वेजाइनल यीस्ट इन्फेक्शन के इलाज के लिए 6 नेचुरल स्टेप

अक्टूबर 20, 2019
वेजाइनल यीस्ट की बढ़त और फैलाव को रोकने के लिए कॉटन अंडरवियर पहनना बहुत ज़रूरी है। क्योंकि कॉटन फाइबर के भीतर सबसे ज्यादा हवा आ-जा सकती है।

वेजाइनल यीस्ट का संक्रमण बहुत आम समस्या है। दुर्भाग्य से, इसके लक्षण काफी परेशानी पैदा कर सकते हैं।

अंदरूनी और बाहरी संक्रमण वेजाइनल फ्लोरा के पीएच को बदल देता है। यह दर्द और खुजली का कारण बनता है और बदबूदार स्राव को बढ़ावा देता है

इसका सबसे आम कारण कैंडिडा एल्बिकंस की ग्रोथ है। यह एक माइक्रो ऑर्गानिज्म  है जो नम और गर्म वातावरण में फैलता है। शरीर के इस अंग में इस तरह का वातावरण मौजूद होता है।

हालांकि यह बहुत कम और कभी-कभार हो सकता है। किसी भी जटिलता या बड़ी बीमारियों को रोकने के लिए वेजाइनल यीस्ट का इलाज करना ज़रूरी है।

सौभाग्य से, पारंपरिक प्रोडक्ट के अलावा भी कुछ आदतें और नेचुरल ट्रीटमेंट स्वाभाविक रूप से उनका मुकाबला करने में मदद कर सकते हैं

इस आर्टिकल में हम आपको 6 आसान स्टेप बताना चाहते हैं जो वेजाइनल यीस्ट का नेचुरल ट्रीटमेंट में मदद कर सकते हैं। उन्हें जानें!

वेजाइनल यीस्ट का प्राकृतिक रूप से इलाज कैसे करें

1. अपनी हाइजीन हैबिट में सुधार लायें

  वेजाइनल यीस्ट इन्फेक्शन : हाइजीन हैबिट

साफ़-सफ़ाई की स्वस्थ आदतें यीस्ट इन्फेक्शन से मुक्त वेजाइनल हेल्थ को बनाए रखने के लिए अहम है।

एक बुनियादी नियम न्यूट्रल साबुन का इस्तेमाल करना है जो इस अंग के नेचुरल पीएच को बदलने वाले परफ्यूम या इन्ग्रेडिएंट से मुक्त है

आपको यह भी निश्चित करना चाहिए कि अंडरवियर साफ-सुथरी और सूखी हो, खासकर जब योनि का तरल पदार्थ गाढ़ा और बदबूदार हो

  • इसे दिन में दो बार धोएं और ऐसे लक्षण होने पर अपने अंडरवियर को नियमित रूप से बदलें।
  • बाथरूम में जाने पर आगे से पीछे की ओर पोंछें जिससे यीस्ट और बैक्टीरिया न फैलें।

2. अपने प्राइवेट पार्ट को ड्राई रखें

वेजाइनल यीस्ट इन्फेक्शन : प्राइवेट पार्ट को ड्राई रखें

योनि एक नेचुरल लुब्रिकेंट द्वारा सुरक्षित की जाती जिसमें स्वस्थ बैक्टीरिया होते हैं। ये यीस्ट की ग्रोथ में बाधा डालते हैं

इन तरल पदार्थों का पीएच ज्यादा बढ़ जाने पर सूक्ष्मजीव आसानी से बढ़ते हैं और जल्दी से संक्रमण पैदा करते हैं।

यह देखते हुए कि यह अंग थोड़ा ह्यूमिड रहता है, यीस्ट की बढ़त को रोकने के लिए बाहरी भागों को सूखा रखना ज़रूरी है

  • शॉवर लेते समय या बाथरूम जाते समय अच्छी तरह से सूखाना निश्चित करें।
  • पानी या फ्लूइड के कारण अंडरवियर नम रखने से बचें।

3. यौन संबंधों से बचें

यीस्ट इन्फेक्शन किसी कपल के सेक्सुअल हेल्थ स्वास्थ्य के लिए रिस्क नहीं है। हालाँकि, जब तक इसका इलाज नहीं किया जाए यौन सम्बन्ध बनाना अच्छा नहीं है।

पार्टनर के साथ कांटेक्ट इन्फेक्शन की अवधि बढ़ा सकता है और कुछ मामलों में दर्द और तकलीफ का कारण बनता है।

यह भी पढ़ें: प्राकृतिक नुस्खों से वेजाइनल कैंडिडिऑसिस का इलाज कैसे करें

4. एप्पल साइडर विनेगर से नहायें

वेजाइनल यीस्ट इन्फेक्शन : एप्पल साइडर विनेगर से नहायें

यीस्ट के विनाश को आसान बनाने के लिए विनेगर में मौजूद नेचुरल एसिड योनि के नेचुरल पीएच को दोबारा बहाल करने में मदद करता है

एसिटिक एसिड जैसे इसके एक्टिव कम्पाउंड में एंटी-फंगल और एंटी बैक्टीरियल गुण होते हैं जो यीस्ट इन्फेक्शन से निपटने के लिए इस अंग की हिफाजत करने में मदद करते हैं।

साथ ही यह खुजली को शांत करने और ज्यादा फ्लूइड को कम करने के लिए यह एक शानदार उपाय है।

  • अपने टब के पानी में रूम टेम्परेचर पर आधा कप एप्पल साइडर विनेगर डालें और 15 या 20 मिनट के लिए स्नान करें।

5. कॉटन अंडरवियर पहनें

इस तरह के इन्फेक्शन के साथ अंडरवीयर का बहुत करीबी सम्बन्ध है। कुछ कपड़े बहुत अधिक नमी एब्सोर्ब करते हैं और इस अंग में सही वेंटिलेशन में रुकावट डालते हैं।

इस समस्या से बचने के लिए सूती कपड़े आदर्श हैं। क्योंकि यह पर्याप्त ब्रीदिंग की सहूलियत देता है और यीस्ट और बैक्टीरिया की ग्रोथ में बाधा डालता है।

  • हमेशा कॉटन अंडरवियर पहनना निश्चित करें।
  • बहुत लंबे समय तक गीले स्विम सूट पहनने से बचें।
  • ढीले कपड़े पहनें।

इसे भी जानें : स्त्री गुप्तांग से जुड़ी 10 बातें जिनके बारे में शायद आप नहीं जानतीं

6. यीस्ट इन्फेक्शन से मुकाबले के लिए टैल्कम पाउडर और खुशबू से बचें

वेजाइनल यीस्ट इन्फेक्शन : टैल्कम पाउडर और खुशबू से बचें

ऐसे अनगिनत किस्म के परफ्यूम, टैल्कम पाउडर, डिओडोरेंट और दूसरे प्रोडक्ट हैं जो योनि की गंध को बदलने के लिए बनाए जाते हैं

ये इस अंग के माइक्रोबायोलोजिकल फ्लोरा को अहम रूप से बदल देते हैं और संक्रमण पैदा कर सकते हैं।

उनके केमिकल इन्ग्रेडिएंट उस हेल्दी बैक्टीरिया को नष्ट करते हैं जो यीस्ट का मुकाबला करते हैं

यह समझना ज़रूरी है कि, जब हाइजीन अच्छी हो तो वेजाइना में किसी किस्म की अप्रिय गंध पैदा होने का कोई कारण नहीं है। यह सच है कि योनि में एक विशेष किस्म की गंध होती है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि वहाँ कोई समस्या है।

क्या आप वेजाइनल यीस्ट इन्फेक्शन से पीड़ित हैं? इन सिफारिशों पर अमल करें और परेशानी के लक्षण देखते ही उस पर काबू पायें।

  • Bradford, L. L., & Ravel, J. (2017). The vaginal mycobiome: A contemporary perspective on fungi in women’s health and diseases. Virulence. https://doi.org/10.1080/21505594.2016.1237332
  • Guaschino S , Benvenuti C , SOPHY Study Group. SOPHY project: an observational study of vaginal pH, lifestyle and correct intimate hygiene in women of different ages and in different physiopathological conditions. Part II. https://europepmc.org/abstract/med/18854801
  • Gonçalves, B., Ferreira, C., Alves, C. T., Henriques, M., Azeredo, J., & Silva, S. (2016). Vulvovaginal candidiasis: Epidemiology, microbiology and risk factors. Critical Reviews in Microbiology. https://doi.org/10.3109/1040841X.2015.1091805
  • Genet, J. (1995). [Natural remedies for vaginal infections]. Sidahora.
  • Ozen, B., & Baser, M. (2017). Vaginal Candidiasis Infection Treated Using Apple Cider Vinegar: A Case Report. Alternative Therapies in Health and Medicine.