत से लोग सोचते हैं, फेस वाश से पहले अपने हाथों को धोने का कोई मतलब नहीं हैं, खासकर अगर वे दोनों के लिए एक ही क्लीनिंग प्रोडक्ट का उपयोग कर रहे हैं।

हालांकि पहले हाथों को धो लेना बहुत ज़रूरी है। इसका कारण यह है कि आपके हाथ लगातार बैक्टीरिया के संपर्क में आते हैं। क्योंकि वे तमाम तरह की सतहों को छूते हैं।

फेस वाश के कुछ प्रोडक्ट उन गंदगियों को साफ़ करने के लिए तैयार नहीं किये गए हैं, क्योंकि उनका इस्तेमाल कोमल चेहरे पर किया जाना है। यदि आप अपने हाथों को धोए बिना उनसे चेहरे को ढोते हैं तो आप चेहरे को भी दूषित कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: 5 आसान मेकअप ट्रिक से दें अपने चेहरे को स्लिम लुक

2. वर्षों से नए फेस वाश प्रोडक्ट न खरीदना

इसमें कोई संदेह नहीं है, आपका अपना पसंदीदा ब्यूटी प्रोडक्ट है। शायद आप इसे इतना पसंद करती हैं क्योंकि यह बहुत तरोताजा करने वाला है, इसकी खुशबू बहुत बढ़िया है और यह त्वचा के लिए बहुत सॉफ्ट है। लेकिन आपके आस-पास की दुनिया एक जैसी नहीं रहती और आपके प्रोडक्ट क्लाइमेट के साथ बदलने चाहिए।

इसलिए आपको फेस वाश की अपनी रूटीन को एडजस्ट करने की जरूरत है।

सर्दियों की सूखी ठंड की तुलना में गर्मियों की नम गरमाहट से आपको ज्यादा पसीना आता है।

 

पता लगाएं कि हर एक मौसम के लिए कौन सा क्लींजिंग प्रोडक्ट सबसे अच्छा है और हमेशा एक कदम आगे रहें। किसी एक उत्पाद से चिपके न रहें।

आदर्श फेश वाश प्रोडक्ट त्वचा के प्राकृतिक तेलों को नष्ट किये बिना गन्दगी, मेकअप और मृत त्वचा कोशिकाओं को हटा देगा।

एक क्लीनर खोजें जो यह काम करेगा (उसे बहुत हल्का नहीं होना चाहिए क्योंकि आपके चेहरे को अच्छी तरह से साफ करने के लिए चेहरे को उससे दो बार धोने की जरूरत हो सकती है)।

बहुत ज्यादा तेज उत्पादों से बचना चाहिए। वे त्वचा में जलन और रूखापन पैदा कर सकते हैं।

3. आप एक्सफोलिएट नहीं करती हैं

बहुत कम मामलों में चेहरे को रोज एक्सफोलिएट करने की जरूरत पड़ती है। क्योंकि इससे आपकी त्वचा रूखी हो सकती है। कुछ एक्सफोलिएंट त्वचा को नुकसान पहुंचा सकते हैं। उनमें तेज केमिकल होते हैं। आम तौर पर हर दिन चेहरे की सामान्य धुलाई पर्याप्त होती है।

जिस प्रोडक्ट को आप इस्तेमाल करती हैं उस पर निर्भर करेगा कि आदर्श रूपसे आपको सप्ताह में एक बार या महीने में दो बार एक्सफोलिएट करने की ज़रूरत है। इस तरह आप अपनी त्वचा की नेचुरल नरमी और कोमलता को खोने से बचेंगी और एक्सफोलिएंट का सही उपयोग करेंगी।

4. फेस वाश के समय त्वचा के साथ लापरवाही बरतती हैं

क्या आप चेहरे को धोने के बाद इसे खूब सुखाती हैं? हो सकता है, आप अपनी त्वचा को तौलिये से बहुत कस कर रगड़ती हों। यदि आप सोचती हैं, ज्यादा जोर से सुखायेंगे तो आपकी त्वचा ज्यादा साफ होगी, तो आप गलत हैं।

दरअसल इस तरह आप अपने स्किन को क्षति पहुंचा सकती हैं। इसे हाथ को हलके से गोल-गोल घुमाकर करने की कोशिश करें: साफ करना, एक्सफोलिएट करना और सुखाना। यह किसी तरह की क्षति की संभावना को कम करेगा और आपकी त्वचा को साफ करने के लिए ज्यादा कारगर होगा।

काम पूरा हो जाये तो हल्के से थपथपाकर अपनी त्वचा को सुखाएं और एक मुलायम तौलिये का इस्तेमाल करें। इसे जरूरत से ज्यादा न करें। त्वचा की केयर हमेशा सावधानी के साथ करें।

5. क्लींजर (cleanser) को सही ढंग से न लगाना

आपको मालूम होना चाहिए, अपने चुने हुए फेश क्लींजिंग  प्रोडक्ट को सही ढंग से कैसे लगाना है। आपके रोम-कूप इसे आपकी त्वचा की गहरी परतों में सोख लेंगे। इसलिए आपको गोल-गोल, बहुत हल्के और नर्म मूवमेंट का इस्तेमाल करके इसे लगाना चाहिए।

यदि आप इसे क्षैतिज या लंबवत तरीके से लगायें तो इसे अवशोषित करने में ज्यादा समय लग सकता है। क्लींजर के साथ बताये गए निर्देशों को पढ़ें और उनका पालन करें। आप देखेंगी, यह एक धीमी प्रक्रिया है लेकिन इसके फायदे बड़े हैं।

 

इसे भी पढ़ें: त्वचा के गहरे दाग-धब्बों से छुटकारा कैसे पाएं

6. पानी के तापमान सही न होना

एक धारणा है कि गर्म पानी आपके रोम-छिद्रों को खोलता है जबकि ठंडा पानी उन्हें बंद कर देता है। हालांकि यह वास्तव में एक मिथक है। आपके रोम-छिद्रों में मांसपेशियां नहीं होती हैं जो उन्हें खोलें या बंद करें।

यह याद रखने की जरूरत है, यदि आप अपने चेहरे को गर्म पानी से धोना चाहती हैं तो यह आपकी त्वचा की हिफाजत करने वाले नेचुरल ऑयल को नुकसान पहुंचाएगा। इससे अनियंत्रित रूखापन आ सकता है और सेबम (sebum) के स्राव में कमी आ सकती है।

गुनगुने पानी इस्तेमाल करना सबसे अच्छा है क्योंकि इससे कोई नुकसान नहीं होगा, अशुद्धियों को हटाने में मदद मिलेगी। गुनगुने पानी का स्पर्श ज्यादा सुखद भी होता है।

7. अच्छी तरह से न धोना

ब्यूटी रूटीन चेहरे को धोने के साथ ही खत्म नहीं हो जाती। यह वह पॉइंट है जहां यह शुरू होती है क्योंकि अब चेहरा साफ होने के बाद आप चेहरे को स्वस्थ रखने के लिए टोनर्स, मॉइस्चराइज़र, सीरम और प्रोटेक्टेन्ट लगा सकती हैं।

आपको ध्यान रखना चाहिए, इन उत्पादों का उपयोग करने के बाद यदि अच्छी तरह से हाथ न धोएं तो ये त्वचा पर जमा होना शुरू कर देते हैं।

इसका नतीजा बंद छिद्र, रूखी त्वचा और दाने आने के रूप में आता है।

यह जरूरी है कि चेहरे को अच्छी तरह से धोएं। सुबह की हड़बड़ी के समय या जब रात में एकदम थक जाने के बाद इस बात पर ध्यान दें।

अपने जबड़े, बालों की सीमा या हेयरलाइन और नाक को धोना न भूलें। ये तीन स्थान हैं जिन्हें अनदेखा करना आसान है।

मुमकिन है, आप अपने चेहरे को धोते समय इनमें से कुछ गलतियों को एक से ज्यादा बार कर चुकी हैं या आपने इनके बारे में पहले कभी नहीं सोचा था। आप यह भी सोच सकती हैं कि आपको केवल साबुन और ठंडे पानी की जरूरत है।

अब आप समझ चुकी होंगी, एक अच्छे ब्यूटी रूटीन के लिए जो चीजें जरूरी होती हैं उनमें ऐसी एक चेकलिस्ट भी है।

 
  • Miguel Sánchez Viera (2016). Renovar la piel mediante exfoliación. Academia Española de Dermatología y Venereología. Fundación Piel Sana. https://fundacionpielsana.es/estetica/renovar-la-piel-mediante-exfoliacion%20.
  • Dra. Nitza J Sanz Pupo , Dra. Marylú Torres Batista , Dra. Raquel Rojas Bruzón y Dr. Pedro Fernández Sarabia (2004). Envejecimiento de la piel facial. Caracterización histopatológica cuali-cuantitativa. Departamento de Anatomía Patológica. Hospital Universitario V.I. Lenin. Holguín. https://conganat.uninet.edu/6CVHAP/autores/trabajos/T304/.
  • Allen, Loyd V. ,, Jr. (2003) Conceptos básicos de composición para afecciones de piel seca. Revista Internacional de Compuestos Farmacéuticos, 7 (6), 460-463. Recuperado de https://search.proquest.com/docview/212048442?accountid=17252.