वोकल कॉर्ड की सूजन : कारण, लक्षण और इलाज

23 नवम्बर, 2020
वोकल कॉर्ड की सूजन के कारण आवाज में बदलाव और दर्द होता है। कभी-कभी यह संक्रमण की वजह से होता है लेकिन कई बार बोलने में ज्यादा जोर डालने से होता है। इसका इलाज कैसे किया जाता है, यह हम आपको बताएंगे!

वोकल कॉर्ड में सूजन हो तो आपकी आवाज़ अजीब लगती है और गर्दन में एक विशेष असुविधा आमतौर पर आपको चेतावनी देती है कि कुछ गलत हो रहा है। सर्दियों में लोग ठंड और तापमान बदलने का  शिकार होते हैं। हालांकि पेशे से जुडी बीमारियां भी इस समस्या का कारण बन सकती हैं।

वोकल कॉर्ड बहुत छोटी मांसपेशियां हैं जो स्वरयंत्र में स्थित हैं। हवा वहाँ से गुजरती है जिससे इन फाइबर की कम्पन से आप आवाज़ पैदा करके अपने विचारों को कह सकें। इस क्षेत्र में सूजनकारी तरल पदार्थ का जमाव आवाज में बदलाव का कारण बनता है।

वोकल कॉर्ड में सूजन की वजह

वायरस के कारण या सतह पर किसी ग्रोथ के कारण वोकल कॉर्ड में सूजन हो सकती है। इस तरह इसका कारण संक्रामक या गैर-संक्रामक हो सकता है।

संक्रामक एजेंटों में वायरस और बैक्टीरिया हैं। संक्रामक लेरिन्जाइटिस वसंत और सर्दियों में होती है, जब कम तापमान वायरल कणों और माइक्रोब के फलने-फूलने में बढ़ावा देते हैं जो स्वरयंत्र में अपनी कॉलोनी बनाते हैं।

बचाव के लिए इम्यून सिस्टम सफेद रक्त कोशिकाओं और इम्युनोग्लोबुलिन (immunoglobulins) को इस क्षेत्र में जमा करती है, जिससे तरल पदार्थों का प्रवाह बढ़ जाता है। इससे वोकल कॉर्ड टूट जाते हैं, क्योंकि वे बहुत पतले होते हैं। इस तरह उनकी कार्यक्षमता प्रभावित होती है।

इन्फेक्शस लेरिन्जाइटिस तीन हफ्ते तक रह सकती है, अक्सर प्रारंभिक किसी एजेंट के बिना ही। इसका कारण यह है कि इम्यून रिस्पांस लंबा होता है और सूजन बनी रहती है, इसके बावजूद कि मूल कारण नदारद दीखते हैं।

लेरिन्जाइटिस (laryngitis) के गैर-संक्रामक रूपों में ज्यादातर आपके कार्यक्षेत्र से जुड़े होते हैं। शिक्षक, प्रोफेसर, गायक और वक्ताओं को अच्छी तरह से पता है कि आवाज़ का ध्यान नहीं रखने या इस पर जोर डालने से नोड्यूल और पॉलीप्स उभर सकते हैं। कार्यस्थल में वोकल कॉर्ड की सूजन फोरेंसिक मेडिसिन के लिए स्टडी का विषय है। कार्यक्षेत्र में विशेषकर स्कूलों में तो इसे रोकथाम के अभाव का नतीजा माना जाता है।

लंबे समय तक बिना हाइड्रेशन के इसका उपयोग करने से वोकल कॉर्ड की छोटी मांसपेशियां एक दूसरे के खिलाफ रगड़ खाकर तरल पदार्थ जमा कर लेती हैं। यदि ऐसा अक्सर हो तो यह क्रोनिक हो सकता है।


संक्रामक या गैर-संक्रामक प्रक्रियाएं वोकल कॉर्ड की सूजन का कारण बन सकती हैं। यह शिक्षकों, वक्ताओं और गायकों में आम है।

पढ़ते रहिए: क्रोनिक हिचकी: कारण, इलाज और नतीजे

लेरिन्जाइटिस के लक्षण

जब लेरिन्जाइटिस या वोकल कॉर्ड की बात आती है, तो पहला लक्षण आवाज में बदलाव होता है। हालाँकि जैसा कि आप नीचे देखेंगे, यह इस समस्या का एकमात्र संकेत नहीं है।

आवाज में कई प्रकार के बदलाव होते हैं। कुछ लोगों की आवाज कमजोर होती है। दरअसल वे चिल्ला नहीं सकते और न ही अपनी पिच को बढ़ा सकते हैं। दूसरे लोग पूरी तरह से अपनी आवाज खो देते हैं, मेडिकल शब्दों में एफोनिया (aphonia) कहा जाता है।

दर्द भी आम है। कभी-कभी, यह दर्द फेरिन्जाइटिस (pharyngitis) के साथ या एक निगलने में कठिनाई के साथ गड्डमड्ड होता है जो गलती से एसोफैगस से जुड़ा है। लेरिन्जाइटिस कभी काफी तकलीफ देती है और आराम करने और सोने में मुश्किल पैदा करती है।

संक्षेप में, यह भी हो सकता है कि खर्राटे वोकल कॉर्ड की सूजन का डायग्नोस्टिक हिस्सा हो सकते हैं। यह ज्यादा वजन वाले लोगों में ज्यादा साफ़ देखा जाता है। इस तरह जब वे हॉरिजॉन्टल होते हैं, तो उनकी गर्दन का भार वोकल कार्ड पर ज्यादा प्रेशर डालता है और हवा के मार्ग में रुकावट डालता है।

अंत में, यह ध्यान रखना अहम है कि सूजन के कारण वोकल कॉर्ड पैरालिसिस इस समस्या का सबसे गंभीर रूप है। चूंकि वोकल कॉर्ड दरअसल मसल्स हैं, ज्यादा स्ट्रेस उन्हें नुकसान पहुंचा सकता है। वे अपनी विशिष्ट मसल टोन भी खो सकते हैं।

सूजी हुई वोकल कॉर्ड का इलाज कैसे करें

इस समस्या का इलाज इसके कारण पर निर्भर करेगा। पेशे से जुड़ा रोग होने के कारण वायरल लेरिन्जाइटिस वोकल कॉर्ड पर होने वाले पॉलीप जैसा नहीं है। इसी तरह क्रोनिक डिस्फ़ोनिया का लॉन्ग टर्म ट्रीटमेंट संक्रमण के कारण होने वाले एफ़ोनिया (aphonia) से अलग है जो कुछ दिनों में खुद ही ठीक हो जाएगा।

नीचे हम विश्लेषण करेंगे कि इसके सबसे आम रूपों के इलाज के लिए क्या किया जा सकता है:

  • वायरल लेरिन्जाइटिस (Viral laryngitis): यह वोकल कॉर्ड्स का सबसे आम इन्फेक्शन है। कोई विशिष्ट इलाज नहीं है, क्योंकि एंटीबायोटिक्स सिर्फ बैक्टीरिया का इलाज करते हैं। प्रभावित व्यक्ति को अपनी आवाज़ को आराम देना चाहिए और ठीक होने का इंतजार करना चाहिए। फिर भी रोगियों को कभी-कभी अपने दर्द को दूर करने और स्राव को कम करने में मदद करने के लिए एंटी इन्फ्लेमेटरी दवाओं की जरूरत होती है। एंटीट्यूसिव या कफ सप्रेसेंट (Antitussives or cough suppressant) की सिफारिश नहीं की जाती है, क्योंकि वे बिल्कुल भी मदद नहीं करते।
  • नोड्यूल और पॉलीप्स (Nodules and polyps)। एक्सपर्ट इन वोकल कार्ड आउटग्रोथ का इलाज एक स्टडी के साथ करते हैं जो कि थेरोप्युटिक भी हो सकता है, जैसे कि लेरिंगोस्कोपी (laryngoscopy)। इस स्टडी के लिए डॉक्टर आमतौर पर नाक के रास्ते एक डिवाइस  घुसाता है, जिसमें एक कैमरा और सर्जिकल डिवाइस होते हैं। जरूरी हो तो डॉक्टर उन्हें हटा देता है। यदि नहीं तो वे रिहैबिलेशन स्पीच थेरेपी का प्रस्ताव देंगे।
  • वोकल कॉर्ड कैंसर (Laryngeal cancer)। इस बीमारी के लिए ऑन्कोलॉजिकल एप्रोच प्लान इसकी गंभीरता और स्टेज पर निर्भर करती है। यह निर्धारित करेगा कि क्या रोगी को सर्जरी, रेडिएशन थेरेपी, कीमोथेरेपी या इन सभी उपायों से गुजरना होगा।
सूजी हुई वोकल कॉर्ड का इलाज कैसे करें

उचित इलाज चुनने के लिए सूजी हुई वोकल कार्ड के कारणों की पहचान करना होगा।

यहां और अधिक जानकारी लें : आपकी स्पाइन और दूसरे अंगों का आपसी सम्बन्ध

डॉक्टर से कब सलाह लें

वोकल कॉर्ड नाजुक होता है। आपके लिए उनकी देखभाल करना आवश्यक है, क्योंकि आपकी आवाज़ आपको दूसरों से संवाद बनाने की सहूलियत देती है।

इस तरह यदि आप डिस्फ़ोनिया, एफोनिया या गले में खराश से पीड़ित हैं, तो आपको एक डॉक्टर से मिलना चाहिए। यदि यह वायरल लेरिन्जाइटिस है, तो आपका डॉक्टर आराम करने के लिए कहेगा। यदि डॉक्टर को नोड्यूल्स या पॉलीप्स का संदेह है, तो अंदर क्या हो रहा है यह देखने के लिए वह जरूरी जांच बताएगा। यह तत्काल होता है और आपको उनकी डायग्नोसिस करने में मदद करेगा।

जो भी हो सही इलाज खोजने के लिए जल्द से जल्द एक डॉक्टर से मिलना अहम है।

  • de las Casas Battifora, Rosa Mª, and José Mª Ramada Rodilla. “Disfonías funcionales y lesiones orgánicas benignas de cuerdas vocales en trabajadores usuarios profesionales de la voz.” Archivos de prevención de riesgos laborales 15.1 (2012): 21-26.
  • Espinosa, Guillermo José López, Grisel Aparicio Manresa, and René Quintana Mugica. “Repercusión del ambiente laboral en el desarrollo de las enfermedades profesionales.” Acta Médica del Centro 6.1 (2012): 122-126.
  • Martínez, Eduardo Bracamontes, Rigoberto Astorga del Toro, and María del Carmen Jiménez Martínez. “La laringitis crónica por abuso de voz en pacientes profesionales de la voz, se encuentra asociada con reflujo gastroesofágico no aparente.” Revista del Instituto Nacional de Enfermedades Respiratorias 16.2 (2003): 64-69.
  • Buiret, G., S. Tringali, and P. Céruse. “Laringitis agudas del adulto.” EMC-Otorrinolaringología 38.3 (2009): 1-7.
  • Bothe, Carolina, et al. “Etiología y tratamiento de la parálisis laríngea: estudio retrospectivo de 108 pacientes.” Acta Otorrinolaringológica Española 65.4 (2014): 225-230.
  • Fernández, Cristina Povedano. “1.4. TRATAMIENTO FARMACOLÓGICO Y DISFONÍA.” DISFONÍA: 32.
  • Ortega, Gonzalo, Alejandra Rivadeneira, and Felipe Cardemil. “Pólipo bilateral de cuerda vocal: Presentación de un caso clínico.” Revista de otorrinolaringología y cirugía de cabeza y cuello 77.2 (2017): 164-168.
  • Alfonso Muñoz, Eulalia. “Caracterización clínica y epidemiológica de pacientes con cáncer laríngeo.” Revista Cubana de Medicina Militar 47.3 (2018): 1-9.